रहीम दास की जीवनी – Rahim Das Biography in Hindi

नमस्कार दोस्तों, भारत में ऐसे कई संत और कवि हुए है जिनकी रचनाओं से हमें प्रेरणा मिलती है, कुछ नया सिखने को मिलता है। आज हम आपको रहीम दास का जीवन परिचय Rahim Das Biography in Hindi बताने जा रहे है। जो कि थे तो मुसलमान लेकिन उनका हिन्दू धर्म में बहुत ही लगाव था। रहीम दास जी हिन्दी साहित्यिक जगत के महान कवियों में से एक थे।

rahim-das-biography-hindi
Rahim ka Parichay

Read Also: रहीम दास के दोहे सार सहित

आइये जानते है Rahim Information in Hindi विस्तार से:

रहीम दास की जीवनी – Rahim Das Biography in Hindi

About Rahim in Hindi: रहीम दास जी का पूरा नाम अब्दुल रहीम खान-ए-खाना है। रहीम दास जी एक कवि के साथ-साथ अच्छे सेनापति, आश्रयदाता, दानवीर, कूटनीतिज्ञ, कलाप्रेमी, साहित्यकार और ज्योतिष भी थे।

Rahim Das Ji मुगल बादशाह अकबर के नवरत्नों में से एक थे। रहीम दास जी अपने हिंदी दोहों से काफी मशहूर भी थे और इन्होने कई सारी किताबें भी लिखी थी। इनके नाम पर पंजाब में एक गांव का नाम भी खानखाना रखा गया है।

रहीम दास का जीवन – Biography of Rahim in Hindi

रहीम दास जी का पूरा नाम अब्दुल रहीम खान-ए-खाना “Abdul Rahim Khan i Khana in Hindi” है और इनका जन्म 17 दिसम्बर 1556 को लाहोर में हुआ था। जो लाहोर अभी पाकिस्तान में स्थित है। इनके पिता का नाम बैरम खान और माता का नाम सुल्ताना बेगम था।

बैरम खान एक तुर्की परिवार से थे और हुमायूँ की सेना में शामिल हो गये थे। बैरम खान अकबर किशोरावस्था में सरंक्षक के रूप में भी थे। बैरम खान ने हुमायूँ की मुगल साम्राज्य को वापस स्थापित करने में सहायता की थी।

rahim-das-images
rahim das images (gstatic.com)

हुमायूँ ने जमाल खान की बड़ी बेटी से अपना विवाह किया था। फिर हुमायूँ ने बैरम खान को जमाल खान की छोटी बेटी से विवाह करने को कहा। बैरम खान ने हुमायूँ के कहने पर जमाल खान की छोटी बेटी से विवाह कर लिया और उससे बैरम खान को रहीम पुत्र मिला। एक बार बैरम खान हज के लिए जा रहे थे तो गुजरात के पाटन में विश्राम के लिए वहां ठहरे थे।

वे पाटन की प्रसिद्ध सहस्रलिंग तालाब में नहाकर और नौका विहार करके जैसे ही वहां से निकले तो बैरम खान के पुराने विरोधी अफ़ग़ान सरदार मुबारक ख़ाँ ने उनकी पीठ में छुरा डालकर धोखे से हत्या कर दी गई।

वहां से बैरम खान की पत्नी सुल्ताना बेगम अपने सेवको के साथ अहमदाबाद के लिए निकल गई। जब इस बात की खबर अकबर की को लगी तो अकबर ने सुल्ताना बेगम को अपने दरबार में हाजिर होने का आदेश दिया है।

जैसे ही सन्देश पहुंचा तो सुल्ताना बेगम दरबार में हाजिर हुई। वहां पर अकबर ने रहीम को अपने पुत्र के समान रखने का आदेश दिया कि इसको किसी चीज की कमी नहीं आनी चाहिए। रहीम को हमेशा मेरी आँखों के सामने ही रखा जाए। फिर बाद में अकबर ने सुल्ताना बेगम से शादी कर ली और रहीम को “मिर्जा खान” की उपाधि दी।

रहीम की शिक्षा और विवाह

रहीम के शिक्षक की भूमिका मुल्ला मुहम्मद अमीन ने निभाई। इन्होने रहीम को अरबी, तुर्की और फारसी भाषा का ज्ञान दिया। इन्होंने रहीम को छंद रचना और फारसी व्याकरण का भी ज्ञान दिया था। रहीम की रचनाएँ (Rahim Das ki Rachnaye in Hindi) और दोहे (Rahim Das ke Dohe in Hindi) आज भी पढ़े जाते है।

rahim-das-biography
i.ytimg.com

Rahim Das की शिक्षा पूरी हो जाने के बाद 16 साल की उम्र में मुगल बादशाह अकबर ने रहीम का विवाह मिर्जा अजीज कोका की बहन माहबानो से करवा दिया। रहीम के दो बेटियां और तीन बेटे हुए। रहीम के बेटों का नाम भी अकबर ने ही रखा था। Rahim के बेटों का नाम इरीज, दाराब और फरन था।

फिर रहीम का एक और विवाह हुआ जो कि एक सौदा जाति की लड़की से हुआ था। इससे रहीम को एक बेटा हुआ। जिसका नाम रहमान दाद रखा। रहीम दास का तीसरा विवाह भी हुआ। यह विवाह एक दासी से हुआ था। इस पत्नी से भी उन्हें के बेटा हुआ जिसका नाम मिर्जा अमरुल्ला रखा।

रहीम कवि के रूप में – Rahim Hindi Poet

मुग़ल बादशाह अकबर का दरबार ही एक ऐसा दरबार था जिसमें धर्म निरपेक्षता चलती थी। अकबर के दरबार में सभी धर्मो के देवी-देवताओं को उचित समान दिया जाता था। रहीम दास श्रीकृष्ण के भक्त थे। अकबर के धर्म निरपेक्ष होने के कारण कभी रहीम की कृष्ण भक्ति का विरोध नहीं किया।

rahim-das-dohe
Rahim Das in Hindi

रहीम (Rahim Poet) के दोहे आज भी कई पुस्तकों में देख सकते है। रहीम की कृष्ण भक्ति और हिन्दू धर्म को समान देने पर रहीम को रहीम दास जी कहा जाने लगा। फिर रहीम दास जी की गिनती तुलसीदास और सूरदास जैसे कवियों में होने लगी। रहीम दास जी ने ज्योतिष पर अपनी दो पुस्तके भी लिखी जो काफी प्रसिद्ध है। उनका नाम कौतुकम और द्वाविष्ट योगावली है।

रहीम दास की मृत्यु

अकबर की मौत हो जाने के बाद अकबर का बेटा जहाँगीर राजा बना। लेकिन रहीम जहाँगीर के राजा बनने के पक्ष में नहीं थे। इस कारण अब्दुल रहीम के दो बेटों को जहाँगीर ने मरवा दिया और फिर 1627 में अब्दुल रहीम की भी चित्रकूट में मौत हो गई। रहीम की मौत हो जाने के बाद इनके शव को दिल्ली लाया गया और वहां पर इनका मकबरा आज भी स्थित है।

Hindi Biography

आपको यह जानकारी “Rahim Das Biography in Hindi” पसंद आयी होगी। इसे आगे शेयर जरूर करें और इससे जुड़ा कोई भी सवाल हो तो आप कमेंट बॉक्स में हमें जरूर बताएं। ऐसी ही और जानकारी के लिए हमारे Facebook Page को लाइक जरूर कर दें ताकि ऐसी ही जानकारी आप तक पहुँचती रहे।

धन्यवाद!

Read Also

Related Search: Rahim Das ka Jeevan Parichay in Hindi, रहीम का जन्म कहां हुआ था, रहीम किस काल के कवि हैं, कवि रहीम के पिता का नाम क्या था, रहीम की भाषा शैली, रहीम का मृत्यु कब हुआ

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here