भ्रष्टाचार मुक्त भारत पर भाषण

Speech On Corruption Free India In Hindi : भारत देश में रहने वाला हर व्यक्ति यही सोचता है कि उनका देश भ्रष्टाचार मुक्त भारत हो। हमेशा आप देखते ही होंगे कि सबसे ज्यादा खबर में भ्रष्टाचार की बहुत ही अधिक खबरें आती रहती हैं और यह हमेशा चर्चा में रहने वाला मुद्दा है। यह हर किसी के लिए एक केंद्र बना हुआ है, चाहे वह हमारे राजनीतिक नेता हो या समाचार मीडिया हो, या छात्र हो या फिर कोई भी आम जनता का नागरिक हो।

सब लोग यही चाहते हैं कि भ्रष्टाचार मुक्त भारत होना ही चाहिए। ऐसे में आज हम आपको भ्रष्टाचार मुक्त भारत पर कुछ भाषण से अवगत करवाने वाले हैं, जो आपके लिए सहायक हो सकते हैं।

Speech-On-Corruption-Free-India-In-Hindi
Image :Speech On Corruption Free India In Hindi

भ्रष्टाचार मुक्त भारत पर भाषण | Speech On Corruption Free India In Hindi

भ्रष्टाचार मुक्त पर भाषण (500 शब्द)

माननीय अतिथि गण, देवियों, सज्जनों। आप सभी का यहां पर स्वागत है। आप सभी मेरा नमस्कार स्वीकार करें। आज मैं आपके समक्ष एक गंभीर मामले पर चर्चा करने जा रहा हूं, जिसका नाम है भ्रष्टाचार मुक्त भारत। इस मामले पर आज मैं आपके सामने अपने विचार प्रकट करने जा रहा हूं।

जैसा कि हम सब जानते हैं भ्रष्टाचार मुक्त भारत हमारे लिए बहुत ही जरूरी है। इसके लिए हमारे समाज में सुधार कार्य करने के बहुत ही ज्यादा प्रयास करने की जरूरत है। हमारे चारों तरफ इतने ज्यादा भ्रष्टाचार नेता, भ्रष्टाचार फैला हुआ है कि जिसकी वजह से सभी नागरिकों को बहुत सारी परेशानियों का सामना करना पड़ता है और मुंह मांगी रिश्वत भी देनी पड़ती है।

हमें निरंतर यही प्रयास करना चाहिए कि हम कोई भी जगह जाते हैं विशेष रूप से कोई भी सार्वजनिक क्षेत्र चाहे वह एक शैक्षणिक संस्थान हो या कोई भी प्रशासनिक विभाग वहां पर हम सभी को भ्रष्टाचार का अनुसरण करते रहना चाहिए। जैसा कि आप जानते हैं कोई भी सार्वजनिक अधिकारी क्यों ना हो, वह अपनी जेब को गर्म किए बिना किसी भी प्रकार का प्रश्न उत्तर या किसी भी प्रकार की समस्या का हल नहीं देता है।

अगर देखा जाए तो हमारे सरकारी अधिकारियों के डोंगिया दोहरे मानकों को विभिन्न पत्रकारों द्वारा बार-बार उजागर किया जाता है और यह बताया जाता है कि वह किस प्रकार भ्रष्टाचार फैला रहे हैं।

मैं जानता हूं आप लोग भी इस बात से सहमत है कि हमें हर जगह भ्रष्टाचार का अनुसरण करना बहुत ही जरूरी है। अगर आप किसी भी शैक्षिक संस्थान विशेष रूप से शिक्षण प्रवेश के लिए निजी संस्थान में जाते हैं और वहां पर प्रवेश तब तक संभव नहीं होता है, जब तक आप भारी राशि रिश्वत के रूप में नहीं दे देते हैं।

यह हम सभी के लिए बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण है। केवल मध्यम वर्ग या कभी गरीब वर्ग है, जो इस आघात का सामना करते हैं और समाज में ऊपर उठने की बजाय वह सामाजिक बीमारियों का शिकार बनते जाते हैं। इसकी वजह से वह एक समृद्ध वर्ग में नहीं आते हैं।

यह एक सबसे बड़ा और मुख्य कारण है अमीर और गरीब के बीच की खाई को खत्म करना। परंतु देखा जाए तो यह बात बिल्कुल असंभव है क्योंकि जो समृद्ध और अमीर होता है वह अमीर ही बनता रहता है और गरीब और भी गरीब बन जाता है।

सरकारी और गैर सरकारी संगठनों द्वारा बहुत सारे पहलू ऐसे हैं, जिनमें हमें पहल करने की आवश्यकता है और हमारी मातृभूमि से सामाजिक बुराइयों को उखाड़ फेंकना बहुत ही ज्यादा जरूरी है परंतु यह मुश्किल होता जा रहा है। इसके बावजूद यह हमारे देश की दुखद वास्तविकता है, जो हम सभी के लिए बहुत ही मुश्किल है।

मैं जानता हूं यह हम सभी के लिए बहुत ही मुश्किल है, परंतु हमें समाज की स्थिति को सुधारने और उन्हें शिक्षा के साथ-साथ नौकरी के अवसरों के समान अवसर देने के लिए एकजुट रहना होगा और सभी को एक समान समझना होगा, जिसके जरिए हमारे देश से गरीबी कम होगी बल्कि यह देश के सर्वांगीण विकास के लिए बहुत ही आवश्यक है।

अब मैं अपनी वाणी को यहीं विराम देता हूं और केवल यही सुझाव देता हूं, कि भ्रष्टाचार से निपटने के लिए जितने संभव प्रयास हो हमें करते रहना चाहिए।

धन्यवाद!

Read Also: गाँधी जयंती पर भाषण

भ्रष्टाचार मुक्त पर भाषण (500 शब्द)

माननीय प्रधानाध्यापक जी, अध्यापक गण, एवं मेरे समस्त प्यारे मित्रों, आप सभी को मेरा सादर सुप्रभात। इस विशेष अवसर पर उपस्थित होने के लिए आप सभी को मेरा तहे दिल से धन्यवाद। आज मैं आप सभी के समक्ष एक महत्वपूर्ण विषय पर बात करने जा रही हूं। हमारा आज का विषय है, भ्रष्टाचार। हमें भ्रष्टाचार से कैसे लड़ना चाहिए, जिसके जरिए हम भ्रष्टाचार मुक्त भारत का निर्माण कर सकें। आइए इस पर कुछ बातचीत करते हैं।

जब भी मैं अपनी मातृभूमि की अंधेरा भरी और निराशाजनक तस्वीर देखती हूं और अपने समाज की सामाजिक बुराइयों की ओर देखती हूं। तब मानो ऐसे लगता है कि हम सब एक अपरिहार्य का हिस्सा बन चुके हैं परंतु यह एक सच है, कि हम एक बहु सांस्कृतिक भूमि पर रहते हैं।

यहां पर विभिन्न धर्म और जाति के लोग एक साथ रहते हैं इसी के साथ उत्सव और समारोह का एक साथ आनंद लेते हैं। हम एक देश के रूप में सांस्कृतिक और ऐतिहासिक रूप में बहुत ही समृद्ध हैं, जहां हम विश्व की महान कलाकृतियों और स्मारक दुनिया भर के लोगों को आश्चर्यचकित कर देती है।

निश्चित रूप से हम अपने देश के दुखद राजनीतिक हालात और आर्थिक हालातों को सुधारने में निरंतर असफल होते जा रहे हैं। जिसकी वजह से हमारे देश में भ्रष्टाचार बहुत ही अधिक बढ़ता जा रहा है। जिसकी वजह से हमारी अर्थव्यवस्था और हमारे स्थानीय राज्य और केंद्र सरकार संगठनों की विश्वसनीयता पर बहुत ही गहरा प्रभाव पड़ रहा है।

भ्रष्टाचार ने ना केवल हमारे देश की अर्थव्यवस्था को नई ऊंचाइयों को हासिल करने से रोक दिया है बल्कि भारत की विकास नीतियों और उपायों को भी भ्रष्टाचार रोकता जा रहा है।

क्या आप सब ने यह कभी महसूस किया है कि भ्रष्टाचार ने हमारे जीवन पर किस तरह से प्रभाव डाला है, जिसकी वजह से हम या तो पीड़ित या भ्रष्ट गतिविधियों के सहायक बनते ही जा रहे हैं।

देखा जाए तो भारत में भ्रष्टाचार के प्रमुख कारणों में अनुचित नियम पारदर्शी प्रक्रिया है और कानून जटिल कर और लाइसेंस इन सिस्टम अपारदर्शी विवेकाधीन और नौकरशाही शक्तियों के साथ साथ सभी प्रकार की सरकारी नियंत्रण वाली एजेंसियों के वितरण के साथ विभिन्न सार्वजनिक विभिन्न विभागों की वस्तुओं और सेवाओं इन सभी को शामिल किया जा रहा है।

भारत में भ्रष्टाचार के स्तर के कोई भी सीमा नहीं है इस समय यह चरम सीमा पर पहुंच चुका है। हमारे आसपास इतना ज्यादा भ्रष्टाचार फैल चुका है, कि अगर हमें किसी अच्छे स्कूल या कॉलेज में दाखिला लेना है, तो उसके लिए हमें अच्छी खासी मोटी रिश्वत देनी पड़ती है।

इसके बावजूद भी कई बार तो हमें दाखिला तक नहीं मिलता है। परंतु हमें इन सब को रोकना होगा और एकजुट मिलकर इन सभी चीजों का सामना करना होगा, जिसके जरिए हम एक भ्रष्टाचार मुक्त भारत का निर्माण कर सकें।

मैं अपने अंतिम शब्दों में केवल यही कहना चाहूंगी कि, जितना हो सके हमें समाज और आर्थिक व्यवस्थाआएं देख कर चलना चाहिए अपने आसपास कहीं भी अगर आपको भ्रष्टाचार दिखता है तो उसके लिए हमें लोगों को जागरुक करना चाहिए और उसे रोकना चाहिए यह हम सभी के लिए बहुत ही आवश्यक है। अब मैं अपनी वाणी को यहीं विराम देती हूं।

धन्यवाद!

निष्कर्ष

इस आर्टिकल के जरिए हमने आपको भ्रष्टाचार मुक्त भारत पर भाषण ( Speech On Corruption Free India In Hindi) दिया है। अगर आप किसी स्कूल कॉलेज या स्थानीय या सार्वजनिक समारोह में भाषण देना चाहते हैं तो यह आपके लिए फायदेमंद साबित हो सकता है। इसी के साथ आप भ्रष्टाचार को रोकने में निरंतर प्रयास करते हैं, और इस आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें।

Read Also:

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here