मित्रता पर भाषण

Friendship Speech in Hindi : मित्रता जो की बहुत ही अच्छी होती है। हर कोई एक सच्चा मित्र अपने जीवन में जरूर चाहता है, क्योंकि एक सच्चा मित्र हमेशा आपके साथ हर परेशानी में हर परिस्थिति में खड़ा रहता है। ऐसे में आज हम आपके सामने मित्रता पर भाषण प्रस्तुत करने जा रहे हैं। अगर आप स्कूल या कॉलेज के छात्र छात्रा हैं, तो यह आपके लिए फायदेमंद साबित हो सकता है।

Essay-On-Friendship-In-Hindi

मित्रता पर भाषण | Friendship Speech in Hindi

मित्रता पर भाषण (500 शब्द)

देवियों और सज्जनों एवं आदरणीय महानुभावों। आप सभी को मेरा सादर नमस्कार। आज मैं आप सभी के समक्ष मित्रता पर भाषण देने जा रहा हूं और आप सभी का तहे दिल से धन्यवाद करता हूं क्योंकि आप सभी ने मुझे इस लायक समझा और भाषण देने के लिए आमंत्रित किया।

मित्रता का रिश्ता एक ऐसा रिश्ता होता है, जो संसार में सबसे ज्यादा कीमती होता है और यह बहुत ही खूबसूरत रिश्ते में से एक रिश्ता होता है। यह रिश्ता खून का नहीं होता है, इसके बावजूद भी हर कोई इस रिश्ते को खून के रिश्ते से भी ज्यादा निभाता है। इस रिश्ते की हम कल्पना भी नहीं कर सकते हैंऔर ना ही इस रिश्ते को शब्दों में बयान कर सकते हैं। यह रिश्ता बहुत ही अधिक महत्वपूर्ण होता है, जो हम सभी के जीवन में होना ही चाहिए।

जो दोस्त वास्तविक और सच्ची होती हैं, वह हमारे लिए हमेशा तैयार और तत्पर रहते हैं। वह हमें शारीरिक तौर पर सहयोग करते हैं। जब भी उनके सच्चे मित्र का बुरा वक्त आता है और उनको जरूरत होती है, तो वह दोस्त अपना कीमती समय अपने दोस्त के साथ बिताते हैं और वह इसे बुरा नहीं मानते हैं।

इसी के साथ जीवन का भरपूर आनंद भी लेते हैं हालांकि संसार में सच्चे दोस्त मिलना बहुत ही मुश्किल है, परंतु नामुमकिन नहीं है। इसीलिए हमें निरंतर प्रयास करते रहना चाहिए और जीवन भर सच्चे दोस्त की तलाश करनी चाहिए क्योंकि अगर आप इस रिश्ते को प्राप्त कर लेते हैं, तो आपके लिए कुछ भी नामुमकिन नहीं रहता है।

सच्चे दोस्त जो होते है, वह हमेशा एक दूसरे के साथ रहते हैं। जीवन भर एक दूसरे के प्रति और एक दूसरे के परिवार के प्रति अपनी सभी जिम्मेदारियों को बहुत ही अच्छी तरीके से निभाते हैं। दोस्ती जो कि एक बहुत ही गहरा और प्यारा रिश्ता होता है, जिसकी यादें जीवन भर हमारे साथ बनी रहती हैं।

वह बहुत सारे काम ऐसे होते हैं, जो एक साथ करते हैं, जैसे कि फिल्म देखना, गाने सुनना, टीवी धारावाहिकों को देखना, खाना खाना, पढ़ाई करना, इत्यादि काम करना जो सच्चे दोस्त होते हैं। वह हमारे जीवन में अन्य रिश्तो से बहुत ही अधिक मायने रखते हैं।

एक विश्वास होता है, जो सभी रिश्तो के लिए बहुत ही जरूरी होता है परंतु विश्वास दोस्ती में प्राकृतिक रूप से ही होता है। जो दोस्त सच्चे होते हैं, वह पारस्परिक विश्वास और समझ के कारण ही सच्चे दोस्त बनते हैं इसीलिए यह रिश्ता और भी ज्यादा गहरा हो जाता है और समय समय के साथ यह समझ बढ़ती ही जाती है।

इसीलिए हम अपने प्यारे मित्र पर हमेशा आंख बंद करके भी विश्वास कर लेते हैं और उसके निर्णय का अनुसरण भी करते हैं और आत्मविश्वास के साथ यह भी कह सकते हैं कि वह हमें कभी भी गलत रास्ता नहीं दिखाएगा और हमेशा साथ देगा। हम अपने मित्रों के साथ बहुत सारी चीजें बांटते हैं, जैसे कि खिलौनों के साथ खेलना, टिफिन खाना, किताबें पढ़ना, कपड़े, गृह कार्य, इत्यादि काम करना। दोस्त बिना किसी स्वार्थ के हमें सब काम में सहयोग करते हैं इसीलिए दोस्ती का रिश्ता हमारे लिए बहुत ही महत्वपूर्ण होता है।

अंत में केवल इतना ही कहना चाहूंगा कि सभी के जीवन में एक सच्चा और प्यारा दोस्त होना ही चाहिए, जो आपके लिए हर परिस्थिति में आपके साथ खड़ा रहे। अब मैं अपनी वाणी को यहीं पर विराम देता हूं।

धन्यवाद!

यह भी पढ़े :भारत पर भाषण

मित्रता पर भाषण (500 शब्द)

माननीय अतिथि गण, अध्यापक महोदय, शिक्षिकाएं और मेरे प्यारे मित्रों, आप सभी को मेरा प्यार भरा सुप्रभात। आज मैं आप सभी के समक्ष एक महत्वपूर्ण विषय पर बात करने जा रहा हूं। हमारा आज का विषय मित्रता के ऊपर है, जो कि हम सभी के जीवन में बहुत ही अधिक महत्वपूर्ण हैं।

यह एक बहुत ही पवित्र रिश्ता होता है, जो एक दो या तीन लोगों के बीच होता है। संसार में सबसे सच्चा ईमानदार और प्रिय रिश्ता केवल दोस्ती का ही होता है। यह हमारे लिए भगवान का एक विशेष तोहफा होता है जो हर किसी को नहीं मिलता है।

जो हमारा सच्चा दोस्त होता है, वह हमारे अर्थहीन जीवन को अर्थ पूर्ण बना देता है और हमें हमेशा सफलता के रास्ते पर ही चलाता है। वह दोस्त ही होते हैं, जो हमारे जीवन की यात्रा को बहुत ही आसान और उमंग से भरी हुई कर देते हैं। हमारी गलतियों पर कभी भी हंसते नहीं है बल्कि हमें लगातार समर्थन करते हैं और हमें सही रास्ते पर ले जाते हैं।

सच्चे दोस्त हमेशा कठिनाई के समय में अपने दोस्त की मदद के लिए तत्पर रहते हैं, चाहे वह अपनी दिनचर्या में कितने ही व्यस्त क्यों ना हो, परंतु दोस्त को मुश्किल में देखकर अपने दोस्त की मदद करने जरूर आ जाते हैं। इसीलिए यह संसार का बहुमूल्य संबंध होता है।

इस रिश्ते को कभी भी खरीदा या बेचा नहीं जा सकता है, यह तो दो दिलों पर निर्भर करता है। मित्रता कभी भी भौतिकवादी सुखो पर निर्भर नहीं करती है। सच्चे दोस्त जीवन की वास्तविकता में हमेशा खुश रहते हैं और एक दूसरे को कभी भी नहीं भूलते हैं और हमेशा एक दूसरे की सहायता करते हैं।

मानव के जीवन में बहुत सारी परेशानियां निरंतर आती ही रहती हैं। उनका सामना करने के लिए हमें हौसले की बहुत ही ज्यादा जरूरत पड़ती है। इस परिस्थिति में अगर हमारा सच्चा मित्र हमारे साथ होता है, तो वह हमें सभी कठिनाइयों से बाहर बहुत ही आराम से निकाल देता है।

इसीलिए एक सच्चे दोस्त के बिना हमारा जीवन बिल्कुल ही अधूरा होता है। एक सच्चा दोस्त हमें अपने जीवन में सभी छोटी एवं बड़ी खुशियां रहस्य और समस्याओं को बिना किसी झिझक के साझा करते हैं। दोस्ती का रिश्ता एक ऐसा रिश्ता होता है, जो भावनात्मक समस्याओं से बचाता है क्योंकि वह आंतरिक सोच और भावनाओं को एक दूसरे के साथ साझा कर लेते हैं। इसीलिए सच्चे दोस्त कभी भी अपने मित्र की आलोचना नहीं करते हैं, बल्कि उनकी कमियों को दूर करके अपने दोस्त की प्रशंसा करते हैं।

आपने कृष्णा और सुदामा की दोस्ती के बारे में तो सुना ही होगा, उनकी जैसी दोस्ती कभी किसी की नहीं हो सकती है। अगर आप किसी से दोस्ती करते हैं, तो कृष्ण और सुदामा जैसी दोस्ती ही निभानी चाहिए क्योंकि हमारे लिए सबसे अच्छी दोस्ती का उदाहरण कृष्ण और सुदामा का ही है। इसी के साथ मैं अपनी वाणी को यहीं पर विराम देता हूं और आशा करता हूं कि आप सभी अपनी मित्रता को सच्चे दिल से निभाएंगे।

धन्यवाद!

निष्कर्ष

इस आर्टिकल के जरिए हमने आपको मित्रता पर भाषण ( Friendship Speech in Hindi) दिया है। अगर आप किसी स्कूल या कॉलेज के छात्र छात्रा है या किसी अन्य समारोह में आपको मित्रता से संबंधित भाषण देना है, ऐसे भाषण आपके लिए फायदेमंद साबित हो सकते हैं।

यह भी पढ़े :

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here