बाढ़ पर निबंध

Essay on Flood in Hindi: बाढ़ एक भयानक प्राकृतिक आपदा है, जिससे हर साल दुनिया के कई भागों में बरसात के मौसम में बाढ़ से जान माल का नुकसान होता है। बाढ़ से ना केवल उस जगह की आर्थिक स्थिति खराब हो जाती है बल्कि कई लोगों की मृत्यु भी हो जाती है और कई खतरनाक बीमारी भी उत्पन्न हो जाते हैं।

दुनिया में कुछ क्षेत्र ऐसे हैं, जो हमेशा ही बाढ़ से प्रभावित रहते हैं। बाढ़ का कारण होता है पानी की भारी मात्रा में अति प्रवाह। जब किसी क्षेत्र में पानी निकासी के लिए सही सुविधा ना हो तो ऐसे क्षेत्रों में अत्यधिक बारिश होने से बाढ आ जाती है।

नदी किनारे बसा कोई स्थान जहां पर पानी निकासी की सुविधा ना की गई हो, वहां पर हर साल बारिश के मौसम में नदी का स्तर ऊपर हो जाने से बाढ आ जाती है उदाहरण के लिए बिहार में अक्सर कोसी नदी से बाढ़ की संभावना बढ़ जाती है।

Essay on Flood in Hindi

यहां पर हम बाढ़ पर निबंध इन हिंदी (Badh Par Nibandh) शेयर कर रहे हैं। यह निबंध कक्षा 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11, 12 और उच्च शिक्षा के विद्यार्थियों के लिए मददगार साबित होगा।

यह भी पढ़े: हिंदी के महत्वपूर्ण निबंध

बाढ़ पर 250 शब्दों में निबंध (Flood Essay in Hindi)

बाढ ऐसी प्राकृतिक आपदा है, जो किसी क्षेत्र में अत्यधिक पानी के जमाव के कारण होता है। जब कभी अत्यधिक बारिश होती है और किसी क्षेत्र में पानी निकासी की सही व्यवस्था नहीं होती तब पानी दिन प्रतिदिन इकट्ठा होते जाता है और बाढ़ का रूप ले लेता है। बाढ़ के कारण लोगों के दैनिक क्रिया में काफी बाधा पड़ती है।

बाढ़ प्रभावित क्षेत्र में लोग अपने घर से बाहर नहीं जा पाते, उन्हें घर में हीं कई दिनों तक रहना पड़ता है। यहां तक कि लोगों के घरों को भी नुकसान होता है। इसके अतिरिक्त लोगों की संपत्ति भी बाढ़ के कारण काफी हद तक नष्ट हो जाती है। बाढ़ के कारण कई लोगों के घर डूब जाते हैं और कई लोगों की मृत्यु भी हो जाती है।

बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में कई लोगों को कई दिनों तक भूखे रहना पड़ता है। बाढ प्रभावित क्षेत्रों में बिजली पानी की सुविधा भी बंद कर दी जाती है। बाढ़ के कारण आर्थिक स्थिति खराब हो जाती है और चीजों की आपूर्ति कम होने के कारण महंगाई बढ़ने लगती हैं। यहां तक कि बाढ़ के पानी की निकासी होने के बावजूद सबसे बड़ी समस्या बनी रहती है, वह यह कि बाढ़ के पानी के कारण कई प्रकार की बीमारियां उत्पन्न हो जाती है। इस तरह बाढ़ के कारण काफी नुकसान होता है।

भारत में बिहार, उत्तर प्रदेश, बंगाल, महाराष्ट्र, पंजाब मुंबई, उड़ीसा, आंध्र प्रदेश जैसे कई राज्य हैं, जो अक्सर बाढ़ के शिकार बन जाते हैं। बिहार में अक्सर वर्षा ऋतु में कोसी नदी के कारण बाढ आ जाती है, जिसके कारण इसे बिहार का शोक भी कहा जाता है। हालांकि बाहर को रोक तो नहीं सकते लेकिन बाढ़ से होने वाले नुकसान को कम किया जा सकता है।

बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में विशेष तकनीकी का इस्तेमाल करके बाढ़ पर नियंत्रण पाया जा सकता है। बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में बाढ़ की संभावना होने पर उन्हें पहले से ही सूचना दे दी जानी चाहिए ताकि वे अन्य जगह पर कुछ दिनों के लिए स्थानांतरित हो जाए और खाने-पीने के सामानों को स्टोर करके रख सकें। बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में प्रशासन को पानी निकासी की सही व्यवस्था करानी चाहिए ताकि ज्यादा दिनों तक बाढ़ का पानी इकट्ठा ना रहे।

badh per nibandh
Image: badh per nibandh

बाढ़ के ऊपर 800 शब्दों में निबंध (Baad Par Nibandh)

प्रस्तावना

बाढ एक भयंकर प्राकृतिक आपदा है। हर साल वर्षा ऋतु में कई क्षेत्रों में बाढ़ आने की संभावना बढ़ जाती है। बाढ का मुख्य कारण प्रदूषण है। पर्यावरण प्रदूषण के कारण कभी अकाल पड़ जाता है तो कभी अत्यधिक बारिश होने लगती है। अत्यधिक बारिश के कारण नदी, तालाब इत्यादि स्त्रोतों के पानी का स्तर बढ़ जाता है, जिससे कई क्षेत्रों में बाढ़ आ जाती है।

यहां तक कि बांध के पानी का स्तर भी बढ़ जाता है, जिससे बांध कई बार टूट जाता है। कई बार बादल फट जाने की घटना भी बाढ़ का कारण बनता है, जिससे काफी नुकसान होता है। यहां तक कई लोगों को जिवन से हाथ धोना पड़ता है।

बाढ़ के प्रकार

पानी के प्रवाह के आधार पर बाढ़ के प्रकार को बांटा गया है, जो कम विनाशकारी, विनाशकारी और बहुत विनाशकारी होता है।

धीमी गति से स्थापित बाढ़

धीमी गति से स्थापित बाढ़ धीरे धीरे से विकसित होता है। यह बाढ़ नदियों के पानी की अत्यधिक मात्रा के कारण विकसित होती है। हालांकि यह कुछ दिनों से लेकर कुछ सप्ताह तक भी रह सकता है।

इस प्रकार के बाढ़ में निचले इलाकों में रहने वाले लोगों को ज्यादा नुकसान होता है। इसके साथ ही बाढ़ के पानी का धीरे-धीरे निकासी होने के बाद कई प्रकार की रोग भी पनपना शुरू हो जातें हैं।

तेज़ गति से स्थापित बाढ़

तेज गति से स्थापित बाढ़ काफी विनाशकारी होता है, इसमें पानी का प्रवाह काफी तेज होता है, जिससे जानमाल का काफी नुकसान हो जाता है। हालांकि इस तरह के बाढ़ की संभावना होने पर लोगों को पहले चेतावनी दी जाती हैं ताकि वे कुछ दिन के लिए कहीं और स्थानांतरित हो जाए या खाने पीने का स्टोक रख लें।

अचानक बनती बाढ़

अचानक बनने वाली बाढ़ बहुत विनाशकारी होता है। चंद मिनट या घंटे के लिए होता है लेकिन इतने में यह काफी नुकसान कर देता है। इस तरह का बाढ़ अक्सर बादल के फटने या बांध के टूटने जैसे विपदाओं में होता है।

इस तरह के बाढ़ से बचने की कोई गुंजाइश नहीं रहती है। हालांकि बांध के पानी का स्तर बढ़ने के साथ ही लोगों को कुछ दिन पहले ही सूचना दे दी जाती है।

बाढ से होने वाला नुकसान

  • बाढ़ से सबसे बड़ा नुकसान यह होता की बाढ़ के कारण कई लोगो की मृत्यु हो जाती है। साथ ही जान माल का नुकसान भी होता है। बाढ़ के पानी की निकासी होने के बाद भी समस्या बनी रहती है, मलेरिया, डेंगू, पेचिश, प्लेग जैसी कई प्रकार की बीमारियां उत्पन्न हो जाती है।
  • बाढ़ के कारण लोग अपने घर और कई संपत्तियों को खो देते हैं, उनका काम भी रुक जाता है, जिसके कारण घर की आर्थिक स्थिति बहुत ज्यादा खराब हो जाती है।
  • बाढ़ के कारण मिट्टी का क्षरण होता है, जिसके कारण मिट्टी की गुणवत्ता भी प्रभावित हो जाती है।
  • बाढ़ के दौरान कई पेड़ पौधे भी तेज हवाओं के कारण टूट जाते हैं, जिससे पर्यावरण को काफी नुकसान होता है।
  • बाढ़ से महंगाई भी बढ़ जाती है। क्योंकि बाढ़ के कारण किसान का फसल नष्ट हो जाता है, साग सब्जियां सब नष्ट हो जाती है, जिससे बाजार में खाने पीने की चीजों की आपूर्ति कम होने लगती है। लेकिन मांग अत्यधिक हो जाती है, जिसके कारण वस्तुओं की कीमत काफी ज्यादा बढ़ जाती है। यहां तक कि जिन की स्थिति महंगी सब्जियों को खरीदने की नहीं है, उन्हें भुखमरी का शिकार बनना पड़ता है।
  • बाढ़ प्रभावित क्षेत्र में बाढ़ के कारण बिजली कनेक्शन रोक दी जाती है, जिसके कारण उन्हें कई दिनों तक बिना बिजली के जीवन निर्वाह करना पड़ता है।

बाढ़ को कैसे नियंत्रित करें?

बाढ़ से जान-माल का नुकसान होता है, कई प्रकार की बीमारियां पनपती है, पर्यावरण को नुकसान होता है। इसीलिए बाढ को नियंत्रण करना बहुत जरूरी है। बाढ़ प्रभावित क्षेत्र में रहने वाले लोग निम्नलिखित उपायों से बाढ़ से राहत पा सकते हैं।

बाढ़ चेतावनी सिस्टम

बाढ से ज्यादा नुकसान ना हो, इसीलिए लोगों को पहले ही सूचना दे दी जानी चाहिए। इसके लिए बाढ चेतावनी प्रणाली को स्थापित करना चाहिए ताकि लोगों को सही समय पर बाढ़ की चेतावनी देकर उन्हें स्वयं और अपने जानमाल की रक्षा करने के लिए समय मिल सके। समय होगा तो वे किसी अन्य जगह भी स्थानांतरित हो पाएंगे, इसके साथ ही वे कुछ दिनों के लिए खाने फिरने का सामान भी स्टोर करके रख पाएंगे।

बांस नियंत्रण तकनीकी का इस्तेमाल करें।

आज की विकसित टेक्नोलॉजी ने बाढ़ जैसी भयंकर प्राकृतिक आपदा से निपटने के लिए कई तकनीकों को विकसित किया है। बाजार में कई ऐसे उपकरण आ चुके हैं, जिससे बाढ़ से होने वाले नुकसान को काफी हद तक कम किया जा सकता है। उनमें से कुछ तकनीक ऐसी है, जिससे बेसमेंट में रहने वाले लोग बाढ़ के पानी को घर में आने से रोक सकते हैं।

इसके साथ ही कुछ इतनी बड़ी उपकरण भी आ चुकी है, जिससे एक विशेष बड़े क्षेत्र को भी बाढ से प्रभावित होने से बचा सकते हैं। हालांकि इसकी जिम्मेदारी प्रशासन को उठानी चाहिए। इन तकनीकों के बारे में लोगों में जागरूकता फैलानी चाहिए ताकि वे जरूरत पर इन तकनीकों का इस्तेमाल करके बाढ़ से होने वाले नुकसान से बच सकें।

बाढ़ प्रभावित क्षेत्र में भवनों का निर्माण

बाढ़ प्रभावित क्षेत्र में मजबूत इमारतों का निर्माण करना चाहिए ताकि वह बाढ़ के पानी से कमजोर होकर टूट ना जाए। इसके साथ ही इमारतों को बाढ़ के पानी के स्तर से थोड़ा ऊपर निर्माण कराना चाहिए ताकि बाढ़ के समय इंसान तथा उनके संपत्ति को बाढ़ के नुकसान से बचाया जा सके।

जल निकासी की सुविधा होनी चाहिए

ज्यादातर क्षेत्रों में बारिश के मौसम में पानी जमा होने का कारण जल निकासी की खराब व्यवस्था है। इसीलिए बाढ़ से प्रभावित क्षेत्रों में जल निकासी की सही सुविधा होनी चाहिए ताकि बरसात के समय पानी ज्यादा दिनों तक पानी इकट्ठा ना रहे।

निष्कर्ष

बाढ एक प्राकृतिक आपदा है, जिसे कोई नहीं रोक सकता। लेकिन बाढ़ से लोगों को होने वाले नुकसान से बचाने की कोशिश जरूर की जा सकती हैं। सरकार और प्रशासन का फर्ज है कि वे बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में बाढ़ के कारण होने वाले जान माल का नुकसान होने से बचाएं, बाढ़ पर नियंत्रण पाने में मदद करें इसके लिए मजबूत उपायों का पालन करें।

बाढ़ से बचने के लिए दिन प्रतिदिन कई विकसित तकनीकों का आविष्कार किया जा रहा है। प्रशासन और सरकार को इन तकनीकों का सही इस्तेमाल करके बाढ़ पर नियंत्रण पाना चाहिए।

बाढ़ पर निबंध 2800 शब्दों में (Essay on Flood in Hindi)

प्रस्तावना

प्राकृतिक आपदाओं में खतरनाक आपदाओं का जब भी नाम लिया जाता है तो बाढ़ का जिक्र जरूर होता है। बाढ़ का सीधा अर्थ अत्यधिक पानी का एकम जगह एकत्र होने से है। भारत देश में बाढ़ आने का खतरा बना ही रहता है, क्योंकि आधा भारत समुद्र से घिरा हुया है और देश में बहुत सारी नदियाँ भी विद्यमान है। बाढ़ उन क्षेत्रों में होती है जहाँ अत्यधिक बहाव और जल निकासी की व्यवस्था खराब होती है।

दुनिया भर के कई शहरों को इस भयंकर बाढ़ का सामना हर साल करना पड़ता है, सबसे ज्यादा नुकसान नदियों और महासागरों के पास बसे शहरों को होता है। बाँध के टूटने के कारण मैदानी इलाकों में पानी की अधिकता, ग्लेशियर के अचानक से पिघलने के कारण महासागर में पानी की अधिकता के कारणों से बाढ़ आती है। तटीय क्षेत्रों में तूफान और सुनामी बाढ़ का कारण बनते है।

बाढ़ आने के बाद लोगों और जानवरों का जीवन जीना दूभर हो जाता है, इनके साथ पेड़-पौधे और मिट्टी का विनाश होता है। विडंबना यह है कि सरकार को बाढ़ प्रभावित क्षेत्र पता होते हुए भी वहाँ अभी तक उचित उपाय नहीं हो पाए जैसे कि पानी निकासी प्रणाली और जल भंडारण प्रणाली। बाढ़ से जीवित परिस्थितियों को नुकसान होता है और इस आपदा से उबरने में काफी समय लगता है। इसलिए बाढ़ के परिणामों को जानना चाहिए और इसे रोकने के लिए कदम उठाने चाहिए।

बाढ़ आने की वजह

जब भी बारिश का मौसम होगा बाढ़ आने की आशंका बढ़ जायेगी। बारिश के मौसम में जब भी हद से ज्यादा बारिश हो गई तो बाढ़ आने की संभावना प्रबल हो जाती है। बाढ़ किसी भी जगह आ सकती है, लेकिन सबसे ज्यादा उसी जगह आती है जहाँ उसके आस पास नदी या चारों तरफ पानी ही पानी हो। अगर उस जगह पानी निकासी का प्रबंध सही तरीके से हो तो कैसी भी बारिश हो बाढ़ जैसी स्थिति नहीं बनती है।

पहाड़ी या पर्वतीय क्षेत्र में बाढ़ आने की संभावना नगण्य ही होती है क्योंकि पहाड़ी क्षेत्र ऊंचाई में होता है। बारिश के मौसम में अगर नदी किनारे बसे शहर या गाँव में बादल फुट जाता है तो बाढ़ आने की शत प्रतिशत संभावना बढ़ जाती है।  इसे बारिश का अतिप्रवाह कहते है। इसके साथ निम्नलिखित कारण भी शामिल है:

  1. भारी बारिश – भारी बारिश के कारण जल निकासी का पूर्णत: समाधान होना बाढ़ आने की हालात बयां करता है।
  2. बर्फ का पिघलना – जैसी ही गर्मियों का मौसम शुरू होता है तो तापमान में वृद्धि होती है जिसके कारण सर्दियों में जमी बर्फ का पिघलना शुरू होता है। धीरे-धीरे बर्फ पिघलती है तो कोई परेशानी नहीं होती है। लेकिन तापमान में अचानक से वृद्धि होने के कारण ग्लेशियर के ग्लेशियर पिघलने शुरू हो जाते है जो महासागर के प्रवाह को और अधिक बना देते है। जिसके कारण बाढ़ आती है।
  3. बाँध का टूटना – बाँध का निर्माण ऊंचाई से गिरने वाले पानी को सुरक्षित करने के लिए किया जाता है, लेकिन जब बाँध की क्षमता के विपरीत पानी आ जाने से उसको रोक पाना मुश्किल हो जाता है, जिसके फलस्वरूप बाढ़ आ जाती है।
  4. जल निकायों का अतिप्रवाह – नदी से पानी का उफान मारना नदी किनारे बसे शहर या गाँव के लिए बाढ़ जैसी खतरनाक आपदा का निमंत्रण देने समान है।
  5. तटीय क्षेत्र में हवाएं – मजबूत हवाओं और तूफानों में समुद्र के पानी को सूखे तटीय इलाकों में ले जाने की क्षमता होती है जो की बाढ़ का कारण बनता है।
  6. ग्लोबल वार्मिंग – ग्लोबल वार्मिंग वायुमंडल के तापमान में वृद्धि पैदा करता है जिससे ग्लेशियर पिघलने लगते है। इसलिए बाढ़ आने की आवृत्ति बहुत ज्यादा बढ़ी है।

बाढ़ के प्रकार

कुछ बाढ़ कुछ दिनों में कम हो सकती है जबकि अन्य को कम होने में हफ्तों लगते हैं और उस क्षेत्र में रहने वाले लोगों के जीवन पर एक बड़ा प्रभाव पड़ता है। यहाँ विभिन्न प्रकार के बाढ़ पर एक नज़र डालते है:

धीमी गति से सेट बाढ़: इस प्रकार की बाढ़ तब होती है जब जलस्रोत जैसे नदियाँ बह जाती हैं और आस-पास के क्षेत्रों को प्रभावित करती हैं। यह बाढ़ धीरे-धीरे विकसित होती है और कुछ दिनों से लेकर हफ्तों तक रह सकती है। ये कई किलोमीटर में फैलती हैं और ज्यादातर निचले इलाकों में असर करती हैं। ऐसे क्षेत्रों में बाढ़ के कारण जमा हुआ पानी संपत्ति को नुकसान पहुँचाता है और विभिन्न बीमारियों का कारण भी बनता है।

रैपिड ऑन-सेट बाढ़: ये निर्माण में थोड़ा अधिक समय लेते हैं और एक या दो दिन तक चल सकते हैं। इन्हें अत्यंत विनाशकारी भी माना जाता है। हालांकि, लोगों को ज्यादातर इन के बारे में चेतावनी दी जाती है और स्थिति बिगड़ने से पहले बचने का मौका दिया जाता है। ऐसी जगहों पर छुट्टी की योजना बनाने वाले पर्यटक योजना को स्थगित कर सकते हैं या तब भी रद्द कर सकते हैं जब अभी भी समय है और इस स्थिति से होने वाले आघात से बचें।

फ़्लैश बाढ़: फ्लैश बाढ़ ज्यादातर समय की एक छोटी अवधि के भीतर होता है जैसे कुछ घंटे या मिनट। ये ज्यादातर भारी वर्षा, बर्फ के पिघलने या बाँध टूटने के कारण होते हैं। ये सभी के बीच सबसे अधिक घातक हैं और इसके परिणामस्वरूप सामूहिक विनाश हो सकता है क्योंकि ये लगभग अचानक होते हैं और लोगों को सावधानी बरतने का कोई समय नहीं मिलता है।

बाढ़ आने पर बचाव के उपाय

बाढ़ जब भी आती है भयंकर तबाही लाती है बाढ़ के पानी से लड़ा नहीं जा सकता है इसलिए भलाई इसमें ही है कि जितना हो सके बाढ़ से बचा जाए। उसके लिए हम निम्न काम कर सकते है:

ऊँचे स्थानों पर जाएँ – अगर आप पठारी या बाँध वाले इलाके में रहते है तो आपके इलाके में कभी भी बाढ़ आ सकती है। कभी-कभी अचानक बाढ़ आ जाती है जिससे बहुत ज्यादा हानि होती है और सब कुछ देखते ही देखते नष्ट हो जाता है। इसलिए जब भी आपके घरों में एक लिमिट से ज्यादा पानी आने लग जाए तो हमेशा ऊँचे स्थानों की ओर निकल जाना चाहिए। बाढ़ के पानी के बढ़ने का इंतजार ना करें क्योंकि यह पानी कभी भी बढ़ सकता है और फिर आप का घर से निकलना नामुमकिन हो जायेगा।

पानी उबालकर पिये – बाढ़ आने पर उस स्थान का पानी दूषित हो जाता है क्योंकि उसमे नालों का पानी और मरे हुए मवेशी और इंसानों के शव पड़े रहते है जिसके कारण पानी में सेहत को नुकसान पहुंचाने वाले बैक्टीरिया फैल जाते है। इसलिए जब भी आप ऐसे इलाके में फंस जाते है तो हमेशा पानी को उबालकर ही पिये और हो सके तो अपने साथ स्वच्छ जल की कुछ बोतले भी रख ले।

बाढ़ में फंसे होने का संकेत दे – कभी-कभी बाढ़ इतनी तेजी से आती है कि लोग घरों में ही फंसे रह जाते है और बाद में भी घरों की छतों पर चले जाते है लेकिन अधिक समय तक बाढ़ के पानी वाले घरों में रहना खतरे से खाली नहीं है क्योंकि बाढ़ के कारण इमारतें गिरने का खतरा बना रहता है। इसलिए हमेशा छत पर लाल कपड़े से मदद के लिए चिन्ह बनाएं. जिससे सरकार द्वारा चलाई जा रही है बाढ़ राहत के हेलीकॉप्टरों को पता चल पाये कि आप कहाँ पर फंसे हुए है। अगर आप ऐसा करते हैं तो आप को बचाए जाने की संभावना और अधिक हो जाती है।

प्रशासन की चेतावनी – बरसात के दिनों में प्रशासन द्वारा समय-समय पर चेतावनी जारी की जाती है कि भारी बारिश होने के आसार हैं और बाढ़ आ सकती है लेकिन कुछ लोग इन चेतावनियों को नजर अंदाज कर देते है जिसके कारण वह अपना घर छोड़कर ऊँचे स्थानों की ओर नहीं जाते है, और बाढ़ की चपेट में आ जाते है। इसलिए हमेशा प्रशासन द्वारा दी गई चेतावनी पर ध्यान बनाए रखें, और जहाँ पर हर साल बाढ़ आती है उन इलाके के लोगों को अपने घरों में एक रेडियो जरूर रखना चाहिए क्योंकि जब भी बाढ़ आती है तब बिजली कटौती हो जाती है। जिससे सरकार द्वारा चलाए जा रहे हैं अभियान की सही जानकारी प्राप्त करने के लिए केवल रेडियो ही एक साधन बचता है।

इन सब के साथ जरूरी सामान अपने साथ जरूर रखना चाहिए और जहाँ बाढ़ प्रभावित क्षेत्र है वहाँ के लोग हमेशा निम्न सामान अपने घर जरूर रखें-

पीने का साफ पानी – बाढ़ आने पर हमेशा अपने साथ स्वच्छ जल की तीन-चार बोतल अवश्य रखें और अगर आप घर में अधिक सदस्य हैं तो अधिक स्वच्छ जल की व्यवस्था करके रखें क्योंकि बाढ़ के पानी का पता नहीं चलता है कि वह कितने दिन तक रहेगा।

खाने का सामान – भोजन सामग्री अपने साथ रखें और भोजन में ऐसी सामग्री अपने साथ रखें जिसे पकाने की आवश्यकता नहीं हो। जैसे कि बिस्किट, नमकीन, सूखी रोटी आदि।

प्राथमिक उपचार पेटी – जहाँ पर हर साल बाढ़ आती है उन इलाके के लोगों को हमेशा अपने रूम में प्राथमिक उपचार पेटी रखनी चाहिए जिससे अगर बाढ़ के समय किसी को छोटी-मोटी चोट आ जाती है तो उसका इलाज किया जा सके क्योंकि बाढ़ के समय कोई भी चिकित्सा सुविधा उपलब्ध नहीं हो पाती है, और बाढ़ वाले इलाके में अगर छोटी सी भी चोट लग जाती है तो उस में इंफेक्शन होने का खतरा बढ़ जाता है इसलिए हमेशा अपने साथ प्राथमिक उपचार पेटी अवश्य रखें।

प्रकाश और संचार के साधन – बाढ़ वाले क्षेत्र के लोगों को अपने घरों में रोशनी के लिए टॉर्च की व्यवस्था करनी चाहिए साथ ही रेडियो और मोबाइल जैसे संचार के साधन हमेशा अपने पास रखने चाहिए। जिससे प्रशासन द्वारा बाढ़ के समय जब भी कोई जानकारी दी जाएं तो आपके पास में जानकारी पहुँच जाएं।

सूखे कपड़े – बाढ़ के समय अपने साथ कुछ सूखे कपड़े हमेशा साथ लेकर चले क्योंकि अगर आप अधिक समय तक गीले कपड़ों में रहेंगे तो आप बीमार पड़ सकते है।

बाढ़ आने के दुष्परिणाम

जिस क्षेत्र में बाढ़ आती है उस क्षेत्र में सामान्य काम करना भी कठिन हो जाता है। हर तरफ बस पानी ही पानी ही दिखता है। निचले इलाकों में बने घर जलमग्न हो जाते है और उसमें रहने वाले लोगों की मौत भी हो जाती है, इसके साथ उनके घर में रखे सामान भी पानी के साथ चले जाते है। इसके साथ ही कुछ और भी नुकसान होता है जो निम्नलिखित है-

जीवन को खतरा –भीषण बाढ़ के कारण जनहानि के साथ-साथ मवेशी हानि भी होती है। ज्यादा पानी हो जाने के कारण अधिकांश लोग और जानवर अपनी जान गंवा बैठते है। एक जगह पानी एकत्रित होने के कारण विभिन रोगों के संक्रमण का खतरा बना रहता है। क्योंकि बहुत सारे मच्छर और कीड़े-मकोड़े उत्पन्न हो जाते है। बाढ़ के कारण मलेरिया, डेंगू, न्यूमोनिक प्लेग और सैन्य जैसे बुखार होने की आशंका ज्यादा हो जाती है।

बिजली की कटौती – जब बारिश होती है तब बिजली काट दी जाती है, क्योंकि पानी में करंट का फैलना सबकी जान जोखिम में डालना होता है, लेकिन बाढ़ जैसी स्थिति में प्रशासन द्वारा पूर्ण रूप से बिजली काट दी जाती है। जिससे वो करंट की चपेट में आने से बच सके।

माल हानि – बाढ़ के कारण बहुत से लोग अपने धन-संपति से हाथ धो बैठते है। जिन्हें वापस से खरीदने में कई साल लग जाते है। अपनी कमाई के द्वारा ली गई कार या मोटरसाइकिल जब ऐसी प्राकृतिक आपदा के कारण खोनी पड़े तो बहुत दु:ख होता है।

वस्तु के कीमत में वृद्धि – जब बाढ़ आती है तो उस क्षेत्र तक किसी भी वस्तु का पहुँचा पाना कठिन हो जाता है। जिससे किसी भी वस्तु की मांग बढ़ जाती है और आपूर्ति कम होती है तो वस्तु की कीमत बढ़ जाती है।

मिट्टी का खिसकना – जब मूसलाधार बारिश होती है तो मिट्टी को ज्यादा नुकसान होता है। बारिश तेज होने के कारण पानी उस जगह कि मिट्टी खिसक कर अपने वेग में ले जाता है जिससे उस जगह में मिट्टी की कमी हो जाती है। जो आगे जा कर बड़ी ही परेशानी का कारण बनती है। लोग और जानवरों के साथ-साथ पेड़-पौधों को भी बाढ़ बुरी तरीके से प्रभावित करती है।

बाढ़ द्वारा उत्पन्न समस्याओं का निवारण

मानव और जानवर के जीवन को बाधित करने वाली बाढ़ के द्वारा बहुत सी समस्या उत्पन्न होती हैं, जिसका निवारण करना हम सब की पहली प्राथमिकता है। कुछ समाधान निम्न दिए जा रहे है –

ड्रेनेज सिस्टम को सही करना – बाढ़ का एक मुख्य कारण है जल की सही तरीके से निकासी नहीं होना। इसलिए सरकार को ड्रेनेज सिस्टम को सही करना चाहिए। जिससे जल का भराव नहीं होगा और बाढ़ जैसी स्थिति नहीं बनेगी।

जल भंडारण की शुरुआत करना – बारिश के पानी को पुन: उपयोग में लेने के लिए सरकार को जल भंडारण के लिए जलाशय बनाने चाहिए और उस पानी को किसानों को देना चाहिए जिससे किसान उस पानी को फसल उगाने के काम में ले सके।

बड़ी-बड़ी इमारतों का निर्माण करना – बाढ़ प्रभावित क्षेत्र में सरकार को बाढ़ के पानी के स्तर से ऊपर बड़ी-बड़ी इमारतों का निर्माण करवाना चाहिए जिससे वहाँ किसी की संपति और जनहानि का नुकसान ना हो।

बाढ़ चेतावनी प्रणाली – एक ऐसी चेतावनी प्रणाली बनानी चाहिए जो समय रहते सभी बाढ़ प्रभावित क्षेत्र में सूचना पहुँचा सके। जिससे उन क्षेत्रों में रहने वाले सचेत हो जाए और अपने बचने की प्रक्रिया शुरू कर सकें।

बाढ़ बैरियर स्थापित करना – उन सभी क्षेत्रों में बाढ़ बैरियर स्थापित करने चाहिए जहाँ बाढ़ आई हुई है, पानी निकल जाने के बाद उन बैरियर को हटा दिया जाए। बैरियर लगाने से बाढ़ में अवरोध पैदा होता है और पानी कि दिशा परिवर्तित हो जाती है।

बाढ़ से होने वाले लाभ

जी हाँ, आपने सही पढ़ा। बाढ़ आने से लाभ भी होता है। हाँ, ये भी सच है कि बाढ़ के फायदे बहुत कम है लेकिन फायदे कम हो ज्यादा फायदे फायदे होते है। गिने चुने फ़ायदों में से कुछ फायदे निम्न है-

  1. नदियों में बाढ़ के वक्त मछलियों की आवक ज्यादा होती है, जिससे मछलियों का मिलना आसान हो जाता है।
  2. बाढ़ के जल को जलाशयों में इकट्ठा करके उसे सिंचाई के लिए उपयोग में ले सकते है।
  3. बाढ़ के वक्त मिट्टी का अपरदन होता है, जिससे एक जगह गड्ढे भर जाते है और समतल हो जाता है।
  4. लकड़ी के लट्ठों का परिवहन बाढ़ के वक्त आसान हो जाता है।

भारत में बाढ़ प्रभावित क्षेत्र

भारत में कई क्षेत्रों में साल दर साल बाढ़ की समस्या का सामना करना पड़ता है। देश में इस प्राकृतिक आपदा से प्रभावित प्रमुख क्षेत्र उत्तर बिहार, उत्तर प्रदेश और पश्चिम बंगाल, मुंबई, महाराष्ट्र, पंजाब और हरियाणा के कुछ हिस्सों, तटीय आंध्र प्रदेश और उड़ीसा, ब्रह्मपुत्र घाटी और दक्षिण गुजरात सहित अधिकांश गंगा के मैदान हैं।

पिछले कई सालों पहले इन स्थानों पर बाढ़ से भारी नुकसान हुआ था और अब भी यहाँ खतरा बना हुआ है। साल 2018 में केरल राज्य में सबसे भयंकर बाढ़ आई थी और केरल राज्य की सभी 14 जिलों में बाढ़ का पानी आ चुका था। इससे बहुत ज्यादा जन धन की हानि हुई थी। केरल राज्य में यह बाढ़ 100 सालों की सबसे बड़ी और सबसे अधिक तबाही मचाने वाली बाढ़ थी।

भारत देश में बाढ़ फैलानी वाली नदियाँ

भारत देश में बहुत सारी नदियाँ है लेकिन कुछ नदियों में ज्यादा पानी आ जाने से वो बाढ़ का रूप ले लेती है। जैसे- गंगा, यमुना, रावी, गंडक, घग्गर, कोसी, तीस्ता, ब्रह्मपुत्र, सतलज, दामोदर, साबरमती, गोदावरी आदि नदियों के कारण हर साल बाढ़ आती है। क्योंकि ये नदियाँ बहुत बड़ी है और पानी की अधिकता बाढ़ का कारण बनती है। इसके बाद जो माल हानि जीव हानि होती है उसके आँकड़ें ना ही सुने और देखे तो बेहतर है।

निष्कर्ष

बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में दिन-प्रतिदिन के जीवन को बाधित करता है। वे ऐसे क्षेत्रों में रहने वाले लोगों के लिए विभिन्न समस्याओं का कारण बनते हैं। गंभीर बाढ़ की चपेट में आने वाले क्षेत्रों में महीनों लग जाते हैं और कई बार सालों बाद भी पुनर्निर्माण करना पड़ता है

हालांकि बारिश की घटना, बर्फ के पहाड़ों के पिघलने, जल निकायों और तूफान के अतिप्रवाह को नियंत्रित करना मुश्किल हो सकता है, लेकिन इन मामलों में भविष्यवाणी की जा सकती है और सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए उपाय कर सकती है कि जल भराव न हो, जिससे बदले में बाढ़ न आए। बाढ़ प्राकृतिक आपदाओं में से एक है जो विभिन्न क्षेत्रों में बड़े विनाश का कारण बनती हैं।

समय आ गया है कि भारत सरकार को इस मुद्दे को गंभीरता से लेना चाहिए और इस समस्या को नियंत्रित करने के लिए कड़े कदम उठाने चाहिए। हालांकि हम बारिश या ग्लेशियरों के पिघलने के बारे में बहुत कुछ नहीं कर सकते हैं, लेकिन हम निश्चित रूप से अपने साथ लाए जाने वाले पानी से निपटने के लिए अच्छी जल निकासी प्रणाली का निर्माण कर सकते हैं। सिंगापुर जैसे कई देश, जो वर्ष के अधिकांश भाग के लिए भारी वर्षा प्राप्त करते हैं, वास्तव में अच्छी जल निकासी व्यवस्था है।

भारी उथल-पुथल के दिनों के बाद भी वे साफ होते हैं। भारत सरकार को बाढ़ की समस्या और इससे प्रभावित क्षेत्रों को होने वाले नुकसान से बचने के लिए अच्छी जल निकासी प्रणाली का निर्माण करना चाहिए। बाढ़ आना यह एक प्राकृतिक आपदा है, जिसे हम मानव कभी नहीं रोक सकते है। लेकिन हम इस स्थिति से खुद को बचाने के लिए कुछ कर सकते है।

मतलब इसके लिए सरकार को और हमे पानी के जलाशयों और अन्य जल भंडारण प्रणालियों का ध्यान रखना चाहिए ताकि वे भारी बारिश के मामले में अतिप्रवाह न करें। बाढ़ अवरोधों का उपयोग करके बाढ़ को भी नियंत्रित किया जा सकता है जिसे बाढ़ के दौरान प्रतिरोध के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है। जिससे बाढ़ को रोका तो नहीं जा सकता है, लेकिन उसके अतिप्रवाह को कम जरूर किया जा सकता है। जिससे नुकसान भी बहुत कम मात्रा में होगा।

प्राकृतिक आपदा को रोकना मानव के हाथ में नहीं है लेकिन उसे कम करने के उपाय मानव के हाथ में हैं। जितना कम कर सकते है उतना कम करने की कोशिश मानव को नहीं छोड़नी चाहिए और उसमें सफल परिणाम भी देखने को भी मिले है।

अंतिम शब्द

हम उम्मीद करते हैं कि हमारे द्वारा शेयर किया गया यह “बाढ़ पर निबंध (Essay on Flood in Hindi)” आपको पसंद आया होगा। इसे आगे शेयर जरूर करें और आपको यह कैसा लगा हमें कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं।

यह भी पढ़े

सूखा पर निबंध

सुनामी पर निबंध

प्राकृतिक आपदा पर निबंध

ग्लोबल वार्मिंग पर निबंध

आपदा प्रबंधन पर निबंध

इनका नाम राहुल सिंह तंवर है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 4 वर्ष से अधिक SEO का अनुभव है और 5 वर्ष से भी अधिक समय से कंटेंट राइटिंग कर रहे है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जरूर जुड़े।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here