टीवी एंकर रोहित सरदाना का जीवन परिचय

Rohit Sardana Biography in Hindi: रोहित सरदाना एक प्रसिद्ध भारतीय एंकर और मीडियाकर्मी थे। उन्होंने मशहूर कार्यक्रम ताल ठोक के की मेजबानी की थी। रोहित सरदाना की कोविड की पॉजिटिव रिपोर्ट आने के बाद उन्हें मेट्रो अस्पताल में भर्ती किया गया था, जहां 30 अप्रैल, 2021 को दिल का दौरा पड़ने से उनकी मृत्यु हो गई।

Rohit Sardana Biography in Hindi

उनका व्यक्तित्व बहुत ही बेहतर था और उन्होंने ज़ी न्यूज़ पर भारत में समकालीन मुद्दों पर चर्चा की है। उन्होंने काफी समय तक Zee News के साथ कार्य किया और 2017 में आजतक से जुड़ने के लिए उन्होंने ज़ी न्यूज़ को छोड़ दिया और आज तक के रिपोर्टर के रूप मे अपने कार्य को जारी रखा।

रोहित सरदाना का जीवन परिचय – Rohit Sardana Biography in Hindi

रोहित सरदाना की जीवनी एक नज़र में

नामरोहित सरदाना
जन्म और स्थान22 सितंबर 1981, कुरुक्षेत्र (हरियाणा)
माता-पिता का नाम
भाई-बहन का नाम
पत्नी का नामप्रमिला दीक्षित
बच्चों का नामदो बेटियां (काशी और मिट्ठू)
उम्र39 वर्ष
पेशाटीवी एंकर
शिक्षाGita Niketan Awasiya Vidyalaya, गुरु जंभेश्वर विज्ञान और प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय
धर्महिन्दू
निधन का कारणकोविड
निधन30 अप्रैल, 2021, नोएड़ा (निजी अस्पताल)
Biography of Rohit Sardana in Hindi

रोहित सरदाना का प्रारंभिक जीवन और शिक्षा

रोहित सरदाना का जन्म कुरुक्षेत्र (हरियाणा) में हुआ था, उन्होंने अपने जीवन में उच्च शिक्षा प्राप्त की, उनके पास मनोविज्ञान में कला स्नातक की डिग्री है। उन्होंने 2000 से 2002 तक गुरु जंभेश्वर विज्ञान और प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय से स्नातकोत्तर डिग्री प्राप्त की। उनकी प्रारम्भिक शिक्षा Gita Niketan Awasiya Vidyalaya में हुई जो Kurukshetra में स्थित है। कॉलेज खत्म होने के बाद पत्रकार के रूप में कार्य शुरू किया था।

रोहित सरदाना व्यवसाय

रोहित सरदाना ने मार्च 2002 से जुलाई 2003 तक अपने कॅरियर की शुरुआत करने के लिए कॉपी-एडिटर के रूप में काम किया। इस दौरान उन्होंने अपने कार्य में महरथ हासिल करने के लिए एंकरिंग, कॉपी राइटिंग, एडिटिंग, न्यूज़ writing प्रोडक्शन और पोस्ट-प्रोडक्शन जैसे कई कार्य को उन्होंने अपने जीवन में किया। इन सभी कौशल को सीखने के साथ साथ सरदाना ने 24 घंटे के समाचार चैनल का अध्ययन किया। उन्होंने 2003 में सहारा समय में सहायक निर्माता के रूप में कार्य किया यहां उन्होंने 2 साल तक कार्य किया।

उसके बाद 2004 से ज़ी न्यूज़ के साथ हिंदी भाषा कार्यक्रमों के लिए उन्होंने कार्यकारी संपादक, एंकर, समाचार प्रस्तुतकर्ता के रूप में कार्य की शुरुआत की और होस्ट की क्षमता में ज़ी न्यूज़ के साथ था। उन्होंने 2017 में ज़ी न्यूज़ को छोड़कर आजतक में शामिल हुए झा वह एक वरिष्ठ एंकर के रूप में कार्य रत हैं। इसके पहले उन्होंने अपने जीवन में ईटीवी नेटवर्क और आकाशवाणी के साथ भी काम किया था।

आजतक चैनल पर दंगल नामक एक शो की मेजबानी करते है, इस शो को काफी लोकप्रियता मिली और इसकी तुलना रेडियो रवांडा से की गई है। इनके ऊपर कई तरह के आरोप भी लगे है, जिसमें शो के माध्यम से लिंगायतवाद को बढ़ावा देना भी शामिल रहा है।

सरदाना ने सबसे पहले हिंदी-भाषा के उन सभी समाचार कार्यक्रमों में कामक्षेत्र का निर्माण किया है। इस तरह के कार्यक्रमों को करना सरदाना जी का प्राथमिक उद्देश्य भारतीय दर्शकों के लिए, राजनीतिक जवाबदेही की स्थिति को सही तरह से अवगत करवाना रहा है। यह कार्यक्रम प्रश्न-उत्तर के रूप में होते थे, जो संसद सदस्यों (एमपी) पर केंद्रित रहते है और इनके माध्यम से जनता द्वारा पूछे जाने वाले सवालो को किया जाता है। इस तरह से रोहित सरदाना ने आपने जीवन में कई कार्यो को सफलतापूर्वक अंजाम दिया और अपने जीवन में पत्रकारिता के रूप में एक अलग नाम कमाया है।

रोहित सरदाना को मिलने वाले पुरस्कार

रोहित सरदाना को अपने पत्रकारिता जीवन में कई पुरुस्कार मिले है, जिनमें से कुछ खास है, जो हम आपको बताने जा रहे है।

  • सन्सुई बेस्ट न्यूज़ प्रोग्राम अवार्ड (2018)
  • माधव ज्योति सम्मान
  • सर्वश्रेष्ठ समाचार एंकर अवार्ड और कई और
  • गणेश शंकर विध्यपीठ पुरुस्कार (भारत सरकार द्वारा दिया गया) 

व्यक्तिगत जीवन

रोहित बचपन से एक फिल्म अभिनेता बनना चाहते थे। लेकिन वह पत्रकारिता में आ गए उन्होंने अपने एक इंटरव्यू में TEDX को बताया था कि उनका बचपन का सपना अभिनेता बनने का था। अभिनय में अपना करियर बनाने के लिए नेशनल स्कूल ऑफ़ ड्रामा में प्रवेश लिया था, लेकिन बीच में ही किसी कारणवश अभिनय पाठ्यक्रम छोड़ दिया और अपने गृहनगर आ गए।

रोहित सरदाना एक हरियाणवी परिवार से है, और उसका एक बही है जो कंप्यूटर साइंस इंजीनियर है। रोहित सरदाना अपने परिवार के साथ दिल्ली में रहते है। उनके साथ उनकी दो बेटियां भी हैं। रोहित सरदाना का जीवन काफी संघर्ष भरा रहा है, उन्होंने इस मुकाम को प्राप्त करने के लिए अपने जीवन में काफी मेहनत की है।

रोहित सरदाना की आदतें 

रोहित सरदाना को अपने जीवन में पढ़ना, विदेश यात्रा करना, फिल्में देखना, खाना बनाना आदि का बहुत शोक है।

रोहित सरदाना की मृत्यु

रोहित सरदाना की कोविड की पॉजिटिव रिपोर्ट आने के बाद उन्हें मेट्रो अस्पताल में भर्ती किया गया था, जहां 30 अप्रैल, 2021 को दिल का दौरा पड़ने से उनकी मृत्यु हो गई।

Read Also

इनका नाम राहुल सिंह तंवर है, इन्होंने स्नातक (रसायन, भौतिक, गणित) की पढ़ाई की है और आगे की भी जारी है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 3 वर्ष से भी अधिक SEO का अनुभव होने के साथ ही 3.5 वर्ष का कंटेंट राइटिंग का अनुभव है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जुड़ सकते हैं।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here