आदर्श विद्यार्थी पर निबंध

Essay on Adarsh Vidyarthi in Hindi: हम यहां पर आदर्श विद्यार्थी पर निबंध शेयर कर रहे है। इस निबंध में आदर्श विद्यार्थी के संदर्भित सभी माहिति को आपके साथ शेअर किया गया है। यह निबंध सभी कक्षाओं के विद्यार्थियों के लिए मददगार है।

Essay-on-Adarsh-Vidyarthi-in-Hindi

Read Also: हिंदी के महत्वपूर्ण निबंध

आदर्श विद्यार्थी पर निबंध | Essay on Adarsh Vidyarthi in Hindi

आदर्श विद्यार्थी पर निबंध (250 शब्द)

जो बच्चे स्कूलों, कॉलेजों, विश्वविद्यालयों या अन्य शिक्षण संस्थानों में पढ़ते हैं, उसे विद्यार्थी कहते है। लेकिन इन सभी छात्रों में से कुछ विद्यार्थी में ऐसे गुण हैं, जो उन्हें दूसरों से अलग बनाते हैं। वो विद्यार्थी जो त्रुटिरहित और परिपूर्ण होते है, उसे आदर्श विद्यार्थी कहते है। आदर्श विद्यार्थी अपने सर्वश्रेष्ठ गुणों के कारण अन्य सभी छात्रों से आगे निकल जाते है। वह दूसरों के लिए रोल मॉडल बन जाते है। आदर्श विद्यार्थी हमारे देश के भविष्य की रीढ़ हैं।

एक आदर्श विद्यार्थी का जीवन सादा होता है, लेकिन उनके विचार उच्च होते है। वह निडर और निर्भीक होते है। एक आदर्श विद्यार्थी आचरण और अनुशासन के नियमों के अनुसरता है। वह अपने कर्तव्यों और जिम्मेदारियों के प्रति पूरी तरह से जागरूक होता है। उसके पास वो  कौशल और आदतें होती है, जो उनके व्यक्तित्व को विकसित करती है। वे आत्मसंयमी, ईमानदार और समय के पाबंधक होते है। आदर्श विद्यार्थी सभी सामाजिक और नैतिक कानूनों का पालन करते है।

आदर्श विद्यार्थी में नम्रता और सहनशीलता जैसे गुण होते है। वे हमेशा अपने से बड़ों का आदर सत्कार करते है और अपने से छोटों को प्यार देते है। जीवन के प्रति उनका सकारात्मक दृष्टिकोण होता है। उनके जीवन का ध्येय निश्चित होता है। कोई भी छात्र जन्म से आदर्श नहीं होता। आदर्श विद्यार्थी बनने के लिए मन में दृढ़संकल्प होना चाहिए।  

आज के समय में आदर्श विद्यार्थी  मिलना बहुत कठिन है। किसी साधारण छात्र को आदर्श बनाने के लिए उनके मातापिता, गुरूजी और घर के वातावरण का बड़ा योगदान रहता है। ऐसे छात्र ही देश को समृद्धि और सर्वांगीण विकास प्राप्त करने में मदद कर सकते है। आदर्श छात्र निश्चित रूप से राष्ट्र के सफल भविष्य की ओर ले जाएंगे।

आदर्श विद्यार्थी पर निबंध (800 शब्द)

प्रस्तावना

विद्या + अर्थी मलतब विद्यार्थी, जो शिक्षा को ग्रहण करता है। लेकिन इन में से कुछ विद्यार्थी सर्वगुण सम्पन होते है उसे आदर्श विद्यार्थी कहा जाता है। एक आदर्श विद्यार्थी अपने राष्ट्र का धन और भविष्य, अपने परिवार की आशा और अपने स्कूल या कॉलेज का गौरव होता है। वे एक राष्ट्र के स्तंभ हैं।

वह अपने स्वभाव, मन और हृदय के गुणों और ज्ञान से सभी को अपना प्रिय बनाता है। वे उच्च लक्ष्य रखते हैं और निर्धारित लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए कड़ी मेहनत करते हैं। आदर्श विद्यार्थी आदर्श या परिपूर्ण पैदा नहीं होते हैं। कोई भी व्यक्ति जन्म से आदर्श नहीं होता। वह समय के साथ धीरे-धीरे अच्छी आदतों को अपनाता है और आदर्श बनने का प्रयास करता है।

एक आदर्श छात्र बनने के लिए सबसे ज्यादा मेहनत और दृढ़ संकल्प की जरूरत होती है। उन्हें उनके माता-पिता और शिक्षकों द्वारा आदर्श बनने के लिए पाला जाता है। आदर्श विद्यार्थी एक समाज का भविष्य हैं।

आदर्श विद्यार्थी का जीवन

आदर्श विद्यार्थी का जीवन बेहद सरल होता है। उनके जीवन में सदाचार का बड़ा महत्व होता है। सादा जीवन और उच्च विचार उनके जीवन का आदर्श वाक्य है। वह हमेशा अपने सही आदर्शों और उद्देश्यों पर टिका रहता है। वो सकारात्मक ऊर्जा से भरपूर होता है। अपने दैनिक जीवन के कार्यों में अनुशासित रहता है। वह कभी फैशन के पीछे नहीं भागता। उनके पास एक मजबूत नैतिक चरित्र होता है।

विनम्रता,सहनशीलता, धैर्यता और आत्मसंयम उनके जीवन की संपत्ति है। जीवन की किसी भी विकट परिस्थिति में वो कभी भी हिम्मत नहीं हारता। वह अपने कर्तव्यों और जिम्मेदारियों को निभाने में हरदम तैयार रहता है। आदर्श विद्यार्थी शारीरिक रूप के साथ साथ  मानसिक रूप से भी से फिट और सक्रिय रहता है। आदर्श विद्यार्थी  बड़े होकर व्यक्तिगत और व्यावसायिक जीवन दोनों को कुशलता से प्रबंधित कर सकते हैं।

वह अपने व्यक्तित्व के विकास में रुचि रखता है। आदर्श विद्यार्थी उच्चतम चरित्र का और आशावादी होता है। वह सबके लिए एक प्रेरणास्रोत होता है।

आदर्श विद्यार्थी के गुण

आदर्श विद्यार्थी समय का पाबंद होता है। वह सब कुछ समय पर करता है। वो महत्वाकांक्षी होता है। उसके जीवन में एक निश्चित लक्ष्य होता है और उसे प्राप्त करने के लिए वह कड़ी मेहनत करता है।आदर्श विद्यार्थी सिर्फ किताबी कीड़ा नहीं होता। वो रचनात्मक होता है। एक आदर्श छात्र अंधविश्वास में विश्वास नहीं करता है। वह अपने निर्णय और विश्वास में हमेशा वैज्ञानिक, तर्कसंगत और तार्किक होता है।आदर्श विद्यार्थी मृत रीति-रिवाजों और परंपराओं का नेतृत्व नहीं करता है।

वह हर काम को हमेशा भक्ति और मेहनत से करता है। आदर्श विद्यार्थी हमेशा एक अनुशासित जीवन जीता है। वह हमेशा जीवन के सभी क्षेत्रों में खुद को बेहतर बनाने की कोशिश करता है। वो सभी के साथ सहानुभूति से पेश आता है। वह हर किसी से प्यार करता है और गरीबों और जरूरतमंदों की मदद भी करता है। वह हमेशा अपने शिक्षकों, माता-पिता और बड़ों के प्रति आज्ञाकारी रहता है।

वह हमेशा सच बोलता है और कभी झूठ नहीं बोलता। वह कभी भी धूम्रपान, शराब, जुआ आदि बुरी आदतों में शामिल नहीं होता है। आदर्श  विद्यार्थी बुरी संगति से दूर रहता है और अच्छी संगति रखता है। वह व्यर्थ के कार्यों में अपना समय बर्बाद नहीं करता है।

आदर्श विद्यार्थी और राष्ट्र

आदर्श विद्यार्थी देश की मजबूत रीढ़ होते है। एक आदर्श छात्र अपने देश की आशा, गौरव और समृद्धि की चिंगारी है। भविष्य में वे नेता बन जाते हैं क्योंकि एक आदर्श छात्र एक सच्चा देशभक्त भी होता है। एक आदर्श विद्यार्थी भी एक अच्छा नागरिक बनता है। हम सभी जानते हैं कि एक अच्छा नागरिक हमारे समाज के लिए, देश के लिए सबसे महत्वपूर्ण साबित होता है। देश का भविष्य छात्रों पर ही निर्भर है।

हमारा देश संघर्ष के कठिन दौर से गुजर रहा है, इसलिए इसे आदर्श छात्रों और नागरिकों की सख्त जरूरत है। राष्ट्र गौरव के शिखर पर पहुंच सकता है यदि हमारे छात्र आदर्श बनें और राष्ट्रीय पुनर्निर्माण के कार्य में भाग लें।

निष्कर्ष

विद्यालय में विद्यार्थी तो बहुत होते हैं, लेकिन आदर्श विद्यार्थी बहुत कम होते हैं। देखा जाये तो आदर्श विद्यार्थी बनना बड़ी तपस्या का काम है, जीवन को अनुशासन और आदर्शों पर जीना पड़ता है। अगर माता पिता और गुरु चाहे तो देश का हर बच्चा आदर्श विद्यार्थी बन सकता है। उसके लिए बच्चों को हमें उचित वातावरण देना होगा। बचपन से ही बच्चों को आदर्श विद्यार्थी के गुण सिखाने होंगे।

देश की समृद्धि और प्रगति आदर्श छात्रों के कंधों पर है। एक आदर्श छात्र न केवल अपने देश से प्यार करता है बल्कि वह पूरी इंसानियत को भी पसंद करता है। एक आदर्श विद्यार्थी अपने देश के लिए कुछ ऐसा करता है, जिससे देश विकास की ऊंचाईयों तक पहुंचता है। जिस देश में आदर्श छात्रों की संख्या अधिक है, उस देश को विकसित होने से कोई नहीं रोक सकता।

अंतिम शब्द

हमने यहां पर “आदर्श विद्यार्थी पर निबंध (Essay on Adarsh Vidyarthi in Hindi)” शेयर किया है। उम्मीद करते हैं कि आपको यह निबंध पसंद आया होगा, इसे आगे शेयर जरूर करें। आपको यह निबन्ध कैसा लगा, हमें कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं।

Read Also

इनका नाम राहुल सिंह तंवर है, इन्होंने स्नातक (रसायन, भौतिक, गणित) की पढ़ाई की है और आगे की भी जारी है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 3 वर्ष से भी अधिक SEO का अनुभव होने के साथ ही 3.5 वर्ष का कंटेंट राइटिंग का अनुभव है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जुड़ सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here