Realme किस देश की कंपनी है?

“भाई साहब, सुना है आज नई फोन की कंपनी आ रही है?”

“हाँ, सुना तो मैंने भी है। लेकिन, फोन वाले अपने को वो ही घिसा पिटा सामान पकड़ा देते है।”

“अरे भाई जी, ये जो अभी नई कंपनी आ रही है ना। उसके फोन बहुत ही मस्त लग रहे है और ये दूसरी कंपनी वाले जैसा काम नहीं करती है।”

“अच्छा, ये बात है। देखते है फिर कल, कंपनी के सारे रंग-रूप।”

“हाँ भाई जी, देखते है।”

चाय की थड़ी पर बैठकर राम और श्याम 3 मई 2018 की शाम को बतिया रहे थे। तो आप लोगों ने देखा की भारत में स्मार्टफोंस का क्रेज कितना है और हर वर्ग से कितना प्यार मिलता है। राम और श्याम किस कंपनी के बारे में बात कर रहे है उसका हम पूरा कच्चा-चिट्ठा खोल कर रख देंगे। बनिए रहे लेख के अंत तक।

realme kis desh ki company hai
realme kis desh ki company hai

रियलमी का इतिहास

रियलमी कंपनी का इतिहास बहुत पुराना नहीं है, क्योंकि इस कंपनी की शुरुआत 4 मई 2018 को हुई थी। लेकिन इसका भविष्य बहुत ही उज्ज्वल रहा है। अपनी शुरुआत के दिनों से ही एशिया और यूरोप में धमाका कर रखा है।

एशिया महाद्वीप में भारत देश में ऐसी धाक जमा रखी है कि भारत देश में चौथे नंबर की स्मार्टफोन कंपनी बन गई है। जनता का बढ़ता हुआ विश्वास देख कर रियलमी की ज़िम्मेदारी बढ़ गयी और अपनी लोकप्रियता को ऐसी ही बनाने के लिए फोन के किसी भी कम्पोनेंट के प्रति लापरवाही नहीं बरती है।

वैसे तो रियलमी की शुरुआत 2010 में ओप्पो रियल नाम से चीन में हो गयी थी, लेकिन 4 मई 2018 को एक स्वतंत्र रूप से अपना ब्रांड बन कर पूरे विश्वभर में शुरुआत की। रियलमी 1 नामक अपना पहला स्मार्टफोन मई 2018 में लांच किया था। इसके बाद 30 जुलाई 2018 को स्काई ली ने ओप्पो कंपनी से अपने पद उपाध्यक्ष से इस्तीफा दे दिया, क्योंकि वो रियलमी कंपनी को सोशल प्लैटफ़ार्म विबो पर स्वतंत्र रूप से लाना चाहता था।

कंपनी अपने स्लोगन ‘dare to leap’ को एक दम सही तरीके से चरितार्थ करती है। युवाओं को एक ऐसा फोन प्रदान करना जो दिखने में सुंदर और चलने में मक्खन जैसा हो वो भी एक सही बजट में, ऐसा पूरा ध्यान रियलमी रखती है।

जैसा मैंने बताया कि रियलमी ने जब से भारत में कदम रहे थे तब से उसने सफलताओं की सीढ़ी ही चढ़ी है, उसने 22 नवंबर 2018 को अपनी पेरेंट कंपनी ओप्पो को पीछे छोड़ते हुए तेजी से बढ़ती हुई ब्रांड में पहला स्थान प्राप्त किया था। इसकी पेरेंट कंपनी ओप्पो, रियलमी से एक कदम पीछे चल रही है। 15 नवंबर 2018 को रियलमी ने अपना नया लोगो सबके सामने पेश किया और वो लोगो जनता को पसंद भी आया।

इसके साथ रियलमी ने भारत में बहुत सारे नए कीर्तिमान बनाए और पुराने तोड़ कर खुद का रिकॉर्ड कायम भी किया है। जैसे भारत में सबसे पहले 64एमपी वाले कैमरा का फोन, सबसे तेज चार्ज होने वाला फोन और भारत का पहला 5जी वाला स्मार्टफोन के कीर्तिमान।

जून 2019 में रियलमी ने यूरोपियन मार्केट में छलांग लगाई और ऐसी छलांग लगाई कि नोटो की गड्डी गिनते-गिनते थक गये।

अगले महीने यानि जुलाई 2019 में रियलमी ने 20 मार्केट में अपना दबदबा बनाने में कायम हुई। इसके अगले महीने यानि अगस्त 2019 में रियलमी के 10 मिलियन यूजर्स हो गये, यह बड़ी ही गौरव वाली बात थी।

Realme किस देश की कंपनी है?

अब आपके मन में यह सवाल आ रहा होगा कि Realme Kis Desh ki Company Hai? वैसे इस बात को बताते हुए खुशी भी हो रही है लेकिन साथ में थोड़ा गम भी। क्योंकि रियलमी जिस देश की कंपनी है उस देश ने पिछले कुछ साल से अपने देश पर आक्रमण करती आ रही है।

जी दिमाग आपका सही लगा है, रियलमी चीन देश की कंपनी है और इसका हेडक्वार्टर शेन्ज़ेन में स्थित है। इसकी पेरेंट कंपनी ओप्पो है और इन दोनों की भी पेरेंट कंपनी बीबीके इलेक्ट्रॉनिक्स है। सब बीजिंग में अपना मुख्यालय खोले बैठे है।

रियलमी पहले ओप्पो रियल से जानी जाती थी। 4 मई 2018 के बाद यह एक स्वतंत्र ब्रांड रियलमी बनी।

Realme का मालिक कौन हैं?

रियलमी कंपनी का मालिक ओप्पो के पूर्व उपाध्यक्ष स्काई ली (ली बिंगजोंग) है। ओप्पो से अपना इस्तीफा देकर अपनी खुद की कंपनी बनाई और ओप्पो के सेल्स मार्केट को टार्गेट किया। उस टार्गेट को भेद कर रियलमी भारत में उभरती हुई कंपनी बनी और ओप्पो को पीछे छोड़ दिया।

realme ka malik kaun hai

स्काई ली मालिक होने के साथ-साथ सीईओ (ग्लोबल) भी है, इसके अलावा माधव सेठ है जिनको प्रमुख उपाध्यक्ष और भारत और यूरोप के सीईओ का कार्यभार भी दिया हुया है। जू क्यूई को सीएमओ, याओ कुण को सीटीओ और वांग वेई को सीपीओ का पद दिया हुया है।

Read Also: Mi का मालिक कौन है?

भारत में रियलमी

भारत है तो रियलमी है, अगर भारत नहीं है तो रियलमी की ग्रोथ रुक जाएँ। इस एक पंक्ति से समझ तो चुके ही होंगे कि भारत में रियलमी की क्या वैल्यू है और भारतीय रियलमी के साथ क्या-क्या कर सकते है।

रियलमी की ग्लोबली सेल्स का 50 प्रतिशत केवल और केवल भारत से ही आता है, इसलिए रियलमी अपने सारे उत्पाद किसी और बाहर मार्केट में ना उतार कर भारत में उतारता है। जैसे आपको पता होगा कि रियलमी फोंस के अलावा स्मार्ट टीवी, स्मार्ट वॉच और बहुत सारे आर्टिफ़िश्यल इंटेलिजेंट के उत्पाद पहले भारत में लांच हुये उसके बाद बाहर के मार्केट में।

भारत–चीन विवाद के बाद ओप्पो ने अपनी एक मैनुफेक्चुरिंग यूनिट ग्रेटर नोएडा में स्थापित की थी, जिसके जरिये 7500 की सीधी जॉब लगी थी जो समय के साथ-साथ 10000 तक भी पहुँच सकती है। इसके बाद “मेड इन इंडिया” कार्यक्रम के तहत रियलमी के आधे से ज्यादा फोन भारत में ही बनने लगे।

तो भाई जी, आ गया लेख पढ़ कर आनंद और आनंद के साथ-साथ राम और श्याम को अच्छा बजट फोन भी मिल गया।

वैसे एक बात तो कहनी पड़ेगी जितने फोन भारत में उपयोग में आते है उतने और कोई भी देश में उपयोग में नहीं आते है और यही वजह है कि सारी कंपनियाँ यहाँ मौके तलाशती रहती है।

अंतिम बात यह कहना चाहूँगा कि छोटे बच्चों को फोन कम देने की कोशिश करें जिससे उनका आगे का भविष्य सुधरेगा। मैं उम्मीद करता हूँ कि आपको यह लेख “Realme Kis Desh ki Company Hai” पसंद आया होगा, इसे आगे शेयर जरूर करें ताकि और भी लोग इस कंपनी के बारे में अच्छी तरह से जान सके। आपको यह जानकारी कैसी लगी, मुझे कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं।

धन्यवाद

Read Also

इनका नाम राहुल सिंह तंवर है, इन्होंने स्नातक (रसायन, भौतिक, गणित) की पढ़ाई की है और आगे की भी जारी है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 3 वर्ष से भी अधिक SEO का अनुभव होने के साथ ही 3.5 वर्ष का कंटेंट राइटिंग का अनुभव है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जुड़ सकते हैं।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here