स्वास्थ्य और स्वच्छता पर निबंध

Health and Hygiene Essay in Hindi: अपने आसपास स्वच्छता होनी जरूरी है। स्वच्छता चाहे देश की हो या अपने घर की, इसे बनाये बनाए रखना बहुत ही जरूरी है। अन्यथा वह आपके स्वास्थ्य पर बुरा प्रभाव डालते हैं। आज का आर्टिकल जिसमें हम स्वास्थ्य और स्वच्छता पर निबंध के बारे में जानकारी आप तक पहुंचाने वाले हैं।

इस निबंध में स्वास्थ्य और स्वच्छता के संदर्भित सभी माहिति को आपके साथ शेअर किया गया है। यह निबंध सभी कक्षाओं के विद्यार्थियों के लिए मददगार है।

Health-and-Hygiene-Essay-in-Hindi

Read Also: हिंदी के महत्वपूर्ण निबंध

स्वास्थ्य और स्वच्छता पर निबंध | Health and Hygiene Essay in Hindi

स्वास्थ्य और स्वच्छता पर निबंध (250 शब्द)

स्वच्छता हमारे जीवन से जुड़ी हुई एक अच्छी आदत है। जिसे हर किसी को अपने जीवन में अपनाना चाहिए, क्योंकि स्वच्छता से मनुष्य के जीवन को मानसिक और शारीरिक रूप से बहुत से लाभ हो सकते हैं। अच्छा स्वास्थ्य किसी के भी जीवन को बेहतर बना सकता है। क्योंकि अच्छे स्वास्थ्य का मूल मंत्र स्वच्छता है। स्वच्छता का सीधा प्रभाव हमारे स्वास्थ्य पर पड़ता है। यदि साफ सफाई नहीं होगी तो हमारा स्वास्थ्य भी ठीक नहीं रह पाएगा।

स्वस्थ हम तभी रह सकते हैं, जब हम अपने आसपास की गंदगी को दूर कर बीमारियों से बचकर अच्छा जीवन जी सकते हैं। सभी लोगों को स्वच्छता को अपनी नैतिक जिम्मेदारी समझनी चाहिए। और अपने आसपास के वातावरण को स्वच्छ रखने से कभी भी हिचकिचाना नहीं चाहिए। क्योंकि स्वच्छता एक स्वस्थ जीवन की कुंजी है।

इसीलिए भारत सरकार द्वारा आज के समय में गांधीजी के आदर्शों पर कायम होकर स्वच्छता अभियान निकाला गया है, जिसका मुख्य उद्देश्य लोगों को साफ सफाई और स्वच्छता  के महत्व को समझाना है। स्वच्छता एक बहुत ही अच्छा आदत है और एक पुण्य का भी काम है जिसे जीवन का स्तर बढ़ाने के लिए एक बड़ी जिम्मेदारी के रूप में हर एक व्यक्ति को इसका अनुसरण करना चाहिए। हमेशा से हम सुनते आए हैं कि हमारे जीवन में स्वच्छता और पवित्रता होना अत्यंत आवश्यक होता है, क्योंकि जहां साफ सफाई होती है वहीं पर ईश्वर निवास करते हैं।

इसीलिए आज के समय में लोगों को साफ सफाई को एक जिम्मेदारी के रूप में अपनाना चाहिए। और अपने घर को और आसपास के वातावरण को स्वच्छ रखना चाहिए। इस आदत को लोगों को खुद भी अपनाना चाहिए और अपने बच्चों को भी अपनाने की प्रेरणा देनी चाहिए ,ताकि हमारा आने वाला जनरेशन एक स्वच्छ और शुद्ध वातावरण में जीसं

स्वास्थ्य तथा स्वच्छता पर निबंध (800 शब्द)

प्रस्तावना

स्वास्थ्य और स्वच्छता एक दूसरे से परस्पर संबंधित हैं। उनका आपस में गहरा संबंध हैं। हमारे आसपास स्वच्छता होगी तभी हम स्वस्थ रह पाएंगे क्योंकि गंदगी हमेशा बीमारियों उत्पन्न करती हैं। स्वास्थ्य जीवन का सबसे बड़ा धन हैं और उसके लिए हमेशा सफाई रखना जरूरी हैं। सरकार ने भी इसके लिए सफाई कार्यक्रम चलाए हैं क्योंकि स्वच्छता और स्वास्थ्य हमारे लिए बहुत ज्यादा जरूरी हैं।

स्वच्छता हमें अच्छा स्वास्थ्य प्रदान करती हैं। हमें ऐसे ही कूड़ा- करकट इधर-उधर नहीं फेंकना चाहिए। ना ही इधर-उधर पानी एकत्रित होने देना चाहिए क्योंकि इससे मच्छर इकट्ठे होते हैं। हमें प्रदूषण भी नहीं फैलाना चाहिए क्योंकि इससे हमारे स्वास्थ्य पर हानिकारक प्रभाव पड़ता हैं।

हमें अपने आसपास में शुद्धता बनाए रखनी चाहिए। स्वच्छता ही अच्छे स्वास्थ्य की चाबी हैं।स्वस्थ शरीर में ही स्वस्थ मस्तिष्क निवास करता हैं इसलिए मनुष्य को अपने अच्छे स्वास्थ्य के लिए स्वच्छता बनाए रखनी चाहिए। माना जाता है कि स्वास्थ्य एक अमूल्य धन हैं। जो एक बार खो जाए तो फिर वापस नहीं आता हैं इसलिए हमें आसपास साफ-सफाई स्वच्छता का ध्यान रखना चाहिए।

स्वच्छता है तो स्वास्थ्य है हमें नियमित रूप से अपने शरीर ,घर ,आसपास के मोहल्ले की सफाई करनी चाहिए।अपने आसपास जितनी ज्यादा सफाई रहतीं है हमारा शरीर उतना ही ज्यादा तंदुरुस्त रहेगा। हमारे स्वास्थ्य व स्वच्छता के लिए है स्वच्छ भारत अभियान भी चलाया गया हैं।

स्वच्छता पर गौतम बुद्ध के विचार

गौतम बुध ने अच्छे स्वास्थ्य का आनंद लेने के लिए, किसी के परिवार सच्ची खुशी लाने के लिए, सभी को शांति दिलाने के लिए ,किसी को पहले अपने अनुशासन तथा अपने मन को नियंत्रित करना चाहिए। यदि कोई व्यक्ति अपने दिमाग को नियंत्रित कर सकता हैं तो वह ज्ञान के मार्ग का पता लगा सकता हैं और सभी ज्ञान और गुण उसके पास स्वाभाविक रूप से आ जाएंगे।
बुद्ध ने कहा है स्वास्थय सबसे बड़ा उपहार हैं, संतुष्टि सबसे बड़ी संपत्ति है, वफादारी सबसे अच्छा रिश्ता हैं। इसका मतलब है यदि हमारा दिमाग स्वस्थ हैं तो हमारा सभी के साथ साथ स्वस्थ रहेगा। इसका मतलब है हमारा दिमाग शांत रहेगा तो हम किसी भी व्यक्ति की उपस्थिति में शांतिपूर्ण व्यवहार करेंगे।

स्वास्थ्य पर महात्मा गांधी के विचार

महात्मा गांधी का कहना हैं स्वास्थ्य सबसे बड़ा धन हैं। सोने चांदी के टुकड़े नहीं। अच्छा स्वास्थ्य बनाए रखने के लिए अच्छी आदतों की जरूरत होती हैं। बीमारी तथा संक्रमण स्वच्छता के कारण कम हो रही हैं।

स्वच्छता और स्वास्थ्य में अंतर

स्वास्थ्य को शारीरिक तथा मानसिक रूप से तंदुरुस्ती के रूप में परिभाषित किया जाता हैं। जिसके अंतर्गत कोई विकार नहीं होना अर्थात जो किसी भी विकार से मुक्त हैं। स्वच्छता स्वास्थ्य को सुधारने के लिए उन दिनों की गतिविधियों को संदर्भित करती हैं। स्वच्छता अच्छी तथा सुखद दैनिकर्चया में हमारी सहायता करती हैं।

स्वच्छता का पहला स्त्रोत

जल स्वच्छता का प्रमुख तथा प्रथम स्त्रोत हैं। स्वच्छ जल अच्छे स्वास्थ्य तथा स्वच्छता का का प्रमुख स्रोत हैं। अशुद्ध पानी पीकर बीमारी होती हैं। गांव में अक्सर लोग तालाबों और नदियों में स्नान करते हैं। मवेशियों को भी स्नान कराते हैं, कपड़े धोते हैं और फिर यदि इस पानी का उपयोग यदि हम पीने के लिए करें तो इससे घातक बीमारीयां उत्पन्न हो सकती हैं क्योंकि बहुत सारे सूक्ष्म जीव मिल जाते हैं। इस पानी को उबाला जाना चाहिए इसके पश्चात उसमें कीटाणु नहीं रहते और यह पानी पीने योग्य बन सकता हैं।

स्वच्छता का दूसरा स्त्रोत

स्वच्छता का दूसरा संतुलित और पौष्टिक भोजन हैं। भोजन हमारे स्वास्थ्य का प्रमुख आधार हैं। बिना भोजन जीवन संभव नहीं हैं। भोजन हमारे शरीर को स्वस्थ रखता हैं। भोजन हमारे शरीर को शक्ति देता हैं। दुध सबसे पौष्टिक भोजन हैं जो हमारे शरीर को ऊर्जा प्रदान करता हैं।
बासी भोजन तथा ज्यादा भोजन करने की वजह से भी हमारा शरीर बीमार हो जाता हैं। जब भी कोई बीमारी या महामारी चलती है तो उस समय हमें भोजन के बारे में भी ध्यान रखने के लिए कहा जाता हैं। पौष्टिक आहार खाने के लिए कहा जाता हैं।

स्वच्छता हमारे अच्छे स्वास्थ्य के लिए बहुत ही जरूरी हैं। इसलिए हमें आसपास हमेशा स्वच्छता बनाए रखनी चाहिए। साफ सफाई बनाए रखना बहुत ही जरूरी है। क्योंकि स्वच्छता नहीं होने की वजह से कई प्रकार की बीमारियां फैलती है। जो सीधा हमारे स्वास्थ्य पर प्रभाव डालती है। भारत सरकार द्वारा भी स्वच्छता अभियान चलाकर देश को साफ बनाया जा रहा है। ताकि देश में रहने वाले लोगों के स्वास्थ्य पर कम से कम प्रभाव पड़े।

निष्कर्ष

दैनिक दिनचर्या और प्रतिस्पर्धी दुनिया मैं जीवन की लड़ाई लडने के लिए हमारे स्वस्थ होना बहुत जरूरी हैं। यदि कोई व्यक्ति संपूर्ण रूप से स्वस्थ हैं तो वह दुनिया का सबसे धनी व्यक्ति हैं। एक स्वस्थ शरीर में स्वस्थ दिमाग निवास करता हैं और हमारे विकास तथा सुखी दिनचर्या के लिए हमारा स्वास्थ्य बहुत ज्यादा जरूरी हैं।
अच्छे स्वास्थ्य के लिए स्वच्छता का होना बहुत ज्यादा जरूरी हैं। हमारे आस-पास जितनी ज्यादा स्वच्छता रहेगी। हम इतने ज्यादा स्वस्थ रहेंगे। स्वच्छता और स्वास्थ्य परस्पर एक दूसरे से संबंधित हैं।

अंतिम शब्द

स्वच्छता और स्वास्थ्य दोनों एक दूसरे से संबंधित है। आज का हमारा आर्टिकल जिसमें हमने स्वास्थ्य और स्वच्छता पर निबंध( Health and Hygiene Essay in Hindi) के बारे में संपूर्ण जानकारी आप तक पहुंचाई है। हमें पूरी उम्मीद है, कि हमारे द्वारा दी गई यह जानकारी आपको पसंद आई होगी। यदि किसी व्यक्ति को इस आर्टिकल से संबंधित कोई सवाल है, तो वह हमें कमेंट में बताएं।

Read Also:

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here