बैडमिंटन पर निबंध

Essay on Badminton in Hindi: ऐसा खेल जो बोल को ऊपर उचानले से या बैडमिंटन रेकेट से खेला जाने वाला गेम हो तो उस गेम को हम बैडमिंटन कहेंगे। इस गेम को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर खेला जाता हैं।

Essay on Badminton in Hindi
Image: Essay on Badminton in Hindi

हम यहां पर अलग-अलग शब्द सीमा में बैडमिंटन पर निबंध (Essay on Badminton in Hindi) शेयर कर रहे हैं। यह निबन्ध सभी कक्षाओं के विद्यार्थियों के लिए मददगार साबित होंगे।

Read Also: हिंदी के महत्वपूर्ण निबंध

बैडमिंटन पर निबंध | Essay on Badminton in Hindi

बैडमिंटन पर निबंध (250 शब्द) 

यह एक सामान्य खेल की तरह ही खेला जाता हैं। यह एक ऐसा खेल हैं, जिसे दो खिलाड़ियों के बीच खेला जाता हैं। इस खेल को खेलने के लिए कोई बड़े मैदान की आवश्यकता भी नहीं होती हैं। इस खेल को खेलने के लिए गार्डन मैदान भी हो तो चल सकता हैं। इस खेल के लिए वर्तमान कई खिलाड़ी हैं, जो काफी चर्चा में रहते हैं। 

मुझे आज भी वे स्कूल के समय के सर्दियो के दिन याद हैं जब हमारे दिन की शुरुआत दो शटल और कॉक द्वारा होती थी। जब हम इस खेल को खेलना शुरू होते हैं तो हम ना तो दिन देखते न रात देखते, हम तो पूरे दिन इसी खेल को खेलते थे।

वर्तमान में भी हम ऐसी ही दुनिया में रहते हैं जब भी किसी और खेलता देखते हैं तो हम भी खेलते हैं। इस गेम को खेलने के लिए फुर्ती की जरुरत होती हैं जो कि आवश्यक हैं। बैडमिंटन खेलने के लिए हम जिन रेकेट क इस्तेमाल करते हैं वो आमतौर पर काफी हलके होते हैं और आसानी से इधर-उधर लाये जा सकते हैं।

इसके साथ ही इस खेल को खेलने के लिए एक शाताल्कोक यानी चिड़िया होती हैं, जो पंखुडियों के सामान होती हैं। यह दोनों सामान इस खेल को खेलने के लिए काफी आवश्यक हैं। यह चिड़िया हलकी प्लास्टिक की पंखुडियों से बनी होती हैं और यह भी काफी हलकी होती हैं। बैडमिंटन खेल को खेलने के लिए इन दोनों के साथ नेट की आवश्यकता होती हैं, जो दोनों खिलाड़ियों के क्षेत्रों के बीच में बाँधा जाता हैं। यह तीन चीजों के साथ यह खेल पूरा होता हैं।

बैडमिंटन पर निबंध (600 शब्द) 

प्रस्तावना

बैडमिंटन एक ऐसा खेल जिसे हम आम भाषा में चिड़ी-बल्ला कहते हैं वो वास्तव में बैडमिंटन के नाम से जाना जाता है। इस खेल की खेलने के लिए 2 खिलाड़ियों की आवश्यकता होती हैं जो एक-दूसरे छोर पर रहते हैं। यह दोनों खिलाड़ी चिड़ी यानी शातार्कोक को बल्ले से यानी रेक्केट से मारते हैं और चिड़ी को एक दूसरे के पाले मे फेकते है।

यह एक सामान्य खेल हैं, जिसके कोई विशेष नियम नहीं हैं परन्तु कुछ ऐसे भी नियम हैं, जिसे हम अक्सर नहीं जानते हैं। कोई खिलाड़ी अगर चिड़ी की दूसरे के पाले ने फेंकते हैं और सामने वाला खिलाड़ी उस वापस फेंकता हैं तो ठीक हैं नहीं तो उसको एक पॉइंट कम मिलता हैं, जिस खिलाड़ी को ज्यादा पॉइंट मिलते हैं वो जीत जाता हैं।

2 खिलाड़ियों के बीच में खेला जाता हैं मैच

यह एक ऐसा खेल हैं जो 2 खिलाड़ियों के बीच खेला जाता हैं ना कि दो टीमों के बीच। इस खेल को खेलने के लिय 2 खिलाड़ी एक दूसरे के सामने खेलते हैं और एक दूसरे से आगे जाने और ज्यादा पॉइंट बनाने के लिए सोचता हैं। इस मैच को खेलने के लिए एक विशेष प्रकार के मैदान की आवश्यकता नहीं होती हैं बल्कि यह इस खेल को गार्डन मैदान में भी आसानी से खेला जा सकता हैं।

आम भाषा में इसे हम चिड़ी बल्ला कहते हैं जबकि वास्तव में इस खेल का नाम बैडमिंटन हैं। इस खेल को अंतर्राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त हैं और इस खेल को अन्तराष्ट्रीय स्तर पर खेला जाता हैं। इस खेल के बारे में काफी कुछ अच्छी बातें हैं।

बैडमिंटन खेलने में मेरी यादे

यह उस समय की बात हैं जब हम स्कूल में पढ़ते थे। हम जब भी स्कूल से वापस आते या जिस दिन स्कूल में अवकाश रहता उस दिन हम पूरे दिन इस खेल को खेलते हैं। इस समय शटल और एक कॉक हमारे हाथ से छुट्टे भी नहीं। हम पूरे दिन इसी खेल को खेलते। हमारे घर के पास एक छोटा सा बगीचा हैं, जिसमें हम रोज सुबह खेलते हैं और अपनी मोज लेते हैं।

बैडमिंटन खेल को खेलने के लिए हमें एक शटलकॉक और एक शटल की आवश्यकता होती हैं, जिसे हम हिंदी में चिड़ी बल्ला कहते हैं। इन चिड़ी बल्ला की सहायता से ही हमारा खेल पूरा करते हैं। इसमें हम बल्ले से यानी शटल से चिड़ी को यानी शटलकॉक को मारते हैं और उसे सामने वाले के पाले में फेंकते हैं।

इस खेल में जो खिलाड़ी ज्यादा बार बोल को नीचे गिरने से बचाता हैं, वो जीत जाता हैं। जिस खिलाड़ी के पाले से बोल में जमीं पर गिरती हैं और वो खिलाड़ी उसे रोक नहीं पाता हैं तो वो खेल में हार जाता हैं।

बैडमिंटन के नियम

राष्ट्रिय और अंतर्राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त इस खेल को खेलने के लिए कुछ नियम होते हैं। इन नियम के अनुसार ही इस खेल को खेला जाता हैं। अन्य खेल की तरह इस खेल के भी नियम हैं, जैसे:

  • इस खेल को 1-1 खिलाडी या 2-2 खिलाड़ी के बीच खेला जाता हैं। यह खिलाड़ी के मैदान के दोनों छोर पर होते हैं। इन खिलाड़ियों के बीच में एक नेट होता हैं।
  • इस खेल में कुल 21 पॉइंट होते हैं। एक खिलाड़ी जब दूसरे खिलाड़ी की ओर मारता हैं और सामने वाला खिलाड़ी जब चिड़ी को वापस मारता हैं तब तक वह गेम सही चलता हैं। अगर कोई खिलाड़ी बोल को मारने से चुक जाता हैं और बोल नीचे गिर जाती हैं तो सामने वाले खिलाड़ी को पॉइंट मिलता हैं। ऐसे जिस खिलाड़ी के पास ज्यादा पॉइंट होते हैं, वह जीत जाता हैं।
  • इन खिलाड़ियों के बीच में एक नेट होता हैं अगर कोई खिलाड़ी बोल मारता हैं और वो बल नेट पर लग जाती हैं तो उस स्तिथि में वह पॉइंट सामने वाले खिलाड़ी को मिलता हैं।
  • इस खेल को खेलने के लिए नियम साधारण होते हैं। अगर कोई इन्हें फॉलो करता है तो वो इस खेल को आसानी से खेला जा सकता हैं।

निष्कर्ष 

राष्ट्रिय और अंतराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त वाला यह खेल 1-1 या 2-2 खिलाड़ियों के बीच खेला जाता हैं। इस खेल को खेलने के लिए शटलकॉक और शटल यानी चिड़ी को बल्ले की आवश्यकता होती हैं। यह एक सामान्य खेल हैं, जिसमें हर कोई हिस्सा ले सकता है और इस खेल को खेल सकता हैं।

अंतिम शब्द 

हमने यहां पर “बैडमिंटन पर निबंध (Essay on Badminton in Hindi)” शेयर किया है। उम्मीद करते हैं कि आपको यह निबंध पसंद आया होगा, इसे आगे शेयर जरूर करें। आपको यह निबन्ध कैसा लगा, हमें कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं।

Read Also

इनका नाम राहुल सिंह तंवर है, इन्होंने स्नातक (रसायन, भौतिक, गणित) की पढ़ाई की है और आगे की भी जारी है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 3 वर्ष से भी अधिक SEO का अनुभव होने के साथ ही 3.5 वर्ष का कंटेंट राइटिंग का अनुभव है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जुड़ सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here