कान में तेल डालना मुहावरे का अर्थ और वाक्य प्रयोग

कान में तेल डालना मुहावरे का अर्थ और वाक्य प्रयोग (kaan mein tel daalana Muhavara ka arth)

कान में तेल डालना मुहावरे का अर्थ – बात न सुनना, किसी बात को न सुनने की इच्छा, चुप्पी साध कर बैठे रहना, कुछ भी न सुनना, किसी की बात न सुनना, कुछ भी न सुनना।

kaan mein tel daalana Muhavara ka arth – baat na sunana, kisee baat ko na sunane kee ichchha, chuppee saadh kar baithe rahana, kuchh bhee na sunana, kisee kee baat na sunana, kuchh bhee na sunana.

दिए गए मुहावरे का हिंदी में वाक्य प्रयोग

वाक्य प्रयोग: मोहन को उसकी मां कितना भी कुछ कह ले लेकिन उसने एक भी बात नहीं सुननी है वह चुपचाप होकर बैठा रहता है ऐसा लगता है मानो कि उसने अपने कान में तेल डाल दिया हो।

वाक्य प्रयोग: आज शिक्षक ने अपने क्लास में सभी बच्चों को एक सवाल का जवाब देने को कहा लेकिन सभी बच्चे बिल्कुल शांत और चुपचाप बैठे थे कोई भी सवाल का जवाब नहीं दे रहा था सामान ऐसा लग रहा था कि जैसे सभी बच्चे ने कान में तेल डाल दिया हो।

वाक्य प्रयोग: सोहनलाल हमेशा हालत में भरा रहता है और उसे कोई भी कुछ कह दे वह अपने कान में तेल डाले बैठा रहता है तो उसके परिवार वाले से समझाते हैं कि तुम अगर ऐसे ही किसी भी चीज की जरूरत के लिए नहीं खड़े होगे तो कोई भी तुम्हारी मदद के लिए सामने नहीं आएगा।

वाक्य प्रयोग: सोहन को उसके मित्र कई घंटों से चिल्लाकर बुला रहे थे लेकिन सोहन तो अपने कान में तेल डाल रखा था और उधर उसका दोस्त गला फाड़कर चिल्लाए जा रहा था।

यहां हमने “कान में तेल डालना” जैसे बहुचर्चित मुहावरे का अर्थ और उसके वाक्य प्रयोग को समझा। कान में तेल डालना मुहावरे का अर्थ होता है कि जब कोई व्यक्ति किसी व्यक्ति का बात ना सुनता हो, किसी भी व्यक्ति के बात को सुनने के बाद भी अनसुना कर देता हो या कुछ भी ना सुनता हो। इसका उदाहरण है कि जब सोहन को उसके मित्र कई घंटों से चिल्ला रहे थे तब भी सोहन उसके बातों का कोई जवाब नहीं दे रहा था ऐसा लग रहा था मानो सोहन ने अपने कान में तेल डाल रखा है और उधर उसका दोस्त गला फाड़ फाड़ कर चिल्लाए जा रहा है। चुकी यह मुहावरा है और मुहावरा और असामान्य अर्थ प्रकट करता है इसीलिए यहां इस मुहावरे का अर्थ दोहरा लाभ प्राप्त करने से हैं।

मुहावरे परीक्षाओं में मुख्य विषय के रूप में पूछे जाते हैं। एक शब्द के कई मुहावरे हो सकते हैं।यह जरूरी नहीं कि परीक्षा में यहाँ पहले दिये गए मुहावरे ही पूछा जाए। परीक्षा में सभी किसी का भी मुहावरे पूछा जा सकता है।

मुहावरे का अपना एक भाग है प्रत्येक पाठ्यक्रम में, छोटी और बड़ी कक्षाओं में मुहावरे पढ़ाया जाता है, कंठस्थ किया जाता है। प्रतियोगी परीक्षाओं में यह एक मुख्य विषय के रूप में पूछा जाता है और महत्व दिया जाता है।

परीक्षा के दृष्टिकोण से मुहावरे बहुत महत्वपूर्ण होते हैं। सभी प्रतियोगी परीक्षाओं में मुहावरे का अपना-अपना भाग होता है। चाहे वह पेपर हिंदी में हो या अंग्रेजी में यहां तक कि संस्कृत में भी मुहावरे पूछे जाते हैं।

मुहावरे कोई बहुत कठिन विषय नहीं है। यदि इसे ध्यान से समझा जाए तो याद करने की भी आवश्यकता नहीं होती है। इसे समझ समझ कर ही लिखा जा सकता है।

अन्य महत्वपूर्ण मुहावरे और उनका वाक्य प्रयोग

आपे से बाहर होनाआकाश-पाताल एक करना
आकाश-पाताल एक करनाअपने पाँव पर आप कुल्हाड़ी मारना
आपे से बाहर होनाकठपुतली बनना

1000+ हिंदी मुहावरों के अर्थ और वाक्य प्रयोग का विशाल संग्रह 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here