व्यक्तिवाचक संज्ञा (परिभाषा एवं उदाहरण)

vyaktivachak sangya :नमस्कार दोस्तों, संज्ञा के मुख्य तीन प्रकार में से एक प्रकार व्यक्तिवाचक संज्ञा है। इस आर्टिकल में आपको व्यक्तिवाचक संज्ञा (Vyakti vachak Sangya) के बारे में विस्तारपूर्वक बताएँगे। हर कक्षा की परीक्षा में पूछा जाने वाले यह एक विशेष महत्वपूर्ण सवाल है। यहां पर हम को निम्न स्टेप्स में व्यक्तिवाचक संज्ञा जानेंगे।

  • व्यक्तिवाचक संज्ञा किसे कहते हैं?
  • व्यक्तिवाचक संज्ञा के उदाहरण क्या है?
Vyakti Vachak Sangya

संज्ञा की परिभाषा, उसके सभी भेद और उनके उदाहरण के बारे में विस्तार से जानने के लिए यहां क्लिक करें

व्यक्तिवाचक संज्ञा किसे कहते हैं? (vyakti vachak sangya kise kahate hain)

किसी व्यक्ति, स्थान या वस्तु का बोध कराने वाली संज्ञा व्यक्तिवाचक संज्ञा कहलाती है। अर्थात् वह संज्ञा जिससे किसी व्यक्ति विशेष का बोध होता हो, उसे व्यक्ति वाचक संज्ञा (Propernoun) कहते हैं।

उदाहरण के लिए

व्यक्ति के नाम – नरेन्द्र मोदी, स्वामी विवेकानंद, रमेश, सुरेश, पूजा, आरती, रोहित आदि।

स्थान के नाम – राजस्थान, गुजरात, पंजाब, जयपुर, दिल्ली, पाकिस्तान, चीन, नेपाल, अमेरिका, भारत आदि।

दिशाओं के नाम – उत्तर, पश्र्चिम, दक्षिण, पूर्व।

देवी देवताओं के नाम – शिव, विष्णु, पार्वती, लक्ष्मी आदि।

राष्ट्रीय जातियों के नाम – भारतीय, रूसी, अमेरिकी आदि।

समुद्रों के नाम – काला सागर, भूमध्य सागर, हिन्द महासागर, प्रशान्त महासागर आदि ।

भाषाओं के नाम – हिंदी, चाइनीज, गुजराती, कन्नड़, फ्रैंच, बंगाली, अंग्रेजी, मराठी आदि।

पहाड़ों के नाम – अरावली, हिमालय, कंचनजंगा, एवरेस्ट, अलकनन्दा, कराकोरम आदि।

समाचार पत्रों के नाम – दैनिक भास्कर, पत्रिका आदि।

ऐतिहासिक युद्धों और घटनाओं के नाम – पानीपत की पहली लड़ाई, सिपाही-विद्रोह, अक्तूबर-क्रान्ति।

उपाधि एवं पुरस्कारों के नाम – डॉक्टर, सर, गार्गी, अर्जुन, भारत रत्न आदि।

सरकारी योजनाओं के नाम – जन धन योजना आदि।

नदियों के नाम – गंगा, ब्रह्मपुत्र, बोल्गा, कृष्णा, कावेरी, सिन्धु आदि।

खेलों के नाम – क्रिकेट, हॉकी, फुटबॉल, टेनिस आदि।

दिनों, महीनों के नाम – मई, अक्तूबर, जुलाई, सोमवार, मंगलवार आदि।

त्योहारों, उत्सवों के नाम – होली, दीवाली, रक्षाबन्धन, विजयादशमी आदि।

व्यक्तिवाचक संज्ञा को कैसे पहचाने?

  • इस संज्ञा का प्रयोग हमेशा एकवचन में होता है, उसे एकवचन से बहुवचन और बहुवचन से एकवचन में परिवर्तित नहीं किया जा सकता।
  • व्यक्तिवाचक संज्ञा विशेषण होता है।
  • इस संज्ञा से भाववाचक संज्ञा का निर्माण नहीं किया जाता।

व्यक्तिवाचक संज्ञा के उदाहरण (Vyakti Vachak Sangya Examples in Hindi)

  1. रमेश दौड़ रहा है।
  2. सुरेश खेल रहा है।
  3. नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री है।
  4. सचिन तेंदुलकर महान क्रिकेटर है।
  5. रवीन्द्रनाथ टैगोर ने राष्ट्र गान लिखा है।
  6. अक्षय कुमार प्रसिद्ध फिल्म अभिनेता है।
  7. हिटलर एक तानाशाह शासक था।
  8. ओशो एक आध्यात्मिक गुरू थे।
  9. विकास गांव गया है।
  10. सोहन के पिता अध्यापक हैं।

उपर लिखे वाक्यों में प्रयुक्त हुए नाम रमेश, सुरेश, नरेंद्र मोदी, सचिन तेंदुलकर, रवीन्द्रनाथ टैगोर, अक्षय कुमार, हिटलर, ओशो, सोहन आदि ये सभी व्यक्तियों का बोध नहीं कराके एक विशेष व्यक्ति का बोध करा रहे हैं। इसलिए ये व्यक्तिवाचक संज्ञा की श्रेणी में आयेंगे।

  1. हिंदी हमारी राष्ट्रभाषा है।
  2. मुझे मराठी अच्छे से आती है।
  3. हमने एक अंग्रेजी फिल्म देखी।
  4. सुरेश चाइनीज बोल सकता है।
  5. विकास को हिंदी बोलनी नहीं आती है।

ऊपर प्रयुक्त वाक्यों में हिंदी, मराठी, अंग्रेजी, चाइनीज आदि सभी भाषाओं का बोध नहीं करवाके सिर्फ विशेष भाषा का बोध करा रही है। इसलिए ये व्यक्तिवाचक संज्ञा में आएगी।

  1. दिल्ली हमारे देश की राजधानी है।
  2. जयपुर को गुलाबी नगर भी कहा जाता है।
  3. ताज होटल मुंबई में स्थित है।
  4. लखनऊ सबसे अधिक आबादी वाला राज्य है।
  5. गांधीनगर गुजरात की राजधानी है।

ऊपर वाक्यों में प्रयुक्त दिल्ली, जयपुर, मुंबई, लखनऊ, गांधीनगर आदि सभी महानगरों का बोध नहीं करवा रहे है, एक विशेष महानगर का बोध करा रहे है। इसलिए यह व्यक्तिवाचक संज्ञा में आयेंगे।

व्यक्तिवाचक संज्ञा के कुछ अन्य उदाहरण

  1. जवाहर लाल नेहरू भारत के प्रधानमंत्री थे।
  2. महेंद्र सिंह धोनी क्रिकेट खेलते हैं।
  3. वह जापान में रहता है।
  4. मुझे हिंदी पुस्तकें पढ़ना पसंद है।
  5. कुतुबमीनार एक अच्छी जगह है।
  6. रामायण के बहुत अच्छी पुस्तक है।
  7. आचार्य चतुरसेन एक उपन्यासकार हैं।
  8. पेले फुटबॉल के महान खिलाड़ी हैं।
  9. विराट कोहली इतिहास के सबसे अच्छे बल्लेबाज हैं।
  10. विकास गांव गया है।
  11. अमेज़न नदी विश्व की सबसे लम्बी नदी है
  12. मैंने आज एक जापानी भाषा की किताब खरीदी।
  13. मुझे पंजाबी में बात करना बहुत पसंद है।
  14. मैं अभी लंदन से वापस आ रहा हूँ।
  15. रामायण हिन्दू धर्म के सबसे उत्कृष्ट लेखों में से एक हैं।
  16. ताजमहल की खूबसूरती का कोई जवाब नहीं है।
  17. महात्मा गाँधी ने अहिंसा का उपयोग करके भारत को आज़ादी दिलवाई थी।
  18. मनीषा ने अपने गांव में एक विद्यालय खोला।
  19. कोहिनूर हीरा भारत की शान था।
  20. भारत का संविधान भीमराव आंबेडकर ने लिखा था।
  21. भूटान की एक छोटी लड़की चंपा हिमालय के शिखर पर जा पहुँची।
  22. महात्मा गांधी भारत के राष्ट्रपिता है।
  23. इंदिरा गांधी हमारे भारत के प्रथम प्रधानमंत्री की बेटी थी।
  24. भारत के संविधान निर्माण में भीमराव अंबेडकर ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी।
  25. बेंगलुरु ऑटोमोबाइल के लिए बहुत ज्यादा विख्यात है।
  26. कुतुब मीनार भारत का सबसे ऊंचा मिनार है।
  27. दिल्ली काफी व्यस्त शहर है।
  28. शाहरुख खान भारतीय फिल्म जगत के प्रख्यात कलाकार हैं।
  29. सचिन तेंदुलकर को बचपन से ही क्रिकेट खेलना पसंद था।
  30. उत्तर प्रदेश की जनसंख्या सबसे ज्यादा है।
  31. संस्कृत भारत की सबसे प्राचीन भाषा है जो ऋषि मुनियों के द्वारा बोली जाती थी।
  32. भगवत गीता में जीवन के सभी समस्याओं का हल है।
  33. संयुक्त राष्ट्र अमेरिका एक विकसित देश है।
  34. मैंने कफन उपन्यास पढ़ा है।
  35. गीता विद्यालय में हमेशा प्रथम आती है।
  36. भारत में बहादुरी के कार्य के लिए परमवीर चक्र दिया जाता है।
  37. गंगा भारत की सबसे लंबी नदी है।
  38. हमने गणेश चतुर्थी बहुत धूमधाम से मनाया।
  39. वह रेडमी का मोबाइल इस्तेमाल करती है।
  40. गूगल दुनिया की जानी मानी कंपनी है।
  41. सुंदर पिचाई गूगल के सीईओ है।
  42. भारत रत्न अवार्ड मिलना एक गौरव की बात होती है।
  43. सुबह सुबह समाचार पत्र पढ़ना मुझे काफी पसंद है।
  44. जन धन योजना के द्वारा देश के कई नागरिकों को लाभ हुआ है।
  45. पानीपत की पहली लड़ाई किसके बीच हुई थी?

FAQ

जातिवाचक संज्ञा क्या होता है?

ऐसी संज्ञा जो स्थान विशेष, जाति विशेष, व्यक्ति विशेष, वस्तु विशेष आदि का बोध कराती हो, उसे जातिवाचक संज्ञा कहते हैं।

जातिवाचक संज्ञा के उदाहरण?

रमेश, मोहन, यूरोप, मुंबई, श्रीलंका, सामवेद, रामायण, हिमालय इत्यादि जातिवाचक संज्ञा के उदाहरण हैं।

वस्तु विशेष बोधित करने वाले व्यक्तिवाचक संज्ञा के उदाहरण क्या है?

रामायण, गीता, महाभारत, सामवेद, यजुर्वेद, ऋग्वेद, शिव पुराण आदि वस्तु विशेष के उदाहरण है।

जयपुर, मुंबई, दिल्ली, बीकानेर, हरियाणा इत्यादि कौन सी संज्ञा के प्रकार में आते हैं?

दिल्ली, मुंबई, बीकानेर, हरियाणा जैसे स्थानों का नाम व्यक्तिवाचक संज्ञा में आते हैं, जो स्थान विशेष को बोधित करता है।

“इंदिरा गांधी भारत की प्रथम महिला प्रधानमंत्री थी” वाक्य में कौन सा संज्ञा व्यक्तिवाचक संज्ञा के प्रकार में आता है?

उपरोक्त वाक्य में इंदिरा गांधी और भारत दोनों ही व्यक्तिवाचक संज्ञा में आते हैं। क्योंकि यहां पर इंदिरा गांधी व्यक्ति विशेष एवं भारत स्थान विशेष को बोधित करता है।

जातिवाचक और व्यक्तिवाचक संज्ञा में क्या अंतर है?

व्यक्तिवाचक संज्ञा किसी विशेष स्थान, व्यक्ति जीव जंतु या वस्तु का बोध कराता है। उदाहरण के लिए रोहन, गीता, श्याम, हिमालय, गंगा, ब्रह्मपुत्र, महाभारत, भागवत, गीता, दिल्ली, मुंबई आदि। वही जातिवाचक संज्ञा किसी विशेष नाम को नहीं दर्शाता बल्कि या संपूर्ण वर्ग या जाति के नाम को बोध कराता है जैसे कि गाय, कुत्ता, पहाड़, नदियां, शहर, देश आदि।

हम उम्मीद करते हैं कि आप अब व्यक्तिवाचक संज्ञा किसे कहते हैं? (Vyakti Vachak Sangya), व्यक्तिवाचक संज्ञा की परिभाषा, व्यक्तिवाचक संज्ञा के उदाहरण (vyaktivachak sangya ke udaharan) आदि को अच्छी तरह से समझ गये होंगे। यदि आपको इससे जुड़ा कोई सवाल है तो कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। इस जानकारी को आगे शेयर जरूर करें।

Read Also

इनका नाम राहुल सिंह तंवर है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 4 वर्ष से अधिक SEO का अनुभव है और 6 वर्ष से भी अधिक समय से कंटेंट राइटिंग कर रहे है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जरूर जुड़े।