दिशा वकानी (दया गड़ा) का जीवन परिचय

Disha Vakani Biography in Hindi: आज के इस लेख के माध्यम से हम आपको बताने वाले हैं दिशा वकानी के बारे में। जिन्होंने अपनी बड़े ही अच्छे अभिनय के कारण आज के समय में टीवी शो की सुप्रसिद्ध कलाकार बन चुकी है। आपकी जानकारी के लिए बता दे कि तारक मेहता के उल्टा चश्मा में अभिनय करने वाले प्रमुख कलाकार जेठालाल की पत्नी दया जेठालाल गड़ा का असली नाम भी दिशा वकानी है। दिशा वकानी बहुत ही अच्छी कलाकार है।

Disha Vakani Biography in Hindi
Disha Vakani Biography in Hindi

दिशा वकानी एक बहुत ही अच्छी अभिनेत्री है जो अपने बहुत ही अच्छे अंदाज के कारण पूरी टीवी शो पर छाई है। आज के इस लेख में हम जानेंगे कि दिशा वकानी का जन्म कब हुआ था, इनके माता पिता का क्या नाम है, इन्होंने अपनी प्रारंभिक शिक्षा कहां से प्राप्त की है और सबसे महत्वपूर्ण बात दिशा वकानी के निजी जीवन के बारे में भी जानेंगे। तो आप इस लेख “Disha Vakani Biography in Hindi” को अंत तक जरूर पढ़े।

दिशा वकानी का जीवन परिचय – Disha Vakani Biography in Hindi

दिशा वकानी की जीवनी एक नजर में

नामदिशा वकानी
जन्म17 सितंबर 1978
मृत्यु की तिथि
शैक्षिक योग्यता
वैवाहिक स्थितिविवाहित
पति मयूर पडिया
बेटी स्तुति पाडिया
Biography of Disha Vakani in Hindi

दिशा वकानी कौन है?

हम सभी तारक मेहता के उल्टा चश्मा में शो करने वाली अभिनेत्री दिशा वकानी के बारे में कुछ ना कुछ तो अवश्य ही जानते होंगे। परंतु कुछ लोगों को तो यह भी पता नहीं होगा कि दिशा वकानी आखिर कौन है? तो उन्हें यह बता दे कि दिशा वकानी तारक मेहता के उल्टा चश्मा में अभिनय करने वाले प्रमुख कलाकार जेठालाल गड़ा की पत्नी दया जेठालाल गड़ा ही है। जी हां! जेठालाल की पत्नी दया गड़ा का असली नाम दिशा वकानी है।

दिशा वकानी एक बहुत ही अच्छे एक्टर हैं। दिशा वकानी जी के भाई मयूर वकानी भी एक एक्टर ही है। क्या आप जानते हैं मयूर वकानी कौन है? तारक मेहता के उल्टा चश्मा में काम करने वाली दया जी के भाई सुंदरलाल ही उनके असली भाई है। अर्थात दया जी के भाई सुंदरलाल का असली नाम मयूर वकानी है। दिशा वकानी के द्वारा बहुत ही अच्छा प्रदर्शन किए जाने के कारण लोग उन्हें दया वकानी के नाम से नहीं बल्कि दया जी के नाम से ही जानते हैं।

दया वकानी का जन्म और प्रारंभिक जीवन

दिशा वकानी का जन्म वर्ष 1978 ईस्वी में सितंबर माह की 17 तारीख को गुजरात के अहमदाबाद में ही हुआ था। दिशा वकानी की एक गुजराती परिवार में ही पैदा हुई थी और वह उसी परिवार में पली-बढ़ी भी। दिशा वकानी जी ने गुजरात के अहमदाबाद से ही गुजरात कॉलेज से ड्रैमेटिक्स आर्ट में ग्रेजुएशन कंप्लीट की थी। दिशा वकानी के पिता का नाम भीम वकानी था और दिशा वकानी जी के पिता भीम वकानी भी पेशे से एक थिएटर आर्टिस्ट थे।

दया वकानी जी को अपने पिताजी से ही फिल्म इंडस्ट्री में आने की प्रेरणा प्राप्त हुई थी। एक प्रकार से कहा जा सकता है कि दया वकानी के फिल्म इंडस्ट्री में आने की वजह उनके पिताजी ही हैं। दिशा वकानी जी के आर्टिस्ट होने के कारण उन्हें किसी भी प्रकार की परेशानी का सामना नहीं करना पड़ा था, फिर भी दया वकानी जी एक बहुत ही अच्छी कलाकार बनना चाहती थी, जिसके कारण उन्होंने फिल्म इंडस्ट्री में अपने कदम रखे।

दिशा वकानी जी का निजी परिवार

दिशा वकानी की एक बहुत ही सीधी-साधी, सुशील और एक विवाहित स्त्री है। दिशा वकानी जी के पति का नाम मयूर पडिया है। मयूर पाडिया और दिशा वकानी की एक बेटी भी है, जिसका नाम स्तुति पाडिया है।

दिशा वकानी का करियर

दिशा वकानी ने अपने फिल्मी करियर की शुरुआत वर्ष 1997 में ही शुरू कर दी थी। दिशा वकानी जी ने कुछ फिल्मों में छोटे-छोटे किरदारों को निभाया, उन्होंने अपने इन किरदारों के इतनी बखूबी निभाया कि धीरे-धीरे उनकी लोकप्रियता बढ़ती गई। दिशा वकानी जी ने अनेकों प्रकार के गुजराती नाटक को इत्यादि में अभिनय किया है, उनका यह अभिनय इतना अच्छा रहा कि उन्हें काफी सारे अवॉर्ड भी मिले हैं।

दिशा वकानी जी के द्वारा अपने किए गए गुजराती नाटक जैसे कि “लाली लीला” और “कमल पटेल वर्सेस धमाल पटेल” बहुत ही हिट गए थे। इन नाटकों के अलावा दिशा वाकाणी जी को हिंदी फिल्म और हिंदी टीवी सीरियल इत्यादि में भी देखा गया था। दिशा वकानी का सबसे पहला मोशन पिक्चर 1997 में आया था जो कि “kamasin the untouched” था। इस फिल्म में दिशा वकानी ने अपने ही नाम दिशा पर लीड कैरेक्टर का किरदार निभाया।

इस फिल्म के बाद दिशा वकानी जी ने वर्ष 1999 में फिल्म फूल और आग में मिथुन चक्रवर्ती और जैकी श्रॉफ के साथ एक छोटा सा किरदार निभाया था। दिशा वकानी जी ने इस फिल्म में बहुत ही अच्छा किरदार निभाया था और उनका अभिनय प्रत्येक फिल्मों और नाटकों में बहुत ही अच्छा रहता है, जैसा कि हम तारक मेहता के उल्टा चश्मा में देख सकते हैं। इन फिल्मों के बाद दिशा वकानी ने दो बहुत बड़ी फिल्मों में भी काम किया था।

दिशा वकानी ने वर्ष 2002 में आई फिल्म “देवदास” में एक सखी का किरदार निभाया था। दिशा वकानी ने इसके बाद वर्ष 2008 में आई फिल्म जोधा अकबर में माधवी का किरदार निभाया था। इन दोनों फिल्मों कियानी के दौरान दिशा वकानी ने अन्य फिल्मों में भी नजर आई थी, इन फिल्मों में दिशा वकानी ने बहुत ही अच्छा एवं छोटा किरदार निभाया था।

दिशा वकानी जी को सफलता तब मिली जब उन्होंने वर्ष 2008 में दयाबेन अर्थात दया जेठालाल गड़ा का किरदार निभाया। इस किरदार को निभाने के लिए दिशा वकानी को स्वयं से ही ऑफर आया था। दिशा वकानी जी ने इस किरदार के लिए अपनी मंजूरी दे दी। इसके बाद तो मानो दिशा वकानी जी की काबिलियत आसमान छूने लगी। दिशा वकानी जी के लिए दयाबेन जी का किरदार करना बहुत ही मुश्किल था, परंतु दिशा वकानी जी ने अपनी मेहनत और अपने परिश्रम के दम पर इस किरदार को बहुत ही भली भांति निभाया और अभी भी निभा रही हैं।

दिशा वकानी जी ने अपने परिश्रम के कारण स्वयं को इस किरदार में इतनी बखूबी डाल लिया और उन्होंने इस किरदार को इस प्रकार निभाया कि लोग इन्हें अब दया के नाम से ही जानते हैं। दया बहन जी का किरदार लोगों को इतना पसंद आया था कि आज भी लोग इनके इस किरदार को काफी पसंद करते हैं और यही वजह है कि दिशा वकानी जी को इस शो के निर्माता ने रिप्लेस नहीं किया।

दिशा वकानी ने इस शो में दिलीप जोशी जी के साथ काफी अच्छा अभिनय किया है। दिशा वकानी जी को सभी लोग दया के नाम से ही जानते हैं। दिशा वकानी जी का दया वाला नाम इतना प्रसिद्ध हुआ कि दिशा वकानी के परिवार और कुछ करीबी लोगों को छोड़कर कोई भी दिशा वकानी जी के बारे में नहीं जानता। तारक मेहता का उल्टा चश्मा शुरुआती समय में एक गुजराती नाटक था और इसे जाने-माने लेखक और पत्रकार तारक मेहता ने ही लिखा था, इसीलिए इस नाटक का नाम तारक मेहता का उल्टा चश्मा पड़ा था।

तारक मेहता का उल्टा चश्मा शुरुआत से क्यों आ रहा है

तारक मेहता का उल्टा चश्मा नाटक शुरुआत से क्यों दिखाया जा रहा है? तो हम आपको बता दे कि यह शो शुरुआत से इसीलिए दिखाया जा रहा है क्योंकि दिशा वकानी जी की एक पुत्री हुई है। दिशा वकानी जी के पुत्री के जन्म के दौरान दिशा वकानी जी ने इस शो से ब्रेक ले लिया था। दिशा वकानी जी का यह कहना है कि वह शो में लगभग 2 वर्ष बाद ही वापसी करेंगी।

इसी कारण इस शो को रोक दिया गया। इस समय दिशा वकानी जी का किरदार किसी और को इसीलिए नहीं दिया गया कि तारक मेहता का उल्टा चश्मा ज्यादातर दिशा वकानी जी के कारण ही पसंद किया जाता है, इसी कारण दिशा वकानी जी के ब्रेक ले लेने के कारण इस शो को फिर से दिखाया जा रहा है।

दिशा वकानी के प्रमुख डायलॉग

जो लोग दिशा वकानी जी के फैंस होंगे, उन्हें तो दिशा वकानी जी का डायलॉग्स पता ही होगा। यदि आपको उनके डायलॉग्स नहीं पता है तो हम आपको बता दे कि दया बेन का सबसे पसंदीदा डायलॉग “हे! मा माताजी है।” दिशा वकानी उर्फ दया बेन का यह डायलॉग लोगों को काफी पसंद आता है। साथ ही लोगों को दया बेन का गरबा डांस भी काफी पसंद आता है। दिशा वकानी जी के फैन उनके गरबा डांस को देखने के लिए काफी उत्साहित रहते हैं और वे उनका यह डांस देखने के लिए मौका ढूंढते रहते हैं।

दिशा वकानी जी के द्वारा निभाया गया किरदार :-

  • दिशा वकानी जी के द्वारा 2004 से 2005 के मध्य सोनी टीवी के सीरियल आहट में बीना का किरदार निभाने को दिया गया था, जिसे उन्होंने बखूबी निभाया।
  • इसके बाद दिशा वाकाणी जी को वर्ष 2006 से 2007 में स्टार वन के सीरियल रेशम आंख में कुछ समय के लिए अभिनय करने को मिला था।
  • इसके बाद वर्ष 2008 से 2018 और 19 तक सब टीवी के कॉमेडी सीरियल तारक मेहता के उल्टा चश्मा में दिशा वकानी ने अपने इस किरदार को बखूबी निभाया, उन्होंने इस किरदार को दयाबेन के नाम से निभाया है।
  • दया वकानी जी ने वर्ष 2014 में सोनी टीवी के प्रचलित सीरियल सीआईडी के एपिसोड 4 में अभिनय किया है।

दिशा वकानी को प्राप्त पुरस्कार

  • दिशा वकानी जी ने वर्ष 2009 में इंडियन टेली अवॉर्ड्स में सीरियल तारक मेहता का उल्टा चश्मा के लिए बेस्ट एक्ट्रेस इन कॉमेडी का अवार्ड जीता था।
  • इसके बाद उन्होंने इसी वर्ष इंडियन टेलिविजन अकैडमी अवॉर्ड्स जो कि उन्हें धारावाहिक तारक मेहता के उल्टा चश्मा के लिए बेस्ट कॉमेडी एक्ट्रेस के लिए दिया गया था।
  • इसके बाद वर्ष 2010 में दिशा वकानी जी को दो पुरस्कारों से सम्मानित किया गया था जो कि उन्हें धारावाहिक तारक मेहता के उल्टा चश्मा के लिए ही दिया गया था। उन्हें प्राप्त अवार्ड बेस्ट कॉमेडियन एक्ट्रेस का ही था।

निष्कर्ष

दयाबेन जी (दिशा वकानी जी) के बारे में इस लेख में हमने आपको संपूर्ण जानकारी प्रदान कराई है। हमने इस लेख के माध्यम से यह जाना कि दिशा वकानी जी को किन-किन पुरस्कारों से सम्मानित किया गया है। हमें उम्मीद है कि आपको यह लेख काफी पसंद आया होगा इसे अवश्य शेयर करें।

Read Also

इनका नाम राहुल सिंह तंवर है, इन्होंने स्नातक (रसायन, भौतिक, गणित) की पढ़ाई की है और आगे की भी जारी है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 3 वर्ष से भी अधिक SEO का अनुभव होने के साथ ही 3.5 वर्ष का कंटेंट राइटिंग का अनुभव है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जुड़ सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here