ब्राह्मण स्टेटस

Brahman Status

ब्राह्मण स्टेटस | Brahman Status

Brahman Status
Image: Brahman Status

मैं झुक नहीं सकता…!
मैं शौर्य का अखंड भाग हूं।
जला दे जो दुश्मनों की रूह तक…!
मैं ब्राह्मणत्व की वही आग हूं।
जय परशुराम

जब परशुराम का फरशा और
बाजीराव की तलवार उठी है
बिना पराजय वाली ब्राह्मणों का
स्वर्णिम इतिहास लिखी गई हैं

हम ऊंची आवाज सिर्फ गानो की सुनते हैं,
किसी के बाप की नहीं ..!!

शेरो के पुत्र शेर ही जाने जाते हैं,
लाखो के बीच ब्राहमण ही पहचाने जाते हैं।

पंडित की संतान हैं हम, इतना रुतबा रखते हैं।
इतिहास क्या चीज है, हम तो भूगोल बदलने का दम रखते हैं!
जय परशुराम

थर-थर काँपे धरती, डोले बड़ा-बड़ा दरबार
आसमान में गूंजे जब ब्राह्मण का जयकार।

इब हाथ जोड के कहते हो बात का बखेडा ना करो,
हमने पहले ही कहा था हम पंडित हैं हमे छेडा ना करो..!!

पहले ब्राह्मण होने पे गर्व था
अब ब्राह्मण होने पे घमण्ड है।
जय दादा परशुपति

झुकता नहीं कभी, तू क्या झुकाएगा
ब्राह्मणत्व एक आग हैं भड़कता ही जाएगा।

ब्लैक बुलेट पर ब्रामण चाले,
दुश्मन को दिल धक धक हाले..!!

अंगारे नहीं फौलाद हैं हम,
परशुराम की औलाद हैं हम,
ब्राह्मण वंश के हम चीते हैं,
जो खुद के जिगर पर जीते हैं।

पंडित को परखने की हिम्मत मत करना,
इतिहास गवाह है पंडित पहले भी
कई तूफानों का मुंह मोड़ चुके हैं

पढ़ते क्या हो आंखों में ब्राह्मण की कहानी,
Attitude में रहना तो आदत हैं इनकी खानदानी..!!

ब्राह्मण जो करते हैं उच्च कोटि का करते हैं,
फिर वो चाहे विकास हो या किसी का विनाश हो।

कोशिश तो सब करते है,
लेकिन सबसे हासिल ताज नही होता…!
शोहरत तो कोई भी कमा ले,
पर पंडित वाला अंदाज नहीं होता…!

हमारा कोई क्या बुरा करेगा जनाब,
घर से हम माँ की दुआ
और बापू की पिस्तौल साथ लेकर निकलते हैं।
जय श्री राम जय परसुराम

चलता हूँ अपनी धुन में महादेव के गीत गाऊंगा
ब्राह्मण बनकर आया हूँ दुबारा ब्राह्मण बनने ही आऊंगा।

किसी ने कहा लोहा हैं हम,
किसी ने कहा फौलाद हैं हम,
माँ कसम वहा भाग दौड मच गई,
जब हमने कहा ब्राह्मण पंडित है हम…!

Brahman Status

बड़े-बड़े स्वर्णिम अक्षरों में लिखा ब्राह्मणों का इतिहास हैं
क्यों लेता तू पन्गा पंडितों से हमेशा उन्हीं का राज हैं.

देख मेरा टोरा में ब्रामण का छोरा कोई ठंग मिली मारे ते,
इतना बढ़ा ना हो रहा खिलोना पिस्टल दो नाली पड़ी मेरे घर ते..!!

कोई कितनी भी कोशिश करले हम जैसा बनने की,
शेर पैदा होते हैं बनाए नहीं जाते,
जय ब्राह्मण सम्राज्य, जय परशुराम जी।

हिंसा-अहिंसा का लेखा-जोखा राखी अपनी झोली
धर्मरक्षा के लिए पंडित ने खेला हैं खून की होली।

ब परशुराम का फरशा और बाजीराव की तलवार उठी है,
बिना पराजय वाली ब्राह्मणों का स्वर्णिम इतिहास लिखी गई हैं..!!

ब्राह्मण भूखा तो सुदामा
ब्राह्मण समझा तो चाणक्य
ब्राह्मण रूठा तो परशुराम

पाप-पुण्य की गठरी लाद क्यों हैं अपना बोझ बढ़ाया
सुख-दुःख, लाभ-हानि में पंडित ने ही समानता पाया।

दिखे ना जो नयनो से ज्ञानचक्षु से उसने उसे देखा हैं
मानव कल्याण के लिए वह ब्राह्मण रात भर नहीं सोता हैं.

Attitude मत दिखा बेटा, जल जाएगा,
अगर पंडित से टकराएगा तो घर तक पिटता ही जाएगा।

पंडित का बेटा हु,
रखता हु जान हतेली पर
अगर मिलना हो तो आ जाना हवेली पर…!!

ब्राह्मण आते हैं तो वसंत ऋतू आता हैं
वसंत ऋतू आने से प्रकृति सुधर जाती हैं
ब्राह्मण के आने से संस्कृति सुधर जाती हैं.

यारी करे तो यारो के यार हे BRAHMAN
और दुशमन के लिए तुफान हे BRAHMAN
तभी तो दुनिया कहती है
बाप रे खतरनाक हे

पंजे को कमल का फूल बना देते काँटो को भी धूल बना देते
एकता नहीं हैं ब्राह्मणो में नहीं तो
अयोध्या क्या मक्का-मदीना में राम मंदिर बनवा देते.

हम पत्थर नहीं फौलाद हैं
हम ब्राह्मण की औलाद हैं
जय दादा परशुराम

पंडित भूखा तो सुदामा कहलाता हैं
गर जो पंडित समझा चाणक्य बन जाता हैं
रूठा जो पंडित तो परशुराम हो जाता हैं.

यमराज से जो डरे उसे यमदूत कहते हैं,
यमराज जिससे डरे, उसे पंडित कहते हैं,
अगर विश्वास नहीं होता तो रावण का इतिहास पढ़ ले।

ब्राह्मणों की ताकत तूफान बन गई…!
बाजीराव की वीरता हिंदुस्तान की शान बन गई!
जब जब उठाया फरसा ब्राह्मणों ने…!
दुश्मनों की धरती शमशान बन गई!!
जय परशुराम

गर जो नहीं सुधरे, सुधारेंगे हम
क्या करें धर्महित में
भगवान् परशुराम की
तरह फरसा उठा लेंगे हम
गर जो उठ गया फरसा त्राहि-त्राहि मच जायेगा।
फिर क्या मक्का-मदीना तेरा बाप भी बचा नहीं पायेगा।

वो ब्राहमण ही किस काम का,
जो नाम ना ले परशुराम का।

शब्द की बिसात क्या, शब्द की अवकात क्या
निःशब्द हैं वह, पंडित की दूसरी पहचान क्या?

Read Also: दुश्मनी पर शायरी

Brahman Status

ना नजर बुरी हैं ना मुँह काला हैं,
अपना कोई क्या बिगाडेगा,
अपने सिर पे तो फरसे वाला हैं।

पंडित से जलते सभी हैं
लेकिन यह सच हैं की
पंडित जैसा बनने को
ललचते भी सभी हैं.

शास्त्र और शस्त्र जिनसे जन्म लिए
उसकी बात पुरानी हैं,
पृथ्वी को भी स्वर्ग बनाया था
जिसने यह उस ब्राह्मण की कहानी हैं..!!

पंडित बुरा या दुनिया बुरी,
फ़ैसला हो न सका,
कमबख्त पंडित तो सब का हो गया,
लेकिन पंडित का कोई ना हो सका।

ब्राह्मण ही प्रथम हैं ब्राह्मण ही अनंत हैं
पंडित ही आरम्भ हैं ब्राह्मण ही अंत हैं.
ब्राह्मण प्रचंड हैं, करता जब कोई अधर्म हैं.

चलता हूँ अपनी धुन में महादेव के गीत गाऊंगा,
ब्राह्मण बनकर आया हूँ दुबारा ब्राह्मण बनने ही आऊंगा..!!

शेर कि सवारी और पंडित कि यारी,
किस्मत वालो को नसीब होती हैं।

पढ़-पढ़ अंग्रेजी पंडित बना ना कोय
दो लाइन संस्कृत न पढ़ सके तो काहे को पंडित होय?

जब बुलेट का पड़े साया,
तो समज लेना तेरा बाप ब्राह्मण आया..।

ब्राह्मण एकम सेना
ब्राह्मण दूना कोटि सेना
जब-जब ब्राह्मण का खून खौले
काँपे धरती का कोना-कोना।

मैं भारत पुत्र लिखूं तुम ब्राह्मण समझ लेना
जब भी मैं त्याग की कहानी कहूँ
तुम ब्राह्मण की कहानी समझ लेना
जब भी मानवता की बात करूँ
तुम ब्राह्मणत्व समझ लेना
जब भी युद्ध की बात करूँ
तुम परशुराम समझ लेना।

दुआ लफ़्ज़ों से नहीं दिल से होनी चाहिए क्योंकि
ब्रामण उनकी भी सुनते हैं जो बोल नहीं पाते ।।

Attitude मत दिखा तू ये बन्दा
बंद कर दे तू अपना धंधा
पंडित से जो टकराएगा
तहस-नहस हो जायेगा।

गीजगढ़ का बाजार हो,
“Black Safari Car” हो, पिछे बैठे मेरे यार हो,
और देखने वाला कहे,
काश ये ””ब्रामण का छोरा”” मेरी छोरी का yaar हो।

जलते हैं तो जलने दो
बुझाना हमारा काम नहीं,
जलाकर जो राख ना कर दू
तो ब्राह्मण मेरा नाम नहीं।

हम ब्राह्मण शांत हैं तो श्री राम हैं,
भड़के तो फरसाधारी परशुराम हैं..!!

तप कर बने फौलाद हैं हम भगवान् परशुराम की औलाद हैं हम,
ब्राह्मण समाज के हम चीते हैं अपने बल-बुत्ते पर जीते है..!!

यारी करे तो यारो का यार हैं ब्राह्मण
दुश्मनी करे तो तूफ़ान हैं ब्राह्मण
इसीलिए अधर्मी कहते हैं -‘बाप रे बाप!’
बड़ा खतरनाक हैं ब्राह्मण।

कर्म की भूमि पर कर्मफल खिलते हैं,
किस्मत बुलंद हो तभी ब्राह्मण के घर जन्म मिलते हैं..!!

पत्थर नहीं फौलाद हैं हम
शेरदिल ब्राह्मण की औलाद हैं हम.

Brahman Status

गहरी काली रात में छोटा सा दीपक भी प्रकाश करता हैं,
करोडो के भीड़ में ब्राह्मण ही पहचाना जाता हैं..!!

प्रेम इतना की चींटी को भी हाथ जोड़ लेते हैं
हम हैं पंडित अंगारो से भी खेल लेते हैं,
क्रोध इतना की हजारो हड्डियाँ भी तोड़ देते हैं.

लोहा टाटा का, जूता बाटा का,
छोरा ब्रामण का, दुनिया में मशहूर हैं।

शतरंज कि चालो का खोफ तो उनहे होता हैं,
जो सियासत करते हैं,
हम तो भगवान परशुराम के बंशज है
ना हार का फिक्र और ना जीत का जिक्र।

हैं जैसे वैसे रहने दो हमें
बिगड़ गए जो ब्राह्मण तो
अंदाज पुराना होगा और
हर तरफ राज हमारा होगा।

ब्राह्मण जैसे हैं उन्हें वैसे ही रहने दो
अगर हम बिगड़ गए ना तो वही,
अंदाज होगा और अपना हर जगह राज होगा ।

ना नेवला हैं ना साप हैं
क्या कांग्रेस और क्या आप हैं
न पुण्य का लालच हैं ना करते हम पाप हैं,
पर एक बात कान खोल कर सुन लो
पंडित का छोरा ही सबका बाप हैं.

एक झोली साथ में बस वस्त्र की
एक जोड़ी फिर भी स्थापित करे,
जो विश्व की सबसे बड़ी साम्राज्य ब्राह्मण ही हैं
वो चाणक्य उसका नाम..!!

मत कर इतना गुरुर दो दिन की जिंदगानी पर
सिख कुछ तू पंडित से
भयभीत नहीं होता जो मृत्यु के भी आने पर.

जलते हैं तो जलने दो बुझाना हमारा काम नहीं,
जलाकर जो राख ना कर दू तो ब्राह्मण मेरा नाम नहीं..!!

Brahman Status

ब्राह्मण जो भी करता हैं
उच्च कोटि का करता हैं
चाहे वो विनास हो या विकास हो
जय जय महाकाल।

शेर जैसा जिगरा हैं,
बराबरी में बैठ जाये हर किसी की अवकात नहीं,
सारे जग में ढूंढ लिया ब्राह्मण जैसी
दूसरी कोई जात नहीं..!!

ब्राह्मण से टकराएगा धुर्रा धुर्रा में उड़ जाएगा,
ना ही मिलेगी कही शरण सर छुपाने को तरस जायेगा..!!

जब फितरत में नशा ब्राह्मण का हैं,
तो रुतबे में गुरुर तो लाज़मी हैं..!!

बिना तङके की दाल और बिना,
Attitude का माल ब्राह्मण न पसंद कौनी।

देख भैया !
जब #Bullet का पड़े साया
तो समझलेना तेरा बाप
ब्राह्मण आया !

ये आवाज नही ब्राह्मण कि दहाड़ हैं,
अकेले भी खडे सामने हो जाये तो पहाड़ हैं।

शतरंज की चालो से क्या उलझाएगा तू पंडित को
शतरंज भी हमने पैदा किया टक्कर ना देना पंडित को

जलते है तो जलने दो,
बुझना मेरा काम नही,
जलाकर राख न कर दु,
तो ब्राह्मण मेरा नाम नहीं।

रोता तू क्यों हैं उठ कर सभी समस्या को खंडित
मत कम समझ खुदको क्युकी छोरा हैं तूँ पंडित

ब्राह्मण पुत्र हैं हम, करेजा दमदार रखते हैं,
इतिहास की क्या बिसात हम तो
पूरा ब्रह्माण्ड बदलने की ताकत रखते हैं..!!

Brahman Status

वो ब्राह्मण किस काम का
जो नाम न ले भगवान् परशुराम का

ब्राह्मण पंजे को कमल बना देते, ब्राह्मण काटों को फुल बना देते,
लेकिन ऐकता नही हैं ब्राह्मण में, नहीं तो अयोध्या में क्या,
पाकिस्तान में भी हर दिन एक राम मंदिर बना देते।

“ब्रामण” के ठाठ देख कर तो
आजकल शहर की छोरियां भी कहने लगी हैं
ना दवा चाहिए ना दर्द चाहिए,
हमें तो बस ब्राह्मणो का लड़का चाहिए।।

ब्राह्मण बदलते तो बदलते सारे नतीजे हैं
सारा मंजर, सारा अंजाम बदल जाता हैं,
कौन कहता हैं परशुराम अब नहीं हैं,
यहाँ सभी ब्राह्मणो के हृदय में
भगवान् परशुराम पाए जाते हैं.

सहारे ढूंढने की जरुरत नहीं,
पंडित अकेले एक सेना के बराबर हैं..!!

चलता रहा हुँ अगनीपथ पर ” चलता चला जाऊंगा”
ब्राह्मण बन कर जन्म लिया मैंने “ब्राह्मण बन कर हि मर जाऊंगा”
मेला लग जाएगा उस दिन शमशान में,
जिस दिन ये पंडित मरके जाएगा आसमान में..।

जब जब ब्राह्मण बोला हैं
राजसिंहासन डोला हैं
जब-जब ब्राह्मण बोलेगा
राज सिंघासन डोलेगा।

जब तक रगो में आखिरी कतरा हैं,
शरीर पर रूह का कब्जा रहेगा,
हम पंडित Ji हैं,
और यही Pandito वाला jajba रहेगा।।

पंडित बुरी या दुनिया बुरी इसका फैसला हो ना सका,
और पंडित तो हो गया सबका लेकिन पंडित का कोई हो ना सका..!!

ब्राह्मण वो हैं जो शस्त्र और शास्त्र के,
सहयोग से समाज से अज्ञानता को दूर करे।

यदि समाज में सबसे ज्यादा योगदान किसी का रहा हैं
तो वह ब्राह्मण समाज का रहा हैं,
अंग्रेजो से लड़ना हो या लड़ना हो मुग़ल जैसे पिचाश से
ब्राह्मण समाज सबसे आगे लड़ा हैं.

ब्राह्मण इस देश की शान हैं,
ब्राह्मण देश का अभिमान हैं।

मारी जूता जो सिकंदर को दिया युद्ध में हराय
पंडित जात हैं उसका पुरे विश्व में सराहा जाये।

राजनीति, कूटनीति के जन्मदाता हम
हम पंडित हैं तभी राजसिंघासन सुरक्षित हैं,
वरना आज तो हर जगह आरक्षित हैं.

पंडित का तीन काम- शिक्षा, दीक्षा और भिक्षा,
फेल कर दे ब्राह्मण को नहीं हैं कोई ऐसी परीक्षा..!!

मत डरा पंडित को तू काल से डरता हैं,
तो पंडित सिर्फ महाकाल से..!!

पूरा विश्व देवताओं के अधीन हैं,
देवता मन्त्र के अधीन हैं,
और मन्त्र ब्राह्मणो के अधीन हैं.
जय जय परशुराम !

इतना आशीर्वाद तेरे पूर्वजो ने तुझे नहीं दिए होंगे
उससे ज्यादा आशीर्वाद तो ब्राह्मण तुझे देता हैं.

पंडित जिस दिन बिगड़ गये इतिहास पुराना खोलेंगे,
धाक हमारी देखकर गुँगे भी ज़य ज़य ब्राह्मण बोलेगे..!!

कर्म की भूमी पर, किस्मत के फूल खिलते हैं,
नसीब अगर बुलंदी पर हो तो ही
ब्राह्मण के घर जन्म मिलते हैं..!!

Read Also: एटीट्यूड स्टेटस

Brahman Status

ब्राह्मण हैं तो देश हैं,
ब्राह्मण की धड़कन जब तक चलेगी
हे भारत माँ तुझ पे कोई आँख नहीं उठेगी
अगर की जुर्रत किसी ने भी तो
कयामत से पहले क़यामत होगी।

है वो प्रचंड तपस्वी, माता हैं उसकी काल भैरवी
बिगड़े काम सब बन जाएंगे यदि हो ब्राह्मण की पैरवी।

काल के गाल से बचा,
मृत्यु को विजय करने वाला
महा मृत्युंजय मन्त्र जिसने रचा.
जिव कल्याण हेतु जीवित
हड्डियाँ जिसने दान की
ब्राह्मण हैं वो उसी ने
सबकी नइया पार की.

भुत भयंकर होत हैं.
प्राण पखेरू उड़ जात हैं
मृत्यु के बाद भी जो जीवित रहे
पंडित वही जात हैं.

ब्रामण से जो टकरायेगा,
वो परशुराम का भी दुश्मन कहलायेगा..!!

कर ले जितने भी जतन भवसागर न तू पार कर पायेगा
छोड़ दे ब्राह्मण को दुत्कारना नहीं तो
नाली का कीड़ा बन जायेगा।

एक तो में गोरा,
ऊपर से ब्रामण का छोरा गमण्ड तो होगा..!!

क्या लेके आया हैं क्या लेके जायेगा
ब्राह्मण का खून लेकर आया हूँ
एक-एक बून्द मानवता हेतु लूटाकर जाऊंगा।

ब्रामण का बेटा हूँ,
दिल में जिगर रखता हूँ,
इरादों में तेज धार रखता हूँ,
इसलिए ब्रामण होने पर गर्व करता हूँ..!!

ब्राह्मण जैसा भाग्य शाली कौन हैं महाराज
सेवक बने जो प्रभु का यही तो हैं जीवन का असली राज.

मैं छोरा ब्रामण का,
Jaipur से आया हूँ,
तीन बार लगे मर्डर केस,
ना पुलिस के हाथ आया हूँ..!!

ब्राह्मण जब दिल से सोचे तो
तुम अपना भाग्य बना लेना
हो क्रोधित जब ब्राह्मण
तुझपर अपना जान बचा लेना।

पंडित हूँ लाडले, एहसान,
और अपमान कभी नहीं भूलता..!!

पंडित की यारी
जोहे दुनिया सारी
करें जो शेर की सवारी
महाकाल का हैं वो कट्टर पुजारी।

वेद-उपनिषद मुख में हैं
फरशा त्रिशूल जिनकी रानी
पंडित से मत करना कभी मनमानी।

Brahman Status

ब्राह्मण इतने भी कमजोर नहीं की
किसी की सहारे का इंतजार करें
शव भी पड़ा हो ब्राह्मण का तो भी
खुद उठने का हौसला रखता हैं.

फोर्ड, बुलट और राइफल, शान है ब्राह्मण की,
लोहे बरगी यारी असली जान है ब्राह्मण की..!!

पंडितो का शान-शौकत और वफ़ा को
देखकर छोरियाँ भी कहती हैं
ना दर्द चाहिए ना दर्द की दवा चाहिए
हमें तो पंडित जैसा यार चाहिए।

सहारे ढूढ़ने की आदत नही हमारी,
हम अकेले पूरी महफ़िल के बराबर हैं..!!
–जय श्री परशुराम जी

ब्राह्मण जब चाहे किसी का शनि ख़राब कर दे,
ब्राह्मण जब चाहे राहु चढ़ा दे
जब चाहे शनि सही कर दे..!!

ब्राह्मण वह हैं,
जो ब्रह्मा को ही मोक्ष का आधार मानता हो..!!

Read Also

इनका नाम राहुल सिंह तंवर है, इन्होंने स्नातक (रसायन, भौतिक, गणित) की पढ़ाई की है और आगे की भी जारी है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 3 वर्ष से भी अधिक SEO का अनुभव होने के साथ ही 3.5 वर्ष का कंटेंट राइटिंग का अनुभव है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जुड़ सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here