शुक्र ग्रह से जुड़े रोचक तथ्य

Venus Planet in Hindi: नमस्कार दोस्तों, यदि आप शुक्र ग्रह के बारे में जानना चाहते हैं तो आप सही जगह पर आये हैं। यहां पर हमने शुक्र ग्रह से जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी शेयर की है। यदि आपको अन्तरिक्ष के बारे में जानना अच्छा लगता है तो आपके लिए यह पोस्ट बहुत ही मजेदार होने वाली है।

Venus Planet in Hindi

Meaning of Venus in Hindi: हमारे सौर मण्डल में इतने सारे ग्रह हैं लेकिन आपने कभी ये सोचा हैं कि किन-किन ग्रह पर जीवन सम्भव है। सौर मण्डल में पृथ्वी ही एक मात्र ऐसा ग्रह है, जहां पर जीवन सम्भव है।

लेकिन पृथ्वी भी हमेशा से रहने योग्य ग्रह नहीं रहा है। इस पर भी करोड़ो वर्षों पहले जीवन सम्भव नहीं था। नासा के एक अध्ययन के अनुसार शुक्र ग्रह ही पहला ऐसा ग्रह है, जो रहने योग्य ग्रह रहा था और इस पर भी पानी और समुन्द्र हुए हैं।

शुक्र ग्रह की मजेदार रोचक जानकारी – Venus Planet in Hindi

Planet Venus Facts in Hindi

शुक्र ग्रह सौर मण्डल के सबसे गर्म ग्रहों में पहले स्थान पर हैं। इसका औसतन तापमान 462 डिग्री सेल्सियस है।

सौर मण्डल का सबसे चमकदार और गर्म ग्रह शुक्र ग्रह है।

शुक्र ग्रह अपने पतले वायुमंडल और ग्रीन हाउस प्रभाव की वजह से सबसे गर्म ग्रह है।

शुक्र ग्रह के वायुमंडल में कार्बन डाईऑक्साइड सबसे अधिक मात्रा में है।

शुक्र ग्रह की ऊपर वाली लेयर सल्फ्यूरिक एसिड और सल्फर डाइऑक्साइड के बादलों से इस ग्रह को ढके हुए हैं, जिसकी वजह से शुक्र ग्रह पर अम्ल वर्षा (एसिड रेन) हमेशा होती रहती है।

शुक्र ग्रह में वायुमंडल का दवाब पृथ्वी के मुकाबले 92 गुना ज्यादा है।

सूर्य का प्रकाश शुक्र ग्रह तक पहुंचने में 6 मिनिट लेता है और पृथ्वी तक पहुंचने में 8 मिनिट।

शुक्र ग्रह को पृथ्वी की छोटी बहिन माना जाता है। क्योंकि दोनों का आकार कक्षा और संरचना लगभग बराबर है।

पृथ्वी का व्यास 12742 किलोमीटर है और शुक्र ग्रह का 12104 किलोमीटर है।

शुक्र ग्रह का द्रव्यमान पृथ्वी के द्रव्यमान का 81% है।

शुक्र ग्रह की कोर पृथ्वी की तरह पिघली हुई है।

NASA का मानना है कि 3 बिलियन साल पहले शुक्र ग्रह का तापमान पृथ्वी के जैसा ही था।

शुक्र ग्रह की सूर्य से दूरी 10 करोड़ 82 लाख किलोमीटर है और ध्रुवीय व्यास 12,104 किलोमीटर है।

Venus Planet
Venus Planet

Venus Planet Information in Hindi

शुक्र ग्रह का एक साल पृथ्वी के 224.7 दिन के बराबर है।

शुक्र ग्रह का द्रव्यमान 4,867,320,000,000,000 अरब किलोग्राम है।

शुक्र ग्रह करीब साढ़े 4 अरब साल पुराना है।

इस ग्रह का कोई भी उपग्रह नहीं है और ना ही शुक्र ग्रह पर शनि ग्रह की तरह कोई वलय है।

शुक्र ग्रह को पृथ्वी से बिना किसी टेलिस्कोप से देखा जा सकता है वो भी नंगी आखों से।

शुक्र ग्रह पर सल्फ्यूरिक एसिड (Sulphuric Acid) के बादल बने हुए हैं जिसके कारण शुक्र ग्रह का रंग हल्का पीला दिखाई देता है।

Read Also: दुनिया कैसे बनी? पृथ्वी का इतिहास व जीवन कि उत्पति

शुक्र ग्रह का नाम एक महिला के नाम पर है, यह प्यार और सुंदरता के प्रतीक रोमन देवता Venus के नाम पर रखा गया है।

शुक्र ग्रह पर 1600 से भी ज्यादा ज्वालामुखी हैं जो बाकि ग्रहों की तुलना में कहीं अधिक है।

शुक्र ग्रह पर हवाओं की गति 724 KM/घंटा तक पहुंच जाती है जो कि पृथ्वी के किसी भी बवंडर से ज्यादा है।

अभी तक शुक्र ग्रह पर मनुष्य द्वारा निर्मित कोई चीज 127 मिनिट से ज्यादा नहीं टिक पाई है।

इसकी सतह इतनी गर्म है कि एक 16 इंच का पिज्जा 7 सेकंड में बन जाये।

यदि आपका वजन पृथ्वी पर 100 किलो है तो वहां पर आपका वजन 90 किलो ही होगा।

Venus Planet
Venus Planet

मैं उम्मीद करता हूं कि आपको यह “शुक्र ग्रह से जुड़े रोचक तथ्य (Venus Planet in Hindi)” जानकारी पसंद आई होगी। इसे आगे ज्यादा से ज्यादा शेयर करें। आपको यह जानकारी कैसी लगी, हमें कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं।

Read Also

इनका नाम राहुल सिंह तंवर है, इन्होंने स्नातक (रसायन, भौतिक, गणित) की पढ़ाई की है और आगे की भी जारी है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 3 वर्ष से भी अधिक SEO का अनुभव होने के साथ ही 3.5 वर्ष का कंटेंट राइटिंग का अनुभव है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जुड़ सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here