नुपुर शर्मा का जीवन परिचय

आए दिन राजनीति को लेकर टीवी पर कई खबरें चलती रहती है। इन खबरों में से एक नाम नूपुर शर्मा का भी है, जो इन दिनों काफी ज्यादा चर्चा में है। नूपुर शर्मा राजनीतिक पार्टी बीजेपी की पूर्व प्रवक्ता है। हाल ही में न्यूज़ चैनल पर एक बहस हुई, जिसमें नूपुर शर्मा ने पैगंबर मोहम्मद साहब के बारे में विवादित बयान दिया था, जिसके बाद मुस्लिम समुदाय ने विरोध करना शुरू कर दिया।

उनके बयान के बाद ही उत्तर प्रदेश के कानपुर में हिंसा भड़क उठी, जिसमें कई लोग घायल भी हो गए और कुछ लोग मारे भी गए। भारत में ही नहीं बल्कि अफगानिस्तान, ईरान, इराक, ओमान, कतर और सऊदी अरब जैसे अरब देशों में भी नुपुर शर्मा को लेकर विरोध हो रहा है।

यहां तक कि वे लोग भारत के कुछ प्रोडक्ट को बैन करने की भी मांग कर रहे है। दबाव में आकर बीजेपी ने नूपुर शर्मा को 6 साल के लिए पार्टी से निलंबित कर दिया। इस बयान के बाद सरकार द्वारा नुपुर शर्मा को पुलिस सुरक्षा भी दी गई है। क्योंकि अपनी कट्टरवादी टिप्पणी के कारण नूपुर शर्मा मुस्लिम संगठनों और मुस्लिम कट्टरपंथियों के निशाने पर आ गई है।

Nupur Sharma Biography in Hindi

कई इस्लामिक समुदाय द्वारा नूपुर शर्मा को मारने की धमकी भी दी जा रही है। इस तरह आजकल यह खबरों में काफी छाई हुई है, जिस कारण अब हर कोई नूपुर शर्मा के बारे में जानना चाहता है कि आखिर नूपुर शर्मा कौन है?, यह इस तरीके से बीजेपी पार्टी में आई?, इनका राजनीतिक सफर क्या है?, इन के माता पिता कौन है इत्यादि।

नूपुर शर्मा के जीवन से संबंधित प्रश्न लोगों के मन में है, जिसका जवाब हम आज के इस लेख में देने वाले हैं तो इस लेख को अंत तक जरूर पढ़ें।

नुपुर शर्मा का जीवन परिचय (जन्म, आयु, पिता, जाति, पति, करियर, शिक्षा, विवाद)

नुपुर शर्मा की जीवनी एक नजर में

नामनुपुर शर्मा
जन्म और जन्म स्थान23 अप्रैल 1985 (नई दिल्ली)
उम्र37 वर्ष
पेशाअधिवक्ता, राजनेता
पिताविनय शर्मा
पति
जातिब्राह्मण,
शिक्षाअर्थशास्त्र में स्नातक (दिल्ली यूनिवर्सिटी), एमएलएम (लंदन स्कूल ऑफ़ इकोनॉमिक्स)
राष्ट्रीयताभारतीय
पार्टीभारतीय जनता पार्टी

नूपुर शर्मा की प्रारंभिक जीवन

नूपुर शर्मा का जन्म 23 अप्रैल 1985 को नई दिल्ली में हुआ था, इनके पिता का नाम विनय शर्मा है, जो की एक व्यवसायी है।

नूपुर शर्मा की शिक्षा

नूपुर शर्मा ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा दिल्ली में स्थित दिल्ली पब्लिक स्कूल से की। उसके बाद इन्होंने दिल्ली यूनिवर्सिटी में एडमिशन लिया और इसी यूनिवर्सिटी से अर्थशास्त्र में स्नातक की डिग्री प्राप्त की।

अर्थशास्त्र की डिग्री के बाद नूपुर शर्मा ब्रिटेन चली गई, जहां पर इन्होंने लंदन स्कूल ऑफ़ इकोनॉमिक्स में एडमिशन लेकर एमएलएम का कोर्स पूरा किया। नुपुर शर्मा बचपन से काफी ज्यादा तेज और प्रखर स्वभाव की थी और बचपन से ही इन्हें राजनीती में काफी रूचि थी।

नूपुर शर्मा का राजनीतिक सफर

जैसा हमने आपको पहले ही बताया कि नूपुर शर्मा को बचपन से ही राजनीति मैं काफी रुचि थी, जिस कारण यह अपने कॉलेज के दिनों से ही राजनीति में कैरियर बनाने की शुरुआत कर चुकी थी। अपने कॉलेज के दिनों से ही यह राजनीति को लेकर काफी ज्यादा सक्रिय रहती थी।

कॉलेज में पढ़ाई करने के दौरान यह अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद की सदस्य के तौर पर शामिल हुई। साल 2008 में दिल्ली में इनके कॉलेज में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद की तरफ से दिल्ली यूनिवर्सिटी स्टूडेंट्स यूनियन का चुनाव हुआ, जिसमें इन्हें एबीवीपी के द्वारा दिल्ली यूनिवर्सिटी के अध्यक्ष का टिकट मिला। यह इस चुनाव में खड़ी हुई और अध्यक्ष पद के लिए चुनी गई।

नूपुर शर्मा बीजेपी में कैसे आई?

नूपुर शर्मा को दिल्ली यूनिवर्सिटी स्टूडेंट्स यूनियन के चुनाव में एबीपीवी के द्वारा टिकट मिला था और एबीपीवी एक छात्रों का संगठन है, जो भाजपा पार्टी का समर्थन करता है। इस तरह अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद में जुड़ने के दौरान ही नूपुर शर्मा को भारतीय जनता पार्टी की तरफ से रुझान हो गया था और फिर बाद में इन्होंने इस पार्टी को ज्वाइन कर लिया।

इसके कुछ समय के बाद भारतीय जनता पार्टी में इन्हें कई महत्वपूर्ण पदों पर कार्य करने का मौका मिला। इन्हें भारतीय जनता पार्टी के द्वारा वर्किंग कमेटी में मीडिया इंचार्ज का युवा मेंबर बनाया गया। यही नहीं राज्य कार्यकारी कमेटी भाजपा का मेंबर भी बनाया गया।

अपने कॉलेज की पढ़ाई के दरमियान ही नूपुर शर्मा एबीपीवी की मेंबर के अतिरिक्त टीच फॉर इंडिया की यूथ एंबेसडर और भारतीय जनता युवा मोर्चा की यूथ विंग की राष्ट्रीय कार्यकारी कमेटी की मेंबर भी रह चुकी हैं।

वैसे तो नूपुर शर्मा अपने कॉलेज के दरमियान ही राजनीति के क्षेत्र में जुड़ी रही, लेकिन असल मायने में राजनीति में इनका असली प्रवेश साल 2015 को दिल्ली के विधानसभा चुनाव के बाद हुआ। साल 2015 में दिल्ली में विधानसभा का चुनाव हुआ, जिसमें बीजेपी पार्टी की तरफ से नूपुर शर्मा को खड़ा किया गया।

वहीं दूसरी ओर कांग्रेस पार्टी ने भी किरण वालिया को अपने उम्मीदवार के तौर पर इस चुनाव के मैदान में उतारा। लेकिन तीसरी ओर आम आदमी पार्टी के नेता अरविंद केजरीवाल भी इस चुनाव में खड़े हुए थे।

नई दिल्ली में हुई इस विधानसभा सीट पर जीत हासिल करना बहुत ही ज्यादा मुश्किल था, क्योंकि यह एक हाई प्रोफाइल शीट थी। हालांकि इधर दो प्रख्यात केंद्रीय पार्टी भाजपा और कांग्रेस के पार्टी से उम्मीदवार चुनाव लड़ रहे थे, जिस कारण अरविंद केजरीवाल के जीतने की संभावना लोगों के द्वारा ना के बराबर बताई जा रही थी।

इस चुनाव के दौरान पूरे भारत देश में भाजपा की प्रचंड लहर चल रही थी। हर किसी का यही मानना था कि नूपुर शर्मा ही जीत हासिल करेगी। लेकिन नतीजा लोगों की सोच के परे निकला। ना ही भाजपा की उम्मीदवार जीती और ना ही कांग्रेस की उम्मीदवार। बल्कि इन दोनों से हटकर आम आदमी पार्टी के नेता अरविंद केजरीवाल ने 57213 वोट प्राप्त करके दिल्ली विधानसभा की सीट जीत ली।

नुपुर शर्मा भाजपा की प्रवक्ता कैसे बनी?

साल 2015 में हुए दिल्ली के विधानसभा चुनाव में नूपुर शर्मा चुनाव में भाजपा की तरफ से उम्मीदवार के रूप में खड़ी थी। लेकिन इस चुनाव में उन्हें जीत प्राप्त नहीं हुई। लेकिन, इसके बावजूद भी उनकी लोकप्रियता कम नहीं हुई। बल्कि चुनाव के बाद तो इनकी लोकप्रियता और भी ज्यादा बढ़ती जा रही थी।

इस तरह भाजपा पार्टी में इनका कद और भी ज्यादा बढ़ते जा रहा था। यह भाजपा की एक बहुत ही लोकप्रिय उम्मीदवार बनते जा रही थी, इसके अतिरिक्त इनमें स्पीच देने की काफी अच्छी काबिलियत थी। यह टीवी शो में काफी अच्छा डिबेट भी कर लेती थी, कई टीवी डिबेट में इन्होंने अपने मजबूत तथ्यों को रखकर विरोधी पार्टियों के प्रवक्ता की बोलती बंद कर चुकी थी।

इनकी योग्यता को देखते हुए भाजपा हाईकमान ने इन्हें भाजपा का राष्ट्र प्रवक्ता बना दिया। तब से नूपुर शर्मा भाजपा के प्रवक्ता के तौर पर कार्य कर रही थी और कई टीवी डिबेट में शामिल होकर भाजपा की तरफ से यह बोलती थी और विरोधी पार्टियों से भाजपा का बचाव करती थी।

नुपुर शर्मा की पसंद क्या है?

नूपुर शर्मा की हमेशा से ही राजनीति में काफी ज्यादा रुचि रही है। हालांकि राजनीति के अतिरिक्त अन्य भी कई चीजों में रूचि है। काफी अच्छा भाषण देती है और इनके अंदर डिबेट करने की भी अच्छी योग्यता है।

इन्हें घूमने-फिरने का काफी ज्यादा शौक है। ये लिखती भी हैं। इन्हें किताब पढ़ना भी काफी पसंद है। साल 2009 में गणतंत्र दिवस के मौके पर नूपुर शर्मा फेमस मीडिया ग्रुप ‘द टाइम्स ऑफ इंडिया’ की गेस्ट सम्पादिका भी रही थी।

नूपुर शर्मा के पति

बता दें नुपुर शर्मा अभी तक अविवाहित है। वैसे तो नूपुर शर्मा बहुत ही खुले विचारों वाली है और अपने विचारों को खुले तौर पर मीडिया के सामने रखने की काबिलियत रखती है। लेकिन उन्होंने अपने निजी जीवन के बारे में मीडिया के सामने कभी खुलकर नहीं बताया।

हालांकि खबरों से पता चला था कि साल 2021 में नूपुर शर्मा ने अपने बॉयफ्रेंड से सगाई की थी। उनके नाम और उनके बारे में कोई भी जानकारी नूपुर शर्मा ने मीडिया में खुलासा नहीं किया और ना ही इनके शादी को लेकर कोई भी खबर सामने आ रही है।

नूपुर शर्मा के बारे में रोचक तथ्य

  • पारेख एंड कंपनी एडवोकेट्स में नूपुर शर्मा ने एक सहयोगी के तौर पर 1 साल से भी अधिक समय के लिए कार्य किया है।
  • नूपुर शर्मा टीचर फॉर इंडिया में एक राजदूत के तौर पर काम कर चुकी हैं।
  • हाल ही में एक न्यूज़ चैनल के डिबेट शो में पैगंबर मोहम्मद साहब के बारे में टिप्पणी के कारण नूपुर शर्मा विवादों में घिरी हुई है, जिस कारण उन्हें पुलिस सुरक्षा प्रदान की गई है।
  • विवादित बयान के कारण नूपुर शर्मा को बीजेपी प्रवक्ता पद से निलंबित कर दिया है। साथ ही 6 सालों के लिए उन्हें पार्टी से निलंबित भी कर दिया है।
  • कॉलेज में पढ़ाई करने के दौरान ही नूपुर शर्मा ने अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद की सदस्य के तौर पर शामिल हुई थी। 
  • 2009 में गणतंत्र दिवस के मौके पर एक विशेष टेलीकास्ट में टाइम्स ऑफ इंडिया ने भाजपा नेत्री नुपुर शर्मा को गेस्ट एंकर के तौर पर बुलाया था।
  • दिल्ली यूनिवर्सिटी में पढ़ने के द्वौरान अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद की तरफ से दिल्ली यूनिवर्सिटी स्टूडेंट्स यूनियन के चुनाव लड़ने के लिए इन्हें एबीपीबी के द्वारा टिकट दिया गया था, जिसके बाद नूपुर शर्मा चुनाव में जीत हासिल कर दिल्ली यूनिवर्सिटी की अध्यक्ष बनी।
  • पैगंबर मोहम्मद साहब पर दिए गए बयान के कारण नूपुर शर्मा पर भारत सहित अन्य इस्लामिक देशों ने भी विरोध जताया है।
  • साल 2009 में न्यूज़ पोर्टल हिंदुस्तान टाइम्स द्वारा देश की 10 विमेन इंप्रेशन पर्सनैलिटी की एक लिस्ट तैयार की गई, जिसमें नूपुर शर्मा का भी नाम शामिल था।
  • दिल्ली यूनिवर्सिटी में पढ़ने के दौरान नूपुर शर्मा ने कई प्रोजेक्ट पर काम किया। जैसे कि पानी और यूनिवर्सिटी की सिक्योरिटी के लिए सीसीटीवी कैमरा की व्यवस्था, सोलर लैंप, वाटर प्यूरीफायर जैसे सुविधा करना।

नूपुर शर्मा से जुड़े विवाद

वैसे तो नूपुर शर्मा भारतीय राजनीति के क्षेत्र में लंबे समय से जुड़ी हुई है और लंबे समय से यह भाजपा पार्टी के लिए कार्य कर रही है। लेकिन इन्हे इतना ज्यादा प्रसिद्धि नहीं मिला होगा, जितना पिछले कुछ दिनों में मिल गया है।

कुछ दिनों से नूपुर शर्मा खबरों में छाई हुई है और तभी से लेकर हर तरफ नूपुर शर्मा के बारे में चर्चा हो रही है और हर किसी के मन में नूपुर शर्मा के बारे में जानने की इच्छा है।

दरअसल हाल ही में सुप्रसिद्ध न्यूज़ टीवी चैनल टाइम्स नाउ के प्राइम टाइम के डिबेट शो में ज्ञानवापी मस्जिद के मुद्दे पर बहस चल रही थी, जिसमें भाजपा पार्टी की प्रवक्ता नूपुर शर्मा भी शामिल थी और इन्हीं के साथ विरोधी दल के मुस्लिम स्कॉलर भी शामिल थे।

ख़बरों के अनुसार डिबेट शो में ज्ञानवापी मस्जिद के मुद्दे पर बहस चल रही थी, जिसमें कुछ कट्टरपंथी संगठनों के द्वारा हिन्दू धर्म का मज़ाक उड़ाया जाता है। इसके बाद पैगम्बर मोहम्मद के ऊपर भी एक विवादित बयान दिया जाता है, जो इस विवाद का कारण बन जाता है।

जिसके बाद इनका यह वीडियो सोशल मीडिया पर बहुत ज्यादा वायरल हो जाता है और इस बारे में चारों और नूपुर शर्मा का विरोध शुरू हो जाता है। हालाँकि बाद में नूपुर ने आपने बयान के लिए माफ़ी भी मांगी, जिसके बाद से ही नूपुर को मुस्लिम कट्टरपंथी संगठनों के द्वारा जान से मारे जाने की धमकियां दी जाने लगी।

विवादित बयान के कारण बीजेपी ने भी प्रवक्ता के पद से हटा दिया है और उन्हें 6 साल के लिए बीजेपी पार्टी से निलंबित कर दिया। यही नहीं इनके साथ नवीन जिंदल को भी पार्टी से बाहर कर दिया।

FAQ

नुपुर शर्मा ने कौन-कौन से अभियान में भाग लिया है?

अपने दिल्ली यूनिवर्सिटी में पढ़ाई के दौरान नूपुर शर्मा [email protected] अभियान की मेजबानी भी कर चुकी है। नूपुर शर्मा भाजपा की पूर्व प्रवक्ता है, जिस कारण इन्हें साल 2012 में भारत -पाकिस्तान समिट में सदस्य के तौर पर अमेरिका में शामिल किया गया था। नूपुर शर्मा ने अपने दिल्ली यूनिवर्सिटी के पढ़ाई के दौरान कई सारे प्रोजेक्ट जैसे कि पानी और यूनिवर्सिटी की सिक्योरिटी के लिए सीसीटीवी की व्यवस्था करना, सोलर लाइट जैसे अभियान में भी भाग लिया था।

बीजेपी ने नूपुर शर्मा को विवादों में घिरने के बाद क्या किया?

पैगंबर मोहम्मद साहब के बारे में न्यूज़ टीवी चैनल के डिबेट शो में गलत टिप्पणी देने के कारण नूपुर शर्मा विवादों में घिर गई और देश भर में इनका विरोध शुरू हो गया। कई मुस्लिम समुदाय द्वारा इन्हें जान से मारने का भी धमकी दी जाने लगी, जिसके बाद दबाव में आकर बीजेपी ने नूपुर शर्मा को बीजेपी पार्टी में 6 साल के लिए निलंबित कर दिया। इन्हें बीजेपी के प्रवक्ता पद से भी हटा दिया।

नूपुर शर्मा कौन है?

नूपुर शर्मा भारतीय जनता पार्टी की पूर्व प्रवक्ता है। इसके अतिरिक्त बीजेपी की राज्य कार्यकारिणी समिति की सदस्य भी है। बीजेपी के प्रवक्ता बनने से पहले बीजेपी में कई महत्वपूर्ण पदों पर भी कार्य कर चुकी है।

नूपुर शर्मा कौन से विवाद में घिरी हुई है?

एक न्यूज़ टीवी चैनल के एक डिबेट शो में नूपुर शर्मा ने पैगंबर मोहम्मद साहब के बारे में विवादित टिप्पणी की थी, जिसके कारण मुस्लिम समुदाय द्वारा विरोध किया गया।

निष्कर्ष

आज के लेख में हमने आपको भारत की एक लोकप्रिय राजनीतिक पार्टी बीजेपी के पूर्व प्रवक्ता नूपुर शर्मा के बारे में बताया, जो इन दिनों पैगंबर मोहम्मद साहब को लेकर बयान के कारण विवादों में घिरी हुई हैं।

आज के इस लेख में हमने आपको नूपुर शर्मा का प्रारंभिक जीवन, उनकी शिक्षा, इनका राजनीतिक सफर इन से जुड़े कुछ रोचक तथ्य और इनके विवाद के बारे में बताया। हमें उम्मीद है कि इस लेख के जरिए आपको नूपुर शर्मा के बारे में बहुत कुछ जानने को मिला होगा। इस लेख से संबंधित कोई भी प्रश्न या सुझाव हो तो कमेंट में लिखकर जरूर बताएं।

यह भी पढ़े

ऋषि सुनक का जीवन परिचय

जगदीप धनखड़ का जीवन परिचय

एकनाथ शिंदे का जीवन परिचय

द्रोपदी मुर्मू का जीवन परिचय

इनका नाम राहुल सिंह तंवर है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 4 वर्ष से अधिक SEO का अनुभव है और 6 वर्ष से भी अधिक समय से कंटेंट राइटिंग कर रहे है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जरूर जुड़े।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here