भारतीय थल सेना पर निबंध

Essay on Indian Army in Hindi : देश के दुश्मनों से लड़ने के लिए हमारे देश में कई तरह की आर्मी काम करती हैं जैसे जल सेना, वायु सेना, थल सेना इतियादी। इन्ही सब में से एक मुख्य सेना जो पुरे विश्व में Indian army के नाम से जानी जाती हैं। यह हमारे देश की मुख्य सेनाओं में से एक हैं। इस निबंध में आपको भारतीय थल सेना पर निबंध अलग – अलग शब्द में बताने जा रहे हैं। यह निबंध आपके लिए हर परीक्षा के लिए उपयोगी साबित होगा। 

Essay-on-India-Army-In-Hindi

Read Also: हिंदी के महत्वपूर्ण निबंध

भारतीय थल सेना पर निबंध | Essay on India Army In Hindi

भारतीय थल सेना पर निबंध ( 250 शब्द ) 

हमारे देश में देश की रक्षा के लिए कई प्रकार की सेनाएं तैनात हैं। जैसे की जल सेना, थल सेना, वायु सेना इतियादी। यह तीनों सेनाएं हमारे देश के लिए एक रक्षा कवच के रूप में काम करते हैं। हमें हमारे देश की सेना पर हमेशा गर्व होना चाहिए। 

हमारे देश की आर्मी जब वर्दी पहन कर चलती हैं, तो उसके साथ ही हमें देश की ताकत देखने को मिलती हैं। थल सेना आज पुरे देश की सीमा पर तैनात हैं। हमारे देश की सेना चाहे वो कोई भी हो देश की रक्षा और सुरक्षा करने के लिए हमेशा तैयार रहती हैं। 

देश की सेना देश और देश के नागरिकों की सुरक्षा के लिए समर्पित हैं। जल सेना, थल सेना, वायु सेना यह तीनों हमारे देश की सहस्त्र सेना हैं। हमारे देश की रक्षा का जिम्मा हमारी प्यारी आर्मी के हाथ ही हैं। 

सेना की सर्वोच्च हमारे देश में राष्ट्रपति के हाथों में होती हैं, जो की अप्रत्यक्ष रूप से देश के प्रधानमंत्री के अनुसार चलती हैं। थल सेना देश की सीमा पर कई अन्य देशों से जैसे पाकिस्तान, चीन, नेपाल, भूटान, बांग्लादेश इतियादी से रक्षा करती हैं। 

किसी भी प्राकृतिक आपदा और परेशानी में भी हमारे देश की सेना हमारी रक्षा करने के लिए हमेशा तट पर रहती हैं। थल सेना केवल आर्मी ही नही, इसके अलावा गोरिला सेना और इसके अलावा और भी कई प्रकार की सेना होती हैं, जो हमारी रक्षा के लिए समर्पित होती हैं।

भारतीय थल सेना पर निबंध ( 600 शब्द ) 

प्रस्तावना 

हमारे देश में देश की सीमा की रक्षा करने के लिए जल सेना, थल सेना और वायु सेना काम करती हैं। इसके अलावा देश की आंतरिक सुरक्षा करने के लिए पुलिस, होम गार्ड और कई गुप्त एजेंसियां काम करती हैं। 

यह तीनों सेना हमारे देश की सुरक्षा के लिए समर्पित हैं। वही इन सेनाओं में थल सेना का महत्त्व ज्यादा बढ़ जाता हैं। हमारे देश की स्थलीय सीमा पर सुरक्षा के लिए थल सेना ही काम करती हैं। 

भारतीय थल सेना का महत्त्व 

यह सेना हमारे देश की सभी सेनाओं में सबसे सक्रीय मानी जाती हैं। भारतीय थल सेना देश के नागरिकों को सबसे पहली सुरक्षा प्रदान करती हैं। देश की यह आर्मी बिना खुद के बारे में सोचे देश की रक्षा करने के लिए सबसे पहले आगे रहती हैं। देश में संकट के समय हमारे देश की थल सेना सबसे पहले नागरिको की सुरक्षा के बारे में सोचती हैं। प्रकृति आपदाओं जैसे बाढ़, बरसात इतियादी में बिना हिचकिचाहट के सबसे पहले आगे रहती हैं। किसी भी मौसम में देश की सुरक्षा के बारे में सोचती है। 

भारतीय सेना में महिलाओं का वर्चस्व

देश की सेना में भारत की बेटियां भी अपना कर्तव्य निभा रही हैं। भारतीय सेना देश की महिलाओं को बड़े अवसर प्रदान करती हैं। भारतीय सेना में महिलाओं की भूमिका तब शुरू हुई, जब 1888 में “भारतीय सैन्य नर्सिंग सेवा” का गठन किया गया और वे प्रथम विश्व युद्ध और द्वितीय में लड़ीं। जहाँ भारतीय सेना की नर्सें या तो मर गईं थीं या युद्ध के कैदी या कार्रवाई में लापता घोषित हो गईं थी।

भारतीय सेना के उपकरण

दुनिया की सबसे ताकतवर सेनाओं में गिनी जाने वाली भारतीय सेना के पास आज के ज़माने के आधुनिक हथियार हैं, जो हमारे देश की आर्मी को और भी मजबूत और ताकतवर बनाता हैं। भारतीय के सेना के पास मौजूद सभी हथियार आयात किये गये हैं। परन्तु इसके अलावा स्वदेशी उपकरण भी बनाये जा रहे हैं। रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन ने भारतीय सेना के लिए छोटे हथियारों, तोपखाने, राडार और शस्त्रागार से लेकर कई हथियारों का विकास किया है। सभी भारतीय सैन्य छोटे हथियारों का निर्माण आयुध कारखानों बोर्ड के छत्र प्रशासन के तहत किया जाता है। बन्दूक निर्माण प्रमुखतः कानपुर, जबलपुर और तिरुचिरापल्ली में सभी सुविधाओं के साथ होता है।

भारतीय सेना के युद्ध

देश की आजादी के बाद भारतीय सेना ने कई कारनामे किये हैं। भारत ने कई युद्ध भी लड़े हैं। इन युद्ध में कुछ मुख्य निम्न हैं। इन युद्ध में भारतीय सेना की ताकत पूरी दुनिया ने देखी हैं। इन युद्धों की जानकारी आगे बताई गई हैं। 

  • कश्मीर युद्ध 1947 – भारतीय सेना ने सबसे पहला युद्ध भारत के राज्य कश्मीर के लिए लड़ा था। 1947 में हमारे पडोसी देश पाकिस्तान ने कश्मीर पर हमला किया था। इस युद्ध में भारतीय सेना ने कश्मीर में पाकिस्तान से युद्ध किया था और पाकिस्तान की सेना तो खदेड़ दिया था। 
  • पाकिस्तान और भारत युद्ध 1965, 1971, 1999 – पाकिस्तान ने भारत से तीन बार युद्ध किया था। इन तीनों युद्ध में पाकिस्तान को भारत के हाथों मुक्की खानी पड़ी थी। 
  • भारत और चीन युद्ध 1967 – पूर्वी भारत में इस बात की हमेशा से ही चिंता बनी रहती हैं की कब देश का दुश्मन हमला कर दे, ऐसे ही हमारे पडोसी देश चीन की सेना सिक्किम में घुस गई थी। इसमें भी भारतीय सेना ने डट कर मुकाबला किया और चीन की सेना सिक्किम से भाग कड़ी हुई। 

निष्कर्ष

हमारे देश की रक्षा के लिए हमेशा तत्पर रहने वाली भारतीय थल सेना हमारे देश की सभी सेनाओं में से सबसे महत्वपूर्ण मानी जाती हैं। हमें हमारी देश की सेना पर गर्व होना चाहिए।

अंतिम शब्द  

हमने यहां पर “भारतीय थल सेना पर निबंध (Essay on Indian Army)” शेयर किया है। उम्मीद करते हैं कि आपको यह निबंध पसंद आया होगा, इसे आगे शेयर जरूर करें। आपको यह निबन्ध कैसा लगा, हमें कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं।

Read Also:

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here