TRP क्या है ? जानिये टीआरपी रेटिंग कैसे तय होती है।

TRP क्या है ? जैसा कि हम सभी जानते हैं, पुराने समय में लोग Radio द्वारा अपना entertainment करते थे। जैसे जैसे तकनीक का विकास होता गया वैसे-वैसे entertainment के अलग अलग साधन उपलब्ध होते चले गए। इसी बढ़ती तकनीक ने टेलीविजन का निर्माण कर किया। टेलीविजन इतना व्यापक होता चला गया जिससे लोगों को टेलीविजन से लगाव होता चला गया और उन्होंने टीवी को अपने दैनिक जीवन का एक हिस्सा ही बना लिया।

जैसे-जैसे लोगों की टीवी के प्रति जागरूकता बढ़ती गयी वैसे-वैसे टीवी में अनेक प्रकार के चैनलों का निर्माण भी होता गया। आज बहुत से लोग ऐसे हैं जिनके पास टेलीविजन के अतिरिक्त कोई और मनोरंजन करने का साधन उपलब्ध नहीं है। यह एक ऐसा विकल्प है, जिसके माध्यम से लोग मनोरंजन कर रहे हैं।

यदि आप टीवी देखते हैं, तो आपने TRP का नाम अवश्य ही सुना होगा। यह नाम सुनकर आप में से अधिकतर लोगों के मन में कुछ ऐसे प्रश्न उत्पन्न होते होंगे जैसे कि TRP क्या है और इसे Rating किस प्रकार से दी जाती है। आपके ऐसे ही कुछ सवालों के जवाब हम इस अपने इस महत्वपूर्ण लेख में देने जा रहे हैं। यदि आप टीआरपी के बारे में विस्तार से जानना चाहते हैं, तो हमारे इस लेख को अंत तक अवश्य पढ़ें।

TRP क्या है ? और इसका Full form?

TRP की फुल फॉर्म टेलीविजन रेटिंग पॉइंट (Television Rating Point) है, मतलब टेलिविजन रेटिंग पॉइंट को short में टीआरपी कहते हैं।

TRP वह टूल अथवा उपकरण होता हैं, जिसके माध्ययम से यह पता लगाया जाता है कि टीवी पर कौनसा प्रोग्राम या टीवी चैनल सबसे ज्यादा देखा जा रहा है।

टीवी पर प्रसारित किए जाने वाले कुछ ऐसे program या movie जिनकी  टीआरपी बहुत High होती हैं। जिन प्रकार के प्रोग्रामों की टीआरपी बहुत high होती है, उसके टीवी पर प्रसारण के दौरान बीच-बीच में आपको long time वाले विज्ञापन भी देखने को मिलते होंगे। इन विज्ञापन प्रदाताओं को कुछ प्रोग्राम के प्रसारण के दौरान अपने विज्ञापन को दिखाने के लिए चैनलों को मोटी रकम अदा करनी होती हैं, यह रकम भी टीआरपी के आधार पर ही निर्धारित होती हैं।

TV चैनल की TRP कैसे चेक की जाती हैं ?

एक विशेष प्रकार के Device की मदद से टीआरपी का पता लगाया जाता है परंतु कभी-कभी यह डिवाइस टीवी शो कनेक्ट नहीं हो पाते हैं, तो इस परेशानी को दूर करने के लिए set top box का प्रयोग किया जाता है। set top box के प्रयोग से टीवी के Rating point की counting आसानी से की जा सकती है।

टीआरपी के रेटिंग प्वाइंट की गणना करने के लिए प्रयोग किए जाने वाले डिवाइस को People Meter कहा जाता है। ज्यादातर इन डिवाइसों का प्रयोग नगरों या महानगरों में किया जाता है, इसका प्रयोग ग्रामीण क्षेत्रों में बहुत ही कम किया जाता है।

टीआरपी की जानकारी किस प्रकार से मिलती है ?

जैसा कि आपने अब तक यह जाना की टीआरपी क्या होती है और इसका पूरा नाम क्या होता है। अब आगे हम यह देखेंगे कि TRP की जानकारी हमें किस प्रकार से मिल सकती है।

टीआरपी का पता लगाने के लिए अनेकों नगरों और महानगरों में People meter (जो टीआरपी को मापता है) लगाया जाता है, specific frequency के द्वारा जांच कर रही टीम को इसका सारा ब्यावरा प्रदान करती है।

यह device उस नगर या महानगर के क्षेत्र में मौजूद set top box आदि से जुड़ जाता है और इसके बाद यह meter TRP की calculating कर रही टीम से जुड़कर सारी जानकारियां उस टीम तक पहुंचाता है। यह टीम यह तय करती है, कि टीवी के किस चैनल पर सबसे ज्यादा views आ रहे हैं, इसी view के through यह पता लगा लेते हैं कि किस चैनल की rating सबसे अधिक है।

चैनलों के लिए टीआरपी का महत्त्व – Importance of TRP Hindi

अब तक आपने पढ़ा टीआरपी क्या है, इसकी कैलकुलेटिंग किस प्रकार से की जाती है। इतना पढ़ने के बाद आपको इतना तो अवश्य ही पता हो चुका होगा, कि टीआरपी का सीधा कनेक्शन चैनल या फिर किसी सीरियल के popularity पर निर्भर करता है। तो सीधी सी बात है कि जिस सीरियल या फिर मूवी की टीआरपी रेटिंग हाई होती है और उसे जिस चैनल पर प्रसारित किया जाता है, उसके टीआरपी का सीधा प्रभाव चैनल के इनकम पर पड़ता है।

प्रसारित किए गए जिस सीरियल या फिर मूवी की रेटिंग हाई होगी, उस के चैनल को काफी अच्छा इनकम प्राप्त होगा, इसी के विपरीत जिस सीरियल या फिर मूवी के चैनल की रेटिंग कम होगी, उस चैनल एक दम पर इसका सीधा असर पड़ेगा।

सोनी स्टार लाइफ ओके डिस्कवरी ज़ी न्यूज़ पर प्रसारित होने वाला डीएनए प्रोग्राम की रेटिंग बहुत ज्यादा हाई है। यह सभी advertising के द्वारा पैसे कमाते हैं, यदि इनकी रेटिंग कम हो जाती हैं तो इसका सीधा असर इनकी कमाई पर पड़ता हैं।

उदाहरण के लिए आप high rating वाले प्रोग्राम में अपना विज्ञापन देना चाहते हैं, तो आपको उसके लिए अधिक money pay करनी होती हैं, यदि आप low rating वाले प्रोग्राम में ऐड देते हैं, तो आपको इसके लिए बहुत ही कम payment करनी होती हैं।

निष्कर्ष

हम उम्लेमीद करते हैं कि किन हमारा article पढ़ने के बाद आपको तो यह अवश्य ही पता चल गया होगा की आखिर यह TRP क्या है। टीआरपी की काउंटिंग करने के लिए टीवी पर यह एड आपने देखा ही होगा कि आप सेट टॉप बॉक्स अवश्य लगवा ले।

ऐसा इसलिए कहा जाता है क्योंकि टीआरपी की एनालिसिस कॉल करने में मदद मिल जाती है। सेट टॉप बॉक्स लग जाने से जानकारी प्राप्त करने में बहुत ही ज्यादा सहायता मिल जाती है।

आप यह तो जान ही गए होंगे कि जिस चैनल की टीआरपी (T V rating point ) High होती है, वही चैनल काफी ज्यादा समय तक चलता है और Top पर रहता है। यदि किसी channel के show की टीआरपी Low हो, तो वह जल्द ही रद्द हो जाती है, और उस चैनल के बंद होने के chance भी बढ़ जाते हैं।

अगर आपको यह आर्टिकल पसंद आया हैं तो इसे अपने मित्रों और प्रियजनों के साथ अवश्य शेयर करें, इसके अलावा आपका कोई सवाल या सुझाव हो तो हमें कमेंट के माध्यम से जरुर बताएं।

इसे भी पढ़ें:

मेरा नाम सवाई सिंह हैं, मैंने दर्शनशास्त्र में एम.ए किया हैं। 2 वर्षों तक डिजिटल मार्केटिंग एजेंसी में काम करने के बाद अब फुल टाइम फ्रीलांसिंग कर रहा हूँ। मुझे घुमने फिरने के अलावा हिंदी कंटेंट लिखने का शौक है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here