बैडमिंटन खिलाड़ी साइना नेहवाल का जीवन परिचय

Saina Nehwal Biography in Hindi: अपने देश के लिए कई खिलाड़ियों को हमने खेलते हुए देखा है। बहुत से खिलाड़ियों को तो लगभग सभी लोग जानते है पर उनमें से कुछ लोग ऐसे हैं, जिनको काफी कम लोग ही जानते हैं। भारत में खेल को काफी महत्व दिया जाता है और भारत के कई खिलाड़ी अंतरराष्ट्रीय स्तर पर हिस्सा लेते है और देश के लिए खेलते हैं।

Saina Nehwal Biography in Hindi
Saina Nehwal Biography in Hindi

इस लेख में आपको ऐसी की एक बैडमिंटन खिलाड़ी साइना नेहवाल के बारे में बताने जा रहे हैं। अतः आप इस लेख को अंत तक पढ़े ताकि आपको संदर्भ में पूरी जानकारी मिल सके। 

साइना नेहवाल का जीवन परिचय – Saina Nehwal Biography in Hindi

साइना नेहवाल की जीवनी एक नज़र में

नामसाइना नेहवाल
जन्म और स्थान17 मार्च 1990, हिसार (हरियाणा)
पिता का नामहरवीर सिंह
माता का नामउषा रानी
पति का नामपरूपल्ली कश्यप (2018 में शादी)
रहवासहैदराबाद
पेशाअंतर्राष्ट्रीय महिला बैडमिंटन खिलाड़ी
कोच का नामविमल कुमार
वजन60 kg
हाईट1.65 मीटर
हाथ का इस्तेमालदांया हाथ
सर्वोत्तम स्थान1 (2 अप्रैल, 2015)
वर्तमान स्थान19 (2021)
biography of saina nehwal in hindi

बैडमिंटन खेल में देश का नाम रोशन करने वाली साइना का जन्म हरियाणा राज्य के हिसार में एक जाट परिवार में हुआ था। साइना के पिता हरियाणा के एक कृषि विश्वविद्यालय में काम किया करते थे। उनकी माता उषा रानी भी एक राज्य स्तर की बैडमिंटन खिलाड़ी रह चुकी है।

साइना ने पढ़ाई की शुरुआत हरियाणा से ही की थी, उनके पिता की नौकरी ट्रांसफरेबल होने के कारण साइना की पढ़ाई की एक जगह पर पूरी नहीं हो पाई। साइना नेहवाल अपने स्कूल, कॉलेज के समय से ही काफी शर्मीली और अध्ययनशील छात्रा रही है। साइना नेहवाल ने अपनी पढ़ाई के साथ-साथ कुछ और भी कार्य, चीजें सीखने में दिलचस्पी लेती थी, साइना ने कराटे भी सीखे है। कराटे में साइना को ब्राउन बेल्ट भी मिल चुका है।

साइना नेहवाल के करियर की शुरुआत 

साइना के खेल जीवन का परिचय के बारे में बताएं तो साइना नेहवाल आज किसी पहचान की मोहताज नहीं है। साइना नेहवाल ने अपने करियर को कुछ इस तरह से किया शुरू, उनके करियर की टाईमलाईन की सूची कुछ इस प्रकार है:

2003 में जीता पहला खिताब 

कहते है अगर कोई भी खिलाड़ी अपने खेल की शुरुआत धमाकेदार करता है तो उसका अंत भी धमाकेदार ही होता है। ऐसे ही साइना नेहवाल ने अपने करियर की शुरुआत के बाद ही 2003 में अपना पहला खिताब जीता था। साइना नेहवाल ने 2003 में ‘‘जूनियर सीजेक ओपन’’ में अपना पहला खिताब जीता था। उसके बाद से साइना ने आज तक कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा।

साइना ने 2004 में कॉमनवेल्थ गेम्स में दूसरा स्थान प्राप्त किया और 2005 में ‘‘एशियन सेटेलाईट बैडमिंटन टूर्नामेंट’’ में भी अपनी जीत दर्ज की और इस जीत को साइना ने आगे भी जारी रखा। इस जीत के बाद ही साइना वह पहली बैडमिंटन खिलाड़ी बन गई, जिसने 19 साल से भी कम उम्र में ही 2 खिताब हासिल जीत लिये थे।

16 साल की उम्र में जीता खिताब 

2006 में साइना नेहवाल ने यह खिताब भी अपने नाम करने का रिकॉर्ड बनाया है। साइना ने यह खिताब फिलीपींस ओपन में हिस्सा लेकर जीता था। इस खिताब साइना ने केवल 16 साल की उम्र में ही जीत लिया था, जिसके बाद साइना नेहवाल यह खिताब जीतने वाली पहली महिला बन गई। इस खिताब के जीतने के बाद इसी साल फिर साइना नेहवाल ने एक बार और सेटेलाईट टूर्नामेंट का खिताब अपने नाम किया था।

2008 में वर्ल्ड जूनियर बैडमिंटन चैंपियनशिप में की जीत दर्ज

2008 का यह वह साल था जब साइना नेहवाल ने एक बार फिर अपने करियर पर चार चाँद लगा दिये। इस साल साइना नेहवाल ने ‘‘वर्ल्ड जूनियर बैडमिंटन चैम्पियनशिप’’ का खिताब एक बार फिर अपने नाम किया था। 2008 में साइना नेहवाल को एक होनहार खिलाडी के शाब्दिक खिताब से भी नवाजा गया।

2009 में जीती इंडोनेशिया ओपन श्रृंखला

2009 में साइना नेहवाल ने एक बार फिर कमाल कर दिया और इस साल साइना ने ‘‘इंडोनेशिया ओपन’’ की श्रृंखला में अपनी जीत हासिल की और ऐसा करने वाली वे पहली भारतीय महिला बन गई। इस जीत के बाद साइना को ‘‘अर्जुन अवार्ड’’ से भी नवाजा गया था और साथ ही उनके कोच को ‘‘गोपीचंद’’ के अवार्ड से नवाजा गया था।

2010, 2011 और 2012 में भी किया कारनामा

2010 में भी साइना नेहवाल ने कई खिताब जीतें, जिसमें ‘इंडिया ओपन ग्रांड प्रिक्स गोल्ड’, ‘सिंगापुर ओपन सुपर सीरीज’,  ‘इंडोनेशिया ओपन सुपर सीरीज’ एवं ‘हांगकांग सुपर सीरीज’ इत्यादि कई शामिल है। इन्ही खिताबों के साथ देश का नाम साइना ने कई बार रोशन किया है। इसके अलावा साइना ने 2011 में ‘मलेशिया ओपन ग्रांड प्रिक्स गोल्ड’, ‘इंडोनेशिया ओपन सुपर सीरीज प्रीमियर’ एवं ‘बी.डब्ल्यू.एफ सुपर सीरीज मास्टर फाइनल्स’ में भी कई कारनामे किए थे।

2012 में ओलंपिक में किया कारनामा 

2012 में लंदन में ओलंपिक का आयोजन किया गया था, जिसमें साइना नेहवाल ने भी भारत के लिए Bronze मेडल जीता था। इस मेडल के जीतने के बाद तो मानो साइना पर इनाम की बारिश हो गई है।

  • हरियाणा सरकार द्वारा Bronze जीतने के बाद 1 करोड़ की नगद राशी।
  • राजस्थान सरकार द्वारा Bronze जीतने के बाद 50 लाख की नगद राशी।
  • आंध्र प्रदेश सरकार द्वारा Bronze जीतने के बाद 50 लाख की नगद राशी।
  • बैडमिंटन एसोसिएशन ऑफ इंडिया द्वारा Bronze जीतने के बाद 10 लाख की नगद राशी।
  • मंगलायतन यूनिवर्सिटी द्वारा Bronze जीतने के बाद डॉक्टरेट की उपाधि से सम्मानित किया गया।

इन सब के अलावा भी साइना ने अपने जीवन में और भी कई अवार्ड/खिताब जीते है। साइना ने भारत के लिए कई मेडल भी जीते है और उम्मीद करते है आगे भी जीतती रहेंगी।

2014 में भारत की ही खिलाड़ी को हराया 

2014 में गणतंत्रता दिवस के दिन भारत की इस खिलाड़ी ने वर्ल्ड चैम्पियनशिप में भारत देश की ही पीवी सिंधु को हराकर ब्रॉन्ज मेडल अपने नाम किया था। इसके साथ ही ‘‘इंडिया ओपन ग्रांड प्रिक्स गोल्ड टूर्नामेंट’’ में भी भारत को जीत दिलाई। जब साइना ने यह मैच जीता तब उनकी रैंकिंग 7 नम्बर थी। इसी साल में साइना ने ‘‘चाइना ओपन सुपर सीरीज प्रीमियर’’ में भी जीत दर्ज कर भारत का नाम रोशन किया।

2015 में एक बार फिर दोहराया 2014 का इतिहास 

2015 में एक बार फिर साइना ने वही किया जिसकी तलाश थी। 2015 में भी साइना ने एक बार और ‘‘इंडिया ओपन गांड प्रिक्स गोल्ड’’ में अपनी जीत दर्ज की और इसी साल साइना ने ‘‘इंग्लैंड ओपन बैडमिंटन चैम्पियनशिप‘‘ के फाइनल के लिए क्वालीफाई किया, यह हमारे लिए पहला मौका था जब किसी भारतीय खिलाड़ी यहां तक पहुंची था। इसी साल 2015 में साइना को ‘‘इंडिया ओपन बी.डब्ल्यू.एफ सुपर सीरीज के द्वारा एक और खिताब ‘‘Women Singles’’ से नवाजा गया।

2016 का साल रहा फिका

2016 के साल में साइना कुछ खास नहीं कर पाई। इस साल साइना को अपनी सेहत से संबंधित कई तरह की समस्याओं का सामना करना पडा और साइना इस साल कई तरह की चोट से भी परेशान रही। इस बार साइना के पास 2010 के बाद एक बार फिर मौका था जब साइना के बार और ‘‘इंडोनेशिया ओपन सुपर सीरीज प्रीमियर’’ में क्वार्टर फाइनल तक पहुंची थी, पर इस बार साइना को हार का सामना करना पड़ा था। 2016 में साइना ने ओलिंपिक गेम्स में हिस्सा लिया, जहां साइना पहला मैच जीत गई पर दूसरा मैच हार गई थी।

2017 का सफर

इस साल भी साइना कुछ खास नहीं कर पाई क्योंकि वह इस साल भी चोट के कारण परेशान थी। कुछ समय बाद इसी साल साइना ने गेम मे कमबैक किया और इस साल प्रथम मलेशिया ओपन ग्रांड प्रिक्स में हिस्सा लिया और इस में अपनी जीत दर्ज की। इसी साल में साइना ने ग्लास्गो में विश्व बैडमिंटन में भी हिस्सा लिया था, जहां पर सेमीफाइनल का सफर तय करने मे सफल रही थी। इस लीग में उन्होंने कांस्य पदक जीता था। इसी साल साइना का एक बार फिर भारत की पी.वी सिन्धु से सामना हुआ, जहां उन्होंने पी.वी सिंधु को हराकर अपनी जीत दर्ज की थी।

2018 में एक बार फिर दिखाया लोहा

2018 में साइना ने अच्छी शुरुआत के साथ खेल में वापसी की। इस साल साइना इंडोनेशिया के मास्टर तक पहुंचने में कामयाब रही थी। 2018 में साइना का ओलम्पिक में एक बार फिर पीवी सिन्धु से सामना हुआ जहां भी उन्होंने जीत को अपने नाम किया और दूसरा स्वर्ण पदक जीता। उसी साल उन्होंने एशियाई बैडमिंटन में कांस्य पदक अपने नाम किया था। 2018 में ही साइना फ्रेंच ओपन में हिस्सा लिया जहां उन्होंने अच्छी शुरुआत की थी। इसी तरह बीता था उनका 2018 का यह साल जहां खेल में काफी उतार चढाव उनका देखने को मिले।

2019 में खेल का दौर

इसी साल साइना ने 2019 में मलेशिया मास्टर्स में हिस्सा लिया जहां उन्होंने जापान राष्ट्र की नोमोजी ओकुहारा को हराकर क्वार्टर फाइनल तक का सफर तय किया था पर वे इस साल सेमीफाइनल में हार गई थी।

2020 में भी फीका रहा साइना का करियर

2020 में साइना नेहवाल ने मलेशिया मास्टर्स में राउण्ड अप तक की पहुंच पाई थी। 2020 में साइना इंडोनेशिया मास्टर्स के फाइनल तक पहुंचने में कामयाब हो पाई थी, जहां वे फाइनल में हार गई थी। इसके साथ ही साइना ने थाईलैंड ओपन में भी हिस्सा लिया था जहां भी वे राउण्ड अप तक पहुँचने में सफल रही थी। साइना इस के बाद खुद को संभाल पाती तब विश्व को महामारी ने घेर लिया था।

2021 में रही मध्यम शुरुआत

इस साल साइना ने केवल एक की मैच खेला और उसके बाद वे चोट के कारण रिटायर्ड हो गई। उम्मीद करते है की वे जल्दी रिकवर हो जाये।

साइना नेहवाल को इन खिताबों से भी नवाजा गया

साइना नेहवाल ने अपने खेल के दम पर काफी कुछ हासिल किया है। उन सब में साइना के यह कुछ खिताब भी शामिल है, जो साइना के करियर की शोभा बढाते है:

  • अपने करियर की शुरुआत के कुछ साल के बाद ही साइना को 2008 में बैडमिंटन वर्ल्ड फेडरेशन द्वारा इस साल विश्व की सबसे होनहार खिलाड़ी के खिताब से भी नवाजा गया था।
  • 2009 में साइना को अर्जुन अवार्ड से सम्मानित किया गया था।
  • 2010 में साइना को पद्म श्री अवार्ड से नवाजा गया था।
  • साइना को राजीव गांधी खेल रत्न से भी नवाजा गया है और इसके अलावा 2016 में साइना को पद्म भूषण के खिताब से नवाजा गया।

साइना नेहवाल का वैवाहिक जीवन 

बात करें साइना नेहवाल के वैवाहिक जीवन की तो साइना ने 2018 में परूपल्ली कश्यप से शादी कर ली थी। परूपल्ली कश्यप स्वयं एक बैडमिंटन खिलाड़ी है और काफी पहचान के भी है। वे दोनों एक दूसरे को काफी समय से जानते थे और एक दूसरे को पसंद भी करते थे। यही वजह है कि दोनो ने शादी के बंधन में बंधने का फैसला लिया।

साइना नेहवाल के बारे में कुछ तथ्य

  • साइना नेहवाल के जन्म से उनकी दादी काफी नाखुश थी, क्योंकि वो एक लड़का चाहती थी ना कि लड़की। 
  • 2003 में साइना ने अपने करियर की शुरुआत की और अब तक वो उनकी सफलता के साथ सातवें आसमान पर पहुँच चुके है।
  • साइना को हम एक बैडमिंटन के खिलाड़ी के तौर पर जानते है पर साइना मिर्जा की कराटे में काफी अच्छी कमांड है।
  • साइना नेहवाल ने अपने साथी से शादी की है और दोनों ही बैडमिंटन खिलाड़ी है।
  • बैडमिंटन खेल में देश का नाम रोशन करने वाली साइना का जन्म हरियाणा राज्य के हिसार में एक जाट प्रदेश में हुआ था।
  • साइना नेहवाल ने अपने करियर की शुरुआत के बाद ही 2003 में अपना पहला खिताब जीता था।

साइना के जीवन पर आधारित बनी फिल्म 

साइना के जीवन पर आधारित हाल की में एक मूवी रिलीज की गई है। इस मूवी को मार्च माह में रिलीज किया गया था। इस मूवी में प्रनीती चोपड़ा साइना का मुख्य किरदार निभाते हुए दिखाई दे रही है। इस मूवी को अमूले गुप्ता द्वारा प्रोड्यूस किया गया है। इस मूवी में साइना के जीवन की उन सभी घटनाओं को बताया गया है कि कैसे उन्होंने अपने जीवन का सफर तय किया?, कैसे उन्होंने यह मुकाम हासिल किया, जहां पर वे आज है।

इस मूवी का डिजिटल प्रीमियर भी लांच करने की तैयारी में है, टीम मैनेजमेंट। इस मूवी को जल्द ही ओटीटी प्लेटफॉर्म पर लांच किया जा सकता है। इस मूवी को डिजिटल प्लेटफॉर्म पर लांच करने की दिनांक 23 अप्रैल घोषित की गई है। साइना पर बनी इस मूवी को नाम भी ‘‘साइना’’ ही दिया गया है।

Saina Nehwal Biography in Hindi

साइना नेहवाल कौन है?

साइना नेहवाल भारत की ओर से खेलने वाली अंतरराष्ट्रीय बैडमिंटन खिलाड़ी है।

साइना नेहवाल का जन्म कहाँ पर हुआ है?

साइना नेहवाल का जन्म हिंसार में हुआ है जो हरियाणा राज्य में है।

साइना नेहवाल की नेटवर्थ कितनी मानी जाती है?

साइना नेहवाल की सालाना नेटवर्थ करीब 5 मिलियन डॉलर तक के आस पास है।

साइना नेहवाल के पति का नाम क्या है?

साइना नेहवाल के पति का नाम पारुपल्ली कश्यप है, जिनसे साइना ने 2018 में शादी की थी।

साइना नेहवाल को किन-किन अवाॅर्ड से नवाजा कहा गया है?

साइना नेहवाल को अर्जुन अवार्ड, पद्मश्री इत्यादी से नवाजा गया है।

निष्कर्ष

आपको इस लेख “साइना नेहवाल का जीवन परिचय (Saina Nehwal Biography in Hindi)” में आपको साइना नेहवाल के बारे में बताया गया है। उम्मीद करते है आपको यह लेख पसंद आया होगा, इसे आगे शेयर जरूर करें आपको यह लेख कैसा लगा हमें कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं।

Read Also

इनका नाम राहुल सिंह तंवर है, इन्होंने स्नातक (रसायन, भौतिक, गणित) की पढ़ाई की है और आगे की भी जारी है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 3 वर्ष से भी अधिक SEO का अनुभव होने के साथ ही 3.5 वर्ष का कंटेंट राइटिंग का अनुभव है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जुड़ सकते हैं।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here