जंक फूड पर निबंध

Essay on Junk Food in Hindi: नमस्कार दोस्तों! आज हमारे सभी लोगों के सामने लेकर प्रस्तुत हुए हैं, जंक फूड पर निबंध। वर्तमान समय में जंक फूड सभी लोगों को काफी ज्यादा पसंद है, परंतु इसके बहुत से नुकसान हैं, जिनके बारे में हम ध्यान नहीं देते। अक्सर हम सभी लोगों से जंग फूड के बारे में कहीं ना कहीं तो पूछ दिया ही जाता होगा।

स्कूलों में वर्तमान समय में बच्चों को जंग फूड से दूर रहने के लिए प्रेरणा देने के उद्देश्य से जंक फूड पर निबंध कार्य लिखने को दिया जाता है। आज इस निबंध में हम सभी लोग जंक फूड के विषय में छोटे तथा बड़े निबंध जानेंगे, तो चलिए शुरू करते हैं।

Image: Essay on Junk Food in Hindi

Read Also: हिंदी के महत्वपूर्ण निबंध

जंक फूड पर निबंध | Essay on Junk Food in Hindi

जंक फूड पर निबंध (250 शब्द)

वर्तमान समय में जंक फूड का प्रचलन काफी ज्यादा बढ़ता जा रहा है, लोग इसे काफी चाव से खा भी रहे हैं, परंतु यह उन सभी लोगों के लिए बहुत ही ज्यादा हानिकारक है, जो इनका सेवन करते हैं। हालांकि जंक फूड के सेवन से हमें काफी ज्यादा अच्छा महसूस होता है, परंतु यह हमारे स्वास्थ्य के लिए बहुत ही ज्यादा हानिकारक है।

जंक फूड एक प्रकार का भोजन होता है, जो कि देखने और खाने में तो काफी ज्यादा अट्रैक्टिव होता है, परंतु इसके नुकसान भी स्वास्थ्य पर काफी ज्यादा होते हैं। जंक फूड भोजन के अंतर्गत पिज़्ज़ा बर्गर चाऊमीन एवं फास्ट फूड शॉप की सभी चीजें जंक फूड की श्रेणी में ही आती है।

वर्तमान समय में जंक फूड का सेवन सबसे ज्यादा बच्चे और युवा महिला एवं पुरुष करते हैं। इसी के कारण दिन प्रतिदिन जंक फूड की खपत बढ़ती ही जा रही है, क्योंकि यह पश्चिमी सभ्यता को अपनाने में अपनी शान समझ बैठते हैं। जंक फूड के खपत के दो मुख्य कारण हैं, पहला जंक फूड खाने में काफी ज्यादा स्वादिष्ट होते हैं और दूसरा यह दिखने में भी काफी ज्यादा अट्रैक्टिव होते हैं।

जंक फूड का हमारे स्वास्थ्य से काफी ज्यादा संबंध है अर्थात जंक फूड हमारे शरीर के लिए बहुत ही नकारात्मक प्रभाव छोड़ते हैं। भरते हुए जंक फूड की खपत के कारण ज्यादातर लोगों में मोटापे की समस्या बढ़ती ही जा रही है। जंक फूड एक ऐसा भोजन है, जो कि कई दिनों की रखी गई सब्जियों के द्वारा बनाया जाता है, जिसके कारण यह सब्जियां हमारे शरीर पर इतनी ज्यादा हानिकारक प्रभाव छोड़ती है, इससे हमारा शरीर मोटापे का शिकार हो जाता है।

जंक फूड पर निबंध  (800 शब्द)

प्रस्तावना

इस आधुनिक समाज में फास्ट फूड हमारे जीवन का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा बनता जा रहा है। वर्तमान समय में लोगों के पास समय कम है और जल्दी के कारण ज्यादातर लोग फास्ट फूड पर ही निर्भर हो जा रहे हैं। फास्ट फूड एक ऐसा भोजन है, जो कि काफी जल्दी बन जाता है और इसका स्वाद भी काफी अच्छा होता है, जिसके कारण लोग इसके तरफ काफी ज्यादा आकर्षित हो रहे हैं। इस भोजन के स्वादिष्ट होने के कारण लोग इसका सेवन करना काफी ज्यादा पसंद करते हैं, परंतु जंक फूड का भोजन हमारे स्वास्थ्य के लिए काफी ज्यादा हानिकारक सिद्ध हो सकता है। अतः जंक फूड जितने आकर्षक दिखते हैं उससे कई ज्यादा खतरनाक भी होते हैं।

जंक फूड का अर्थ

जंक फूड एक ऐसा भोजन है, जिसमें सड़ी गली सब्जियों का उपयोग किया जाता है और उन्हें एक आकर्षक रूप दिया जाता है। इन्हीं सड़ी गली सब्जियों और अन्य स्वादिष्ट सामग्री (जैसे कि विनेगर, सॉस इत्यादि) को मिलाकर जो कुछ भी बनाया जाता है, उसे ही जंग फूड कहा जाता है। जंक फूड हमारे स्वास्थ्य के लिए बहुत ही ज्यादा खतरनाक है। जंक फूड को मानव स्वास्थ्य के लिए पहले से ही हानिकारक सिद्ध किया जा चुका है। यदि कोई व्यक्ति जंक फूड का प्रतिदिन सेवन करता है, तो वह बहुत जल्द ही बहुत ही गंभीर बीमारियों से ग्रसित हो जाता है। इन सभी गंभीर बीमारियों में कैंसर, ह्रदय रोग, अधिक आयु, अधिक रक्तचाप, हड्डियों की समस्या, डायबिटीज,  पाचन तंत्र की समस्या, लीवर की समस्या, मानसिक रोग इत्यादि प्रमुख हैं।

जंग फूड के सेवन से स्वास्थ्य पर कैसा प्रभाव पड़ता है?

जंक फूड भोजन का नियमित रूप से सेवन करने से हमें बहुत सी बीमारियां हो सकती हैं, क्योंकि जंक फूड सड़ी गली सब्जियों को मिलाकर बनाया जाता है, जिसमें बहुत से हानिकारक बैक्टीरिया और वायरस मिले होते हैं। जंक फूड के सेवन से कई गंभीर समस्याओं के साथ-साथ अन्य समस्याएं भी उत्पन्न हो जाती है, जैसे कि टाइफाइड, कुपोषण, हाइपरटेंशन, मोटापा इत्यादि। जंक फूड एक ऐसा भोजन है जिस के उपयोग से हमारे शरीर में पोषक तत्वों की कमी आ जाती है, अर्थात जंक फूड में पोषक तत्व नाम मात्र के बराबर होते हैं।

जंक फूड भोजन में पोषक तत्वों की कमी

जंक फूड के निर्माण में ज्यादा तेल का उपयोग होता है और यह तेल पूर्णता शुद्ध नहीं होते हैं, इनमें कुछ अशुद्धियां भी मिली होती हैं। इतना ही नहीं जंक फूड भोजन में तेल की मात्रा अधिक होने के साथ-साथ पोषक तत्वों की मात्रा उतनी ही ज्यादा कम होती है। इसी कारण जंक फूड भोजन को पचाने में काफी ज्यादा दिक्कत आती। जंक फूड भोजन में कोलेस्ट्रॉल की मात्रा काफी ज्यादा होती है, अतः जंक फूड भोजन में कोलेस्ट्रॉल होने के कारण यह हमारे स्वास्थ्य पर काफी ज्यादा नुकसान पहुंचाता है। जंक फूड भोजन के कारण हमारे शरीर में काफी ज्यादा नुकसान होता है। इसके कारण पेट तो बढ़ता ही है, इसके साथ-साथ अन्य पाचन अंगों में भी काफी ज्यादा खींचा हो जाता है, जिसके कारण मानव में कब्ज की समस्या उत्पन्न हो जाती है, जो कि स्वास्थ्य के लिए बहुत ही ज्यादा हानिकारक है।

जंक फूड के दुष्परिणाम

  • जंक फूड का सेवन सदैव हमें पोषक तत्वों की कमी की ओर लेकर जाता है, अतः दिन प्रतिदिन हमारा रोग प्रतिरोधक क्षमता कम होता जाता है।
  • जंक फूड का भोजन करने से पोषण, विटामिन, आयरन, खनिज इत्यादि पोषक तत्व की पूर्ति नहीं हो पाती, अतः हमारे शरीर में पोषक तत्वों की कमी हो जाती है।
  • ऐसा व्यक्ति जो सदैव ज्यादा से ज्यादा जंक फूड खाता है, उसके ऊपर वजन बढ़ने का खतरा बना ही रहता है।
  • जंक फूड भोजन में अधिक मात्रा में कार्बोहाइड्रेट पाया जाता है, जो कि शरीर में खून में तेजी से शुगर के स्तर को बढ़ा देता है, जिससे मनुष्य को डायबिटीज जाती है और वह आलसी बन जाते हैं।
  • इतना ही नहीं इन सभी के बाद भी जंग फूड हमारे शरीर में कब्ज एवं पेट से जुड़ी अन्य बीमारियां, ह्रदय रोग, हार्ट अटैक इत्यादि जैसे गंभीर रोग पैदा कर देती हैं।

जंक फूड खाने से बचें

यदि आप अपने स्वास्थ्य को बनाए रखना चाहते है, तो आपको जंक फूड का सेवन छोड़ देना। यदि आप जंक फूड का सेवन नहीं छोड़ पा रहे हैं, तो आपको जंक फूड के सेवन को कम तो कर ही देना चाहिए अर्थात यदि आपको जंक फूड ज्यादा पसंद है, तो आप 1 हफ्ते में एक बार खा सकते हैं। यदि आपको पहले से ही कोई बीमारी हो चुकी है, तो आप अपने डॉक्टर के परामर्श अनुसार ही जंक फूड का सेवन करें, अन्यथा नहीं। याद रहे आप जब भी जंक फूड का सेवन करना चाहे, तो आप इसे मार्केट से नाम मंगवाए आप इसे घर पर ही बनवाए, परंतु प्रतिदिन नहीं हफ्ते में एक बार या न बनवाएं।

निष्कर्ष

जंक फूड के सेवन से मनुष्य में अनेकों प्रकार की बीमारियां उत्पन्न होती है, जैसे कि डायबिटीज, हाई ब्लड प्रेशर, हार्ट अटैक, कब्ज इत्यादि। जंक फूड भोजन में पोषक तत्वों की काफी ज्यादा कमी होती है, जिसके कारण हमें काफी ज्यादा नुकसान होता है। अर्थात इस लेख का पूरा निष्कर्ष यह है, कि हमें जंक फूड का सेवन बहुत ही कम करना चाहिए या यूं कहें तो हमें जंक फूड का भोजन नहीं करना चाहिए।

अंतिम शब्द

हम आप सभी लोगों से उम्मीद करते हैं, कि आप सभी लोगों को हमारे द्वारा लिखा गया यह महत्वपूर्ण निबंध “जंक फूड पर निबंध (Essay on Junk Food in Hindi)” अवश्य ही पसंद आया होगा, यदि हां! तो आप अपने मित्र जनों के साथ इसे अवश्य साझा करें, ताकि उन्हें भी जंक फूड के विषय में निबंध लिखना आ जाए। यदि इस लेख में कुछ ऐसा हो जो आप को न समझ में आया हो, तो आप कमेंट बॉक्स में अवश्य बताएं।

Reed also

इनका नाम राहुल सिंह तंवर है, इन्होंने स्नातक (रसायन, भौतिक, गणित) की पढ़ाई की है और आगे की भी जारी है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 3 वर्ष से भी अधिक SEO का अनुभव होने के साथ ही 3.5 वर्ष का कंटेंट राइटिंग का अनुभव है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जुड़ सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here