मेरा प्रिय खेल पर निबंध

Mera Priya Khel Eassy In Hindi: खेल खेलना सभी को पसंद होता है और सभी के स्वास्थ्य के लिए बहुत ही लाभदायक होता है। हर किसी को कोई ना कोई खेल पसंद होता है। किसी को क्रिकेट पसंद होता है तो किसी को फुटबॉल पसंद होता है, किसी को कबड्डी खेलना बहुत अच्छा लगता है तो किसी को मुक्केबाजी बहुत पसंद होती है।

Mera-Priya-Khel-Eassy-In-Hindi
Mera Priya Khel Eassy In Hindi

आज के इस लेख में हम मेरा प्रिय खेल पर निबंध (Essay on My Favourite Game In Hindi) पर जानकारी शेयर कर रहे है। इस निबंध में मेरा प्रिय खेल (mera priya khel nibandh) के संदर्भित सभी माहिति को आपके साथ शेयर किया गया है। यह निबंध सभी कक्षाओं के विद्यार्थियों के लिए मददगार है।

Read Also: हिंदी के महत्वपूर्ण निबंध

मेरा प्रिय खेल पर निबंध | Mera Priya Khel Eassy In Hindi

मेरा प्रिय खेल पर निबंध 200 शब्दों में (mera priya khel par nibandh)

खेल हमारे जीवन के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण हैं और सभी के पसंदीदा खेल अलग-अलग होते हैं। मेरा प्रिय खेल क्रिकेट है। मुझे क्रिकेट खेलना बहुत पसंद है। क्रिकेट खेलने से मेरे शरीर में चुस्ती बनी रहती है, इसीलिए मैं बहुत ही एक्टिव रहता हूं।

क्रिकेट आउटडोर गेम होती है। यह दुनिया भर में खेला जाती है और यह हर देश को सर्वाधिक पसंद आता है। युवा इसे खेलना बहुत ही ज्यादा पसंद करते हैं। इस खेल को दो टीम के द्वारा खेला जाता है। जो टीम अत्यधिक रन बनाती है, वह खेल को जीत जाती है। इस खेल को खेलने के लिए अलग-अलग नियम होते हैं। हर रन की सीमा अलग-अलग होती है।

अंतरराष्ट्रीय स्तर पर इस खेल को तीन रूपों में खेला जाता है। टेस्ट मैच इस मैच को 5 दिनों तक खेला जाता है। प्रत्येक दिन 90 ओवर और 540 गेंदे फेंकनी होती हैं। दूसरा मैच दिवसीय मैच है, जिसमें हर टीम को 50- 50 ओवर खेले जाते है। तीसरा रूप टी20 के नाम से बहुत ही प्रसिद्ध है, इसमें हर टीम को 20-20 ओवर खेले जाते हैं। आजकल यह बहुत ही लोकप्रिय खेल है।

हर गली में बच्चे क्रिकेट खेलते हुए नजर आते हैं। सबसे पहला पसंदीदा खेल भारतीय का क्रिकेट ही कहलाता है। जब भारतीय टीम मैच जीत जाती है तो बहुत ही बड़ा जश्न मनाते हैं। भारतीय लोग कई लोग पटाखे भी जलाते हैं और बहुत खुशी मनाते हैं।

mera priya khel nibandh
Image: mera priya khel nibandh

मेरा प्रिय खेल पर निबंध हिंदी 250 शब्द में (mera priya khel essay in hindi)

सभी के जीवन में खेल की बहुत ही आवश्यकता होती है। यह हमारे शरीर को फिट बनाए रखने में सहायता करता है। यह हमारी मानसिक और शारीरिक विकास को बनाए रखता है, जिससे हमारा शरीर बहुत ही आनंद महसूस करता है, जिससे हमें बीमारियों का कम खतरा रहता है। खास तौर पर यह विद्यार्थियों के लिए बहुत जरूरी है।

अगर किसी विद्यार्थी का मन पढ़ाई में नहीं लगता है तो माता पिता बच्चे का मन पहले खेलकूद में लगाएं, उसे खेल-खेल में पढ़ाएं। इसे बच्चे के मन का भी विकास होता है और पढ़ाई में भी उसकी रुचि बढ़ती है। खेल बहुत सी बीमारियों का इलाज है, खेल हर उम्र में खेला जा सकता है। सब उम्र के हिसाब से अलग-अलग खेल बनाए गए हैं।

सबके प्रिय खेल अलग-अलग हो सकते हैं। किसी को हॉकी पसंद है तो किसी को कबड्डी पसंद है, किसी को लूडो खेलना पसंद है तो किसी को चेस खेलना पसंद है। सभी को अपने अपने हिसाब से अपनी उम्र के हिसाब से खेल अच्छे लगते हैं।

सबसे बड़ी सिख हमें यह मिलती है कि वह हमें मित्रता और के साथ रहने की सीख देता है। अगर हम अपनों से बड़ों के साथ खेलते हैं तो वह हमें आदर देने की सीख सिखाता है। अगर हम अपने से छोटों के साथ खेलते हैं तो वह हमें प्यार देने की सीख सिखाता है। हर खेल के हिसाब से उसमें अलग-अलग सीख मिलती है। खेल हमारे व्यक्तित्व को भी निखारता है और हमारे शरीर को स्वस्थ एवं हमारी हड्डियों को भी मजबूत बनाता है।

मेरा प्रिय खेल पर निबंध 850 शब्द में (mera priya khel nibandh in hindi)

प्रस्तावना

खेल हमारे लिए बहुत ही आवश्यक है। सभी का पसंदीदा खेल अलग-अलग होता है। किसी को फुटबॉल पसंद होता है, किसी को बास्केटबॉल, किसी को कबड्डी पसंद होता है तो किसी को बैडमिंटन। इसी प्रकार मेरा प्रिय खेल क्रिकेट है, मुझे क्रिकेट खेलना अत्यंत प्रिय है।

क्रिकेट का इतिहास

क्रिकेट खेल का जन्म ब्रिटेन में हुआ था। भारत में इस खेल को इंग्लैंड के द्वारा शुरू किया गया था। सबसे पहले यह खेल केवल राजा-महाराजाओं और इंग्लैंड के लोगों के बीच में खेला जाता था। लेकिन जब भारत स्वतंत्र हुआ, उसके पश्चात छोटे बच्चों से लेकर बड़े तक इस खेल के दीवाने हो गए हैं।

सबसे पहला मैच 18 जून 1744 में कैंट और लंदन के बीच खेला गया था। 19वीं शताब्दी में पहला अंतरराष्ट्रीय मैच आईसीसी क्रिकेट क्लब द्वारा 10 10 सदस्यों की 2 टीम बनाई गई थी, जिनके बीच मैच हुआ था। इस संस्था का नाम कोलकाता क्रिकेट क्लब था।

क्रिकेट खेलने की प्रक्रिया क्या है?

क्रिकेट के खेल खेलने की प्रक्रिया इस तरीके की है कि दोनों टीम में 11 -11 खिलाड़ी होते हैं और हर टीम में एक या दो एक्स्ट्रा खिलाड़ी भी रखे जाते हैं। अगर अचानक किसी खिलाड़ी को चोट लग जाए तो वह खिलाड़ी खेल सके।

इस खेल की शुरुआत एक अंपायर द्वारा सिक्का उछालना इस प्रक्रिया के द्वारा की जाती है, जो भी टीम टॉस जीत जाती है। वह स्वयं निर्णय करती है कि उसे बैटिंग करनी है या फिर बॉलिंग। इसके पश्चात ही क्रिकेट का खेल शुरू होता है।

बल्लेबाज बल्ले से गेंद को ट्राई करके रन लेता है। उसके बाद चौका या छक्का मारकर रन लेता है। इसी प्रक्रिया को बारी-बारी टीम के द्वारा दोहराया जाता है। जब तक कि ओवर की समाप्ति नहीं हो जाती या कोई टीम आउट नहीं हो जाती।

क्रिकेट के प्रकार

यह खेल कई प्रकार का होता है। यह अंतरराष्ट्रीय पर खेला जाता है। सबसे पहले एकदिवसीय टेस्ट मैच होता है। कुछ वर्षों पहले T20 की शुरुआत की गई। इसके साथ ही कई विभिन्न ट्रॉफेयो का आयोजन होता रहता है। भारत में रणजी ट्रॉफी, रानी झांसी ट्रॉफी, बजे ट्रॉफी, ईरानी ट्रॉफी इत्यादि कई प्रतियोगिताएं रखी जाती है।

क्रिकेट के मुख्य नियम

  • सबसे पहले प्रत्येक टीम में 11 ग्यारह खिलाड़ियों का होना आवश्यक है।
  • खेल को खुले एवं सूखे मैदान में खेला जाता है।
  • मैदान के बीचो-बीच खेलने के लिए पिच बनाई जाती है, जिसके दोनों छोर पर तीन विकेट लगाए जाते हैं, दोनों विकेटों के मध्य की दूरी बराबर होती है।
  • गेंद का वजन कम से कम साढ़े पांच ओस होता है।
  • बेड की चौड़ाई लगभग 4 पॉइंट 25 इंच होती है और लंबाई 38 इंच होती है।
  • इसके दोनों और तीन स्टांप लगाए जाते हैं, हर स्टम्प की चौड़ाई 1 इंच होती है।
  • एक ओवर में छह बॉल से की जाती हैं लेकिन अगर बॉल बाउंस और वाइट चली जाती है तो बल्लेबाजी करने वाली टीम को 1 रन मिल जाता है, इसके अलावा बॉल खेलने का मौका और मिलता है।
  • एक अंतरराष्ट्रीय मैच में दो निर्णायक मैदान में होते हैं और एक निर्णायक मैदान से बाहर होता है। इनका निर्णय आखिरी निर्णय होता है।
  • खेल खेलते समय एक अंपायर जहां से गेंदबाजी होती है, उस विकेट के पास खड़ा होता है और दूसरा एंपायर वहां पर खड़ा होता है, जहां से बल्लेबाजी की जाती है।
  • यदि बल्लेबाज बॉल को बल्ले से मारता है और वह फॉल सीलिंग करने वाली टीम के सदस्य द्वारा कैच कर ली जाती है तो वह खिलाड़ी आउट हो जाता है।
  • अगर बल्लेबाज अपनी क्रेज में नहीं होता तो गेंदबाजी करने वाली टीम पॉल को स्टंपर मार तो खिलाड़ी आउट हो जाता है।
  • यदि गेंदबाज गेंद से विकेट पर हिट करता है और विकेट गिर जाता है तो उसे बोल्ड माना जाता है।

क्रिकेट खेल को खेलने के लाभ

  • क्रिकेट खेलने से शारीरिक और मानसिक विकास होता है।
  • यह खेलने से बच्चों में अनुशासन और परस्पर प्रेम की भावना उत्पन्न होती है।
  • क्रिकेट खेलने से शरीर हष्ट पुष्ट रहता है।
  • क्रिकेट खेलने से बच्चों में एकाग्रता का विकास अच्छी तरह से हो जाता है।
  • यह खेलने से शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है और यह बच्चों के लिए बहुत ही आवश्यक है।

भारतीय टीम के प्रसिद्ध खिलाड़ी

  • सुनील गावस्कर
  • सचिन तेंदुलकर
  • कपिल देव
  • युवराज सिंह
  • महेंद्र सिंह धोनी
  • विराट कोहली
  • वीरेंद्र सहवाग
  • अनिल कुंबले
  • गौतम गंभीर
  • हरभजन सिंह
  • विजय हजारे
  • आशीष नेहरा
  • इरफान पठान
  • सौरव गांगुली
  • राहुल द्रविड़

निष्कर्ष

क्रिकेट विश्व भर में प्रसिद्ध खेले जाने वाला एक ऐसा खेल है, जो कि हर भारतीय द्वारा खेला जाता है। यह दो टीमों के बीच खेला जाता है और यह गेम बहुत ही मनोरंजन करने वाला होता है।

अंतिम शब्द

आज हमने अपने इस लेख में आपको मेरा प्रिय खेल पर निबंध (Mera Priya Khel Eassy In Hindi) के बारे में थोड़ी बहुत जानकारी दी है, जो कि आपके लिए लाभदायक हो सकती है

आशा करते हैं कि आपको हमारा यह लेख मेरा प्रिय खेल हिंदी निबंध (mera priya khel hindi nibandh) पसंद आएगा। अगर आपको इससे संबंधित कोई भी सवाल या सुझाव है तो कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं।

Read Also

इनका नाम राहुल सिंह तंवर है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 4 वर्ष से अधिक SEO का अनुभव है और 6 वर्ष से भी अधिक समय से कंटेंट राइटिंग कर रहे है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जरूर जुड़े।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here