माइग्रेन किस विटामिन की कमी से होता है? (उपचार, दवा, बचाव)

माइग्रेन से आज के समय में दुनिया भर के लगभग 12% लोग ग्रसित है। अब आप में से बहुत से लोग सोच रहे होंगे कि आखिर या माइग्रेन है क्या? माइग्रेन एक बीमारी है, जिसके कारण सर में काफी तेजी से दर्द उठने लगता है और ऐसा लगने लगता है कि सर अब फट जाएगा।

हालांकि इस बीमारी को दूर करने का बेहद सरल उपाय है, परंतु यह बीमारी अक्सर लोगों को हो जाया करती है, क्योंकि उनके शरीर के अंदर विटामिंस की कमी हो जाती है। अब आपके मन में सबसे बड़ा सवाल यह उठा होगा कि आखिर यह माइग्रेन किस विटामिन की कमी से होता है?

migraine kis vitamin ki kami se hota hai

आज के इस लेख में हम आपको यही बताने वाले हैं। यदि आप सभी लोग माइग्रेन बीमारी के विषय में सभी जानकारियां जानना चाहते हैं तो आप हमारे द्वारा लिखे गए इस लेख को अंत तक जरूर पढ़ें।

माइग्रेन किस विटामिन की कमी से होता है? (उपचार, दवा, बचाव)

माइग्रेन क्या है?

माइग्रेन एक ऐसी बीमारी है, जिससे पीड़ित व्यक्ति का सर बहुत तेजी से दर्द करने लगता है। यह आम दर्द के मुकाबले बहुत ज्यादा ही तेज होता है जैसे लगता है कि व्यक्ति का सर फटने ही वाला है और कभी-कभी तो यह दर्द बर्दाश्त से बाहर होता है। यह कई लक्षणों जैसे उल्टी, घबराहट, प्रकाश तथा आवाज जैसी संवेदनाएं के साथ उत्पन्न हो सकता है।

कभी-कभी तो यह दर्द सिर के एक ही तरफ महसूस होता है। यह बीमारी ज्यादातर 35-40 वर्ष के व्यक्तियों को अधिक प्रभावित करती है। माइग्रेन का अटैक बच्चों पर कम समय के लिए रहता है।

माइग्रेन किस विटामिन की कमी से होता है?

माइग्रेन के कारण सिर में तेज दर्द उत्पन्न होता है, इसका बार बार होना एक न्यूरोलॉजिकल कंडीशन है। शोधकर्ताओं की माने तो 10% से अधिक पुरुष तथा 20% से अधिक महिलाओं को कभी ना कभी अपने जिंदगी में इस बीमारी का सामना करना पड़ता है। शोधकर्ताओं का मानना है कि विटामिन डी तथा विटामिन b2 की कमी से माइग्रेन बीमारी होने के चांसेस बढ़ जाते है।

माइग्रेन इन विटामिन की कमी से होता है, जो निम्नलिखित हैं तो चलिए विस्तार पूर्वक जानते हैं।

  • Vitamin d
  • Vitamin b2
  • Co enzyme Q10

विटामिन डी

विटामिन डी की कमी से भी माइग्रेन होता है। विटामिन डी मस्तिष्क में सूजन को बढ़ने से रोकता है, जिससे सिर में दर्द नहीं होता। इसके साथ-साथ शरीर में मैग्नीशियम की कमी होने के कारण भी माइग्रेन होने की आशंका रहती है। विटामिन डी शरीर में मैग्नीशियम के अवशोषण में भी सुधार लाता है। विटामिन डी के टेबलेट को खाने से माइग्रेन बीमारी के इलाज में मदद मिल सकती है।

नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ हेल्थ का मानना है कि पुरुषों को प्रतिदिन 400 से 420 मिलीग्राम मैग्नीशियम का सेवन करना चाहिए तथा इसी प्रकार महिलाओं को प्रतिदिन 310 से 320 मिलीग्राम मैग्नीशियम का सेवन करना चाहिए।

यदि आप 70 साल से कम उम्र के हैं तो आपको प्रतिदिन 15 माइक्रोग्राम विटामिन डी का सेवन करना चाहिए और यदि आपकी उम्र 70 वर्ष से अधिक है तो आपको प्रतिदिन 20 माइक्रोग्राम विटामिन डी लेनी चाहिए।

विटामिन b2

विटामिन b2 का अन्य नाम राइबोफ्लेविन है तथा यह मनुष्य के शरीर मे मेटबॉलिक प्रक्रिया में भी भाग लेता है। यह माइट्रोकांड्रिया के लिए जरूरी पोषक तत्व है, जो कि हमारे कोशिकाओं को ऊर्जा प्रदान करता है। ऐसा माना जाता है कि माइग्रेन मस्तिष्क में होने वाले सूजन तथा ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस से भी जुड़ा हुआ है।

विटामिन b2 माइग्रेन से होने वाले दर्द को कम करता है तथा इसके साथ ही साथ उसकी तीव्रता को भी कम करता है। विटामिन बी2 किसी भी व्यक्ति को किसी भी प्रकार का कोई भी नुकसान नहीं पहुंचाता है, बल्कि इसके सेवन से आप माइग्रेन बीमारी से बच सकते हैं। नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ हेल्थ की माने तो पुरुषों को प्रतिदिन 1.3 मिलीग्राम तथा महिलाओं को 1.1 मिलीग्राम विटामिन b2 का सेवन करना चाहिए।

कोएंजाइम q10

कोएंजाइम q10 विटामिन की तरह ही एक प्रकार का कंपाउंड है, जो मनुष्य के शरीर में एंटी ऑक्सीडेंट प्रभाव डालने के साथ-साथ ऊर्जा उत्पादन करने में माइटोकांड्रिया के साथ अहम भूमिका निभाता है तथा यह इस देश से होने वाले नुकसान को भी सुरक्षा प्रदान करता है। इसके साथ-साथ माइग्रेन अटैक होने पर व्यक्ति के शरीर में एंजाइम के स्तर को भी घटा देता है।

नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ हेल्थ का मानना है कि माइग्रेन से पीड़ित व्यक्ति को 2 महीने तक प्रतिदिन 200 मिलीग्राम कोएंजाइम q10 का सेवन करना चाहिए तथा इसके सेवन से माइग्रेन के दर्द एवं तीव्रता में भी कमी आती है। एंजाइम q10 शरीर को किसी भी प्रकार का कोई भी नुकसान नहीं पहुंचाता है।

माइग्रेन दूर करने के लिए क्या-क्या खाएं?

माइग्रेन अटैक से बचने के लिए आपको निम्नलिखित वस्तुओं का सेवन करना चाहिए:

हेल्दी भोजन: माइग्रेन का कारण ज्यादा देर तक खाली पेट रहना भी हो सकता है। इससे बचने के लिए आप प्रत्येक 2 से 3 घंटे में कुछ ना कुछ खा लें, जिससे आपको माइग्रेन से बचने में मदद मिलेगी।

पानी: शरीर में पानी की कमी से भी माइग्रेन हो सकता है। इससे आप समय-समय पर पानी पिए और शरीर में पानी की कमी ना होने दें। यह करके भी आप माइग्रेन से अपने आप को हो जा सकते हैं।

अदरक: अदरक के सेवन से आप अपने आप को माइग्रेन से बचा सकते हैं। क्योंकि अदरक में काफी मात्रा में न्यूट्रीशन होता है। इस प्रकार से भी आप अपने आप को माइग्रेन से बचा सकते हैं।

केला: केला एक ऐसा फल है, जिसमें काफी मात्रा में मैग्नीशियम होता है। इसके सेवन से आप माइग्रेन से बच सकते हैं, सिर में काफी दर्द होने पर भी आपके लिए का सेवन कर सकते हैं।

हरी पत्तेदार सब्जियां: हरी पत्तेदार सब्जी का सेवन करके भी आप अपने आप को माइग्रेन जैसी बीमारी से बचा सकते हैं तथा अपने सेहत में भी सुधार ला सकते हैं, क्योंकि हरी सब्जियों में काफी मात्रा में पोषक तत्व होते हैं।

माइग्रेन की स्थिति में कौन सी दवा लें?

माइग्रेन होने की स्थिति में आप सभी लोगों को माइग्रेनेक्स नाम की टेबलेट लेनी चाहिए। यह दवा माइग्रेन को दूर करने के लिए एग्जैक्ट दवा नहीं है, परंतु आप सभी लोग इसका यूज माइग्रेन होने की स्थिति में कर सकते हैं, जिससे आपका सर दर्द कम हो जाएगा और आपको आराम भी मिलेगा। यह बात अभी तक के लिए कारगर होगी, जब तक आप इसका सेवन करते रहेंगे।

माइग्रेन से बचने के लिए क्या उपाय करें?

यदि आप माइग्रेन से बचना चाहते हैं तो हमारे द्वारा बताए गए स्टेप्स फॉलो करें जो निम्नलिखित हैं:

  • जहां दर्द हो रहा हो, वहां कोल्ड कंप्रेस लगाएं।
  • अपनी नींद पूरी होने दें।
  • शोर-शराबा वाली जगह पर ना रहे।
  • गर्दन और सिर को सहारा देने वाले तकिए के साथ आराम करें।
  • सुबह सुबह उठकर एक्सरसाइज करें, जिससे आपका शरीर स्वस्थ रहेगा।

माइग्रेन का इफेक्ट कितने दिनों तक रहता है?

माइग्रेन का इफेक्ट शरीर पर लगभग 4 घंटे से लेकर 72 घंटे अर्थात 3 दिनों तक रहता है। यदि इस स्थिति में इसका रोकथाम या उपचार न किया जाए तो मनुष्य के शरीर पर इसका बहुत ही बुरा असर पड़ता है और किसी किसी केसेज में लोगों की मौत भी हो जाती है, इस प्रकार से हुए मौत को ब्रेन हेमरेज कहा जाता है।

ध्यान दें: यह जानकारी केवल सूचनात्मक उद्देश्य के लिए बताई गई है। इसमें बताई गई किसी भी सलाह को अपनाने या फिर उस पर अमल करने का निर्णय स्वयं का व्यक्तिगत निर्णय होगा। इसके निष्कर्ष तक पहुँचने से पहले एक बार विशेषज्ञ की सलाह अवश्य लें।

FAQ

माइग्रेन होने की स्थिति में कौन सी दवा लें?

माइग्रेन होने पर आपको माइग्रेनेक्स नाम की दवा लेनी चाहिए।

माइग्रेन कितने दिनों तक रहता है?

माइग्रेन किसी भी व्यक्ति को लगभग 4 घंटों से लेकर 3 दिनों तक रह सकता है।

माइग्रेन को जड़ से दूर कैसे करें?

माइग्रेन को जड़ से खत्म करने के लिए आपको सही मात्रा में विटामिन लेना होगा और आपको बादाम दूध में मिलाकर पीना भी होगा।

माइग्रेन का सबसे प्रभावी इलाज क्या है?

इसके लिए आपको एक गिलास में सेब का सिरका छोटी चम्मच से एक चम्मच ले लेना है और उसमें शहद मिलाकर आपको पीना है। ऐसा अगर आप 15 दिन से 20 दिनों तक करते हैं तो माइग्रेन से आप छुटकारा पा सकते हैं।

निष्कर्ष

हम उम्मीद करते हैं कि आपको हमारे द्वारा लिखा गया यह महत्वपूर्ण आर्टिकल पसंद आया होगा। यदि आपको हमारा यह आर्टिकल वास्तव में पसंद आया हो तो कृपया इसे शेयर करना बिल्कुल भी ना भूले और किसी भी सुझाव के लिए हमें अपनी प्रतिक्रिया कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं।

यह भी पढ़े

देसी घी के फायदे, उपयोग और नुकसान

केला खाने के फायदे, नुकसान, गुण, कैसे खाएं और खाने का सही समय

शहद के फायदे, नुकसान और उपयोग

एक सेब में कितनी कैलोरी होती है?

दही खाने के फायदे और नुकसान, गुण

इनका नाम राहुल सिंह तंवर है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 4 वर्ष से अधिक SEO का अनुभव है और 6 वर्ष से भी अधिक समय से कंटेंट राइटिंग कर रहे है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जरूर जुड़े।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here