महेंद्र सिंह धोनी पर निबंध

Essay On Mahendra Singh Dhoni In Hindi: हम यहां पर महेंद्र सिंह धोनी पर निबंध शेयर कर रहे है। इस निबंध में महेंद्र सिंह धोनी के संदर्भित सभी माहिति को आपके साथ शेअर किया गया है। यह निबंध सभी कक्षाओं के विद्यार्थियों के लिए मददगार है।

Essay On Mahendra Singh Dhoni In Hindi

Read Also: हिंदी के महत्वपूर्ण निबंध

महेंद्र सिंह धोनी पर निबंध | Essay On Mahendra Singh Dhoni In Hindi

महेंद्र सिंह धोनी पर निबंध (250 शब्द)

क्रिकेट की दुनिया में महेंद्र सिंह धोनी बहुत ही प्रसिद्ध और अच्छे क्रिकेटर रहे हैं। आज महेंद्र सिंह धोनी को पूरी दुनिया अच्छे से जानती है। वह अपनी क्रिकेट की वजह से बहुत प्रसिद्ध हुए हैं। महेंद्र सिंह धोनी ने केवल अपना ही नहीं बल्कि भारत देश को भी गर्व महसूस कराया है। महेंद्र सिंह धोनी के फैंस आज भी यही चाहते हैं कि महेंद्र सिंह धोनी हमेशा खेलते रहे।

धोनी का जन्म सन 1981 में हुआ था। इनका जन्म झारखंड राज्य में हुआ था। इन्होंने अपनी शिक्षा भी इसी राज्य से पूरी की थी। महेंद्र सिंह धोनी ने 12वीं की पढ़ाई पूरी करने के पश्चात सेंट जेवियर कॉलेज में दाखिला लिया था। परंतु धोनी को क्रिकेट में अधिक दिलचस्पी थी, इसके चलते उन्होंने अपनी कॉलेज की पढ़ाई बीच में छोड़ दी थी।

धोनी की माता जी का नाम देवकी देवी है एवं पिताजी का नाम पान सिंह है । धोनी के अलावा इनके परिवार में इनकी एक बहन, एक भाई, पत्नी और एक बेटी भी है।

महेंद्र सिंह को क्रिकेट में अपने स्कूली दिनों से ही रुचि रही है। उन्होंने स्कूल समय से ही क्रिकेट खेलना शुरू कर दिया था। इसके लिए उन्होंने बहुत मेहनत और कठिन परिश्रम भी किया। इसके पश्चात धोनी की मेहनत के बाद उन्हें भारत की टीम में खेलने का मौका मिला और खुद को साबित करने का मौका दिया गया। इसी के चलते उन्होंने क्रिकेट के क्षेत्र में खुद को साबित भी कर दिखाया। महेंद्र सिंह धोनी को कई पुरस्कारों से भी सम्मानित किया गया है। 11 सितंबर से 4 जनवरी 2007 तक महेंद्र सिंह धोनी भारतीय क्रिकेट टीम के कैप्टन रहे थे।

महेंद्र सिंह धोनी पर निबंध (850 शब्द)

प्रस्तावना

महेंद्र सिंह धोनी क्रिकेट दुनिया के वह सितारे है, जिनके नाम से हर कोई परिचित है। इन्होंने अपनी पहचान खुद बनाई है। महेंद्र सिंह धोनी को उनके फैंस ने प्यार और सम्मान देने के लिए ‘माही’ कह कर पुकारते हैं। महेंद्र सिंह धोनी भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान रह चुके हैं। माही का जन्म 7 जुलाई 1981 को हुआ था। इनका जन्म स्थान रांची झारखंड है। धोनी के अलावा इनकी एक बहन है, जिसका नाम है जयंती गुप्ता। इसके अलावा इनका एक भाई भी है, जिसका नाम है, नरेंद्र सिंह धोनी। महेंद्र सिंह धोनी के पिता का नाम पान सिंह है और माता का नाम देवकी देवी है।

क्रिकेट की दुनिया में पहला कदम?

महेंद्र सिंह धोनी ने अपना पहला कदम क्रिकेट की टीम में 2004 में बांग्लादेश के खिलाफ रखा था। उन्होंने बांग्लादेश के खिलाफ अपना पहला टेस्ट मैच खेला था।

क्रिकेट खेलने से पहले महेंद्र सिंह धोनी फुटबॉल टीम के गोलकीपर रह चुके थे और माही को शानदार बैडमिंटन खिलाड़ी भी माना जाता है। जब महेंद्र सिंह धोनी अपनी टीम के लिए फुटबॉल का मैच खेल रहे थे, तब महेंद्र सिंह धोनी के कोच ने माही को क्रिकेट खेलने के लिए प्रेरित किया। अपने कोच के प्रोत्साहन से ही महेंद्र सिंह धोनी ने क्रिकेट खेलना शुरू किया था।

क्यों कहा जाता है “कैप्टन कूल”?

महेंद्र सिंह धोनी को उनके फैंस के द्वारा ‘कूल कैप्टन’ भी कहा जाता है क्योंकि वह बहुत ही शांत स्वभाव के हैं। कैसी भी परिस्थिति हो तनाव की स्थिति में भी, वह शांत, आत्मविश्वास, एवं गंभीर से भरे रहते हैं। यह गुण हर किसी इंसान में नहीं पाया जाता है। कई लोग मुश्किल परिस्थिति में घबरा जाते हैं और गुस्सा करते हैं। परंतु महेंद्र सिंह धोनी हमेशा शांति पूर्वक, सोच विचार कर के काम करते हैं और अपनी हार को भी जीत में बदल देते हैं। महेंद्र सिंह धोनी के लिए एक कहावत कहीं जाती है की, “जो अनहोनी को भी कर दे होनी, वही है महेंद्र सिंह धोनी”।

कैसे बने सफल कप्तान?

महेंद्र सिंह धोनी बहुत ही सफल कप्तान बने। उन्होंने अपने जीवन में काफी सफलताएं हासिल की। जिसका श्रेय उनको खुद को जाता है और उनके माता-पिता को जाता है क्योंकि उनकी हौसले की वजह से ही माही सफल कप्तान बन पाए। ऐसा माना जाता है कि माही जिस चीज को छू लेते हैं, वह सोने में बदल जाती है। ऐसा ही हुआ है, जब से महेंद्र सिंह धोनी भारतीय क्रिकेट टीम में शामिल हुए थे और भारतीय टीम के कप्तान बने थे, तब से भारतीय क्रिकेट टीम का प्रदर्शन बेहतर होने लगा। उन्हीं की कप्तानी की वजह से विश्व कप से लेकर चैंपियन ट्रॉफी और 20- 20 विश्व कप जैसे बड़े अवार्ड जीते हैं।

महेंद्र सिंह धोनी की छवि कैसी है?

उन्होंने भारतीय लोगों में अपनी एक अलग ही छवि और पहचान बना रखी है। जिसकी जगह कोई क्रिकेटर नहीं ले सकता है। महेंद्र सिंह धोनी को भी सचिन तेंदुलकर और राहुल द्रविड़ जैसे क्रिकेटरों की गिनती में गिना जाता है। जैसे सचिन और राहुल ने अपने आप को इतने वर्षों तक घोटालों आरोपों और मुकदमों, इत्यादि इन सब से दूर रखा, उसी तरह से महेंद्र सिंह धोनी की भी छवि है। वह भी अपने आत्मसम्मान के लिए जाने जाते हैं।

महेंद्र सिंह धोनी नवाजे गए सम्मान और पुरस्कार से

  •  2007 में राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार से नवाजा गया।
  • 2008 और 2009 में ICC ODI प्लेयर ऑफ द ईयर के पुरस्कार से नवाजा गया।
  • 2009 में पदम श्री अवार्ड से नवाजा गया।
  • 2011 में दी मोटपोट विश्वविद्यालय से डॉक्टरेट की मानद उपाधि से सम्मानित किया गया।
  • 2013 में एलजी पीपुल्स च्वाइस अवार्ड से नवाजा गया।
  • 2018 में पद्म भूषण अवार्ड से नवाजा गया।

महेंद्र सिंह धोनी के बारे में कुछ रोचक तथ्य

  • माही अकेले ऐसे कप्तान हैं, जिन्होंने आईसीसी की तीनों बड़ी ट्रॉफी पर कब्जा जमाया है। माही की कप्तानी में भारत आईसीसी की वर्ल्ड टी20 2007 में, क्रिकेट वर्ल्ड कप 2011 में, और आईसीसी चैंपियन ट्रॉफी 2013 में जीत चुके हैं।
  • माही को क्रिकेट के अलावा मोटर रेसिंग का भी बहुत ज्यादा शौक रहा है।
  • धोनी अपने बालों के स्टाइल के लिए सबसे ज्यादा मशहूर रहे हैं। महेंद्र सिंह धोनी को लंबे बालों के लिए जाना जाता है, लेकिन वह समय समय पर अपना हेयर स्टाइल बदलते रहते हैं। ऐसा भी सुनने में आया है, कि महेंद्र सिंह धोनी जॉन इब्राहिम के बालों के दीवाने हैं।
  • माही 2011 में भारतीय सेना में मानद लेफ्टिनेंट कर्नल भी बनाए गए थे। इसके चलते माही कई बार कह भी चुके हैं कि वह भारतीय सेना में शामिल होने का बचपन से ही सपना रखते थे।
  • 2015 में आगरा में स्थित भारतीय सेना का जो पेरा रेजिमेंट लगाया गया था, वहां पर पैरा जंप लगाने वाले पहले पोस्ट पर्सन महेंद्र सिंह धोनी बने थे। उन्होंने इसकी ट्रेनिंग स्कूल में ली थी। वहां पर महेंद्र सिंह धोनी ने 15000 फीट की ऊंचाई से पांच छलांग लगाई थी।
  • महेंद्र सिंह धोनी बाइक के इतने दीवाने हैं कि उनके पास कम से कम 2 दर्जन बाइक मौजूद है। इसके अलावा उन्हें कार का भी शौक है, उनके पास कई महंगी कारें भी मौजूद है।
  • कई खबरों के अनुसार महेंद्र सिंह धोनी का नाम कई अभिनेत्रियों से भी जोड़ा गया था, लेकिन 4 जुलाई 2010 को महेंद्र सिंह धोनी ने देहरादून की साक्षी रावत से शादी की थी। माही और साक्षी की एक बेटी भी है।

निष्कर्ष

महेंद्र सिंह धोनी अब किसी पहचान के मोहताज नहीं है। वह भारतीय क्रिकेट टीम के सबसे अच्छे खिलाड़ी रहे हैं। उन्होंने खुद को साबित किया है कि वह भारतीय क्रिकेट टीम के लिए बेहतर खिलाड़ी है। महेंद्र सिंह धोनी ने अपनी मेहनत और इमानदारी से भारतीय क्रिकेट टीम में खुद को स्थापित किया है। ऐसी सफलता के लिए हर किसी इंसान को प्रयत्न करते रहना चाहिए। महेंद्र सिंह धोनी पर भारत को गर्व है।

अंतिम शब्द

आज के आर्टिकल में हमने  महेंद्र सिंह धोनी पर निबंध (Essay On Mahendra Singh Dhoni In Hindi) के बारे में बात की है। मुझे पूरी उम्मीद है की हमारे द्वारा लिखा गया यह आर्टिकल आपको पसंद आया होगा। यदि किसी व्यक्ति को इस आर्टिकल में कोई शंका है। तो वह हमें कमेंट में पूछ सकता है।

Read Also:

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here