Virus का फुल फॉर्म क्या होता है?

Virus Full Form: आपने वायरस का नाम अवश्य सुना होगा वायरस का फुल फॉर्म क्या होता है? इसके बारे में बहुत कम लोगों को जानकारी है। जिन लोगों को वायरस के फुल फॉर्म के बारे में जानकारी नहीं है। यह आर्टिकल उन लोगों के लिए है। इस आर्टिकल में Virus Full Form के बारे में जानकारी दी जाएगी। आज के आर्टिकल में Virus Full Form के साथ-साथ वायरस कितने प्रकार के होते हैं। इसके बारे में भी जानकारी दी जाएगी।

Virus Full Form: वायरस का फुल फॉर्म
इमेज: Virus Full Form

Virus क्या है?

आपने अच्छा सुना होगा कि कंप्यूटर और मोबाइल फोन को वायरस से बचाया जाता है। क्योंकि यह वायरस मोबाइल फोन या कंप्यूटर में अटैक करके उस सिस्टम को खराब करता है। बहुत से कंप्यूटर जो कि वायरस की चपेट में आ जाते हैं और वायरस फैलने का मुख्य कारण इंटरनेट है।

इसके अलावा दूसरी कारण भी वायरस फैला सकते हैं। जिस प्रकार से डाटा ट्रांसफर फाइल ट्रांसफर के साथ-साथ वायरस अटैक का चांस अधिक होता है। जब किसी भी माध्यम से कंप्यूटर या मोबाइल डिवाइस में वायरस अटैक होता है तो सॉफ्टवेयर के चलने में दिक्कत आती है। वायरस की फुल फॉर्म नीचे दी गई है:

Virus Full Form

वायरस की फुल फॉर्म की बात की जाए तो वायरस के फुल फॉर्म की जानकारी नीचे दी गई है।

Virus ka Full Form:- Vital Information Resources Under Seize

कंप्यूटर वायरस को साधारण भाषा में प्रोग्राम भी बोला जाता है। क्योंकि यह कंप्यूटर में आपकी अनुमति के बिना भी काम करता है और कंप्यूटर को नुकसान पहुंचाता है। आप चाहकर भी इसका कुछ नहीं कर सकते हैं। जब कंप्यूटर में वायरस अटैक करता है तो कंप्यूटर की जरूरी फाइल, हार्ड ड्राइव, ऑपरेटिंग सिस्टम और सॉफ्टवेयर को नुकसान हो जाता है। इसके अलावा कुछ वायरस ऐसे भी होते हैं। जो हैकर द्वारा चलाये जाते हैं और वह वायरस हैंकर को डाटा चुरा कर पहुंचाने में मदद करते हैं।

वायरस कैसे काम करता है?

कंप्यूटर में वायरस प्रोग्राम की तरह काम करता है। यह वायरस से को कोडिगं तैयार करके बनाया जाता है। इस प्रकार के वायरस अपनी प्रतिलिपि बनाने में पूरी तरह से सक्षम होते हैं। नेटवर्क के माध्यम से यह प्रतिनिधि दूसरे कंप्यूटर पर अटैक करते हैं। इसी तरह यह एक कंप्यूटर से दूसरे कंप्यूटर पर अटेक करते है। हम इसको वायरस के नाम से बुलाते हैं। क्योंकि इसका काम भी जीव विज्ञान वायरस से मिलता-जुलता होता है।

जीव विज्ञान वायरस की बात की जाए तो वह वायरस मनुष्य के शरीर को नुकसान पहुंचाते हैं और कंप्यूटर वायरस जो कंप्यूटर में अटैक करके कंप्यूटर सॉफ्टवेयर को नुकसान पहुंचाता है। कंप्यूटर वायरस आपके मोबाइल में पहुंचकर डाटा चोरी करना, ईमेल स्पैम करना और सॉफ्टवेयर को खराब करना ऐसे ही काम करते हैं। कुछ खतरनाक वायरस जो कंप्यूटर में अटैक करने के बाद आपके कंप्यूटर को पूरी तरह से अपने कंट्रोल में कर लेते हैं।

कंप्यूटर वायरस के प्रकार

  • Boot sector viruses
  • Program viruses
  • Multipartite viruses
  • Stealth viruses
  • Macro viruses
  • Polymorphic viruses
  • Active X viruses
  • Browser hijacker
  • Resident viruses
  • File infector viruses

कुछ ऐसे मैलवेयर जो वायरस के रूप में भी जाने जाते है:

  • Computer Worms
  • Trojan horse
  • Spam virus
  • Spyware
  • Zombies

वायरस का निर्माण शुरुआत में इतना द्वारा ही किया गया है। यह ज्यादातर प्राइवेट जानकारी को हासिल करने के लिए इस प्रकार के वायरस का प्रयोग होता है और एक वायरस का निर्माण किया जाता है। डेटा खराब करने के लिए वायरस का प्रयोग मुख्य रूप से होता है।

कंप्यूटर वायरस की वजह से हर साल लाखों करोड़ों रुपए का नुकसान होता है। उदाहरण के तौर पर ransomware virus को देख सकते हैं। यह वायरस जो कंप्यूटर पर अटेक करके विंडोज सिस्टम को खराब करना है। यह वायरस कंप्यूटर में करने के बाद विंडोज को बदलवाना पड़ता है।

कंप्यूटर वायरस के अटैक से बचाव

कंप्यूटर वायरस वह है, जो आपके कंप्यूटर सिस्टम को नुकसान पहुंचाता है। अब हर व्यक्ति के दिमाग में एक बात जरूर होगी कि किस वायरस से बचा कैसे जाए। तो कंप्यूटर वायरस के अटैक होने से बचाव के निम्नलिखित टिप्स नीचे दिए गए हैं।

  • अपने कंप्यूटर में Crack या Modded Software कंप्यूटर का उपयोग नहीं करें। यदि कोई सॉफ्टवेयर का उपयोग आप करना चाहते हैं। तो सबसे पहले ऑफिशल वेबसाइट पर जाकर वहां पर सॉफ्टवेयर को डाउनलोड करें।
  • अपने कंप्यूटर ऑपरेटिंग सिस्टम एवं सॉफ्टवेयर को हमेशा अपडेट करते रहे। जैसे ही नए अपडेट का नोटिफिकेशन मिले तुरंत अपने सॉफ्टवेयर को अपडेट कर ले।
  • यदि आपके कंप्यूटर में कोई बिना पहचान का इमेल आया है और उस ईमेल में कोई Files दी गई है। तो जानकारी के बिना उस फाइल पर Click ना करें।
  • ऐसी वेबसाइट जो एक से दूसरी वेबसाइट पर रीडायरेक्ट होती हो उन वेबसाइट पर विजिट ना करें।
  • अपने कंप्यूटर ब्राउज़र में पॉपअप blocker को चालू रखें।
  • अपने उपयोगी डाटा का हमेशा बैकअप ले कर रखें।

निष्कर्ष

कंप्यूटर वायरस यह मनुष्य द्वारा निर्मित वायरस है। जो कंप्यूटर में नुकसान पहुंचाता है। वायरस जब भी किसी कंप्यूटर में अटैक करता है। कंप्यूटर के महत्वपूर्ण डाटा और सॉफ्टवेयर को नुकसान पहुंचाता है। आज का हमारा यह आर्टिकल जिसमें हमने Virus Full Form क्या होती है वायरस के कितने प्रकार है? इसके बारे में संपूर्ण जानकारी आप तक पहुंचाई है।

उम्मीद करता हूं कि हमारे द्वारा दी गई जानकारी आपको अच्छी लगी होगी। यदि किसी व्यक्ति को Virus Full Form आर्टिकल से संबंधित कोई सवाल है। तो वह हमें कमेंट के माध्यम से पूछ सकता है।

यह भी पढ़े:-

इनका नाम राहुल सिंह तंवर है, इन्होंने स्नातक (रसायन, भौतिक, गणित) की पढ़ाई की है और आगे की भी जारी है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 3 वर्ष से भी अधिक SEO का अनुभव होने के साथ ही 3.5 वर्ष का कंटेंट राइटिंग का अनुभव है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जुड़ सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here