दिल शायरी

Dil Shayari in Hindi

दिल पर शायरी (Dil Shayari in Hindi)

Love Poem in Hindi

धड़कते दिल की आवाज तुम हो,
सब से ज्यादा कुछ खास तुम हो,
हर पल एहसास होता है इतना,
जेसे मेरे दिल के पास तुम हो।

मानता ही नहीं कमबख्त दिल उसे चाहने से,
मैं हाथ जोड़ता हूँ तो ये गले पड़ जाता है।

न हम रहे दिल लगाने के काबिल,
न दिल रहा ग़म उठाने के काबिल,
लगे उसकी यादों के जो ज़ख़्म दिल पर,
न छोड़ा उसने मुस्कुराने के काबिल।

होती नहीं है मोहब्बत सूरत से,
मोहब्बत तो दिल से होती है,
सूरत उनकी खुद-ब-खुद लगती है प्यारी,
कदर जिनकी दिल में होती है।

कौन कहता है कि दिल,
सिर्फ सीने में होता है,
तुझको लिखू तो मेरी,
उंगलियाँ भी धड़कती है।

न पूछ दिल की हकीक़त मगर ये कहता है,
वो भी बेक़रार रहे जिसने बेक़रार किया।

तू भी खामख्वाह बढ़ रही है ऐ धूप,
इस शहर में पिघलने वाले दिल ही नहीं रहे।

इस दिल की सरहद को पार न करना,
नाज़ुक है मेरा दिल इस पर वार न करना,
खुद से बढ़कर भरोसा किया है तुम पर,
इस भरोसे को तुम बेकार न करना।

मेरे दिल की धड़कनो को,
तूने दिल बर धड़कना सीखा दिया,
जब से मिली है मोहब्बत तेरी मेरे दिल को,
गम में भी हंसना सीखा दिया।

इस दिल की दास्ताँ भी बड़ी अजीब होती है,
बड़ी मुश्किल से इसे ख़ुशी नसीब होती है,
किसी के पास आने पर ख़ुशी हो न हो,
पर दूर जाने पर बड़ी तकलीफ होती है।

अपने आँचल से बाँध लूं दिल को,
कहीं तेरे ख्यालों के साथ उड़ न जाये,
थाम लूँ हाथ इसका कसकर,
कहीं तेरी यादों में राह से मुड़ न जाये।

इक छोटी सी ही तो हसरत है
इस दिल ए नादान की,
कोई चाह ले इस कदर
कि खुद पर गुमान हो जाए।

तुम कभी भी मोहब्बत,
आज़माकर देखना मेरी,
हम जिंदगी से हार जायेंगे,
मोहब्बत से नहीं।

दिल में हर बात आज भी वही है
ज़ाहिर है तुझ पे मेरा हक़ नहीं है
देखते देखते यु मंज़र बदल गया
तू मेरा होकर भी मेरा नहीं है।

अब जिसके जी में आये वही पाये रौशनी,
हमने तो दिल जला कर सरेआम रख दिया।

Read Also: ब्रेकअप स्टेटस

Dil Shayari in Hindi

ऐसा नहीं था कि,
दिल में तेरी तस्वीर नहीं थी,
बस इतना समझ लो की,
हाथो में तेरे नाम की लकीर नहीं थी।

समझाउंगी इसे प्यार से,
बहलाउंगी अलग-अलग अंदाज़ से,
अपन गले से लगाकर रखूंगी इसे,
कहीं तेरे दिल से फिर न जुड़ जाये।

हम ने सीने से लगाया
दिल न अपना बन सका,
मुस्कुरा कर तुम ने देखा
दिल तुम्हारा हो गया।

मेरे लबों का तबस्सुम तो सबने देख लिया,
जो दिल पे बीत रही है वो कोई क्या जाने।

इतना दिल से ना लगाया करो,
मेरी बातो को,
कोई बात दिल में रह गई,
तो हमे भुला नहीं पाओगे . .

यूँ तसल्ली दे रहे हैं हम दिल-ए-बीमार को,
जिस तरह थामे कोई गिरती हुई दीवार को।

उसके सिवा किसी और को,
चाहना मेरे बस में नहीं है,
ये दिल उसका है,
अपना होता तो और बात होती।

लाखों में इंतेखाब के काबिल बना दिया,
जिस दिल को तुमने देख लिया दिल बना दिया,
पहले कहाँ ये नाज थे यह इशवा-ओ-अदा,
दिल को दुआएं दो तुम्हे कातिल बना दिया।

इजहार-ए-इश्क करूं या पूछ लूं तबियत उनकी,
ऐ दिल कोई तो बहाना बता उनसे बात करने का।

तेरी खामोशी जला देती है इस दिल की तमन्नाओं को,
बाकी सारी बातें अच्छी है तेरी तस्वीर में।

जिंदगी तेरे बिना अब कटती नहीं है,
तेरी याद मेरे दिल से मिटती नही,
तुम बसे हो मेरी निगाहो में,
आँखो से तेरी सूरत हटती नहीं !

काश उसे चाहने का अरमान न होता,
मैं होश में रहते हुए अनजान न होता,
ना प्यार होता किसी पत्थर दिल से हमको,
या फिर कोई पत्थर दिल इंसान न होता।

फिर वही दिल की गुज़ारिश,
फिर वही उनका ग़ुरूर,
फिर वही उनकी शरारत,
फिर वही मेरा कुसूर।

आज भी कितना नादान है,
दिल समझता ही नहीं,
बाद बरसों के उन्हें देखा,
तो दुआएं मांग बैठ।

वादे वफ़ा करके क्यों मुकर जाते हैं लोग,
किसी के दिल को क्यों तड़पाते हैं लोग,
अगर दिल लगाकर निभा नहीं सकते,
तो फिर क्यों दिल लगाते हैं लोग।

Dil Shayari in Hindi

काश,,,बनाने वाले ने दिल काँच का बनाया होता,
दिल तोड़ने वाले के हाथों में ज़ख्म तो आया होता,
जब भी वो देखता अपने हाथों की तरफ,
कम से कम उसे मैरा ख्याल तो आया होता।

दिल लगता नहीं है अब तुम्हारे बिना,
खामोश से रहने लगे है तुम्हारे बिना,
जल्दी लौट के आ जाओ अब…
वरना जी ना पाएँगे तुम्हारे बिना।

दिल एक है तो,
कई बार क्यों लगाया जाये,
बस एक इश्क़ ही काफी है,
अगर निभाया जाये।

तू ही बता ए दिल कि तुझे समझाऊं कैसे,
जिसे चाहता है तू उसे नज़दीक लाऊँ कैसे,
यूँ तो हर तमन्ना हर एहसास है वो मेरा,
मगर उस एहसास को ये एहसास दिलाऊं कैसे।

दिल की बातें हर किसी के,
समझ में नहीं आती, सिर्फ उन्हें है आती,
दिल में जिनके मोहब्बत घर कर जाती।

दिल के ज़ख्मों पर मत रो मेरे यार,
वक़्त हर ज़ख्म का मरहम होता है,
दिल से जो सच्चा प्यार करे…
उसका तो खुदा भी दीवाना होता है।

तुम चाहे बंद कर लो दिल के दरवाजे सारे,
हम दिल मे उतर आएंगे कलम के सहारे।

ना तसवीर है तुम्हारी जो दीदार किया जाये,
ना तुम हो मेरे पास जो प्यार किया जाये,
ये कौन सा दर्द दिया है तुमने ऐ सनम,
ना कुछ कहा जाये ना तुम बिन रहा जाये।

तेरा नाम था आज अजनबी की जुबान पर,
बात जरा सी थी पर दिल ने बुरा मान लिया।

जीने के लिए तुम्हारी याद ही काफी है,
इस दिल में बस अब तुम ही बाकी हो,
आप तो भूल गए हो हमें अपने दिल से,
लेकिन हमें आज भी तुम्हारी तालाश बाकी है।

दिल की धड़कन बनकर दिल में रहोगे तुम,
जब तक सास है मेरे साथ रहोगी तुम।

शायरी लिखना कौन जाने,
शायरी तो खुद-बा-खुद बन जाती है,
जब दिल भर आता है तो,
कलम खुद-बा-खुद चल जाती है।

तेरा ख़याल तेरी तलब और तेरी आरज,
इक भीड़ सी लगी है मेरे दिल के शहर में !

पलकों से रास्ते के कांटे हटा देंगे,
फूल तो क्या हम अपना दिल बिछा देंगे,
टूटने न देंगे हम इस प्यार को कभी,
बदले में हम खुद को मिटा देंगे।

नजरें मिला कर किया दिल को ज़ख़्मी,
अदाएं दिखा कर सितम ढहा रहे हो,
वफाओं का मेरी खूब सिला दिया है,
तड़पता हुआ छोड़ कर जा रहे हो।

Dil Shayari in Hindi

बेनाम सा यह दर्द ठहर क्यों नही जाता,
जो बीत गया है वो गुज़र क्यों नही जाता,
वो एक ही चेहरा तो नही सारे जहाँ मैं,
जो दूर है वो दिल से उतर क्यों नही जाता।

ऐ दिल मत कर इतनी मोहब्बत किसी से,
इश्क में मिला दर्द तू सह नहीं पायेगा,
टूट कर बिखर जायेगा अपनों के हाथो से,
किसने तोड़ा ये भी किसी से कह नहीं पयेगा।

सारी उम्र में एक पल भी आराम का न था,
वो जो दिल मिला किसी काम का न था,
कलियाँ खिल रही थी हर गुल था ताज़ा,
मगर कोई भी फूल मेरे नाम का न था।

Read Also

इनका नाम राहुल सिंह तंवर है, इन्होंने स्नातक (रसायन, भौतिक, गणित) की पढ़ाई की है और आगे की भी जारी है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 3 वर्ष से भी अधिक SEO का अनुभव होने के साथ ही 3.5 वर्ष का कंटेंट राइटिंग का अनुभव है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जुड़ सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here