वसुधैव कुटुम्बकम पर निबंध

Vasudhaiva Kutumbakam Essay In Hindi: आज विश्व को ग्लोवल विलेज कहा जाने लगा है क्योंकि दूरियाँ मिट रही है। वसुधैव कुटुम्बकम का तात्पर्य है कि पूरा विश्व एक परिवार है। हम यहां पर वसुधैव कुटुम्बकम पर निबंध  शेयर कर रहे है। इस निबंध में वसुधैव कुटुम्बकम पर निबंध के संदर्भित सभी माहिति को आपके साथ शेअर किया गया है। यह निबंध सभी कक्षाओं के विद्यार्थियों के लिए मददगार है।

Vasudhaiva-Kutumbakam-Essay-In-Hindi

Read Also: हिंदी के महत्वपूर्ण निबंध

वसुधैव कुटुम्बकम पर निबंध | Vasudhaiva Kutumbakam Essay In Hindi

वसुधैव कुटुम्बकम पर निबंध (250 शब्द)

यह एक सामाजिक दर्शन है, जो एक आध्यात्मिक सोच से निकली है। वसुधैव कुटुम्बकम सोचने का एक तरीका है, जो एक बताता है कि पूरी दुनिया एक परिवार है। जो इस सोच को प्रोत्साहित करने का प्रयास करता है कि संपूर्ण मानव जाति एक परिवार है।

जिसमें कहा गया है कि पूरी मानव जाति एक जीवन ऊर्जा से बनी है। यदि परमात्मा एक है तो हम कैसे अलग अलग हो सकते हैं?  यदि समुद्र एक है तो उसकी बून्दे अलग अलग कैसे हो सकती है। हम सबको बनाने वाला परमात्मा ही है और वह एक है। इस तरह हम सब भी एक ही परिवार के सदस्य है फिर चाहे हम भारतीय हो या अफगानी। चाहे एशिया से हो या यूरोप से।

वसुधैव कुटुम्बकम एक संस्कृत अभिव्यक्ति है, जिसका अर्थ है कि पूरी पृथ्वी एक परिवार है। प्राथमिक शब्द संस्कृत के तीन शब्दों – वसुधा, ईवा और कुटुम्बकम से मिलकर बना है। वसुधा का अर्थ है पृथ्वी, ईवा का अर्थ है जुड़े हुए और कुटुम्बकम का अर्थ है एक परिवार। इसका तात्पर्य है कि पूरी पृथ्वी केवल एक परिवार है। वसुधैव कुटुम्बकम का विचार हितोपदेश से शुरू होता है।

हितोपदेश रचना और छंद में संस्कृत कथाओं का एक वर्गीकरण है। हितोपदेश के निर्माता, नारायण के अनुसार, हितोपदेश बनाने के पीछे प्राथमिक प्रेरणा युवा व्यक्तित्वों को जीवन के बारे में सोचने के तरीके को सरल तरीके से प्रशिक्षित करना है, ताकि वे जागरूक हो सकें। यह व्यावहारिक रूप से पंचतंत्र की तरह है। वसुधैव कुटुम्बकम का संपूर्ण चिंतन हिंदू दर्शन का एक अभिन्न अंश है।

वसुधैव कुटुम्बकम पर निबंध (1100 शब्द)

प्रस्तावना

वसुधैव कुटुम्बकम एक भाव है, जिसमें पूरे समाज को यह बताया गया है कि पूरा विश्व एक परिवार है फिर चाहे हम भौतिक दृष्टि से देखे या आध्यात्मिक दृष्टि से देखे। दोनो में ही यह स्पष्ट है कि दुनियाँ के सभी इंसानो में कोई भेद नही है।जिस तरह से एक परिवार के सभी सदस्य एक दूसरे पर निर्भर रहते हैं, ठीक इसी तरह हम भी एक दूसरे पर निर्भर है।

वर्तमान परिदृश्य और विश्व संकट

वर्तमान में हम आधुनिकीकरण और वैश्वीकरण में जी रहे विभिन्न धर्म, जाति, संस्कृति, जैसे मिश्रित आबादी वाले समाज में रह रहे हैं। अब तक हम अस्पष्टता के युग (कलियुग की आयु) में रह रहे हैं, जहाँ भय और असुरक्षा, अन्याय, चोरी, भुखमरी, गरीबी, अत्याचार, आतंकवाद धमकी जैसे कई बुरी परिस्थितियों का सामना कर रहे हैं।

मानव जाति इस वक़्त विशाल सामाजिक और पारिस्थितिक कठिनाइयों का सामना कर रही है। इस वक़्त हम न सिर्फ अपने अस्तित्व और स्थूल लड़ाई लड़ रहे हैं, बल्कि साथ मे एक ऐसी लड़ाई भी चल रही है जहाँ इंसान की पहचान मानवता भी दांव पर लगी है।

आज इंसान तमाम तरह के परेशानी झेल रहा है। रिश्तों का मूल्य कम हो गया है। पूरे विश्व को अपने परिवार की नजर से देखना तो दूर है लोग अपने लोभ के कारण अपने ही परिवार का अहित करने से नही डरते।

लोगों में नैतिकता खत्म होती जा रही है, दिलों में संवेदना का स्तर अब कम हो गया है। लोग सिर्फ अपने फायदे के बारे में सोचते रहते है भले ही उसके लिए किसी भी हद तक जाना पड़े, लोग जाने के लिए तैयार रहते हैं।

समय की पुकार: वसुधैव कुटुम्बकम

दुनियाँ में शांति की पुनः स्थापना के लिए एक बार फिर वसुधैव कुटुम्बकम की आवश्कयता है ताकि लोग विभिन्न भिन्नताओं को मानते हुए भी एक होने का एहसास कर सकें। सह अस्तित्व के लिए ऐसी भावना होना बहुत आवश्यक है, अन्यथा एक दिन मानव जाति समाप्ति की कगार पर पहुँच जाएगी।

यह सामाजिक प्रमुखों, युवा अग्रदूतों, धार्मिक अग्रदूतों और शिक्षाप्रद अग्रदूतों में से प्रत्येक के लिए वसुधैव कुटुम्बकम – एक परिवार के रूप में दुनिया के एक और दृष्टिकोण के लिए एक साथ सोचने का आदर्श अवसर है और सद्भाव के निर्माण के लिए इस दृष्टि को सही में बदलने के लिए मिलकर काम करना है।

पूर्वी और पश्चिमी दर्शन में अंतर

हमने एक आम जनता को इकट्ठा किया है, जो चालक और अस्थिर है।आज हम बहुत खतरनाक स्थिति में रह रहे हैं जहां मानव अस्तित्व को चुनौती खुद मानव ही दे रहे हैं। परिस्थितियां हर पल बदल रही है। हमारी आम जनता परेशान है। विनाश की लक्षण लगातार जीवन शैली पर नियंत्रण ग्रहण कर रहे है।

जैविक आपातकाल, बढ़ती हुई गरीबी के साथ जनसंख्या वृद्धि, भूखमरी और क्रूरता, आर्थिक रूप से असमान दुनिया, हथियारों की दौड़ और लड़ाकू स्वाभाव मनुष्य को मानव जाति के विनाश के वास्तविक कारक आज मनुष्यों को सोचने पर विवश कर रहे है कि क्या वो खुद अपने विनाश को आमंत्रण दे रहे हैं?

1. वैश्वीकरणविश्व एक बाजार है“:

पश्चिमी दृष्टिकोण के अनुसार वैश्वीकरण का अर्थ है: “विश्व एक बाजार है” – लोगों का मतलब केवल लाभ तक है। यह वैश्वीकरण का वक़्त है जिसका अर्थ है घटते मानवीय मूल्यों के कारण भ्रष्टाचार, संघर्ष और हिंसा, इंसानी मूल्यों से ज्यादा धन को महत्व देना।

2. “वसुधैव कुटुम्बकम उदाहरण के लिएविश्व एक परिवार है

पूर्वी दृष्टिकोण के अनुसार हम यह मानते हैं कि “वसुधैव कुटुम्बकम का अर्थ है विश्व एक परिवार है – इसका अर्थ है कि संपूर्ण विश्व एक एकल परिवार है, जो प्राचीन ज्ञान के माध्यम से विश्वव्यापी नागरिकता और सद्भाव की संस्कृति को आगे बढ़ाता है।

3. वसुधैव कुटुम्बकमदुनिया फिर भी एक परिवार है

भारत अतीत में भी सद्भाव का एक वाहक रहा है क्योंकि वह भारत ही था जिसने “वसुधैव कुटुम्बकम” की सामान्य अवधारणा को बताया था, जिसका अर्थ है, ‘पूरी दुनिया एक परिवार है’।

आम जनता का पूरा धेय वसुधैव कुटुम्बकम की सोच को चरितार्थ करना  है। जब जब आम जनता एकता की भावना से निहित नही होगी तब तब आम जनता में विश्वासघात और सद्भाव की गिरावट देखने को मिलेगी। सद्भाव से रहने के लिए सभी धर्मों का सम्मान करना चाहिए।

वसुधैव कुटुम्बकम के 7 सिद्धांत

एक नई विश्व व्यवस्था का निर्माण

वसुधैव कुटुम्बकम की भावना के साथ विश्व को एक परिवार के रूप में बनाने और एक नई विश्व व्यवस्था बनाने के के लिए हमें इन 7 सिद्धांतों का पालन करना चाहिए। 

एकता का पहला सिद्धांत: सभी व्यक्ति एक विशिष्ट तरह से एक दूसरे पर निर्भर है संपूर्णता में पृथ्वी से जुड़े हुए हैं। सभी का अस्तित्व दूसरे के बिना संभव नही है, इसलिए हमें एक दूसरे का सम्मान करना चाहिए।

स्वीकृति और सहिष्णुता का दूसरा सिद्धांत:

सहिष्णुता व्यक्तियों के बीच और सामाजिक व्यवस्थाओं और देशों के बीच अंतर-धार्मिक सहमति और संबंध पर काम करती है।

सहयोग और सम्मान का तीसरा सिद्धांत

मानवीय एकजुटता एक दूसरे के भागीदारी और सम्मान पर टिकी है। “सभी धर्मों को स्वीकार करें और उनका सम्मान करें जैसा कि हम अपने धर्म को मानते हैं”।

प्रेम का चौथा सिद्धांत

“दूसरों के लिए प्यार और करुणा, व्यक्तियों की एकजुटता और धर्मों की एकजुटता के लिए प्रवेश द्वार खोलते हैं।”

समझ और करुणा का पाँचवाँ सिद्धांत

वसुधैव कुटुम्बकम का तीसरा दिशानिर्देश – दुनिया एक परिवार है जिसका सार यह निकालकर आता है कि – मैं कौन हूँ? इसके अलावा, शांति से जीवन जीने के लिए आवश्यक है कि विभिन्न धर्मों और विभिन्न समाजों को के बारे में हम अपनी समझ विकसित करें। सभी परिस्थितियों में सभी जीवित चीजों के लिए सहानुभूति। सहानुभूति एकजुटता और विश्व सद्भाव की स्थापना है।- बौद्ध धर्म

अहिंसा का छठा सिद्धांत (अहिंसक)

शांतिपूर्ण व्यक्ति के लिए, संपूर्ण विश्व एक परिवार है। वह न किसी से डरेगा, न दूसरे उससे डरेंगे। महात्मा गांधी

विनिमय का सातवां सिद्धांत

चौथा दिशानिर्देश प्रवचन का सिद्धांत है।संवाद के माध्यम से सद्भाव हासिल किया जा सकता है। धर्मों के बीच संवाद, सामान्य संबंध और विश्वासों की अधिक गहन समझ पैदा करता है। आस्थाओं और धर्मों की समझ, सद्भाव और सौहार्द की संस्कृति को आगे बढ़ाती है और ईश्वर के अधीन एक परिवार के रूप में रहने में हमारी सहायता करती है।

निष्कर्ष

हमारे देश के मनीषियों ने अपनी प्रखर मेधा से यह बहुत पहले ही समझ लिया था कि हम सब मे एक ही तत्व बिद्यमान है। हम एक दूसरे से भिन्न नही है इसलिए देश, धर्म, जाति, सम्प्रदाय के आधार पर होने वाला अंतर व्यर्थ है। हम सब अंदर से एक ही है और बात का उद्घोष करता हुआ संस्कृत का श्लोक वसुधैव कुटुम्बकम है।

अंतिम शब्द

मित्रों आज हमने आपको वसुधैव कुटुम्बकम पर निबंध ( Vasudhaiva Kutumbakam Essay In Hindi) के बारे में जानकारी बताई हैं, आपको वसुधैव कुटुम्बकम पर निबंध आपको कैसा लगा हमें कमेंट करके जरूर बताएं।

Read Also:

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here