हरियाणा राज्य का इतिहास और रोचक तथ्य

History of Haryana in Hindi: नमस्कार दोस्तों, सभी लोग इस लेख में भारत के फूड बाउल आफ इंडिया कहे जाने वाले हरियाणा राज्य के विषय में चर्चा करने वाले हैं। आज हम सभी लोग अपने इस महत्वपूर्ण लेख के माध्यम से जानेंगे हरियाणा राज्य के इतिहास और रोचक तथ्य के विषय में। जैसा कि हम सभी लोग जानते ही हैं कि हरियाणा राज्य पुराने समय में पंजाब का ही एक हिस्सा था। परंतु हरियाणा राज्य वर्ष 1966 ईस्वी में भारत एवं पाकिस्तान के विभाजन के बाद भाषा के आधार पर पंजाब से अलग कर दिया गया था।

हरियाणा भारत के उन सभी राज्यों में से एक प्रमुख है, जहां पर आधे से भी अधिक आबादी खेती और कृषि में व्यस्त है। अभी हाल ही में हरियाणा राज्य से बहुत से धुरंधर खिलाड़ी आए हैं, जिन्होंने भारत का नाम गौरवान्वित किया है इसीलिए वर्तमान समय में हरियाणा को चैंपियन की भूमि के नाम से भी जाना जा रहा है। हरियाणा राज्य के एथलीट्स खिलाड़ी और अन्य खिलाड़ियों ने मिलकर भारत के नाम कई पदक किए।

History of Haryana in Hindi
Image: History of Haryana in Hindi

आज हम सभी लोग इस लेख में जानेंगे हरियाणा राज्य के विषय में संपूर्ण जानकारी। इतना ही नहीं आप सभी लोगों को इस लेख में हरियाणा राज्य के विषय में, हरियाणा राज्य का इतिहास, हरियाणा राज्य का स्टेट सिंबल, हरियाणा राज्य की भाषा हरियाणा राज्य का मुख्य भोजन, हरियाणा राज्य का पसंदीदा नृत्य, हरियाणा राज्य का टूरिज्म से संबंध, हरियाणा राज्य के विषय में रोचक तथ्य इत्यादि।

यदि आप सभी लोग हरियाणा राज्य के इतिहास और रोचक तथ्यों के विषय में जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो आप सभी लोगों के लिए हमारे द्वारा लिखा गया यह महत्वपूर्ण लेख बहुत ही लाभकारी सिद्ध होने वाला है। आप सभी लोगों को यहीं पर उन सभी जानकारियों के विषय में प्राप्त हो जाएगा जो हरियाणा राज्य से संबंधित है। तो चलिए बिना देर किए शुरू करते हैं अपना यह लेख।

हरियाणा राज्य का इतिहास और रोचक तथ्य | History of Haryana in Hindi

हरियाणा राज्य के विषय में

हरियाणा भारत का एक ऐसा राज्य है, जहां पर कृषि की पर्याप्त संसाधन उपलब्ध है और हरियाणा में कृषि संबंधी वे सभी कार्य किए जाते हैं, जो एक अच्छी कृषि के लिए आवश्यक होती है। हरियाणा को भारत के लोग भारत का नीदरलैंड भी कहते हैं।

हरियाणा राज्य उत्तर भारतीय राज्य है, जो कि प्राचीन समय में पंजाब का ही एक हिस्सा हुआ करता था और बंटवारे के बाद पंजाब से अलग हो गया। हरियाणा राज्य के दक्षिण भाग में राजस्थान स्थित है और वही उसके पश्चिम की तरफ हिमाचल प्रदेश और उत्तर की तरफ पंजाब बसा हुआ है।

हरियाणा राज्य कुल 3 दिशाओं से अलग-अलग राज्यों की सीमाओं से जुड़ता है और इन तीनों ही राज्यों के मानसून अलग-अलग हैं। हरियाणा राज्य की राजधानी चंडीगढ़ है और हरियाणा राज्य के पड़ोसी राज्य पंजाब की भी राजधानी चंडीगढ़ ही है। ऐसा इसलिए है क्योंकि प्राचीन समय में हरियाणा और पंजाब एक ही राज्य हुआ करता था और दोनों ने ही बंटवारे के बाद भी चंडीगढ़ को ही अपनी राजधानी चुना है। हरियाणा राज्य की स्थापना 1 नवंबर 1966 ईस्वी में हुई थी। हरियाणा राज्य क्षेत्रफल की दृष्टि से भारत का 20वा सबसे बड़ा राज्य है।

हरियाणा राज्य में बहुत सी नदियों का समूह है। हरियाणा में यमुना, सरस्वती, मारकंडा, घग्गर, टंगरी जैसी पवित्र नदियां बहती है। हरियाणा में ऐसी भी मान्यता है कि हरियाणा राज्य कभी भी जल की कमी नहीं होती और नहीं आज तक कभी भी हरियाणा में अकाल पड़ा है। हरियाणा राज्य में प्रत्येक व्यक्ति हिस्ट पुष्ट एवं शरीर से बहुत ही ज्यादा मजबूत होता है, इसका एक मुख्य कारण यह है कि लोग खेतों में काम करते हैं और अपने भोजन में दूध और घी का उपयोग करते हैं।

हरियाणा राज्य अपनी नृत्य कला, वेशभूषा, भाषा, भोजन इत्यादि के लिए पूरे देश में जाना जाता है। हरियाणवी लोगों का पहनावा पूरे दुनिया में सबसे अच्छा पहनावा कहा जाता है। क्योंकि वहां पर लोग अपने श्रृंगार से संबंधित सभी चीजों को सदैव धारण किए रहते हैं। हरियाणा में प्रत्येक व्यक्ति के पास काफी मात्रा में जमीन होती है और हरियाणा में गरीबी कुछ राज्यों को छोड़कर अन्य राज्यों की तुलना में बहुत ही कम है। हरियाणा के लोगों को विशेष रुप से त्योहारों को मनाना काफी पसंद है।

हरियाणा राज्य का गौरवशाली इतिहास (Haryana History in Hindi)

जैसा कि हमने आपको ऊपर ही बताया कि हरियाणा राज्य पुराने समय में पंजाब का ही एक हिस्सा हुआ करता था और बाद में भारत और पाकिस्तान के विभाजन के बाद पंजाब दो भागों में बट गया भारतीय पंजाब और दूसरा पाकिस्तानी पंजाब। पाकिस्तान के बंटवारे के बाद वर्ष 1980 में 1 नवंबर को पंजाब पुनर्गठन अधिनियम के तहत पंजाब से हरियाणा और उत्तराखंड दोनों ही राज्यों को अलग अलग कर दिया गया।

इस बंटवारे के बाद 23 अप्रैल 1966 को पंजाब हरियाणा और उत्तराखंड को पूरी तरह से विभाजित कर दिया गया और इन्हें एक स्वंत्र राज्य घोषित कर दिया गया।

पंजाब हरियाणा और उत्तराखंड के विभाजन के बाद सीमाएं निर्धारित करने के लिए भारत सरकार ने जे सी शाह की अध्यक्षता में शाह कमीशन की स्थापना की। इसके बाद 31 नवंबर 1966 को कमीशन के द्वारा रिपोर्ट जारी की गई और इस रिपोर्ट के अनुसार कर्नल, गुड़गांव, रोहतक, हिसार, जिले, महेंद्रगढ़ इत्यादि जिलों नए राज्य हरियाणा में शामिल कर दिया गया।

जैसा हमने आपको ऊपर बताया कि पंजाब और हरियाणा एक ही राज्य हुआ करता था। अतः इसी कारण से पंजाब और हरियाणा दोनों की ही भाषाएं वेशभूषा पहनावा इत्यादि एक दूसरे से मिलता है। बंटवारे के समय में हरियाणा और पंजाब दोनों की ही राजधानियां चंडीगढ़ को बनाया गया। इसके बाद हरियाणा के पहले मुख्यमंत्री भगवत दयाल शर्मा को बनाया गया।

हरियाणा राज्य का औद्योगिक स्तर एवं शिक्षा

हरियाणा राज्य के औद्योगिक क्षेत्र में काफी तेजी से विकास हुआ है। क्योंकि हरियाणा में विशेष रूप से कृषि की जाती है और कृषि के प्रत्येक संसाधनों की पूर्ति के लिए हरियाणा में उद्योग धंधे शुरू किए गए हैं और हरियाणा में बहुत सी ऐसी कंपनियां खुल चुकी हैं, जिनमें ट्रैक्टर हार्वेस्टर कार इत्यादि से संबंधित चीजें बनाई जाती है।

इतना ही नहीं हरियाणा राज्य में दुपहिया वाहनों की पूर्ति के लिए विशेष रूप से वहां पर बुलेट रॉयल इनफील्ड को सप्लाई किया जाता था और अब तो वहां पर रॉयल इनफील्ड की एक ब्रांच शुरू होने वाली है।

हरियाणा राज्य के औद्योगिक स्तर में ही नहीं बल्कि हरियाणा राज्य के शिक्षा के स्तर में भी विशेष रूप से बदलाव देखने को मिला है। जहां पर हरियाणा में कहीं-कहीं विद्यालय हुआ करते थे, वहीँ आज हरियाणा में प्रत्येक गांव में एक विद्यालय है।

कुछ समय पहले से हरियाणा में शिक्षा के स्तर में वृद्धि देखने को मिली है और इतना ही नहीं हरियाणा में खेलकूद को भी लेकर काफी होड़ मची हुई है। क्योंकि हरियाणा के बहुत से खिलाड़ी हाल ही में हुए टोक्यो ओलंपिक में गोल्ड मेडल, सिल्वर मेडल और ब्रॉन्ज मेडल जीते हैं। हरियाणा राज्य सरकार लोगों को खेलकूद के प्रति प्रेरित करने के लिए ओलंपिक के गोल्ड मेडल विजेता नीरज चोपड़ा को 6 करोड रुपए भेंट में दिए।

Read Also

हरियाणा राज्य का स्टेट सिंबल

हरियाणा राज्य के स्टेट सिंबल में अनेकों ऐसी चीजों को शामिल किया गया है, जो कि राज्य की प्रगति एवं हित में विशेष भूमिका निभाता है। आइए जानते हैं, हरियाणा राज्य के स्टेट सिंबल के विषय में।

राष्ट्रीय पेड़पीपल
राष्ट्रीय पक्षीब्लैक फ्रैंकोलिन
राष्ट्रीय पुष्पकमल
राष्ट्रीय पशुब्लैक बक

हरियाणा राज्य की प्रमुख भाषा

हरियाणा राज्य में लोगों के द्वारा मुख्य रूप से बोली जाने वाली भाषा हरियाणवी है। हरियाणवी भाषा हरियाणा की मातृभाषा करी जाती है। हरियाणवी भाषा के आधार पर ही हरियाणा को पंजाब से अलग किया गया था। हरियाणवी भाषा में सुनने में बहुत ही प्रिय लगती है और हरियाणा में महान से महान धुरंधरों ने जन्म लिया है। यही कारण है कि हरियाणा वर्तमान समय में अन्य राज्यों की तुलना में काफी अच्छा राज्य माना जाता है।

हरियाणा राज्य में सिर्फ हरियाणवी ही नहीं बल्कि हरियाणवी के अलावा अन्य भाषाएं बोली जाती हैं, जैसा कि हिंदी पंजाबी उर्दू अंग्रेजी इत्यादि हालांकि हरियाणा में मुख्य रूप से और लगभग सभी लोग हिंदी उर्दू ही बोलते हैं। हरियाणा के छोटे-छोटे कस्बों और बड़े-बड़े शहरों में लोग अंग्रेजी भाषा को ही अपने घरेलू भाषा के रूप में यूज करते हैं। हरियाणा में हिंदी मुख्य रूप से शुद्ध नहीं बोली जाती बल्कि वहां पर हिंदी और हरियाणवी भाषा के मिश्रण में लोग एक दूसरे से बातचीत करते हैं।

हरियाणा राज्य का मुख्य भोजन

हरियाणा के लोग मुख्य रूप से अपने भोजन में दूध दही को शामिल करते हैं। क्योंकि हरियाणा में गोपालन एवं पशुपालन विशेष रूप से किया जाता है, इसीलिए वहां पर दूध और दही की बहुतायता होती है। इसी कारण हरियाणा में दूध से बनी चीजें खाना अधिक पसंद करते हैं। हरियाणा में अन्य रूपों में पसंद किया जाने वाला भोजन खांडवी ढोकला जलेबी फाफड़ा इत्यादि प्रमुख है।

हरियाणा राज्य का पसंदीदा नृत्य

हरियाणा एक ऐसा राज्य है, जहां पर प्रत्येक व्यक्ति अपने जीवन को आनंदमय तरीके से व्यतीत करता है। हरियाणा के लोग बहुत ही ज्यादा मेहनती होते हैं और हरियाणा के मूल निवासियों में मौजूद जीवन के उपयोगिता लिए अनेकों नृत्य और संगीत के रूप में चैनल का प्रसारण किया जाता है। केवल खेलकूद के क्षेत्र में ही नहीं बल्कि एक्टिंग और सिंगिंग के क्षेत्र में भी हरियाणा से काफी लोग सामने आए हैं।

हरियाणा में लोग प्रत्येक अवसर को बड़े ही धूमधाम से और एक साथ मिलकर मनाते हैं। हरियाणा के लोग सदैव एक दूसरे से मिलजुल कर रहते हैं और इसी कारण बच्चे के जन्म, शादी विवाह या फिर किसी भी धार्मिक एवं सामाजिक समारोह में एक साथ शामिल होते हैं। हरियाणा में विशेष रुप से प्रमुख नृत्य किए जाते हैं जैसे कि रसलीला, धमाल, गुगा, लूर, फाग नृत्य, खोरिया, गपशप, चौपाइयां, गरबा, झूमर इत्यादि।

हरियाणा राज्य की जनसंख्या

हरियाणा सरकार के द्वारा जारी किए गए आधिकारिक वेबसाइट के माध्यम से मिली जानकारी के आधार पर हरियाणा की वास्तविक जनसंख्या लगभग 2 करोड़ 53 लाख 51 हजार 462 है। इन सभी लोगों में से पुरुषों की संख्या लगभग एक करोड़ 34 लाख 94 हजार 734 है और महिलाओं की संख्या लगभग 1 करोड़ 18 लाख 56 हजार 728 है। पता इस आंकड़े के अनुसार हरियाणा राज्य में पुरुषों की जनसंख्या की तुलना में और महिलाओं की संख्या का अनुपात बहुत ही ज्यादा कम है।

हरियाणा राज्य का टूरिज्म

हरियाणा राज्य में उद्योग एवं कृषि और खेलकूद प्रतिभा के साथ-साथ बहुत से पर्यटन स्थल भी हैं। वर्तमान समय में हरियाणा में अनेकों पर्यटन स्थल निर्मित किए जा चुके हैं। हरियाणा राज्य में स्थित प्रमुख पर्यटन स्थल का केंद्र आप सभी लोगों को मार्गो पर ही देखने को मिल जाएगा।

आप सभी लोगों को दिल्ली से चंडीगढ़ जाते समय बीच के रास्ते में जीटी रोड पर अनेकों सैलानी केंद्र जैसे कि समालखा का ब्लूजे, करनाल का चक्रवर्ती झील, घरौंडा का रेड राबिन, पिपली का पैराफिट इत्यादि देखने को मिल जाएगा। इसके साथ-साथ आपको दिल्ली से आगरा जाते समय फरीदाबाद फरीदाबाद मार्ग पर बड़खल झील, सुल्तानपुर का पक्षी विवाह एवं सोहना का बारबर कुटीर देखने को मिल जाएगा, जो कि विशेष आकर्षक केंद्र माना जाता है।

आप सभी लोगों को इनके अलावा अन्य स्थानों पर भी विशेष पर्यटन स्थल देखने को मिल जाएंगे, जैसे कि अंबाला, फरीदाबाद, रेवाड़ी, फतेहाबाद, झज्जर, हिसार, गुड़गांव, कैथल, जिंद, पंचकूला, करनाल, कुरुक्षेत्र, सोनीपत, रोहतक, पानीपत, यमुनानगर इत्यादि।

हरियाणा राज्य के विषय में रोचक तथ्य

  • प्राचीन समय में हरियाणा पंजाब का ही एक भाग हुआ करता था।
  • हरियाणा को पंजाब से 1 नवंबर 1966 में भाषा के आधार पर अलग कर दिया गया।
  • हरियाणा राज्य की राजधानी चंडीगढ़ है परंतु आपको यह जानकर बहुत ही हैरानी होगी कि चंडीगढ़ सिर्फ हरियाणा की ही नहीं बल्कि पंजाब की राजधानी है। यही सबसे विशेष तथ्य है, हरियाणा राज्य का।
  • हरियाणा राज्य काफी समृद्ध शाली राज्य हैं, इसी कारण यहां पर सबसे ज्यादा ग्रामीण करोड़पति रूप से निवास करते हैं।
  • हरियाणा राज्य में दो राष्ट्रीय उद्यान मौजूद हैं, जिनके नाम सुल्तानपुर राष्ट्रीय उद्यान और कलेसर राष्ट्रीय उद्यान है।
  • हरियाणा राज्य में खुदाई के दौरान जितने भी साक्ष्य मिले हैं, वह सभी के सभी सिंधु घाटी की सभ्यता और मोहनजोदारो संस्कृत का ही उल्लेख करते हैं। इससे अनुमान लगाया जाता है कि इन दोनों सभ्यताओं का विकास हरियाणा में ही हुआ था।
  • हरियाणा शब्द की उत्पत्ति संस्कृत भाषा के हरी एवं अयण से हुआ है, जिसका शाब्दिक अर्थ होता है भगवान का निवास स्थान।
  • हरियाणा के पानीपत में विश्व के इतिहास का सबसे बड़ा एवं सबसे प्राचीन युद्ध हुआ है।
  • हरियाणा राज्य के कुरुक्षेत्र वाले इलाके में ही प्राचीन समय में भगवान श्री कृष्ण ने गीता का उपदेश दिया था। अतः कुरुक्षेत्र में ही दुनिया का सबसे बड़ा युद्ध महाभारत का युद्ध हुआ था।

निष्कर्ष

हम आप सभी लोगों से उम्मीद करते हैं कि आप सभी लोगों को हमारे द्वारा लिखा गया यह महत्वपूर्ण लेख हरियाणा राज्य का इतिहास और रोचक तथ्य (History of Haryana in Hindi) अवश्य ही पसंद आया होगा। यदि आप सभी लोगों को हमारे द्वारा लिखा गया यह लेख वाकई में पसंद आया हो तो कृपया इसे अवश्य शेयर करें।

यदि आपके मन में इस लेख को लेकर किसी भी प्रकार का कोई सवाल या फिर सुझाव है तो कृपया कमेंट बॉक्स में हमें अवश्य बताएं।

Read Also

इनका नाम राहुल सिंह तंवर है, इन्होंने स्नातक (रसायन, भौतिक, गणित) की पढ़ाई की है और आगे की भी जारी है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 3 वर्ष से भी अधिक SEO का अनुभव होने के साथ ही 3.5 वर्ष का कंटेंट राइटिंग का अनुभव है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जुड़ सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here