नेट बैंकिंग क्या है? इसके प्रकार और कैसे चालू करें?

Net Banking Kya Hai: आज की भागदौड़ भरी जीवन शैली में समय बेहद कीमती हो गया हैं, लोग अपने समय की कीमत समझने लगे हैं। बहुत से लोग समय को लेकर बहुत ही पाबंद होते है, अपना जरा-सा भी समय बर्बाद नहीं होने देना चाहते है। वहीं दूसरी और इंटरनेट इंटरनेट की इतनी आसानी से पहुँच होने के कारण प्रत्येक व्यक्ति इंटरनेट के माध्यम से ही अपना काम पूरा करने की उम्मीद रखता हैं।

यही कारण हैं कि समय के साथ-साथ हमारे दैनिक जीवन के कामों को करने का तरीका भी बदलने लगा है। रोजाना के छोटे-बड़े काम इंटरनेट के माध्यम से पुरे होने लगे है, हमारी निर्भरता इंटरनेट पर बढ़ती जा रही है। इतने सारे लोगों की इंटरनेट पर पहुँच होने के कारण अब बैंक से जुड़े बहुत से काम भी इंटरनेट के माध्यम से होने लगे हैं।

what-is-net-banking
नेट बैंकिंग क्या होती है

एक समय था जब हमें हर छोटे-बड़े काम के लिए बैंक जाना पड़ता था, फिर चाहे वह पैसे निकलना हो या किसी परिचित या रिश्तेदार को पैसे भेजने की बात हो बैंक जाना जरुरी हो जाता था। यहाँ तक की बैंक खाते में बैलेंस भी देखने के लिए बैंक के चक्कर काटने पड़ते और उसमें लगी लंबी लाइन में घंटों इंतज़ार करना पड़ता था।

जब भी हम नया बैंक खाता खुलवाते हैं तब फॉर्म भरते समय हमसे कुछ सर्विसेज के बारे में पूछा जाता हैं कि आप अपने अकाउंट में कौन-कौनसी सर्विस लेना चाहते हैं। इसी दौरान आपने देखा होगा बहुत सी सर्विस में नेट बैंकिंग सर्विस का भी नाम आता हैं।

शायद कभी आपने गौर नहीं किया होगा कि यह सर्विस किस काम आती हैं या इस सर्विस से हमें क्या-क्या फायदे हैं। यहाँ पर हम नेट बैंकिंग क्या होता है? (internet banking kya hai), इंटरनेट बैंकिंग का क्या अर्थ है?, नेट बैंकिंग कैसे चालू करें? आदि के बारे में यहाँ पर विस्तार से जानकारी प्राप्त करेंगे।

इंटरनेट बैंकिंग का क्या अर्थ है? (Net Banking Meaning in Hindi)

नेट बैंकिंग को लोग अलग-अलग नामों से जानते हैं। जैसे कि कई लोग नेट बैंकिंग को ऑनलाइन बैंकिंग तो कई लोग इसे इंटरनेट बैंकिंग खाते हैं। ऐसे में हम आपको बता दें कि नेट बैंकिंग की हिंदी मीनिंग इलेक्ट्रॉनिक भुगतान प्रणाली है।

जिससे कोई भी व्यक्ति अपने बैंक से जुड़े कई काम बड़ी आसानी से अपने किसी भी इलेक्ट्रॉनिक उपकरण अर्थात स्मार्टफोन हो या लैपटॉप हो या फिर कंप्यूटर किसी भी उपकरण से अपना नेट बैंकिंग चालू कर सकता है एवं उसका लाभ प्राप्त कर सकता है।

नेट बैंकिंग क्या है? (Net Banking Kya Hai)

नेट बैंकिंग एक ऐसी तकनीक है, जिसकी मदद से हम वित्तीय लेनदेन या गैर वित्तीय लेनदेन बड़ी ही आसानी से कर सकते हैं। इस प्रणाली की मदद से हमारा काम बहुत ही आसान हो जाता है। जिससे हमारा समय भी बन जाता है एवं दौड़ भाग भी नहीं करनी पड़ती है।

नेट बैंकिंग एक ऐसी प्रणाली है, जिसकी सहायता से कोई भी व्यक्ति वेबसाइट या ऑनलाइन एप्लीकेशन का उपयोग करके अपने खाते से उसी बैंक के किसी भी खाताधारक को पैसे ट्रांसफर कर सकता है। ना केवल वह उसी बैंक के खाते में पैसा ट्रांसफर कर सकता है बल्कि वह नेट बैंकिंग की मदद से किसी भी बैंक के किसी भी व्यक्ति के खाते में पैसा ट्रांसफर कर सकता है, वह भी बड़ी आसानी से।

ग्राहक नेट बैंकिंग के जरिए वित्तीय लेन देन करने के लिए रिसोर्स या माध्यम का उपयोग करता है, उसने द्वारा उपयोग किए जाने वाला माध्यम, स्मार्टफोन, कंप्यूटर या लैपटॉप या फिर स्मार्टफोन की तरह ही कोई भी इलेक्ट्रॉनिक उपकरण हो सकता है और इंटरनेट वह माध्यम है, जिसकी सहायता से यह नेट बैंकिंग की प्रणाली संभव हो पाती है।

नेट बैंकिंग का प्रयोग करने वाले व्यक्ति को अपने मूल बैंकिंग का लेनदेन पूरा करने के लिए अपने मूल बैंक का चक्कर अर्थात अपने मूल बैंक में बार-बार नहीं जाना होगा। ऐसा करके आप अपना समय बचा सकते हैं और आज के समय में प्रत्येक व्यक्ति को एक-एक क्षण की कीमत पता है।

जिसकी वजह से कोई भी व्यक्ति नहीं चाहता कि उसका कीमती समय बर्बाद हो और वह व्यक्ति बिना बैंक में जाए कहीं से भी जहां से वह व्यक्ति चाहे अपना लेनदेन कर सकता है। चाहे वह ऑफिस में हो या घर में हो चाहे वह चलता फिरता ही क्यों न हो वह कहीं से भी अपने बैंक से जुड़े सभी कार्य बड़ी आसानी से नेट बैंकिंग के द्वारा कर सकता है।

नेट बैंकिंग करने के लिए आपको स्मार्टफोन या फिर अन्य कोई उपकरण के साथ इंटरनेट कनेक्शन एवं डेबिट कार्ड का होना आवश्यक है। इस सेवा का लाभ प्राप्त करने के लिए ग्राहक को अपने बैंक की ऑनलाइन सेवा के लिए पंजीकरण करना होगा। पंजीकरण करने के लिए ग्राहक को एक पासवर्ड की आवश्यकता होती है और जब ग्राहक एक बार ऐसा कर लेता है तो उसके पश्चात ग्राहक घर बैठे अपने बैंक से जुड़े लगभग सभी कार्य बड़ी आसानी से नेट बैंकिंग के द्वारा कर सकता है।

नेट बैंकिंग का इस्तेमाल कैसे करें?

अगर आपने बैंक में नया खाता खुलवाया हैं तो आपसे फॉर्म भरते समय इस सुविधा के बारे में पूछा गया होगा तब आपको यह सुविधा उसी समय मिल जाती है और आपको आपके खाते का यूजरनेम और पासवर्ड दे दिया जाता हैं। लेकिन आपने खाता खुलवाते समय इस सुविधा की मांग नहीं की थी तो आपको ब्रांच जाकर इसके लिए फॉर्म भरना होगा, जिसके बाद आपको यह सुविधा मिल पायेगी।

नेट बैंकिंग का इस्तेमाल करने के लिए आपको सबसे पहले बैंक की अधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा। याद रहे आपको अपने बैंक की वेबसाइट से ही नेट बैंकिंग में लॉग इन करना हैं अन्यथा खाते की हैक होने की संभावना बनी रहती है।

उदाहरण के लिए अगर आपके पास एसबीआई की नेट बैंकिंग की सुविधा हैं तो इसके लिए एसबीआई की नेट बैंकिंग की अधिकारिक वेबसाइट (https://www.onlinesbi.com/) पर जाना होगा।

वेबसाइट पर यूजर नेम और पासवर्ड इंटर करने के लिए आपको बताये गये स्टेप्स को फॉलो करना होगा। यह प्रक्रिया बेहद आसान हैं, कोई भी इसे आसानी से पूरा कर सकता है। इसमें आपको ध्यान रखने वाली बात यह हैं कि सभी जानकारी सही से भरें। जानकारी गलत देने की स्थिति में आपको उसे ठीक करने के लिए कई बार बैंक के चक्कर काटने पड़ सकते हैं।

नेट बैंकिंग के फायदे

नेट बैंकिंग से आप लगभग वह सभी काम कर सकते हैं, जो आपको बैंक जाकर करना पड़ता हैं। इंटरनेट बैंकिंग से मिलने वाली सुविधाएं इस प्रकार से हैं।

  • इंटरनेट बैंकिंग के माध्यम से आप ऑनलाइन ही पासबुक, डेबिट कार्ड क्रेडिट कार्ड नया बनवाना अथवा पुराने कार्ड को बदलवाने जैसे काम कर सकते हैं, इसके लिए आपको बैंक नहीं जाना पड़ेगा। साथ ही नई चेकबुक और पासबुक के लिए भी आप नेट बैंकिंग के जरिये आवेदन कर सकते हैं।
  • इस सुविधा से आप अपने खाते का बैलेंस चेक कर सकते हैं और बैंक खाते का विवरण की जानकारी भी आपको यहाँ से मिल जाएगी, जो आपको कई बार बैंक जाने के बाद भी नहीं मिल पाती है।
  • इसकी मदद से आप ऑनलाइन खरीददारी कर सकते हैं। साथ ही मोबाइल रिचार्ज करवाना, बीमा पॉलिसी की किस्त भरनी हो या फिर डीटीएच का रिचार्ज करवाने जैसे काम भी इस सुविधा से संभव है।
  • नेट बैंकिंग के जरिये आप एफडी, म्यूचल फण्ड और डी-मेट अकाउंट इस सुविधा के जरिये ओपन कर सकते हैं।
  • इस सुविधा के माध्यम से आप रिश्तेदारों और मित्रों को पैसे ट्रांसफर कर सकते हैं। इसके लिए आपको बैंक जाने की जरुरत नहीं हैं, चंद मिनिटों की यह प्रक्रिया बेहद आसान हैं।
  • बैंक की छुट्टी होने अथवा बैंक के बंद होने के बाद भी आप इंटरनेट बैंकिंग के माध्यम से पैसे ट्रांसफर कर सकते है।
  • आपके खाते में होने वाली प्रत्येक लेनदेन का ब्यौरा आपको नेट बैंकिंग के माध्यम से मिल जाता है। इसके लिए आपको बैंक जाकर पासबुक में प्रिंट करवाने की जरुरत नहीं है।

इंटरनेट बैंकिंग के नुकसान

जहाँ इंटरनेट बैंकिंग के इतने सारे लाभ हैं तो कुछ इसके नुकसान भी हैं। लेकिन अगर आप इसका इस्तेमाल बेहद सावधानी के साथ करते हैं तो जरुर यह चीज आपके लिए फायदेमंद साबित हो सकती है।

इंटरनेट बैंकिंग से होने वाले नुकसान कुछ इस प्रकार से है।

  • अगर आप इंटरनेट बैंकिंग का इस्तेमाल करते समय लापरवाही करते हैं तो आपके खाते के हैक होने की संभावना बढ़ जाती है। इंटरनेट बैंकिंग जिस खाते में सक्रिय रहती है, हैकरों को ऐसे खाते को निशाना बनाने में आसानी होती है।
  • इंटरनेट बैंकिंग के माध्यम से लेनदेन करने पर भूल से अगर किसी गलत व्यक्ति के खाते में पैसे ट्रांसफर हो गये तो यह आपके लिए परेशानी का सबब बन सकता है।
  • नए व्यक्ति के लिए इंटरनेट बैंकिंग को समझना थोडा मुश्किल भरा हो सकता है। इसके लिए कुछ बैंक डेमो अकाउंट भी प्रदान करती है, जिसके माध्यम आप इंटरनेट बैंकिंग का इस्तेमाल करना सीख सकते हैं। लेकिन हर बैंक यह सुविधा नहीं देती हैं, ऐसे में आपको थोड़ी परेशानी का सामना करना पड़ सकता है।
  • इंटरनेट बैंकिंग का पासवर्ड उसी तरह से काम करता हैं, जैसे आपकी तिजोरी की चाबी। आपका यूजरनेम और पासवर्ड आपके खाते की चाबी होती है। अगर आप इसका इस्तेमाल सावधानी से नहीं करते हैं और पासवर्ड किसी गलत व्यक्ति के हाथों में पड़ गया तो वह आपको आर्थिक रूप नुकसान पहुंचा सकता है। इसलिए अपने यूजरनेम और पासवर्ड को हमेशा सावधानी के साथ प्रयोग करें।
  • कई बार ऐसा होता हैं कि बैंक का सर्वर डाउन होता हैं। ऐसे में बैंक की वेबसाइट काम नहीं करती है, इस प्रकार की परिस्थिति में आप इंटरनेट बैंकिंग का इस्तेमाल नहीं पाएंगे।

इंटरनेट बैंकिंग का इस्तेमाल करते समय सावधानियां

जहाँ इंटरनेट बैंकिंग के इतने सारे फायदे हैं तो कुछ नुकसान भी हैं। यहाँ पर हम आपको इंटरनेट बैंकिंग का इस्तेमाल करते समय रखने वाली कुछ सावधानियों के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसका अगर आप ध्यान रखेंगे तो सुरक्षित रूप से इंटरनेट बैंकिंग यूज कर पाएंगे।

  • इंटरनेट बैंकिंग का इस्तेमाल कभी भी किसी दुसरे के कंप्यूटर अथवा लैपटॉप में न करें। केवल अपने कंप्यूटर पर ही इसका इस्तेमाल करें। किसी साइबर कैफे और सार्वजनिक कंप्यूटर पर इंटरनेट बैंकिंग का इस्तेमाल करने से आपके खाते के हैक होने की संभावना बढ़ जाती है, इसलिए ऐसा करने से बचें।
  • अपने खाते की जानकारी किसी के साथ साझा न करें और खाते के पासवर्ड कहीं पर भी लिखकर न रखें। ऐसा करने पर कोई इसका दुरपयोग कर सकता है।
  • जब आप नेट बैंकिंग का इस्तेमाल नहीं कर रहे हो, उस समय बैंक की वेबसाइट से लॉगआउट कर दें। साथ ही यह बैंकिंग का काम समाप्त होने और कंप्यूटर को बंद करने से पहले भी वेबसाइट से लॉगआउट करना न भूलें।
  • हमेशा अपने कंप्यूटर में एक अच्छा एंटीवायरस इनस्टॉल करके रखें और उसे समय-समय पर अपडेट करते रहें, ताकि कंप्यूटर में किसी भी प्रकार का वायरस न आये और आपकी सभी जानकरी सुरक्षित रहे।
  • नियमित अंतराल के बाद अपने बैंक खाते का पासवर्ड बदलते रहे, इससे आपके बैंक कहते की सुरक्षा बनी रहेगी।
  • अगर आपके पास किसी प्रकार का फ़ोन आता हैं और आपके खाते से जुडी जानकारी मांगी जाती हैं तो ऐसे में कभी भी इसकी जानकारी किसी को फ़ोन पर नहीं दें। ऐसा करना आपके लिए खतरनाक साबित हो सकता है।
  • हमेशा इन्टनेट बैंकिंग का इस्तेमाल और ट्रांसेक्शन उन्हीं वेबसाइट पर करें, जो एसएसएल सर्टिफिकेट द्वारा सुरक्षित हो। यानी वेबसाइट के एड्रेस की शुरुआत में https:// यह यूआरएल हो। ऐसी किसी भी वेबसाइट पर ट्रांसेक्शन न करें जिसका युआएल http:// से शुरू होता हो।

इंटरनेट बैंकिंग की सुविधा प्रदान करने वाले बैंक

आज पूरा युग डिजिटल की और बढ़ रहा हैं। ऐसे में सभी बैंक अपने ग्राहकों के लिए इंटरनेट बैंकिंग की सुविधा उपलब्ध करवाती है, यह सुविधा पूरी तरह से फ्री होती है। इसके लिए आपसे किसी भी प्रकार का कोई भी शुल्क नहीं लिया जाता है।

यहाँ कुछ अग्रणी बैंकों की सूची दी जा रही हैं, जो इंटरनेट बैंकिंग की सुविधा प्रदान करती है।

  • Allahabad Bank
  • Axis Bank
  • Bank of Baroda
  • Bank of India (BIO Internet banking)
  • Canara Bank
  • HDFC Bank
  • ICICI Bank
  • IDBI Bank
  • IndusInd Bank
  • Punjab National Bank
  • State Bank of India
  • Union Bank of India

इनके अलावा भी बहुत सारी बैंक हैं, जो आपको इंटरनेट बैंकिंग की सुविधा देती है। आपकी बैंक इंटरनेट बैंकिंग की सुविधा देती है या नहीं इसके लिए आपको अपनी ब्रांच से संपर्क करना होगा। अगर आपकी बैंक यह सुविधा देती है तो आप बहुत ही आसानी से इसका इस्तेमाल कर पाएंगे।

निष्कर्ष

उम्मीद करता हूँ आपको मेरे द्वारा दी गयी इस इंटरनेट बैंकिंग क्या है (what is net banking in hindi) जानकारी से समझ में आ गया होगा कि इंटरनेट बैंकिंग का इस्तेमाल कैसे करें। अगर आपको इस आर्टिकल से सम्बन्धित अथवा इंटरनेट बैंकिंग से संबधित कोई सवाल हो तो कमेंट द्वारा मुझसे पूछ सकते हैं।

यह भी पढ़े

UPI क्या है और कैसे काम करता है?

टीआरपी क्या होती है और यह कैसे मापी जाती है?

ऑपरेटिंग सिस्टम क्या है? कार्य, प्रकार और विशेषता

डेटाबेस क्या है? इसके प्रकार, कार्य, उपयोग और लाभ

PNB Bank का Balance कैसे Check करें?

इनका नाम राहुल सिंह तंवर है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 4 वर्ष से अधिक SEO का अनुभव है और 6 वर्ष से भी अधिक समय से कंटेंट राइटिंग कर रहे है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जरूर जुड़े।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here