पानी की समस्या पर निबंध

Pani ki Samasya Essay in Hindi: पानी प्रदूषण दिन-प्रतिदिन बढ़ता जा रहा है और इसी वजह से पानी की समस्या भी देश में देखने को मिल रही है। आज का हमारा आर्टिकल जिसमें हम पानी की समस्या पर निबंध के बारे में बात करने वाले हैं। इस निबंध में पानी की समस्या के संदर्भित सभी माहिति को आपके साथ शेअर किया गया है। यह निबंध सभी कक्षाओं के विद्यार्थियों के लिए मददगार है।

Pani-ki-Samasya-Essay-in-Hindi-

Read Also: हिंदी के महत्वपूर्ण निबंध

पानी की समस्या पर निबंध | Pani ki Samasya Essay in Hindi

पानी की समस्या पर निबंध (250 शब्द)

जल प्रकृति द्वारा मनुष्य को दी गई एक महत्वपूर्ण सम्पत्ति में से एक है। जल पृथ्वी पर बहुत बड़े हिस्से के अंतर्गत मौजूद हैं । कहां जाए तो पृथ्वी पर जल की कमी नहीं है ,परंतु मनुष्य अपनी सुख-सुविधाओं को अधिक महत्व देने के चलते जल को दिन प्रतिदिन दूषित करके नष्ट करते जा रहे हैं। 

मनुष्य अपने सुख सुविधाओं को अधिक महत्व देते हुए ऐसे-ऐसे चीजों का इस्तेमाल करते हैं, जिसका वातावरण को दूषित करने में मुख्य योगदान है। वातावरण के दूषित होने के कारण ही आज के समय में मौसम विलुप्त होते जा रहे हैं, जिसके कारण बरसात कम होता है और सूखा पड़ने का समस्या अधिक होता है। पानी की समस्या गर्मियों के मौसम में और अधिक बढ़ जाती है।

जल जो कि हमारे जीवन जीने के लिए सबसे बड़ी आवश्यकता है। जल के बिना हमारा जीवन कुछ भी नहीं है। जल पर सबसे ज्यादा निर्भर हमारे भारत के किसान होते हैं क्योंकि जल के बिना खेती करना नामुमकिन है। परंतु फिर भी हमारे भारत में जल की कमी धीरे-धीरे बढ़ कर एक गंभीर समस्या का रूप लेते जा रहा है। भारत में पानी के उपयोग के क्षमता सबसे कम है और पानी की बर्बादी के स्तर में से दुनिया में सबसे ज्यादा भारत हैं।

पानी की बर्बादी व पानी की कमी सिर्फ लोगों की लापरवाही के कारण हो रहा है। इसीलिए आज के समय में भारत सरकार द्वारा पानी की बर्बादी को रोकने के लिए बहुत सारे नीति, नियम और आंदोलन बनाए गए हैं। यदि लोग इनका अच्छे से पालन करें तो हमारे भारत में पानी की समस्या कभी नहीं होगी और आने वाली जनरेशन को भी पानी प्राप्त हो सकेगी।

 पानी की समस्या पर निबंध (800 शब्द)

हमारी बुनियादी जरूरतों में से एक पानी हैं और सोचने लायक बात यह हैं कि यदि हमारे पास पानी नहीं होगा तो हमारा क्या होगा। जिस प्रकार से हम जल का व्यर्थ अपव्य कर रहे हैं उससे यह लगता है कि वह दिन दूर नहीं जब इस ग्रह पर पीने के लिए पानी बहुत कम बचेगा इसलिए हमारे लिए बने बचाना बहुत ज्यादा जरूरी हैं।

प्रस्तावना

मानव शरीर 60% पानी से बना हुआ हैं जो कि आधे से अधिक हैं। क्या हम या कल्पना कर सकते हैं जब हमें इतने पानी की जरूरत हैं तो बाकी पेड़- पौधों जानवरों को इस पानी की कितनी ज्यादा आवश्यकता होती होगी। पानी की आवश्यकता पेड़-पौधो, मनुष्य, जानवरों सभी में भिन्न- भिन्न प्रकार की होती होगी परंतु एक बात स्पष्ट है किजल के बिना जीवन संभव नहीं हैं।

पानी की कमी के बारे में कुछ तथ्य

  1. भारत ही नहीं बल्कि कई ऐसे देश हैं जहां पर लोग साल भर में कम से कम 6 महीने पानी की किल्लत का सामना करते हैं।
  2. दुनिया के कई बेहतरीन शहर पानी की समस्या से जूझ रहे हैं।
  3. प्रत्येक व्यक्ति प्रतिदिन 90 गैलन से अधिक पानी का उपयोग करता हैं।
  4. भारत में हजारों से अधिक कुएँ तथा जलकूप आदि सुख चुके हैं।
  5. प्रदूषित पानी के उपयोग से पूरे विश्व में हर साल 3 से चार मिलियन लोगों की मृत्यु हो रही हैं।
  6. इस्तेमाल करने के लायक पानी पृथ्वी पर एक प्रतिशत है जो कि दिनोंदिन घटता जा रहा हैं।
  7. हर साल बाढ़ के साथ सूखे की वजह से कहीं मिलियन लोग पलायन करते हैं।

पानी की कमी के कारण

यह कहना गलत नहीं होगा कि प्रति दिन हमारी आबादी बढ़ती जा रही हैं। बढ़ती हुई आबादी के लिए भोजन तथा पानी की भी आवश्यकता अधिक होती हैं इसलिए अनियंत्रित तरीक़े से जल का उपयोग भी बढ़ गया हैं। बढती आबादी की तुलना में जल के साधन बहुत कम हैं और यह मुख्य कारण है पानी की कमी का।

जल प्रबंधन प्रणाली का अभाव

हमारे देश में विशेषकर शहरों में पानी की उचित व्यवस्था नहीं हैं। शहरों में बाथरूम होते हैं जहां हम कुछ भी कार्य करते हैं तो पानी की आवश्यकता होती हैं और वह पानी बाद में नालियों में बह जाता हैं। यहां पर एक अलग निकास प्रणाली होनी चाहिए। जिससे कि हम जल का पुनः उपयोग कर सके।
रसोई घर में काम में लिया जाने वाले पानी का उपयोग पुनः वापस किया जा सकता हैं परंतु अभी तक इसके लिए उपयुक्त संसाधनों का अभाव होने के कारण यह संभव नहीं हैं। वर्षा जल संचयन और अन्य सहायक कार्य अभी तक केवल पुस्तकों में पढ़ने को मिलते हैं। बहुत कम ही लोग हैं जो जल बचाने के लिए इन तरीकों का उपयोग करते हैं।

वनों की कटाई

पौधे के बारे में ऑक्सीजन ही नहीं देते बल्कि हमें भोजन तथा यह हमारे वर्षा देने के लिए भी जिम्मेदार होते हैं हमारे लिए बहुत ही उपयोगी होते हैं और यह देखा भी गया है कम पेड़ पौधों वाले सीटों की तुलना में अधिक हरियाली वाले क्षेत्र में वर्षा अधिक होती है बढ़ते उद्योग और शायरी करें वनों की कटाई का प्रमुख कारण है

डंपिंग वेस्ट

ज्यादातर उद्योग नदियों के किनारे स्थापित किए जाते हैं। नदिया भारत में जल का प्रमुख स्रोत हैं परंतु उद्योगों द्वारा अपना कचरा इन नदियों में बहा दिया जाता हैं। साथ ही साथ मनुष्य द्वारा भी अपने अपशिष्ट पदार्थ नदियों में फेंके जाते हैं जिसके परिणाम स्वरूप नदियां प्रदूषित हो जाती हैं और हमारे लिए पीने योग्य पानी नहीं रहता हैं।

पानी की समस्या कम करने के लिए उपाय

पानी की समस्या कम करने के लिए सरकार द्वारा पानी बचाओ अभियान चलाया गया है। जिसके माध्यम से बारिश के पानी को इकट्ठा करके उसे उपयोग में लाना और इसके अलावा गंदे पानी को वापस शुद्ध करके सिंचाई के लिए काम में लेना इत्यादि काम किए जा रहे हैं।

निष्कर्ष

प्रकृति में पाए जाने वाली हर वस्तु को देखभाल की आवश्यकता होती हैं चाहे वह हवा हो, पानी हो, वन हो प्रकृति से संबंधित कोई भी चीज हैं उसकी देखभाल जरूरी हैं। जिस प्रकार हमें हमारे अपने प्रिय हैं। हमें उनकी देखभाल करनी चाहिए क्योंकि एक बार यदि हमने उन्हें खो दिया तो वह हमें वापस नहीं मिलते उसी के प्रकार प्रकृति भी हैं।
हमें इसकी देखभाल करनी चाहिए और उससे मिलने वाली सभी सुविधाओं के लिए इसका आभार व्यक्त करना चाहिए।

यदि हम उसकी देखभाल करेंगे तो हमें इससे प्राप्त होने वाली वस्तुएं निरंतर प्राप्त होती रहेगी। प्रकृति ही हमें जल मिलता हैं। जल के बिना हमारा जीवन संभव नहीं हैं। अतः हमे इसका अपव्यय रोकना चाहिए और इसका संरक्षण करना चाहिए ताकि हम और हमारे आने वाली पीढ़ी पानी से कभी वंचित ना रहे।

अंतिम शब्द

पानी की समस्या देशभर में बढ़ती जा रही है। देश में कई ऐसे गांव हैं। जहां पर पानी की समस्या बेहद ज्यादा है। उदाहरण के तौर पर आप जैसलमेर जिले को ले सकते हैं। जैसलमेर जिले में कई जगह पर पानी की समस्या बहुत अधिक हैः हालांकि इंदिरा गांधी नहर की वजह से कई जगहों पर पानी की समस्या दूर हुई है।

आज का हमारा आर्टिकल जिसमें हमने पानी की समस्या पर निबंध (Pani ki Samasya Essay in Hindi) के बारे में जानकारी आप तो पेश की है। हमें उम्मीद है, कि हमारे द्वारा दी गई जानकारी आपको पसंद आई होगी। यदि किसी व्यक्ति को इस आर्टिकल से जुड़ा कोई सवाल है। तो वह हमें कमेंट में बता सकता है।

Read Also:

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here