स्वास्थ्य ही धन है पर निबंध

Essay on Health is Wealth in Hindi: नमस्कार दोस्तों, आज हम बात करने जा रहे हैं, स्वास्थ्य के बारे में। स्वास्थ्य हमारे लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है, क्योंकि अगर हमारा स्वास्थ्य ही सही नहीं होगा तो हम कोई भी काम नहीं कर सकते। तो आइए स्वास्थ्य से जुड़ी कुछ बातें करते हैं कि हमें किस प्रकार अपने स्वास्थ्य को सही रखना चाहिए।

Essay on Health is Wealth in Hindi
Image: Essay on Health is Wealth in Hindi

यह भी पढ़े: हिंदी के महत्वपूर्ण निबंध

स्वास्थ्य ही धन है पर निबंध | Essay on Health is Wealth in Hindi

स्वास्थ्य ही धन है पर निबंध (250 शब्द)

हमेशा से ही एक कहावत कही जाती है, स्वास्थ्य ही धन है। इसका मतलब बहुत ही साधारण सा होता है, हमें जितनी परेशानियों का सामना करना पड़ता है, उतना ही हम सक्षम बनते हैं। किसी भी काम को पूरा करने के लिए अगर हमारा स्वास्थ्य अच्छा रहेगा, तभी हम अच्छे से काम कर सकेंगे। इससे शारीरिक मानसिक और सामाजिक स्वास्थ्य को बढ़ावा मिलता है। मेरे हिसाब से हम इस कहावत से सहमत हैं कि स्वास्थ्य ही वास्तविक धन हैं, क्योंकि यह हर प्रकार से हमारी मदद करता है।

अच्छा स्वास्थ्य रहेगा तो हम हर प्रकार की बीमारी से बचे रहेंगे। बड़ी से बड़ी बीमारी क्यों ना हो मानसिक, शारीरिक, मधुमेह, डायबिटीज, कैंसर, मधुमेह, हृदय रोग, घातक बीमारियों जैसे इसमें कोई भी बीमारी शामिल हो सकती है। अगर हम शारीरिक और आंतरिक रुप से और अस्वस्थ रहेंगे तो हमें जीवन भर परेशानियों का सामना करना ही पड़ेगा। यहां तक कि हमें अपनी आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए भी किसी और पर निर्भर रहना होगा।

इसीलिए जितना हो सके हमें खुश रहने की कोशिश करनी चाहिए। जिससे हम अपने स्वास्थ्य को अच्छा रख सके, क्योंकि यही एक सत्य है, अच्छा स्वास्थ्य रखने के लिए हमें धन की आवश्यकता होती है और धन कमाने के लिए हमें अच्छा स्वास्थ्य चाहिए। लेकिन यह भी एक बात सच है कि अच्छा स्वास्थ्य होता है, तभी हम अपनी खुद की मदद कर सकते हैं। इसी प्रकार हम केवल धन कमाने के स्थान पर अपने जीवन को और भी बेहतर और प्रोत्साहित बना सकते हैं।

स्वास्थ्य ही धन है पर निबंध (1000 शब्द)

प्रस्तावना

स्वास्थ्य हमारे लिए बहुत ही जरूरी है। अगर स्वास्थ्य चला गया तो सब कुछ खत्म हो जाता है। अगर हमारा स्वास्थ्य ही सही नहीं रहेगा तो हम भोजन का आनंद भी नहीं ले सकते हैं और ना ही इस दुनिया में रह रहे हैं उस दुनिया का आनंद ले सकते हैं। इसीलिए हमें चाहिए कि हम अपने स्वास्थ्य को बहुत ही अच्छे तरीके से संतुलित करके रखें।

अगर हमें आनंद पूर्वक जीवन व्यतीत करना है तो हमें अपने स्वास्थ्य का बहुत ही अच्छी तरह से ध्यान रखना होगा। अगर देखा जाए तो एक बीमार व्यक्ति बहुत ही ज्यादा दुखी रहता है हमेशा क्योंकि यह अपने जीवन में खुश नहीं रहता। अपनी बीमारी को लेकर हमेशा परेशान ही रहता है।

अगर वही एक स्वस्थ व्यक्ति को देखा जाए तो वह बहुत ही खुश रहता है क्योंकि उसका स्वास्थ्य बहुत ही अच्छा रहता है। हमेशा इसीलिए उसका जीवन शांतिपूर्ण भी रहता है। इसीलिए हम कह भी सकते हैं कि हमारे असली धन दौलत संपत्ति नहीं बल्कि स्वास्थ्य है।

स्वास्थ्य मानसिक कल्याण के रूप में

स्वास्थ्य केवल एक बीमारी ही नहीं होती है, बल्कि हमारी सोच भी होती है। स्वास्थ्य की वजह से हम शारीरिक, सामाजिक और मानसिक विकास कल्याण कर सकते हैं। स्वास्थ्य किसी की जीवन दक्षता को दर्शाता है। अगर कोई व्यक्ति के दिमाग शरीर और आत्मा की स्थिति सामान्य नहीं हो तो इसका मतलब यह नहीं होता कि वह बीमारी में हो, उसको चोट लगी है या कहीं उसको दर्द है। अगर हम मजबूत और स्वस्थ रहेंगे तो हम खुद को दूसरों के सामने उदाहरण के रूप में पेश कर सकते हैं और सिखा सकते हैं कि जीवन में कैसे स्वस्थ रहा जाए।

अच्छे स्वास्थ्य के लिए

अगर हम अपना स्वास्थ्य अच्छा रखना चाहते हैं तो हमें एक बहुत ही अच्छी जीवनशैली का पालन करना चाहिए। जो लोग इस जीवनशैली का पालन नहीं कर सकते हैं, वह अधिकतर अधिक वजन उच्च रक्तचाप, हृदयरोग, मोटापा, मधुमेह, उच्च कोलेस्ट्रॉल, गुर्दे की समस्याओं, यकृत विकारों और ना जाने कितनी बीमारियों का शिकार होते रहते है।

उनका शरीर हमेशा और स्वस्थ और थकान से भरा ही रहता है। जिसकी वजह से वह अपना आत्मविश्वास और प्रेरणा को खो देते हैं। वह हमेशा यही सोचते हैं कि हम इस काम को नहीं कर पाएंगे। यह यह काम हमसे नहीं हो सकता। इसकी वजह से वह डिप्रेशन के शिकार भी हो जाते हैं। अगर हमें अपना अच्छा स्वास्थ्य रखना है तो इसके लिए हमें अच्छे जीवन शैली का पालन करना बहुत ही आवश्यक है।

हमारे लिए अच्छा स्वास्थ्य रखना भगवान का एक आशीर्वाद के समान है। हमें हमेशा अपने स्वास्थ्य का ध्यान रखना चाहिए और हमेशा समय पर सरल और संतुलित आहार लेते रहना चाहिए। इसी के साथ हमें समय-समय पर व्यायाम करते रहना चाहिए। अगर हम रोगमुक्त शरीर चाहते हैं तो हमें चाहिए कि हम सुबह उठते ही व्यायाम करें। इससे हमारा शरीर तरोताजा बना रहता है और वह कई बीमारियों से बचाता है।

सबसे जरूरी बात यह है कि हमें अपने घर में और अपने आसपास की जगह को बिल्कुल साफ सुथरा रखना चाहिए, क्योंकि स्वच्छ वातावरण से हमारा शरीर स्वस्थ बना रहता है। गंदे वातावरण से कई बीमारियां पनपती है, जो कि हमारे शरीर के लिए हानिकारक साबित हो सकती है।

सबसे आवश्यक यह है कि हम दिन भर में खूब पानी पिए, जिससे अपने शरीर को मजबूत रख सके। क्योंकि पानी पीने से हमारे शरीर की कई बीमारियां दूर हो जाती है और संक्रमण का खतरा कम रहता है। इससे हमारी त्वचा भी स्वस्थ रहती है, पानी दिल का दौरा खत्म करने में बहुत ही मददगार साबित होता है और इससे हमारे शरीर का तापमान भी सामान्य रहता है।

अधिक हंसना यह हमारे लिए बहुत ही आवश्यक है। क्योंकि यह प्राणायाम का काम करता है और चिकित्सक हमेशा यही सलाह देते हैं कि हंसना स्वास्थ्य के लिए बहुत ही लाभकारी होता है और हमें कोई भी बुरी आदत का सेवन नहीं करना चाहिए। जैसे कि धूम्रपान, शराब पीना क्योंकि इससे हमारे स्वास्थ्य पर बहुत ही अतिरिक्त प्रभाव पड़ता है।

हमे हमेशा पौष्टिक आहार का ही सेवन करना चाहिए। जैसे कि हरी सब्जियां, ताजे फल, दूध, दही, अंडे यह हमारे शरीर को ताकत देते हैं, क्योंकि इसमें प्राकृतिक विटामिन और मिनरल पाए जाते हैं। हमें सही समय पर खाना खाना चाहिए, इससे हमारा पाचन तंत्र सही रहता है।

आजकल की जनरेशन को सबसे ज्यादा जंक फूड, तेल और नमक युक्त खाना बहुत ही पसंद आता है, जो कि हमारे स्वास्थ्य के लिए बहुत हानिकारक होता है। जितना हो सके हमें इससे बचना चाहिए, बहुत अधिक पसंद होने पर कभी कबार खाया जा सकता है। परंतु रोजाना में इसका सेवन हमारे लिए नुकसानदायक हो सकता है।

हमें अपने शरीर को सही समय पर आराम देना चाहिए, अच्छी नींद लेनी चाहिए, पौष्टिक भोजन करना चाहिए और स्वच्छता का भी ध्यान रखना चाहिए, जिससे हमारा वातावरण भी स्वच्छ रहे। इससे हमारी इम्यूनिटी मजबूत बनी रहती है और हमें बार-बार डॉक्टर के पास जाने की आवश्यकता नहीं पड़ती है।

बढ़ती हुई मुश्किलें

आजकल की टेक्नोलॉजी के हिसाब से मनुष्य बहुत ही आलसी बन गया है, जिसकी वजह से बीमारियां ज्यादा शरीर पर हावी होने लगे हैं। दूषित पर्यावरण और खाद्य पदार्थों की वजह से बहुत ही ज्यादा परेशानियों का सामना करना पड़ता है।

प्राचीन समय में लोग दिनभर में परिश्रम से काम करते थे, इसके पश्चात व्यायाम करते थे। जिससे बहुत ही ज्यादा पसीना आता था और पसीना जितना आता है उतनी ही बीमारियां कम होने की संभावना होती है। परंतु मशीनों की वजह से लोगों का काम बहुत ही आसान हो गया है, जिसकी वजह से ना तो वह व्यायाम करते हैं और ना ही परिश्रम करते हैं।

कार्यस्थल पर लोग 8 से 9 घंटे सुबह से रात तक बस एक ही जगह बैठे रहते हैं। उसके पश्चात खाना खाकर घर आ कर सो जाते हैं। अगले दिन फिर सुबह ऑफिस वैसे ही रोज की दिनचर्या चलती रहती है, जो कि हमारा स्वास्थ्य खराब करने के लिए सबसे बड़ा कारण बना हुआ है।

निष्कर्ष

हमें पता है हमें अपनी जरूरतें पूरी करने के लिए पैसों की बहुत ही अति आवश्यकता पड़ती है। लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि हम अपने स्वास्थ्य का ध्यान नहीं रखें स्वास्थ्य ही धन है। इसका मतलब यही होता है अगर हमारा स्वास्थ्य सही नहीं होगा तो धन नहीं होगा और धन नहीं है तो स्वास्थ्य कैसे हो सकता है। इसीलिए हमें दोनों को संतुलन में बनाए रखना होगा, जिसकी वजह से हम पैसे भी कमा सकते हैं और खुद को स्वस्थ भी रख सकते हैं।

अंतिम शब्द

आज के हमारे इस लेख “स्वास्थ्य ही धन है पर निबंध (Essay on Health is Wealth in Hindi)” में आपको स्वास्थ्य से जुड़ी कुछ बातें बताई गई हैं। हम आशा करते हैं कि आप भी इन नियमों का पालन करते हुए, अपने स्वास्थ्य को अच्छा बनाए रखेंगे। अगर आपको इससे संबंधित कोई भी जानकारी चाहिए तो आप कमेंट बॉक्स में कमेंट कर सकते हैं।

यह भी पढ़े

इनका नाम राहुल सिंह तंवर है, इन्होंने स्नातक (रसायन, भौतिक, गणित) की पढ़ाई की है और आगे की भी जारी है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 3 वर्ष से भी अधिक SEO का अनुभव होने के साथ ही 3.5 वर्ष का कंटेंट राइटिंग का अनुभव है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जुड़ सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here