सिद्धू मूसेवाला का जीवन परिचय

Sidhu Moose Wala Biography in Hindi: सिद्धू मूसेवाला पंजाबी म्यूजिक इंडस्ट्री में एक बड़ा नाम है। सिद्धू मूसेवाला ने कई गाने गाए हैं और पंजाब की म्यूजिक इंडस्ट्री में उनके गाने बड़े ही लोकप्रिय हुए है। आज भी सिद्धू मूसेवाला के गानों का हर कोई फैन है। सिद्धू मूसेवाला ने 6 साल के करियर में पंजाब के लोकप्रिय सिंगर और रैपर बनने का मुकाम हासिल किया।

Sidhu Moose Wala Biography in Hindi
Image: सिद्धू मूसे वाला की बायोग्राफी (Sidhu Moose Wala Biography in Hindi)

सिद्धू मूसेवाला का जीवन परिचय | Sidhu Moose Wala Biography in Hindi

सिद्धू मूसेवाला का जन्म

पंजाब के लोकप्रिय स्टार के रूप में पहचाने जाने वाले सिद्धू मूसेवाला का जन्म 11 जून 1993 को पंजाब के मानसा जिले के मूसा गांव में हुआ था। सिद्धू मूसेवाला का असली नाम शुभदीप सिंह सिद्धू है। इनकी माता का नाम चरण कौर सिद्धू है और इसके पिता का नाम सरदार भोला सिंह है।

इनको अपने जीवन में शुरुआत से ही अभिनय और संगीत से काफी प्रेम था। स्कूल की पढ़ाई के दौरान भी सिद्धू मूसेवाला अपनी पढ़ाई के साथ-साथ अभिनय और संगीत को अक्सर समय देना पसंद करते थे और इन्होंने इसी छोटे-छोटे स्ट्रगल से अपने करियर की शुरुआत की।

प्रारंभिक शिक्षा

इनकी प्रारंभिक शिक्षा SVM स्कूल मनसा से हुई। इस दौरान इन्होंने एक संगीत कंपटीशन में भी भाग लिया था। सिद्दू मूसेवाला को संगीत से प्यार था और पढ़ाई से ज्यादा सिद्धू का ध्यान संगीत में जाने लगा। लेकिन उनके परिवार वाले इस बात से राजी नहीं थे। उनको सिद्धू को पढ़ा लिखा कर बड़ा बनाने का सपना था।

परिवार वालों के कहने पर सिद्धू ने अपनी पढ़ाई को जारी रखा और गुरु नानक देव इंजीनियरिंग कॉलेज से बीटेक की डिग्री लेने के लिए दाखिला लिया। उस समय कॉलेज की पार्टियों में सिद्दू अपना गाना गाया करते थे और वहां से इनकी लोकप्रियता विद्यार्थियों और कॉलेज के अध्यापकों के बीच फैली। विद्यार्थियों को भी इन का गाना और इनकी आवाज काफी पसंद आई थी। ऐसे ही इनकी बीटेक की डिग्री पूरी हो गई।

सिद्दू मूसेवाला के करियर की शुरुआत

कॉलेज की डिग्री पूरी होने के पश्चात सिद्धू ने संगीत में अपने कैरियर को आगे बढ़ाना चाहा। कोई भी स्टूडियो वाला उन्हें काम नहीं दे रहा था। सिद्धू ने बहुत सारे स्टूडियो में जाकर संगीत के बारे में बताया तो ऐसे में जानबूझकर स्टूडियो वाले उन से पैसा मांगा करते थे और पैसा नहीं देने के कारण उन्हें गाने का मौका भी नहीं दिया जाता था।

साल 2015 में सिद्धू मूसेवाला का कैरियर पूरी तरह से सपोर्ट होता नजर आ रहा था। लेकिन तब एक पंजाब के लोकप्रिय गीतकार का उन्हें कॉल आता है और उनको बोला जाता है कि मैं आपको गाने के लिए अपना लिरिक्स देने को तैयार हूं। आप सुबह मेरे गांव आकर लिरिक्स लेकर जा सकते हैं।

यह बात सुनकर सिद्धू मूसेवाला के चेहरे पर खुशी की लहर दौड़ आती है। यह गाना गाने के पश्चात सिद्धू के मन में खुद गाना लिखने की एक उमंग दौड़ाई और सिद्धू का स्टार बनने का सपना भी पुनः एक बार जाग गया।

सिद्धू मूसेवाला के जीवन का नया मोड़

सिद्धू मूसेवाला ने अपने जीवन को बदलने के लिए खुद गाना लिखने का फैसला कर लिया। सबसे पहला गाना सिद्धू मूसेवाला ने लाइसेंस लिखा था और इस गाने की लिरिक्स को निंजा ने एक्सेप्ट कर लिया। जब सिद्धू मूसेवाला का पहला गाना लांच हुआ तो वह सुपरहिट गया और सिद्धू मूसेवाला के जीवन का यह मोड उनको सुपर स्टार बनाने वाला था।

उसके पश्चात सिद्धू ने अपने एक के बाद एक गाने लॉन्च किए और उनका हर गाना बहुत ही ज्यादा लोकप्रिय रहा। इसी के साथ सिद्धू मूसेवाला की लोकप्रियता बढ़ती गई और सिद्धू मूसे वाला स्टार बन गये।

सिद्धू मूसेवाला की मृत्यु

सिद्धू मूसेवाला की मृत्यु 29 मई 2022 को गोली लगने की वजह से हुई। मनसा जिले के जवाहरके गांव में उन पर फायरिंग हुई फायरिंग के दौरान सिद्धू मूसेवाला को 3 गोलियां लगी। गोलियां लगने के पश्चात सिद्धू मूसे वाला को नजदीकी अस्पताल ले जाया गया। लेकिन तब तक सिद्धू मूसेवाला ने सबको अलविदा कह दिया।

यह भी पढ़े

अक्षय कुमार का जीवन परिचय

मानुषी छिल्लर का जीवन परिचय

निखत ज़रीन का जीवन परिचय

पृथ्वीराज चौहान का जीवन परिचय और इतिहास

इनका नाम राहुल सिंह तंवर है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 4 वर्ष से अधिक SEO का अनुभव है और 6 वर्ष से भी अधिक समय से कंटेंट राइटिंग कर रहे है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जरूर जुड़े।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here