बच्चों की तस्करी पर भाषण

Speech on Child Trafficking in Hindi: बाल तस्करी ऐसी गंभीर समस्या है, जिसके बारे में हमें बात करना बहुत ही जरूरी है, हालांकि इससे पूरी दुनिया लड़ रही है। इसके बावजूद भी हमें और भी अन्य कदम उठाने की आवश्यकता है। हमें इसके लिए निरंतर प्रयास करते रहना चाहिए। इसी के साथ बच्चों की तस्करी पर सरकार से सख्त कानून की भी मांग करनी चाहिए, जिसके जरिए बच्चों को बचाया जा सके। आज हम बच्चों की तस्करी पर भाषण आपके साथ शेयर करने जा रहे है जो आपके लिए सहायक हो सकता है। इसी के साथ आप इस समस्या को अच्छी तरह से समझने में सफल रहेंगे।

Speech-on-Child-Trafficking-in-Hindi
Image : Speech on Child Trafficking in Hindi

बच्चों की तस्करी पर भाषण | Speech on Child Trafficking in Hindi

बच्चों की तस्करी पर भाषण(500 शब्द)

माननीय अतिथि गण, आप सभी को मेरा सादर नमस्कार। आज मैं आपके सामने यहां पर बहुत ही महत्वपूर्ण विषय पर संबोधित करने के लिए उपस्थित हुआ हूं, जिसका नाम है बाल तस्करी। यह एक महत्वपूर्ण विषय है, जिसके बारे में हमें बात करने की बहुत ही ज्यादा आवश्यकता है।

अक्सर हम शैक्षिक सुधारों की बात करते हैं, इसी के साथ बाल श्रम के बारे में भी बात करते हैं, बच्चों के अधिकारों के बारे में बात करते हैं और उनके भविष्य के बारे में भी बात करते हैं। लेकिन यह बात ऐसी बात है, जो हमें करनी चाहिए, परंतु हम नहीं करते हैं।

अक्सर हम बहुत सारे बच्चों को सिग्नल पर भीख मांगते हुए या सामान बेचते हुए देखते हैं, या हम उन्हें बहुत सारी दुकानों पर काम करते हुए देखते हैं। इसके बावजूद भी हम अपनी आंखें बंद कर लेते हैं और चुप रहना ही पसंद करते हैं। आज के समय में हमारी यह समस्या है कि हम सिर्फ चुप रहते हैं और महसूस करते हैं कि हम ने अपना काम पूरा कर दिया है यही कारण है, कि हर प्रकार की कोशिश करने के बाद भी आज के समय में हम बाल तस्करी को नहीं रोक पाए हैं।

हमारे देश में हर साल लाखों बच्चों के साथ वेश्यावृति, अंग व्यापार, गुलामी और ना जाने कितने ही ऐसे गैरकानूनी काम होते हैं, जो बच्चों के लिए बहुत ही खतरनाक और असुरक्षित होते हैं। जहां पर उन्हें पेट भरने के लिए खाना भी नहीं दिया जाता है और ना ही वह वातावरण उनके रहने के योग्य होता है।

कुछ लोगों का यह मानना है कि यह काम गरीबी की वजह से होता है, तो कुछ लोगों का यह मानना है कि यह काम बेरोजगारी की वजह से होता है और इसी के साथ कुछ लोग यह मानते हैं कि यह सब काम निरक्षरता की वजह से होता है। परंतु यह सभी काम एक दूसरे से जुड़े हुए हैं जिसकी वजह से सभी लोग एक दूसरे की तरफ आकर्षित होते रहते हैं। इसीलिए बच्चों की तस्करी के रूप में इससे घ्रडित और अनैतिक काम होते ही रहते हैं।

जब भी आप किसी होटल, ढाबे या रेस्टोरेंट में जाते हैं, वहां पर बच्चों को काम करते हुए देखते हैं, या काम करने के लिए कोई भी बच्चा आपके यहां आता है, तो आप इसको रोकते नहीं है और ना ही इसका विरोध करते हैं। इसी के साथ जब भी आप किसी बच्चे को सड़क के किनारे कचरा उठाते हुए देखते हैं, तो हमें यह सवाल खुद से करना बहुत ही जरूरी है क्या यह सब सही है, क्या हमें इन सब के लिए कदम नहीं उठाने चाहिए।

हमें उन बच्चों के लिए चैरिटी करनी चाहिए, जिसके जरिए उन्हें अच्छी शिक्षा भोजन और सभी प्रकार की सुख सुविधाएं मिल सकें। अंत में मैं केवल इतना ही कहना चाहूंगा कि हमें बात करने की बजाय आगे बढ़कर इसका इलाज करने की आवश्यकता है और जितना हो सके बच्चों की सहायता करने की आवश्यकता है, ताकि हम इस बाल तस्करी को रोक सके। कृपया आप इन सभी चीजों में अपना सहयोग करें, इसी के साथ मैं यहीं पर अपनी वाणी को विराम देता हूं।

धन्यवाद!

Read Also :अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर भाषण

बच्चों की तस्करी पर भाषण (500 शब्द)

माननीय अतिथि गण, आदरणीय प्रिंसिपल, उपाध्यक्ष, शिक्षक गण, एवं मेरे प्यारे मित्रों आप सभी को मेरा प्यार भरा सुप्रभात। आज मैं आप सभी के समक्ष चिल्ड्रंस डे के उपलक्ष में बच्चों के बारे में बात करने जा रहा हूं, हमारा आज का अहम मुद्दा है, बच्चों की तस्करी जिस पर हमें बात करने की बहुत ही ज्यादा आवश्यकता है।

हम अक्सर किसी भी अनजान व्यक्ति की सहायता करने से कतराते हैं और संकोच करते हैं, परंतु हमें उन छोटे बच्चों की सहायता करनी चाहिए जो, तस्करी जैसे अपराध से जूझ रहे हैं। बाल तस्करी का मतलब होता है, जहां पर बच्चों को मजदूर श्रम और यौन उत्पीड़न के लिए मजबूर किया जाता है। इन सभी चीजों को बाल तस्करी कहा जाता है। यह हमारे समाज की बहुत ही बड़ी समस्या है। परंतु इस पर कोई भी अधिक से अधिक ध्यान नहीं देता है।

बाल तस्करी कि यह समस्या हमारे समाज के वंचित वर्ग, आदिवासी समुदाय, मजदूर, निचली दलित जातियां, धार्मिक अल्पसंख्यक, इसी के साथ बहिष्कृत समूह की महिलाओं में ज्यादा उत्पन्न होती है क्योंकि वह सबसे ज्यादा कमजोर होती हैं। इसीलिए वह आसानी से समाज की कुरीतियों के तत्वों का शिकार हो जाती हैं, जिसकी वजह से उन्हें बाल शोषण और योग शोषण इत्यादि जैसी समस्याओं से गुजरना पड़ता है।

अगर हम किसी को अच्छा जीवन या आशीर्वाद नहीं दे सकते हैं, तो हमें उनके निर्दोष बचपन को छीनने का भी कोई हक नहीं है। इस अधिकार को हमें उनसे दूर नहीं करना चाहिए। अगर हमारे आसपास कोई भी हमारे घर में या कार्यस्थल में नौकर के रूप में काम कर रहा है, तो उसके लिए हमें आवाज उठानी चाहिए, उन्हें बेहतर से बेहतर भविष्य देना चाहिए, उन्हें स्कूल या गैर सरकारी संगठन के पास भेज देना चाहिए जिसके जरिए उनके जीवन का सुधार हो सके और वह बाल तस्करी जैसे अपराधों से बच सकें।

यह बहुत ही दुर्भाग्य है, क्योंकि ऐसे सैकड़ों ही बच्चे हैं, जो ऐसी परिस्थितियों से जूझ रहे हैं और बहुत सारी परेशानियों का सामना कर रहे हैं। कई जगहों पर काम करते हैं, जैसे भवनों का निर्माण स्थल, ईट भट्टा काम करना, कृषि फार्म हाउस में लेबर मजदूरी या फिर सेक्स व्यापार में काम करने तक के लिए बाध्य हो जाते हैं।

यह काम बालपन से ही शुरू हो जाता है, चाहे वह 7 से 8 साल की बच्ची ही क्यों ना हो, उसे भी यौन शोषण जैसी परिस्थिति से गुजरना पड़ता है। इससे भी बदतर उनकी जिंदगी होती है। जो माता-पिता अपने बच्चों को बेच देते हैं या फिर खतरनाक जहरीले तत्व वाले काम करने वाली जगह पर भेज देते हैं, जहां पर उन्हें काम करने के लिए मजबूर किया जाता है।

हमें मिलकर संकल्प लेना चाहिए कि हम ईमानदारी से और एकजुट होकर इन बुराइयों को खत्म करें और हमारे बच्चों के लिए एक सुरक्षित भविष्य का निर्माण करें। इन सभी बुराइयों के विरुद्ध हमें लड़ना होगा, ताकि उनकी उचित देखभाल हो सके और उनकी मासूमियत और बचपन कोई भी ना छीन सके, इसी के साथ वह बेहतर से बेहतर भविष्य का निर्माण कर सकें।

अंत में मैं केवल आप से यही अनुरोध करता हूं, कि जितना हो सके और जहां कहीं भी आप बाल तस्करी देखें, उसके खिलाफ आवाज उठाएं ना कि, देखकर आंखें बंद कर लें ऐसा करने से हम अपने बच्चों का भी भविष्य खराब कर रहे हैं। यह हम सभी का कर्तव्य है और हमें जिम्मेदार नागरिक बनने की जरूरत है। अब मैं यही अपनी वाणी को विराम देता हूं।

धन्यवाद!

निष्कर्ष

इस आर्टिकल के जरिए हमने बच्चों की तस्करी पर भाषण ( Speech on Child Trafficking in Hindi) इसके जरिए आप लोगों को जागरूक कर सकते हैं। किसी के साथ अगर आप स्कूल कॉलेज या किसी भी समारोह में भाषण देना चाहते हैं तो यह आर्टिकल आपके लिए सहायक रहेगा। इस आर्टिकल को ज्यादा से ज्यादा अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें।

Read Also :

महिला सशक्तिकरण पर भाषण

स्वामी विवेकानंद पर भाषण

बाल दिवस पर भाषण

मातृ दिवस पर भाषण

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here