5G नेटवर्क क्या है? (स्पीड, फायदे, प्रभाव और रिचार्ज)

5G Technology In Hindi : 5G शब्द को सुनकर या सुनकर यह प्रतीत होता है कि यह आने वाली नयी पीढ़ी के लिए एक ब्रह्मास्त्र साबित होगा। ब्रहमांड की नयी टेक्नीक जो मानव के द्वारा बनाई गयी है, उसे 5G यानि 5th टेक्नीक नेटवर्क ऑफ वर्ल्ड कहा गया है। क्योंकि इस टेक्नोलॉजी से डेटा बेस नेटवर्क हजार गुणा तेज चलेगा और गोली की रफ्तार से भी ज्यादा तेज चलेगा।

5G Technology In Hindi
Image: 5G Technology In Hindi

इसलिए आज के अपने आर्टिकल में हम बात करेंगे 5G नेटवर्क क्या है?, जिसमें हम आपको इसके बारे में विस्तार से समझाने की कोशिश करेंगे। इसलिए इस आर्टिकल को अंत तक पढ़ना ताकी आपको 5G से संबधित कोई भी जानकारी के लिए किसी दूसरी जगह ना जाना पड़े।

5G नेटवर्क क्या है? (स्पीड, फायदे, प्रभाव और रिचार्ज) | 5G Technology In Hindi

5G नेटवर्क क्या है?

5G नेटवर्क का अर्थ पांचवी जनरेशन से है। 5 जी तकनीक एक तरह की वायरलेस कनेक्टिविटी है, जिसमें इलेक्ट्रोमैग्नेटिक स्पेक्ट्रम यानी रेडियो वेव (रेडियो तरंगों) का इस्तेमाल किया जाता है। 

यह मोबाइल नेटवर्क की एक नयी टेक्नोलॉजी है और पिछले सभी नेटवर्क जेनरेशंस के मुकाबले 5जी नेटवर्क की वायरलेस डेटा क्षेत्र में काफी बड़ी भूमिका होगी और हमारा इंटरनेट एक्सेस करने का तरीका भी काफी हद तक बदलेगा और इतना ही नहीं इंटरनेट की हाई स्पीड भी हमें  5G तकनीक के अंतर्गत प्राप्त होगी।

5G इंटरनेट की स्पीड कितनी होगी?

5G इंटरनेट की स्पीड 4G इंटरनेट से हजार गुणा तेज होगी ओर यह बहुत तेज चलेगा। 5G टेक्नीक का आगमन होने से हम सब की ज़िन्दगी काफी बदल सी जायेगी और 5G टेक्नोलॉजी आने वाले समय मे एक नया युग साबित होगा। इस टेक्नोलॉजी को लेकर बहुत से दावे किए जा रहे है कि 5G इंटरनेट के आने पर कोई भी डाटा को 10 या 20 सैकेंड में ही आसानी से डाउनलोड किया जा सकेगा।

अभी 4G से किसी भी डाटा को डाउनलोड करने मे 10 या 20 मिनट लगते है लेकिन 5G स्पीड से यह काम चुटकियों में हो जाया करेगा। यहां 4G इंटरनेट की औसतन 45 एमबीबीएस या 50 एमबीबीएस है तों वहीं अब 5G की औसतन स्पीड 500 एमबीबीएस से लेकर 1000 एमबीबीएस तक हो जाऐगी।

इस दौड़ भाग भरी जिन्दगी में यह एक मील का पत्थर साबित होगी। इसका तात्पर्य आप इसी बात से लगा सकते है की कोई भी ऑनलाइन काम या जो लोग ज्यादातर लैपटॉप या फोन से काम करते है वह काम आसान हो जाएगा ओर समय की बचत होगी, जिससे हर तरफ इस नये टेक्नोलॉजीज युग का आगमन होगा। अगर ऐसा हुआ तो 5G दुनियाभर में एक नयी तकनीक क्रांति लायेगी।

भारत में 5G नेटवर्क

5G नेटवर्क पूरी दुनिया में तहलका मचा चुका है लेकिन अब बहुत ही जल्दी हिन्दुस्तान में पैर जमाने जा रहा है। 5G से पहले 2G, 3G ओर 4G हिंदुस्तान में अपना लोहा मनवा चुके है ओर हिन्दुस्तान में एक नेटवर्क का जाल बिछा चुके हैं। लेकिन अब सबको 5G नेटवर्क का बेसब्री से इंतजार है।

यह नेटवर्क का जाल हिन्दुस्तान में अपनी दस्तक दे चुका है और हिन्दुस्तान सरकार का यह लक्ष्य है कि भारतीय टेक्नीक को ओर बेहतर बनाया जाए साथ ही हर क्षेत्र, नगर और गांव में रह रहे लोगो तक यह सुविधा प्रदान की जाए। सरकार इस लक्ष्य की और हर संभव प्रयास कर रही है और आने वाले कुछ लम्हों में 5G टेक्नोलॉजी अपने अंतिम पड़ाव की ओर होगा।

1G, 2G, 3G, 4G से 5G का सफर

इन सभी जनरेशन के बारे में हमने आपको नीचे विस्तार से समझाने की कोशिश की है जिसे आप भी आसानी से समझ सकते है।

1G – जैसे की आप सभी जानते ही है कि 1G नेटवर्क को साल 1980 के आसपास सबसे पहले मुख्य धारा में लाकर एक नयी टेक्नीक का उपयोग किया गया था। इसका उपयोग सिर्फ सुनने के लिए किया जाता था। 

2G – इस टेक्नोलॉजी को साल 1990 के आस पास प्रस्तुत किया गया था। इसमें अंकिय संकेत के साथ 64 केवीपीएस के साथ सुनने ओर डाटा बेस को एक जगह से दूसरी जगह भेजने वाले यंत्र लगे हुए थे।

3G – इस टेक्नोलॉजी के आते ही बहुत सी चीजें आसान होने लगी। जैसे की वीडियो काॅल, ग्रुप काॅल ओर इसकी स्पीड 2 एमवीपीएस थी। 3G 20वीं सदी में अनोखा युग निर्माण कर चुका था।

4G – यह टेक्नोलॉजी साल 2009 में पहली बार प्रसारित किया गया था जिसकी गति 1 जीबीपीएस के इर्द-गिर्द थी। यह स्थानीय डेटा बेस को मजबूत बनाने में सक्षम है।

5G – ऐसा अनुमान लगाया जा रहा है की इस टेक्नोलॉजी से हर टेक्निकल डेटा बेस बहुत जल्दी से शिफ्ट किया जा सकता है ओर इस टेक्नोलॉजी से समय की बच बहुत होगी। 

5 जी के क्या फायदे होंगे?

5G आने से कनेक्टिविटी सिग्नल बहुत जबरदस्त हो जायेगे और घंटो का काम कुछ ही सैकंड में हो जाएगा। साथ ही हर जगह एक मजबूत नेटवर्क मिलेगा। 5G टेक्नीक आने से नयी जनरेशन को बहुत फायदा होगा क्योंकि यह जनरेशन टेक्नोलॉजी के साथ ही पैदा हुई है। इससे यह विज्ञान क्षेत्र और औद्योगिक क्षेत्र में बहुत अच्छा इस्तेमाल करके उसकी क्षमता को और अधिक बड़ा देगा।

5G टेक्नोलॉजी नेटवर्क से शिक्षा मे बहुत सुधार हो जाएगा। जैसे की ऑन लाइन क्लास बिना किसी ब्रेक नेटवर्क से चलेगीं और ऑफिस का वर्क करना ओर भी आसान हो जाएगा। साथ ही इससे समय की बचत ओर इनकम बढ़ेगी। बैंक के हर कामों में भी तेजी आएगी जैसे की ट्रांजेक्शन बढ़ेगा और सरकार की स्वास्थ्य योजना धरातल पर और अधिक विस्तृत होगीं।

5G का विश्व स्तरीय प्रभाव

ऐसा अनुमान लगाया जा रहा है कि 5G टेक्नोलॉजी को पूरे विश्व में स्थापित करने के लिए साल 2033 तक का लक्ष्य हासिल किया गया है। 5G टेक्नीक बहुत बड़ी मार्केट का एक हब बन जाएगा ओर अरबों डॉलरों का व्यापार करेगा साथ ही इसमें बहुत ही नये जॉब्स प्रदान हो सकते हैं। व्यापारिक ओर औद्योगिक क्षेत्र में यह तेजी से अपने पांव जमा कर एक नय युग का निर्माण कार्य करने में सक्षम हो जाएगा।

5G टेक्नोलॉजी की शुरूवात कुछ देशों में यह टेक्नीक साल 2020 की शुरुआत में ही हो गयी थी ओर कुछ देशों में इसका उपयोग भी होना शुरू हो गया है। जैसे अमेरिका, चाइना, जापान, फ्रांस के लोग इस सेवाओं का आंनद पहले से ही उठा रहे है।

भारत में भी जियो, एयरटेल, वीआई जैसे टेलिकॉम सेक्टर इस 5G सेवा को साल 2022-2023 में बहुत जल्द लांचिंग करने जा रहे है। इसकी खरीदारी की प्रकिया भी पूरी हो चुकी है और यह भारत के कुछ राज्य के कुछ हिस्सों में सबसे पहले मुख्य रूप मे लाया जायेगा।

फिर सफल परीक्षण के बाद ही पूरे हिन्दुस्तान में एक साथ लांच कर दिया जाएगा। उसके बाद हर फील्ड में इस नयी टेक्नीक का इस्तेमाल होगा जिससे लोग एक गति शील स्पीड का आनंद उठाने में बहुत ही अच्छा महसूस करेंगे। फिर हिन्दुस्तान भी बाकी देशों की तरह प्रगतिशील देश को टक्कर देगा।

5G कैसे करेगा काम ?

बहुत से लोगों के मन में यह शंका है कि 5जी से क्या होगा? क्या वो अच्छे से काम करेगा या नहीं? तो हम आपको बता दें की 5जी की गति समान्य से हजार गुणा ज्यादा  तेज होगी। यह नेटवर्क हर जगह भारत के हर कोने में काम करेगा ओर रोज मरा की जिन्दगी को बदल कर रख देगा।

5G जी सिम कार्ड

5G नेटवर्क आने पर सिम को 4G सिम को 5G सिम में अपडेट करना पड़ेगा या नहीं। इसका खुलासा अभी स्पष्ट रूप से बताया नहीं गया है। लेकिन एयरटेल कंपनी ने स्पष्ट रूप से कहा है कि एयरटेल की 4G सिम को 5G सिम में अपडेट करने की जरूरत नहीं पड़ेगी क्योकिं 4G सिम पहले से ही 5G सिम की क्षमता रखती है। बाकि जब 5G नेटवर्क आएगा तभी सारी बाते स्पष्ट रूप से सामने आऐगीं। अभी तो बस इस बातों पर अटकले ही लगा सकते हैं।

5G नेटवर्क किस एंड्रॉयड फोन में सपोर्ट करेगा

5G टेक्नीक नेटवर्क क्या 4G टेक्नीक फोन में सक्षम होगा? इसके ऊपर कुछ तकनीशियन का कहना है की जी हां साल 2020 या साल 2021 में आये कुछ स्मार्ट फोन में 5G नेटवर्क में चलने की क्षमता है।

ऐसे कई स्मार्ट फोन ब्रांड है जो यह दावा करते है की जब 5G टेक्नीक नेटवर्क आएगा तभी सब कुछ स्पष्ट रूप से सामने आएगा। वैसे अभी अगर कोई फोन लेने कि सोच रहा है तो या तो वह रूक कर ले या फिर फोन की अच्छे से जांच पड़ताल कर के ले। ताकि 5G टेक्नीक नेटवर्क उस स्मार्ट फोन में चल सके, जिससे 5G नेटवर्क आते ही आप स्मार्ट फोन में सिम कार्ड को बदलकर 5G नेटवर्क का लाभ ले सकते है।

5G का रिचार्ज कितना होगा?

यह प्रश्न सब लोगों के मन में एक शंका की तरह जरूर पैदा करता है कि हर टेलिकॉम कम्पनी ने 4G आते ही रिचार्ज का रेट एक दम बढ़ा दिया था, जिससे लोगो में काफी अक्रोश था।

लेकिन जैसे ही लोग 4जी टेक्नीक का इस्तेमाल करने लगे सबको यह एक रोजाना सी जिन्दगी जैसा लगने लगा। वैसे ही अगर हम बात करें 5जी नेटवर्क की तो अभी किसी भी टेलिकॉम सेक्टर ने इस पर कोई बात नहीं कही है। लेकिन अगर आपको हजार गुणा तेज स्पीड इंटरनेट मिलेगा तो कुछ तो मंहगा होगा ऐसा हमारा मानना है।

5G टावर की दूरी का असर

क्या 5जी पर टावर की दूरी का कोई असर पड़ेगा? क्योंकि हर जगह टावर उपलब्ध नहीं है। तो हम आपको बता दे कि टावर की दूरियां इसमें कोई मायने नहीं रखती है। क्योकिं 5जी बहुत से सेटेलाइट से बनी हुई बीना तार की टेक्नोलॉजी है। तो यह रेडियों तिरगों से चलती है तो इसमें टावर दूर होने का कोई असर नहीं पड़ेगा।

आप आसानी से 5जी नेटवर्क का इस्तेमाल ले सकते है और इस टेक्नोलॉजी का आनंद उठा सकते है। 5G टेक्नोलॉजी एक ऐसी टेक्नीक है जो कि आने वाले समय को बदल कर रख देगी और हिंदुस्तान में एक क्रांति लेकर आएगी।

FAQ

क्या 5G फोन में 4G सिम चल सकती है?

जी हां बिल्कुल 5G फोन में 4G सिम को भी चलाया जा सकता है।

5G सिम कब तक आ जाएगी?

हमारे भारत देश में भी 5G तकनीक के ऊपर टेलीकॉम कंपनियां काफी तेजी से काम कर रही है और उम्मीद है कि 2023 से प्रारंभ या फिर मध्य समय में भारत में 5G सिम उपलब्ध हो जाएगी।

5G कौन से कंपनी लॉन्च कर रही है?

फिलहाल हमारे भारत देश में 5G तकनीक को एयरटेल और जिओ कंपनी लॉन्च कर रही है।

5G का रिचार्ज कितने में होगा?

अभी आप 4G नेटवर्क चलाने के लिए कितना भी रिचार्ज करते हो उसका 10 से 30% एक्स्ट्रा चार्ज या फिर उसी प्राइस में हमें 5G नेटवर्क को एक्सेस करने की सुविधा मिल सकती है। परंतु अभी 5G रिचार्ज से संबंधित कोई भी अधिकारी जानकारी उपलब्ध नहीं है।

निष्कर्ष

5G नेटवर्क क्या है?(5G Technology In Hindi) के  बारे में हमने अपने आज के इस लेख में आप लोगों को विस्तार पूर्वक से जानकारी प्रदान की हुई है और हमें उम्मीद है कि हमारा यह लेख आप लोगों के लिए काफी उपयोगी और सहायक सिद्ध हुआ होगा।

अगर आप लोगों को इस लेख से संबंधित किसी भी प्रकार की जानकारी चाहिए तो आप नीचे दिए गए कमेंट बॉक्स का इस्तेमाल करना ना भूले और साथ ही साथ लेख पसंद आने पर इसे अपने दोस्तों के साथ और अपने सभी सोशल मीडिया चैनल पर शेयर करना ना भूले।

यह भी पढ़े

सोशल मीडिया क्या है? इसके प्रकार, फायदे और नुकसान

इंटरनेट क्या है? (इतिहास, प्रकार, फायदे, लाभ और नुकसान)

एन्क्रिप्शन क्या है? Encryption की पूरी जानकारी

नेट बैंकिंग क्या है?

इनका नाम राहुल सिंह तंवर है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 4 वर्ष से अधिक SEO का अनुभव है और 6 वर्ष से भी अधिक समय से कंटेंट राइटिंग कर रहे है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जरूर जुड़े।