पशु पक्षी पर निबंध

Pashu Pakshi Essay in Hindi: पशु पक्षी हमारे जीवन में बहुत ही महत्व रखते हैं। भारत देश बहुत ही बड़ा है, यहां की भौगोलिक बनावट और रितु सभी में अलग-अलग भी देखने को मिलती हैं। इसीलिए यहां पर तरह-तरह के पशु पक्षी देखने को भी मिलते हैं। आज के इस आर्टिकल में हम पशु पक्षी पर निबंध पर जानकारी आप तक पहुंचाने वाले हैं। इस निबंध में पशु पक्षी के संदर्भित सभी माहिति को आपके साथ शेअर किया गया है। यह निबंध सभी कक्षाओं के विद्यार्थियों के लिए मददगार है।

Pashu Pakshi Essay in Hindi

Read Also: हिंदी के महत्वपूर्ण निबंध

पशु पक्षी पर निबंध | Pashu Pakshi Essay in Hindi

पशु पक्षी पर निबंध (250 शब्द)

हमारे भारत देश में तरह-तरह के मौसम पाए जाते हैं। उसी मौसम के अनुसार पशु पक्षी की आवाज यह चाहट यह सब भी सुनाई देती है। हमारी पृथ्वी बहुत ही सुंदर है। यहां पर गर्मी के ऋतु में कोयल की मधुर आवाज पूरे वातावरण में इस प्रकार गूंज उठती है, जैसे कि मानो कोयल गाना गा रही हो।

पशु पक्षी की आवाज इतनी मधुर और सुरीली होती है कि हर प्रकार के पेड़ पौधे भी खुशी से झूम उठते हैं। इसी प्रकार से पशुओं में सर्दी के मौसम में लोमड़ीओं की आवाज कैसे गूंजती है, जैसे पूरा गांव गूंज उठा हो और ऐसे लगता है, कि मानो कोई प्रतियोगिता कर रही हो गाना गाने की।

हमारा पृथ्वी इसीलिए इतना सुंदर है। यहां पर तरह तरह के जीव पशु पक्षी पेड़ पौधे इत्यादि सभी मिलते हैं और इन्हीं सभी का योगदान है। इस संसार को सुंदर बनाने में सभी के श्रेणी अलग अलग है। पशु पक्षी की अलग है पेड़ पौधों की अलग है इसी प्रकार इंसानों की अलग है।

ऐसा कहा जाता है, कि बुद्धिजीवी वर्ग में इंसानों को भी रखा गया है, परंतु यह सत्य नहीं है, बुद्धिजीवी कोटी में कई पशु पक्षियों को भी गिना जाता है। जैसे कि चिंपैंजी, गोरिल्ला और सभी बंदर प्रजाति के जानवर बहुत ही बुद्धिजीवी और चतुर होते हैं। जिसकी वजह से उन्हें बहुत ही समझ होती है और ऐसा भी माना जाता है कि मनुष्य बंदरों की ही वंशज से हैं।

इसीलिए पहले धरती पर बंदरों का राज हुआ करता था। उसके पश्चात आदि मानव बने उसके बाद मनुष्य का जन्म हुआ इसीलिए बंदरों को मनुष्य की प्रजाति माना जाता है।

पशु पक्षी पर निबंध (1200 शब्द)

प्रस्तावना

पशु पक्षी हमारे सच्चे मित्र होते हैं। अगर कोई सच्ची मित्रता निभाता है, तो वह सिर्फ पशु पक्षी ही हैं, क्योंकि आजकल इंसान पर तो भरोसा करने लायक ही कुछ नहीं है। इंसान के सबसे सच्चे मित्र होते हैं। कुत्ता, बिल्ली, चिड़िया, कोयल, तोता इन सभी से इंसान का बहुत ही करीबी रिश्ता होता है। हमने अक्सर पशु पक्षियों को घर में पालते हुए देखा जाता है। लोग उनकी बहुत ही अच्छी तरह से देख रहे करते हैं। उनको अपने घर में पालते हैं। उनके साथ खेलते हैं। उन्हीं के साथ रहते हैं, मानो कि उनके वही सच्चे मित्र हैं बाकी दुनिया में कोई है ही नहीं।

कुछ लोगों को तो पशु पक्षियों से इतना लगाव होता है, कि वह उनके बिना कहीं जाते ही नहीं है। जहां भी वह बाहर जाते हैं उन्हें हमेशा अपने साथ लेकर ही जाते हैं इसीलिए पशु पक्षी हमेशा इंसान के सच्चे दोस्त ही माने जाते हैं।

पशु पक्षियों का व्यवहार

अक्सर पशु पक्षियों को मदद करते हुए हम लोग देखते हैं। पशु पक्षी हमारी काफी हद तक मदद करते हैं। वह बहुत से कामों में इंसानों की मदद करते हैं। चाहे वह कुत्ता बिल्ली तोता कोयल कोई भी पशु पक्षी क्यों ना हो सब हमें हमारे कामों में बहुत मदद करते हैं।

अक्सर आप लोगों ने देखा होगा कि कुत्ता लोगों को पालना बहुत ही ज्यादा पसंद होता है, इससे घर की सुरक्षा भी हो जाती है और कुत्ता बहुत ही वफादार होता है। लोगों को बिल्ली पालना भी बहुत ही अच्छा लगता है, इसकी वजह से घर में चूहे नहीं रुकते हैं और चूहों से होने वाले नुकसान से भी बिल्लियां में बचा लेती है। इसके अलावा तोता कोयल जैसे पक्षी अपने चह चाहट से हमेशा लोगों का मनोरंजन करते हुए दिखाई देते हैं।

पशु पक्षी बच्चों के लिए बहुत ही आकर्षक होते हैं। वह उन्हें इतने आकर्षक लगते हैं, कि वह उनके साथ रहना खेलना उनकी आवाज सुनना उन्हें सब कुछ बहुत ही अच्छा लगता है। इसीलिए पशु पक्षी इंसानों के मित्र होते हैं और वह कभी भी फरेबी नहीं होती और सच्ची मित्रता निभाते हैं हमेशा मदद करते हैं।

पशु पक्षी सर्कस में भी दिखाई देते हैं, जिसमें वह लोगों को मनोरंजन करते हैं। बच्चे बूढ़े नौजवान सभी सर्कस देखने जाया करते हैं। हमें हमारे आस पास बहुत से पशु पक्षी देखने को मिलते हैं। जैसे गाय, कुत्ता, बिल्ली, चूहे, चिड़िया, तोता, घोड़ा, भैंस, और भी कई अन्य पशु पक्षी है। जो हमें आसपास दिखाई देते हैं परंतु कुछ ऐसे भी पशु पक्षी है, जिनकी प्रजातियां बिल्कुल विलुप्त ही हो गई है।

हम यह जरूर कह सकते हैं, कि पशु पक्षी हमारे जीवन में बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। इसीलिए हमें यह प्रयास करना चाहिए कि हम इनके प्रजातियों को विलुप्त ना होने दें और इनकी देखभाल करें जिससे हमारा पर्यावरण बचा रहे।

पशु पक्षी से वातावरण की स्वच्छता

जिस तरह से वातावरण को लेकर बहुत सारी समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। उसमें देखा जाए तो सबसे ज्यादा नुकसान पशु पक्षियों को ही उठाना पड़ रहा है। इसीलिए हमें चाहिए कि हम वातावरण दूषित होने से रोके जिससे हम अपने पशु पक्षियों की जान बचा सके।

जाने कितने ही पशु पक्षियों की मृत्यु होने के बाद उनके शरीर के हानिकारक अवशेष वातावरण में ही रह जाते हैं। जिसकी वजह से कुछ मांसाहारी पशु वातावरण से वह सफाई कर दी जाती है, और हमारा वातावरण सुरक्षित रहता है। इसीलिए वातावरण सुरक्षित रखने में पशु पक्षी बहुत ही अहम भूमिका निभाते हैं।

जैसा कि हमने देखा आजकल के जमाने में डायनासोर, शेर, चीते ऐसे बहुत से जानवर है, जो हमें बहुत ही कम दिखाई देते हैं, नहीं तो दिखाई ही नहीं देते हैं। ऐसे में सरकार ने इन पशु पक्षियों के लिए बहुत ही सुरक्षा के उपाय किए हैं, परंतु वह सफल नहीं हो पा रहे हैं, क्योंकि वन जंगल खत्म होते जा रहे हैं। जिसकी वजह से पशु पक्षियों की उचित देखभाल नहीं हो पा रही है। इसीलिए उनकी कुछ ही प्रजातियां बची हैं, जो कि हो सकता है आने वाले समय में वह भी ना रहे इसलिए हमें चाहिए कि हम उनकी सुरक्षा का जिम्मा ले।

पशु पक्षी का महत्व

हमारे जीवन में पशु पक्षियों का बहुत ही ज्यादा महत्व है। जिस तरह से गाय हमें दूध देती है दूसरे दही बनाते हैं और उसका उपयोग करते हैं, गौ माता की पूजा भी की जाती है बहुत से ऐसे त्योहार होते हैं, जिन पर गाय की पूजा होती है।

इसी प्रकार कुत्ता भी हमारे घर की देखभाल करते हैं, वह घर में किसी चोर लुटेरे को प्रवेश नहीं करने देते हैं, और वह अपने कर्तव्य के प्रति बहुत ही वफादार होते हैं, इसीलिए अपने मालिक की और उसकी संपत्ति की बहुत ही अच्छी प्रकार से सुरक्षा करते हैं।

हमेशा से ही पशु पक्षियों को धार्मिक रूप से बहुत ही महत्व दिया जाता है, जैसे कि सांप देवता होते हैं, नाग पंचमी के दिन उनकी पूजा होती है दिवाली के दिन गौ माता की पूजा की जाती है और कई पशु पक्षियों की पूजा भी की जाती है जो कि बहुत ही लाभदायक होती है।

जैसे कि हम जानते हैं, प्राचीन समय में पशु पक्षी हमारे बहुत ही काम आते थे, बैल के द्वारा खेतों में हल चलाए जाते थे, परंतु जब से यह मशीनीकरण उपकरण आए हैं बैलों का मानो काम सही खत्म हो गया है।

इसी प्रकार पहले बैलगाड़ी चला करती थी, घोड़ा गाड़ी चला करती थी, अब दो पहिया वाहन चार पहिया वाहन आने से इन सब चीजों पर भी रोक लग गई है। इसी प्रकार पुराने जमाने में पशु पक्षी हमारे लिए बहुत ही लाभदायक हुआ करते थे, जो कि आज भी है, परंतु सिर्फ मानव को समझने की जरूरत है। अगर मानव यह चीज समझ जाए तो अपने पर्यावरण को बचाने अगर पर्यावरण बचेगा तभी हमारे पशु पक्षी सही सलामत रहे पाएंगे।

वातावरण में इतनी जहरीली कैसे फैल रही है, जिसकी वजह से आए दिन पशु पक्षी मरते रहते हैं। सिर्फ गैसों की वजह से जब इंसान को इतनी हानि पहुंचाती है, तो पशु पक्षी को तो पहुंचाती ही होंगी पशु पक्षी अपना इलाज करवाने डॉक्टर के पास भी नहीं जा पाते हैं, इसीलिए हमें चाहिए कि हम पशु पक्षी की देखभाल करें यह हमारा कर्तव्य है इसे हमें पूरा करना चाहिए।

निष्कर्ष

हमें चाहिए कि हम पशु पक्षियों के साथ अच्छा व्यवहार करें उनकी देखभाल करें, क्योंकि यह हमारे लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है बहुत सी कहानियों में पशु पक्षियों के बहुत ही महत्व के बारे में बताया गया है। जिस तरह से हम पौराणिक कथाएं सुनते हैं, उनमें पशु पक्षियों को बहुत महत्व दिया जाता था इसीलिए हमें उनकी सहायता करनी चाहिए उनकी प्रजातियों को विलुप्त होने से बचाना चाहिए।

अंतिम शब्द

दोस्तों आज हमने इस लेख में आपको पशु पक्षी पर निबंध ( Pashu Pakshi Essay in Hindi) के बारे में बताया है, कि किस तरह से हमारे लिए बहुत ही महत्वपूर्ण होते हैं। इसीलिए हमें उनकी रक्षा करनी चाहिए। अगर आप कोई से संबंधित कोई भी जानकारी चाहिए तो आप कमेंट बॉक्स में कमेंट कर सकते हैं।

Read Also:

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here