गाय पर निबंध

Essay on Cow in Hindi: गाय को हमारी माता कहा जाता हैं। गाय को हिंदुस्तान में पवित्र माना जाता हैं। गाय एक जानवर है, जिसकी लोग पूजा करते हैं। गाय की भारत में भगवान के समान पूजा की जाती हैं। 

Essay on Cow in Hindi
Essay on Cow in Hindi

हम यहां पर अलग-अलग शब्द सीमा में गाय पर निबंध (Essay on Cow in Hindi) शेयर कर रहे हैं। यह निबन्ध सभी कक्षाओं के विद्यार्थियों के लिए मददगार साबित होंगे।

Read Also: हिंदी के महत्वपूर्ण निबंध

गाय पर निबंध | Essay on Cow in Hindi

गाय पर निबंध (250 शब्द) 

गाय को हम माता का दर्जा देते हैं। भारत में गाय को पालतू जानवरों की सूची में सबसे उच्च स्थान दिया जाता हैं। गाय हमारी माता हैं, यह अक्सर हम स्कूल से पढ़ते आ रहे है। गाय एक प्रिय जानवर हैं। गाँव में हर घर में आपको गाय दिख जायेगी। हमारे देश में घर में गाय का होना पवित्र माना जाता हैं। गाय दूध देती हैं जो काफी पोष्टिक होता हैं। 

गाय एक घरेलु जानवर है जो हमे पोष्टिक घरेलु खाद्यान की सामग्री जैसे दूध देती हैं। गाय को कई उदेश्यों से घर में रखा जाता हैं। भारत में गाय की कई नश्ले पाई जाती हैं और इतना ही नहीं दुनिया में भी गाय की अलग-अलग नश्ले पाई जाती हैं। इन गाय की वो नश्ले होती हैं, जो गाय की अलग-अलग प्रजातियों में विभाजित करती हैं। 

हमारे देश में गाय की पूजा की जाती हैं। भारत में यह धार्मिक जानवर हैं। हम भी गाय को पवित्र मानते हैं। गाय के चार पाँव, दो कान और सिर पर दो सींग होते हैं। गाय दिखने में काफी सुन्दर होती हैं। गाय एक खूबसूरत पशुधन हैं, जो लगभग देश और दुनिया के हर क्षेत्र में पायी जाती हैं। देश में गाय की कई अलग-अलग प्रजातीय हैं, जो अपने-अपने क्षेत्र और देश में प्रशिद्ध हैं। हिंदुस्तान में गाय को महान माना जाता हैं।

गाय पर निबंध (800 शब्द) 

प्रस्तावना

गाय हमारी माँ हैं, ऐसा हमे स्कूल के समय से ही सिखाया जाता रहा हैं। गाय को हमारी संस्कृति में पवित्र माना जाता है। गाय एक ऐसा पशुधन होती हैं, जो घर में हमारे लिए काफी पोषक सामंग्री देती हैं। जैसे दूध और दूध से बनने वाली सामग्री ऐसे दही, छाछ इत्यादि। गाय की हम पूजा करते हैं और गाय को हम काफी पवित्र भी मानते हैं। वैसे तो कई पालतू जानवर होते हैं और उन सब में गाय सबसे ऊपर होती है। गाय काफी ज्यादा पसंद किया जाने वाला जानवर हैं। 

गाय का उल्लेख तो हमे काफी प्राचीन समय से वेदों में भी मिलता हैं। गाय को प्राचीन समय से ही पवित्र माना जाता हैं। गाय एक पशु हैं, जो आपको हर गाँव के घर में मिल जाएगा। ऐसा भी माना जाता हैं कि अगर गाय घर में तो हो घर के सभी वास्तु दोष ख़त्म हो जाते हैं। इतना ही नहीं ऐसी भी कई मान्यताये प्रचलित हैं कि घर पर कोई संकट आता हैं तो गाय उसे अपने सिर पर ले लेती हैं।

गाय की उपयोगिता

वैज्ञानिक भी गाय के गुणों के बखान करते हैं। गाय से मिलने वाला केवल दूध ही नहीं बल्कि दूध से बनने वाली चीज़े जैसे मक्खन, घी और छाछ भी काफी पोष्टिक माने जाते हैं। डॉक्टर भी हमें कई गंभीर बीमारियों में गाय का दूध पीने की सालाह देते हैं। गाय से मिलने वाले दूध और उससे बनने वाले घी को काफी ताकतवर माना जाता हैं। वही गाय के घी में प्रोटीन की मात्रा ज्यादा होती हैं। 

ऐसा कहा जाता हैं कि अगर किसी को आँखों से कम दिखने की समस्या हैं। आँखों में कमजोरी होती हैं तो उसके आँख में गाय का घी डालने से केवल मात्र से ही आँखों की रौशनी ठीक हो जाती हैं। आयुर्वेद में भी गायों का काफी काफी महत्त्व माना जाता हैं। गाय के घी को खाने के अलावा गाय के घी को अगर पांवों में लगा दिया जाए तो इससे रात्रि में नींद काफी अच्छी आती हैं।

गाय का महत्त्व

गाय की उपयोगिता और महत्त्व भी काफी ज्यादा हैं। गाय को जितना पवित्र माना जाता हैं उतना ही समझदार भी माना जाता हैं। गाय से मिलने वाली चीजों को भी काफी पोष्टिक माना जाता हैं। गाय भारत में लगभग हर क्षेत्र में पाई जाती हैं। गाय भारत ही नहीं बल्कि पुरे विश्व में भी हर क्षेत्र में पाई जाती हैं।

गाय की सरंचना की बात करें तो गाय के 2 पाँव होते हैं, उसके अलावा गाय के 2 कान, मुंह और सिर के ऊपर दो सींग होते हैं। गाय की एक और मुख्य नश्ल “साहिवाल” भी राजस्थान के अलावा पंजाब, हरियाणा, उतर प्रदेश और दिल्ली में भी पाई जाती हैं।

इन सब के अलावा आंद्रप्रदेश और कर्णाटक राज्य में “देवनी” नश्ल की गाय पाई जाती हैं। राजस्थान में थारकापर के अलावा नागोरी नश्ल की गायें भी पाई जाती हैं। यह सभी नश्ल की गायें काफी प्रशिद्ध होती हैं। 

गाय की सरंचना

प्राचीन काल से ही पवित्र मानी जाने वाली गाय को आज भी लोग भगवान समझ कर पूजते हैं। गाय को माता कहना हमने स्कूल के समय से ही सीखा हैं। गाय का मुख्य कलर सफ़ेद होता हैं, हालाँकि गाय और भी कई रंग में देखी जा सकती हैं, यह बात उनके नश्ल पर निर्भर करती हैं कि वो किस रंगकी हैं। गाय के चार पाँव होते हैं, उसके सिर के ऊपर जो सींग होते हैं। 

गाय से मिलने वाली चीज़

गाय से हमे मिलने वाला दूध काफी पोष्टिक होता हैं। गाय के दूध से दही, घी और छाछ बनती हैं जो वो भी काफी पोष्टिक मानी जाती हैं। गाय से प्राप्त होने वाले खाध और गाय का गोबर भी प्रक्रति की दृष्टी से अच्छा माना जाता हैं। खेत में तेजी से उगने वाले बीज का कारण भी गाय का खाद ही होता हैं। 

निष्कर्ष

गाय हमारी माँ हैं। गाय को भारतीय संस्कृति और हिन्दू धर्म में काफी पवित्र माना जाता हैं। गाय को पालने से घर में सूख और शान्ति का विकास होता हैं, ऐसी कई मान्यतायें सुनने ओर देखने को मिलती हैं। 

अंतिम शब्द 

हमने यहां पर “गाय पर निबंध (Essay on Cow in Hindi)” शेयर किया है। उम्मीद करते हैं कि आपको यह निबंध पसंद आया होगा, इसे आगे शेयर जरूर करें। आपको यह निबन्ध कैसा लगा, हमें कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं।

Also Read

इनका नाम राहुल सिंह तंवर है, इन्होंने स्नातक (रसायन, भौतिक, गणित) की पढ़ाई की है और आगे की भी जारी है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 3 वर्ष से भी अधिक SEO का अनुभव होने के साथ ही 3.5 वर्ष का कंटेंट राइटिंग का अनुभव है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जुड़ सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here