जॉब शायरी

Job Shayari In Hindi

Job Shayari In Hindi
Job Shayari In Hindi

जॉब शायरी |Job Shayari In Hindi

अच्छी नौकरी ही इन्सान
की गुणवत्ता और मान-समान,
बढ़ाती है और उनकी
कामयाबी से लोग खुश रहते है।

भरोसा होता हे जिसको अपने काम पर
वो नौकरी करते हे
और जिनको अपने आप पर भरोसा होता हे
वो व्यापार करते हे।

इज़्ज़त एक मेहंगा तोहफ़ा है इसकी,
उम्मीद सस्ते लोगो से नहीँ करना चाहिये,

जो इन्सान गोरमेंट की
नौकरी के चक्कर मेहनत करते है
उसको अंत में मिल ही जाती है
सरकारी नौकरी..

गुलामी के जंजीरों से
स्वतंत्रता की शान अच्छी,
चंद रूपये की नौकरी
से चाय की दुकान अच्छी…

रात नहीं ख्वाब बदलता है,
मंजिल नहीं कारवाँ बदलता है।
जज्बा रखो जीतने का क्यूंकि,
किस्मत बदले न बदले,
पर वक्त जरुर बदलता है।

Read Also :-किस डे शायरी

स्वतंत्रता की शान अच्छी गुलामी के
जंजीरो से
चंद रूपीओ की नौकरी से चाय
की दूकान अच्छी।

वो आफ़ताब लाने का देकर हमें फ़रेब,
हमसे हमारी रात के जुगनू भी ले गया..

Job Shayari In Hindi

एक सपना जादू से सच
नहीं बन सकता, इसमें
पसिना दृढ़ संकल्प
और कड़ी मेहनत लगती है

एम्प्लोई वो है जो अक्सर फास्ता है,
इंटरव्यू के सवालों में,
बड़ी कंपनी के जाल में,
बॉस और क्लाइंट के बवाल में…

सरकारी नौकरी की तरह गुजर गई
वो सामने से
और में सामान्य वर्ग था जो
देखता रहा।

मेरी तरह ज़रा भी तमाशा किये बगैर,
रो कर दिखाओ,
आंखों को गीला किये बगैर!

Read Also :-भाई पर बेहतरीन शायरी

बात कहूं तो बहस चुप रहु..
तो घमंड आजकल
हमारी जिंदगी कुछ ऐसी चल रही है

नौकरी पाना इतना भी आसान मत समझो,
बस इतना समझ ली जिये, आग का दरिया है।
और उसमे जिंदगी काट लेते हैं।।

इन दिनों ऐसा हथियार बन गया हे
सरकारी नौकरी
जिसे सिर्फ दिखाने भर से ही अच्छे
रिश्ते आने लगते हे।

ये भी हुआ है रात को जब लोग सो गएं,
तन्हाइयां और मैं तेरी बातों में खो गए..

देश को बदलने का ज़ज़्बा
लेकर Govt Job में आते है,
Job मिल जाते ही
ये दामाद-सा लुफ्त उठाते है

जीवन की राह में इंसा के जज्बात बदल जाते है,
वक्त की गिनती में हालत बदल जाते है,
सोचता था, काम कर करके रिकॉर्ड बना दू,
लेकिन बॉस की सैलरी देख ख्याल बदल जाते है…

****

कठिन परिश्रम से ही
इन्सान आगे बढ़ सकता है,
और उसके लिए परिश्रम
करना बहुत जरूरी होता है।

जिंदगी एक मजाक सी हो गई हे
सरकारी नौकरी के पीछे
इतना इसके पीछे फैल हो रहे हे की वो हमें
नालायक निकम्मा समझने लगी हे।

हर सुबह तेरी दुनिया में रौशनी कर दे,
रब तेरे गम को तेरी ख़ुशी कर दे,
जब भी टूटने लगे तेरी सांसें,
खुद तुझमें शामिल मेरी ज़िन्दगी कर दे!!

Job Shayari In Hindi

गोरमेंट के वादों की
शक्ल में थी उसकी वफायें सभी,
कागज़ों पर ही दम तोड़ दिया,
अम्ल ही न हो पाई कभी..!!

पैसा-पैसा सब करें,
सेविंग करे न कोय,
गर्लफ्रेंड पर पैसा खर्च करे
और माह के अंत में रोय…

एक सपना जादू से
हकीकत नहीं बन सकता ,
इसमें पसीना ,
दृढ संकल्प और कड़ी मेहनत लगती है।

नौकर बनने से अच्छा हे एक बड़ा
एक छोटा मालिक बन जाये।

Read Also :-हग डे शायरी

हँसना हँसाना ये कोशिश है मेरी,
सबको खुश रखना चाहत है मेरी,
कोई याद करे या न करे,
हर किसी को याद करना आदत है मेरी।

बंद आँखों की हकीक़त है
देश में बेरोज़गारी,
खुली आँखों का ख़्वाब है
Govt. Job का..

प्राइवेट जॉब वाले प्राइवेट
जॉब वालों से ही डींग मारते हैं,
जबकि हकीकत एक-दुसरे
की अच्छी तरह जानते हैं…

****

आप सिर्फ पैसा कमाने
के लिये काम नहीं करते हैं,
बल्कि अपनी जिंदगी को
उचित ठहराने के लिये करते हैं।

नौकरी इंसान को किस मोड़ पे
ले आती हे
अपने ही घर जाने के लिए दुसरो से
इजाजत लेनी पड़ती हे।

Job Shayari In Hindi

दिन है सुहाना आज पहली तारीख है..
खुश है झमाना आज पहली तारीख है..
मीठा है खाना आज पहली तारीख है..
करो ना बहाना आज पहली तारीख है..

डर मुझे भी लगा फासला देख कर,
पर मैं बढ़ता गया रास्ता देख कर,
खुद ब खुद मेरे नजदीक आती गई,
मेरी मंजिल मेरा हौंसला देख कर…

मुझे सरकारी नौकरी सा लगता हे
मेरे इश्क में दीदार तेरा
तू मुझे मिल जाये किसी तरह
कोशिश हजार करने लगता हे।

ऐ हसीन चाँद मेरे दोस्त को एक तोहफा देना,
लाखो तारों की सजी महेफिल संग रोशनी करना,
तुम छुपा लेना अँधेरे को ऐसे,
हर रात के बाद एक खुबसूरत सँवेरा देना.

Read Also :-गर्ल इम्प्रेस शायरी

जो सरकारी मास्टर
बच्चों को निष्ठा से नही पढ़ाते है,
उनके अपने बच्चे
अक्सर मंदबुद्धि के हो जाते है ||

इतना आसान भी मत समजो नौकरी पाना
बस इतना समज के जिए की
आग का दरिया हे
और इसमें जिंदगी काट लेते हे।

हो सकता है हर दिन अच्छा ना हो,
लेकिन हर दिने में कुछ न कुछ अच्छा होता है।
आपका दिन शुभ हो।

वो इन्सान ही सरकार की
नौकरी में बडीया पैसा कमाता है,
जो भ्रष्टाचार और रिश्वतखोरी
को अपना धर्म बताता है..!!

प्राइवेट नौकरी पाना इतना आसां नही,
बस इतना समझ लीजिये,
आग का दरिया है और उसमे मजे लेते जाना हैं…

आलस्य लुभावना प्रतीत हो सकता है,
लेकिन यह तो काम ही है जो संतुष्टि देता है।

एक जैसी हे नौकरी और मोहब्बत
आदमी करता रहेगा रोता रहेगा
मगर छोडेंगा नहीं।

*****

संघर्ष के मार्ग पर जो वीर चलता हैं,
वो ही इस संसार को बदलता हैं,
जिसने अन्धकार, मुसीबत और ख़ुद से जंग जीती,
सूर्य बनकर वही निकलता हैं।

वो सामने से गोरमेंट
नौकरी की तरह गुजर गई,
और मैं सामान्य वर्ग की
तरह उससे देखता रह गया

शायर कह कर मुझे
बदनाम ना करना दोस्तो,
में तो रोज़ शाम को दिन
भर का हिसाब लिखता हूँ।

हर इंसान का काम
उसकी अपनी ही तस्वीर है।

सबसे पहले PRE फिर
MAIN का इम्तिहान लेती है,
ये गोरमेंट की नौकरी
तड़प-तड़प कर जान लेती है.

महेनत जितनी करवाते हे
प्राइवेट नौकरी में
उतनी ही सैलरी होती हे।

एक शेर की आक्रामकता
के साथ काम करिये,
पर उसी समय एक पुष्प की
कोमलता भी आपमें होनी चाहिये।

Job Shayari In Hindi

कठिन परिश्रम ही वह एकमात्र
चीज़ है जो कठिन है।

यूं तो किसी चीज के मोहताज नही हम,
बस एक तेरी आदत सी हो गयी है।

इन सोई सरकारों को किस-किस
के दिल का हाल सुनायें,
बेरोजगारी की वजह से ना जाने
कितने आशिकों का दिल तबाह हो गया।

खूबसूरत लड़की पाने के
लिए शक्ल मायने नही रखती,
ये सब पाने के लिए गोरमेंट
की नौकरी का होना जरूरी है !!

कभी पिघलेंगे पत्थर भी
मोहब्बत की तपिश पाकर,
बस यही सोच कर हम
पत्थर से दिल लगा बैठे।

पढ़ने लिखने का अपना,
अलग ही मजा है।
जॉब ढूंढते ढूंढते जिंदगी,
निकल जाये वह सजा है।

हमारा इश्क भी गोरमेंट की
फाइल की तरह निकली है
न ही हमारी फाइल आगे
बढ़ी और न ही मामला बंद हुआ

बचपन में बोला पढ़ लिख
के अपना टाइम आयेगा।
सरकार ने बोला ज्यादा पढ़े
तो आया जो भी जायेगा।।

कौन कहता है कि दिल सिर्फ सीने में होता है,
तुझको लिखूँ तो मेरी उंगलियाँ भी धड़कती है।

माँ बाप ने सोचा पढाई लिखाई,
बनाएगी बेटे का इक दिन फ्यूचर।
क्या पता इक दिन बन जाएगी,
बेटे का फ्यूचर मिटाने वाली डस्टर।।

डिग्री देख बादशाह समझे, पाकर बने गुलाम।
Queen पाने के सिर्फ सपने,
क्योंकि नहीं मिला कोई काम।।

गोरमेंट की नौकरी का रूतबा
बड़ा ही कमाल का होता है
गोरमेंट की नौकरी का जितना
नखरा है सुंदर छोकरी का..!!

पढ़ लिख कर बन गए नवाब।
अब नवाब देखे जॉब का ख्वाब।।

मन का रिश्ता जुड़ा था
जो निभाने के लिए,
अब गोरमेंट की मोहरें लग रही है
उसे बचाने के लिए..!!

मुहब्बत नहीं है नाम सिर्फ पा लेने का,
बिछड़ के भी अक्सर दिल
धड़कते हैं साथ-साथ।

सालों किताब का बोझ का उठाया।
परिणाम में जॉब ढूंढना आया।।

तेरा ख़याल तेरी तलब और तेरी आरज़ू,
इक भीड़ सी लगी है मेरे दिल के शहर में।

आठ घन्टे काम करते लेकिन फिर भी नहीं भरता मन हमारा,
क्योंकि घर की टपकती छत ने छीन रक्खा है चैन हमारा।
न जाने कब बरसेंगी हमपे भी रहमत उपरवाले की,
जाने कब करम देख हमें जानेगा जग सारा।

ज़िन्दगी तस्वीर भी है और तक़दीर भी,
फर्क तो सिर्फ रंगों का है।
मनचाहे रंगों से बने तो तस्वीर,
और अनजाने रंगों से बने तो तक़दीर।

हौसलों के तरकश में कोशिशों का,
वह तीर जिंदा रखो हार जाओ चाहे।
जिंदगी में सब कुछ फ़िर से,
जीतने की उम्मीद जिंदा रखो।

ज़िंदगी है थोड़ा आहिस्ता चल,
कट ही जाएगा सफ़र आहिस्ता चल,
एक अंधी दौड़ है किस को ख़बर,
कौन है किस राह पर आहिस्ता चल!

अगर नौकरी करेंगे तो
सरकारी ही करेंगे वरना,
पतासी का लगाकर बचेंगे गोलगप्पे।

लहरों का शांत देखकर ये मत समझना,
की समंदर में रवानी नहीं है,
जब भी उठेंगे तूफ़ान बनकर उठेंगे,
अभी उठने की ठानी नहीं है…

रिश्तेदारों में मैं प्यारा बहुत था ,
मां का मैं दुलारा बहुत था।
सरकारी नौकरी जो मिल गई थी मुझे,
वरना में नाकारा बहुत था।

ज़िंदगी जिसका बड़ा नाम सुना है हमने,
एक कमजोर सी हिचकी
के सिवा कुछ भी नहीं।

नौकरी कभी आपको
भूखा मरने नहीं देगी,
लेकिन यह कभी
आपको आगे बढ़ने नहीं देगी।

Read Also

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here