स्वामी विवेकानन्द का शिकागो में दिया गया भाषण

स्वामी विवेकानंद जी को किसी परिचय की आवश्यकता नहीं है। सभी युवाओं की प्ररेणा स्वामी विवेकानन्द जी की वाणी से निकला हर एक शब्द अमृत के सम्मान हैं, उनका हर एक शब्द एक नई प्रेरणा देता है। स्वामी जी ने विश्व धर्म सम्मेलन में एक बेहद चर्चित भाषण (Swami Vivekananda Chicago Speech in Hindi) दिया था।

हमें बहुत प्रसन्नता हो रही हैं कि हम हमारी आज की पोस्ट में Swami Vivekananda के द्वारा धर्म संसद, शिकागो (Parliament of Religions, Chicago) में 11 सितम्बर, 1883 को दिया गया प्रेरणादायक भाषण (Inspirational Speech) हिंदी में अनुवादित करके शेयर कर रहे हैं।

हमारी इस पोस्ट के अंत में Vivekananda Chicago Speech in Hindi (स्वामी विवेकानंद शिकागो स्पीच) का विडियो भी उपलब्ध है, उसे जरूर देखें।

Swami Vivekanada Chicago Speech in Hindi
स्वामी विवेकानंद शिकागो स्पीच इन हिंदी

इस प्रेरणात्मक भाषण ने स्वामी विवेकानंद जी की ख्याति को पूरे विश्व में फैला दी थी और पूरे विश्व में हिंदुत्व और भारतवर्ष का परचम लहरा दिया था।

हमारे इस ब्लॉग पर और भी बेहतरीन हिंदी भाषण उपलब्ध है, जिसे आपको पढ़ना चाहिए <यहां क्लिक करें>

Read Also:

स्वामी विवेकानन्द का शिकागो में दिया गया भाषण – Swami Vivekananda Chicago Speech in Hindi

विश्व धर्म सम्मेलन, धर्म संसद
शिकागो, 11 सितंबर 1893

अमेरिका के बहनो और भाइयो,

आपके इस स्नेहपूर्ण और जोरदार स्वागत से मेरा हृदय अपार हर्ष से भर गया है। मैं आपको दुनिया की सबसे प्राचीन संत परंपरा की तरफ से धन्यवाद देता हूं। मैं आपको सभी धर्मों की जननी की तरफ से धन्यवाद देता हूं और सभी जाति, संप्रदाय के लाखों, करोड़ों हिन्दुओं की तरफ से आपका आभार व्यक्त करता हूं। मेरा धन्यवाद कुछ उन वक्ताओं को भी जिन्होंने इस मंच से यह कहा कि दुनिया में सहनशीलता का विचार सुदूर पूरब के देशों से फैला है।

मुझे गर्व है कि मैं एक ऐसे धर्म से हूं, जिसने दुनिया को सहनशीलता और सार्वभौमिक स्वीकृति का पाठ पढ़ाया है। हम सिर्फ सार्वभौमिक सहनशीलता में ही विश्वास नहीं रखते, बल्कि हम विश्व के सभी धर्मों को सत्य के रूप में स्वीकार करते हैं।

मुझे गर्व है कि मैं एक ऐसे देश से हूं, जिसने इस धरती के सभी देशों और धर्मों के परेशान और सताए गए लोगों को शरण दी है। मुझे यह बताते हुए गर्व हो रहा है कि हमने अपने हृदय में उन इस्त्राइलियों की पवित्र स्मृतियां संजोकर रखी हैं, जिनके धर्म स्थलों को रोमन हमलावरों ने तोड़-तोड़कर खंडहर बना दिया था। और तब उन्होंने दक्षिण भारत में शरण ली थी।

मुझे इस बात का गर्व है कि मैं एक ऐसे धर्म से हूं, जिसने महान पारसी धर्म के लोगों को शरण दी और अभी भी उन्हें पाल-पोस रहा है। भाइयो, मैं आपको एक श्लोक की कुछ पंक्तियां सुनाना चाहूंगा जिसे मैंने बचपन से स्मरण किया और दोहराया है और जो रोज करोड़ों लोगों द्वारा हर दिन दोहराया जाता है:

“जिस तरह अलग-अलग स्त्रोतों से निकली विभिन्न नदियां अंत में समुद में जाकर मिलती हैं, उसी तरह मनुष्य अपनी इच्छा के अनुरूप अलग-अलग मार्ग चुनता है। वे देखने में भले ही सीधे या टेढ़े-मेढ़े लगें, पर सभी भगवान तक ही जाते हैं।”

वर्तमान सम्मेलन जोकि आज तक की सबसे पवित्र सभाओं में से है, गीता में बताए गए इस सिद्धांत का प्रमाण है:

“जो भी मुझ तक आता है, चाहे वह कैसा भी हो, मैं उस तक पहुंचता हूं। लोग चाहे कोई भी रास्ता चुनें, आखिर में मुझ तक ही पहुंचते हैं।”

सांप्रदायिकताएं, कट्टरताएं और इसके भयानक वंशज हठधमिर्ता लंबे समय से पृथ्वी को अपने शिकंजों में जकड़े हुए हैं। इन्होंने पृथ्वी को हिंसा से भर दिया है। कितनी बार ही यह धरती खून से लाल हुई है। कितनी ही सभ्यताओं का विनाश हुआ है और न जाने कितने देश नष्ट हुए हैं।

अगर ये भयानक राक्षस नहीं होते तो आज मानव समाज कहीं ज्यादा उन्नत होता, लेकिन अब उनका समय पूरा हो चुका है। मुझे पूरी उम्मीद है कि आज इस सम्मेलन का शंखनाद सभी हठधर्मिताओं, हर तरह के क्लेश, चाहे वे तलवार से हों या कलम से और सभी मनुष्यों के बीच की दुर्भावनाओं का विनाश करेगा।

*********

स्वामी विवेकानंद शिकागो में दिया गया ऐतिहासिक भाषण – Swami Vivekananda Chicago Speech in Hindi

हम उम्मीद करते हैं कि हमारे द्वारा शेयर किया गया यह स्वामी विवेकानंद शिकागो भाषण हिंदी (Swami Vivekananda Chicago Speech in Hindi) आपको पसंद आया होगा। इस हिंदी भाषण को आगे शेयर जरूर करें। आपको यह स्वामी विवेकानंद शिकागो स्पीच कैसा लगा, हमें कमेंट में जरूर बताएं। हमारे से फेसबुक पर जरूर जुड़े।

Read Also

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here