स्वागत शायरी

Welcome Shayari in Hindi

Welcome Shayari in Hindi
Image: Welcome Shayari in Hindi

स्वागत शायरी | Welcome Shayari in Hindi

आये वो हमारी महफ़िल में कुछ इस तरह
कि हर तरफ़ चाँद-तारे झिलमिलाने लगे,
देखकर दिल उनको झूमने लगा
सब के मन जैसे खिलखिलाने लगे.

हमारी महफ़िल में लोग बिन बुलायें आते हैं,
क्योकि यहाँ स्वागत में फूल नहीं पलकें बिछाये जाते हैं.

कौन आया कि निगाहों में चमक जाग उठी,
दिल के सोये हुए तरानों में खनक जाग उठी,
किसके आने की खबर ले कर हवाएँ आई
रूह खिलने लगी साँसों में महक जाग उठी.

हार को जीत की इक दुआ मिल गई,
तप्त मौसम में ठंडी हवा मिल गई,
आप आये मेरे सनम तो यूँ लगा,
जैसे दिल के दर्द को कुछ दवा मिल गई…

शब्दों का वजन तो हमारे बोलने के भाव से पता चलता हैं,
वैसे तो, दीवारों पर भी “वेलकम” लिखा होता हैं.

सबके दिलों में हो सबके लिए प्यार,
आने वाला हर पल लाये खुशियों का बहार,
इस उम्मीद के साथ भुलाके सारे गम
इस आयोजन का करें वेलकम.

जो दिल का हो ख़ूबसूरत,
ख़ुदा ने ऐसे लोग कम बनाये हैं,
जिन्हें ऐसा बनाया है खुदा ने,
आज वो हमारी महफ़िल में आये हैं…

देर लगी आने में तुम को शुक्र है फिर भी आए तो
आस ने दिल का साथ न छोड़ा वैसे हम घबराए तो

दिल को सुकून मिलता हैं मुस्कुराने से,
महफ़िल में रौनक आती है आपके आने से…

फ्रेशेर्स के चेहरे की जो मुस्कान है,
वही तो हमारे महफ़िल की शान है.

Read Also: बेस्ट फ्रेंड पर शायरी

Welcome Shayari in Hindi

ये कौन आया, रौशन हो गयी महफ़िल किसके नाम से
मेरे घर में जैसे सूरज निकला है शाम से.

कौन आया है कि निगाहों में चमक जाग उठी,
दिल के सोये हुए तरानों में खनक जाग उठी,
किसके आने की खबर ले कर हवाएँ आई,
रूह खिलने लगी साँसों में महक जाग उठी..

महफिल को खूबसूरत बनाने में
थोड़ी सी हमारी मदद कीजिये,
अंजान बनकर मायूस नहीं बैठना है,
खुलकर मुस्कुराइये और आनंद लीजिये.

सौ चाँद भी आ जाएँ तो महफ़िल में वो बात न रहेगी,
सिर्फ आपके आने से ही महफ़िल की रौनक बढ़ेगी…

पहली मुलाक़ात में थोड़ा डर लगता है,
पर मुस्कुराकर शुरूआत हो तो अपना घर लगता है.

हार को जीत की एक दुआ मिल गई
तपन मौसम में ठंडी हवा मिल गई।
आप आये श्री मान जी यू लगा,
जैसे तकलीफ को कुछ दवा मिल गई।

चाँदनी रात बड़ी देर के बाद आयी,
ये मुलाक़ात बड़ी देर के बाद आयी,
आज आये हैं वो मिलने मुद्दत के बाद,
आज की रात बड़ी देर के बाद आयी…

वो खुद ही नाप लेते हें बुलंदी आसमानों की,
परिंदों को नहीं तालीम दी जाती उड़ानों की।
महकना और महकाना तो काम है खुशबु का
खुशबु नहीं मोहताज़ होती क़द्रदानों की..

हर गली अच्छी लगी,
हर एक घर अच्छा लगा,
वो जो आया शहर में,
तो शहर भर अच्छा लगा…

उस ने वा’दा किया है आने का
रंग देखो ग़रीब ख़ाने का

Welcome Shayari in Hindi

गुलों में रंग भरे बाद-ए-नौ-बहार चले
चले भी आओ कि गुलशन का कारोबार चले

हुस्न-ओ-इश्क का समा है आज जमाने के बाद,
हर फूल की खुशबू गज़ब है आप के आने के बाद।

ये और बात कि रस्ते भी हो गए रौशन
दिए तो हम ने तिरे वास्ते जलाए थे

मीठी बात और चेहरे पर मुस्कान,
ऐसे लोग ही है हमारी महफ़िल के शान.

यह जो हिज्र में दीवार-ओ-दर को देखते हैं,
कभी सबा को कभी नामबर को देखते हैं।
वो आये घर में हमारे खुदा की कुदरत है,
कभी हम उनको कभी अपने घर को देखते हैं।

सौ चाँद भी चमकेंगे तो क्या बात बनेगी
तुम आए तो इस रात की औक़ात बनेगी

महफ़िल में चार चाँद लगाने के बावजूद
जब तक न आप आए उजाला न हो सका

शुक्रिया तेरा तिरे आने से रौनक़ तो बढ़ी
वर्ना ये महफ़िल-ए-जज़्बात अधूरी रहती

Read Also

इनका नाम राहुल सिंह तंवर है, इन्होंने स्नातक (रसायन, भौतिक, गणित) की पढ़ाई की है और आगे की भी जारी है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 3 वर्ष से भी अधिक SEO का अनुभव होने के साथ ही 3.5 वर्ष का कंटेंट राइटिंग का अनुभव है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जुड़ सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here