सूर्योदय पर निबंध

Essay on Sunrise in Hindi: सूर्योदय जब होता है,तब नजारा कुछ अलग होता है। सूर्योदय दर्शन को लोग धार्मिक रूप में भी मानते हैं और लाखों लोग सुबह सुबह सूर्योदय दर्शन की प्रक्रिया को संपन्न भी करते हैं। हम यहां पर सूर्योदय पर निबंध शेयर कर रहे है। इस निबंध में सूर्योदय के संदर्भित सभी माहिति को आपके साथ शेअर किया गया है। यह निबंध सभी कक्षाओं के विद्यार्थियों के लिए मददगार है।

Essay on Sunrise in Hindi

Read Also: हिंदी के महत्वपूर्ण निबंध

सूर्योदय पर निबंध | Essay on Sunrise in Hindi

सूर्योदय पर निबंध (250 शब्द)

यह लोगों के लिए फायदेमंद होता है और सुबह का दृश्य बहुत ही मनमोहक भी होता है। सवेरे उठ कर जब सूर्य के तरफ देखते है, तो सूर्य की लालिमा पूरे आकाश में फैली होती है और धीरे धीरे सूर्य की किरणे रोशनी व प्रकाश देना शुरू करती है। सुबह के समय वायु में सिद्ध हवा का संचार होता है। इसलिए रोजाना लोग सुबह उठकर बाहर टहलने जाते है। सुबह उठकर टहलना और व्यायाम करने से शरीर में रक्त संचार सही मात्रा में होती है और व्यक्ति स्वस्थ रहता है।

दिन की शुरुआत सूर्योदय के सुंदर किरणों से होती है, तो पूरा दिन मन शांत रहता है और व्यक्ति अपने कार्यों में मन लगाकर काम कर पता है। इस समय बच्चे बड़े बड़े मैदानों में क्रिकेट और फुटबाल खेलने जाते है, जो कि इनको दिन भर तंदरुस्त रखता है। सूर्योदय के समय पेड़ भी अपना कार्य करना शुरू करते है। सुबह उठकर बगीचे में जब टेहेलने निकलते है। तो बगीचे के छोटे छोटे पौधे और फूलों की कलियों में अलग सी ऊर्जा रहती है, जो व्यक्ति को आकर्षित करती है। पत्तों पर गिरी हुई ओस की बूंदे हीरे मोतीयों के तरह चमकती है और छूने पर गिर जाती है।

सूर्योदय का दृश्य मन को मोह लेता है, यह दृश्य बार बार देखने का मन करता है। परंतु इसके लिए अगली सुबह का इंतज़ार रहता है। लोग रोजाना सुबह उठकर यह दृश्य देखने के चाह में उठते है और साथ ही व्यायाम और सूर्य को नमस्कार करके अपने दिन की शुरुवात करते है।

सूर्योदय पर निबंध (800 शब्द)

प्रस्तावना

प्रकृति ने हमें बहुत सारी अनमोल चीजें प्रदान की हैं। जिनकी हम जितनी प्रशंसा करें उतनी कम हैं जैसे ठंडी हवा, पानी, सूर्य की रोशनी सुबह-सुबह सूर्य की रोशनी बहुत ही ज्यादा सुंदर दिखाई देती हैं। जब सूर्य उदय होता है चारों और बहुत ही प्यारी -प्यारी आवाजे सुनाई देती हैं। पक्षी सुंदर-सुंदर गीत गाते हैं और कई जानवरों की आवाज सुनाई देती हैं।
हमें सूर्योदय से पहले जगना चाहिए और रोजाना सूर्य दर्शन करने चाहिए। सूर्यदेव को प्रणाम करना चाहिए जिससे कि हम रोग मुक्त हो सकें। सूर्योदय के साथ ही लोग मंदिर पूजा करने जाते हैं। सुबह के समय प्रकृति अपने सबसे खूबसूरत स्वरूप में होती हैं। सूर्योदय अपने साथ नवीन उमंग और उत्साह लेकर आता हैं।

हिन्दू धर्म में सूर्य का स्थान

हिंदू धर्म मैं लोग सूर्य को भगवान की तरह पूजते हैं। सुबह उठकर स्नानादि से निवृत्त होकर सूर्य को जल चढ़ाते हैं। सूर्योदय पावन वेला हैं। उस समय हर व्यक्ति का मन शुद्ध होता हैं। नई शुरुआत करने का यह सुनहरा मौका होता हैं।
सूर्योदय के समय वायु शुद्ध होने के कारण लोग सैर -सपाटे के लिए बागों में घूमने जाया करते हैं।

इसके साथ ही कुछ लोग सूर्योदय के समय बाग -बगीचे में घूमने के साथ-साथ योग व प्राणायाम भी करते हैं। कुछ लोग सूर्योदय के समय भजन सुनना पसंद करते हैं ताकि उनका दिन अच्छा बीते और उन्हें सकारात्मक ऊर्जा प्राप्त हो।
सूर्य की विशेषताएं- सूर्य सौरमंडल का सबसे तेज चमकने वाला सितारा हैं। वैसे हमारी पृथ्वी से सूर्य की दूरी 15 किलोमीटर हैं यह दूरी काफी हैं परंतु यह फिर भी यह हमें तेज रोशनी देता हैं। सूर्य पृथ्वी से देखने में भले ही हमें छोटे लगता हैं परंतु इसका कर बहुत ही बड़ा हैं। इतना बड़ा होता हैं कि उसका प्रकाश हमारे तक बहुत ही आसानी से पहुंच जाता हैं।

सूर्योदय के समय माहौल

जब सूर्योदय होता है। तो हमें पता चलता है, कि सवेरा हो गया हैं। सूर्य का उदय पूर्व दिशा में होता हैं। जब सूर्य का उदय होता हैं तो वह लाल रंग का बहुत ही सुंदर प्रतीत होता हैं। सुबह के समय हमें सूर्य बड़ा दिखाई देता हैं वहीं दोपहर के समय हमें छोटा।

उसके आकार में परिवर्तन नहीं होता हैं। बल्कि दोपहर मैं उसका प्रकाश की तेज होने के कारण हम उसे सही तरह से देख नहीं पाते इसलिए हमें छोटा दिखा देता हैं। इस समय हम सूर्य को सीधा दे सकते हैं। वह इतना गरम नहीं होता हैं। वह पूरे आसमान को लाली देता हैं और सब को जगाता हैं। गर्मी में सूर्य के तेज रोशनी हमें अवश्य पीडा़ देती हैं। सर्दी में वह हमें धूप देकर सुकून देता हैं। सुरज हमेशा लोगों को हर सुबह के साथ अपनी ही तरह चमकने के लिए प्रेरित करता हैं।

सूर्य नमस्कार

सूर्योदय के समय अक्सर बड़े, बूढ़ों ,बच्चों को सुरज को नमस्कार करते हुए देखेते हैं। सुबह के समय सूर्य नमस्कार हमारी संस्कृति मे प्राचीन काल से चला आ रहा हैं। कई स्कूलों में प्रार्थना के समय सूर्य नमस्कार करवाया जाता हैं। हमारे अध्यापक भी हमें सूर्योदय के समय सूर्य नमस्कार के महत्व को समझाते हैं। बच्चों को उनके लाभ बताते तथा सभी को सूर्यनमस्कार करवाते हैं।

सूर्योदय का महत्व

हमें सूर्योदय से नवीन ऊर्जा प्राप्त होती हैं। सूर्योदय के वक्त हम कल को भूल कर नये आज की शुरुआत करते हैं। सूर्योदय के समय सूर्य से निकलती हुई किरणें हममें नवीनतम ऊर्जा का संचार करती हैं। जो व्यक्ति जल्दी उठकर सूर्योदय के समय सूर्य की किरणों को अपने शरीर पर पड़ने देता हैं वह व्यक्ति हमेशा रोग मुक्त रहता हैं।

सूर्योदय के समय सूर्य के महत्व को हमारे देश में प्राचीन समय से ही बताया गया हैं। सूर्योदय के समय दोपहर की तुलना में शोर -सराबा कम होता हैं चारो और शांति होती हैं। सूर्योदय के समय उठकर हमें नियमित रूप से व्यायाम करना चाहिए। इससे हमारा शरीर तंदुरुस्त रहता हैं।

शरीर के लिए सूर्योदय दर्शन के समय योगा करना जिससे शरीर को काफी शांति मिलती है। और सुबह के समय योगा करने से शरीर में रक्त का परिसंचरण नियमित रूप से चलता रहता है।

सूर्योदय दर्शन करने का तरीका

अलग अलग व्यक्ति अलग-अलग रूप के दर्शन करना पसंद करता है। सूर्योदय दर्शन के रूप में व्यक्ति सुबह उठकर पानी से एक लोटा भर कर सूर्य भगवान के सामने चढ़ाते हैं और मंत्र का जाप करते हैं। तो कई व्यक्ति सिर्फ ऐसे ही सूर्य भगवान् को हाथ जोड़कर उन्हें नमस्कार करते हैं।

निष्कर्ष

सूर्योदय दर्शन करना बहुत ही जरूरी है। सुबह के समय यदि इंसान सूर्योदय से पहले उठकर सूर्योदय दर्शन करता है। तो इंसान का शरीर काफी एक्टिव रहता है और सूर्य देव दर्शन के समय योगा करना भी शरीर के लिए अच्छा रहता है। शरीर में रक्त परिसंचरण नियमित रहता है।

अंतिम शब्द

आज का आर्टिकल जिसमें हमने सूर्योदय पर निबंध (Essay on Sunrise in Hindi) के बारे में संपूर्ण जानकारी आप तक पहुंचाई है। हमें पूरी उम्मीद है। कि हमारे द्वारा दी गई जानकारी आपको पसंद आई होगी यदि किसी व्यक्ति को इस आर्टिकल से जुड़ा कोई भी सवाल है। तो वह हमें कमेंट के माध्यम से बता सकता है।

Read Also:

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here