रहीम दास के दोहे सार सहित

रहीम दास के दोहे सार सहित (Rahim Das Ke Dohe in Hindi) – हम सबने छोटी कक्षाओं में रहीम के दोहे (Rahim ke dohe) जरूर पढ़ें होंगे। लेकिन समय के साथ इनका अस्तित्व भी कम हो रहा है। आज हम यहां पर रहीम के दोहे (Rahim ke dohe) प्रस्तुत कर रहे हैं।

Rahim Das Ke Dohe in Hind

Read also: चाणक्य के जिन्दगी जीने का तरीका बदल देने वाले प्रेरणादायी सुविचार।

रहीम दास जी (Rahim Das) के जीवन को विस्तार से जानने के लिए यहां क्लिक करें(Rahim Das Wikipedia in Hindi)

रहीम दास के दोहे सार सहित (Rahim Das Ke Dohe in Hindi):

दुःख में सुमिरन सब करें, सुख में करें न कोय।
जो सुख में सुमिरन करें, तो दुःख काहे होय।।

रहीम जी कहते है कि संकट में तो प्रभु को सब याद करते है, लेकिन सुख में कोई नहीं करता। यदि आप सुख में प्रभु को याद करते है, तो दुःख आता ही नहीं।

जैसी परे सो सहि रहे, कहि रहीम यह देह।
धरती ही पर परत है, सीत घाम औ मेह।।

रहीम जी कहते है जैसे पृथ्वी पर बारिश, गर्मी और सर्दी पड़ती है और पृथ्वी यह सहन करती है। ठीक उसी प्रकार मनुष्य को भी अपने जीवन में सुख और दुःख सहन करना सीखना चाहिए।

जो बड़ेन को लघु कहें, नहीं रहीम घटी जाहिं।
गिरधर मुरलीधर कहें, कछु दुःख मानत नाहिं।।

रहीम जी कहते है कि बड़े को छोटा कहने से बड़े की भव्यता कम नहीं होती। क्योंकि गिरधर को कन्हैया कहने से उनके गौरव में कमी नहीं होती।

रहीम के दोहे (Rahim ke Dohe):

बिगड़ी बात बने नहीं, लाख करो किन कोय।
रहिमन फाटे दूध को, मथे न माखन होय।।

रहीम जी कहते है कि मनुष्य को बुद्धिमानी की तरह व्यवहार करना चाहिए। क्योंकि यदि किसी कारण से कुछ गलत हो जाता है, तो इसे सही करना मुश्किल हो जाता है। जैसे एक बार दूध के ख़राब हो जाने से लाख कोशिश करने पर भी उसमें न तो मखन बनता है और न ही दूध।

रहिमन धागा प्रेम का, मत तोड़ो चटकाय।
टूटे से फिर ना जुड़े, जुड़े गांठ परी जाय।।

रहीम जी कहते है कि प्रेम का संबंध बहुत ही नाजुक होता है। इसे झटका देकर तोड़ना अच्छा नहीं होता। यदि कोई धागा एक बार टूट जाता है तो उसे जोड़ना बहुत ही मुश्किल हो जाता है। यदि वापस जोड़ते है तो उसमें गांठ आ ही जाती है। उसी प्रकार आपसी संबंध एक बार टूट जाने से मन में एक दरार आ ही जाती है।

रहिमन चुप हो बैठिये, देखि दिनन के फेर।
जब नीके दिन आइहें, बनत न लगिहैं देर।।

रहीम जी कहते है कि जब ख़राब समय होता है तो मौन करना ठीक होता है। क्योंकि जब अच्छा समय आता है, तब काम बनते विलम्ब (Late) नहीं होता। इस कारण हमेशा अपने सही समय का इन्तजार करें।

रहीम के दोहे (Rahim ke Dohe):

वाणी ऐसी बोलिये, मन का आपा खोय।
औरन को शीतल करे, आपहु शीतल होय।।

रहीम जी कहते है कि हमें हमेशा ऐसी वाणी (Voice) बोलनी चाहिए, जिसे सुनने के बाद खुद को और दूसरों को शांति और ख़ुशी हो।

जे गरिब सों हित करें, ते रहीम बड़ लोग।
कहा सुदामा बापुरो, कृष्ण मिताई जोग।।

रहीम जी कहते है कि जो लोग गरिब का हित करते है, वो बहुत ही महान (Great) लोग होते है। जैसे सुदामा कहते हैं कि कान्हा की मित्रता भी एक भक्ति है।

खीरा सिर ते काटि के, मलियत लौन लगाय।
रहिमन करुए मुखन को, चाहिए यही सजाय।।

रहीम जी कहते है कि खीरे की कड़वाहट को दूर करने के लिए उसके ऊपरी छोर को काटकर उस पर नमक लगाया जाता है। यह सजा उन लोगों के लिए है, जो कड़वा शब्द बोलते है।

रहिमन विपदा हू भली, जो थोरे दिन होय।
हित अनहित या जगत में, जान परत सब कोय।।

रहीम जी कहते है कि संघर्ष (Struggle) जरूरी है। क्योंकि इस समय के दौरान ही यह ज्ञात होता है कि हमारे हित में कौन है और अहित में कौन है।

Read also: ओशो के चुनिन्दा अनमोल विचारों का संग्रह।

आपको “रहीम दास के दोहे सार सहित (Rahim Das Ke Dohe in Hindi)” पसंद आये हो तो इन्हें शेयर जरूर करें।

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here