मतदान का महत्व पर निबंध

Essay on Importance of Voting in Democracy in Hindi: हम सब जानते हैं, हमारा भारत लोकतांत्रिक देश है। यहां पर हर व्यक्ति जो अपनी 18 साल की उम्र पूरी कर चुका है, उसे वोट डालने का अधिकार है।

लोकतंत्र में मतदान का महत्व पर निबंध (Importance of Voting in Democracy in Hindi)

हम यहां पर मतदान की अनिवार्यता पर निबंध पर निबंध शेयर कर रहे है। इस निबंध में मतदान का महत्व के संदर्भित सभी माहिति को आपके साथ शेयर किया गया है। यह निबंध सभी कक्षाओं के विद्यार्थियों के लिए मददगार है।

Read Also: हिंदी के महत्वपूर्ण निबंध

मतदान का महत्व पर निबंध | Importance of Voting in Democracy in Hindi

मतदान का महत्व पर निबंध 100 शब्द (matdan ki anivaryata par nibandh)

लोकतंत्र में मतदान का महत्व बहुत अधिक है। लोकतांत्रिक व्यवस्था को बनाए रखने के लिए मतदान ही एक अनूठा जरिया है, जिसमें जनता का मूल अधिकार होता है। लोग मतदान के जरिए अपने प्रत्याशी को चुनते हैं। मतदान की प्रक्रिया की वजह से ही जनता का खुद का शासक चुना जाता है और वही शासन करता है। 26 जनवरी 1950 को भारत में संविधान लागू हुआ, उससे पहले देश ब्रिटिश सरकार के गुलाम था और ब्रिटिश सरकार से पहले देश में लोकतांत्रिक व्यवस्था नहीं थी।

देश के राजाओं के द्वारा शासन चलाया जाता था और वहां पर सभी को समान अधिकार नहीं मिलता था। राजा के बेटे की राजा बनते थे। ऐसे में 26 जनवरी 1950 को जब देश में संविधान लागू हुआ तो देश में लोकतंत्रिक व्यवस्था लागू की गई। जिसकी वजह से देश भर में हर आम आदमी को अपना शासक चुनने का अधिकार और हर आम आदमी को उम्मीदवार के रूप में खड़े होने का अधिकार है।

मतदान का महत्व पर निबंध 200 शब्द (matdan ka mahatva nibandh)

जनता के द्वारा अपने खुद के प्रतिनिधि को मतदान करके चुना जाता है। मतदान का महत्व जनता और प्रतिनिधि दोनों के लिए बहुत अधिक होता है। इसके अलावा देश के लिए और देश के विकास के लिए भी मतदान का महत्व अधिक है। भारत जो विश्व का सबसे बड़ा लोकतांत्रिक देश है। जहां हर व्यक्ति के 1 वोट का मुख्य योगदान रहता है, जो देश विकास के लिए और देश के शासन की दिशा को तय करने में जरूरी है।

क्योंकि शासक के बिना शासन चलाना संभव नहीं है और शासक का चयन जनता करती है। जनता के मध्य के योगदान से ही देश में शासक चुना जाता है। लोकतांत्रिक व्यवस्था को मतदान के बिना कायम रखना संभव नहीं है। लोकतांत्रिक व्यवस्था में जनता के द्वारा ही हर शासक को चुना जाता है। कौन सत्ता में रहेगा, कौन जीतेगा और कौन नहीं जीतेगा। इनका निर्धारण जनता के द्वारा और देश के नागरिक के द्वारा किया जाता है।

मतदान का एक महत्व हर व्यक्ति को समझना चाहिए। हर व्यक्ति के पास अपने वोट की शक्ति को अपने देश के प्रति इस्तेमाल करना अनिवार्य है और इमानदारी के साथ अपने देश के ईमानदार और नेक शासक उम्मीदवार को वोट देकर उसे विजय बनाना चाहिए ताकि देश के विकास में सुधार आ सके और देश प्रगति की राह पर आगे बढ़ सके।

मतदान का महत्व पर निबंध (250 शब्द)

26 जनवरी 1950 को भारत का संविधान लिखा गया था, जिसमें यह भी लिखा गया था कि अब से भारत एक लोकतांत्रिक देश है। हम सभी जानते हैं कि लोकतांत्रिक देश में सभी नागरिक को वोट देने का अधिकार होता है। परंतु कुछ नागरिक ऐसे होते हैं, जो अपना वोट कीमती नहीं समझते हैं और मतदान के समय वोट नहीं करते हैं।

ऐसे लोगों को यह जानना बहुत ही अधिक जरूरी है कि एक वोट भी कितना कीमती हो सकता है। भारत में सभी नागरिक चाहे तो एक वोट की कीमत को बता सकते हैं। उदाहरण के तौर पर फ्रांस एक ऐसा देश है, जहां पर पूर्णता मतदान डाले जाते हैं और हर नागरिक अपनी जिम्मेदारी समझता है कि उसको मतदान देना चाहिए। इसीलिए वह लोकतांत्रिक देश का सबसे बड़ा उदाहरण है।

हमारे भारत में सबसे बड़ा उदाहरण वोट ना देने का यह देखा गया, जब अटल बिहारी वाजपेई की सरकार बनी थी। तब 13 दिनों के बाद ही वापस मतदान करने पड़े थे। क्योंकि उस समय आम जनता ने सही प्रकार से मतदान नहीं किए थे, जिसकी वजह से सरकार को भी परेशानी उठानी पड़ी थी।

देखा जाए तो मतदान में इतनी शक्ति होती है कि वह अपनी मातृभाषा तक निर्धारित कर सकती हैं। वोट के आधार पर ही मातृभाषा चुनी जाती है। इसका सबसे बड़ा उदाहरण अमेरिका है, इसीलिए मतदान केवल सरकार के लिए ही नहीं होता है बल्कि आम नागरिक के लिए भी बहुत ज्यादा जरूरी होता है।

हमारे भारत में या देश में 5 वर्ष में एक बार मतदान किया जाता है। कई लोग इसको बेकार समझते हैं और इसके चलते सरकार को हर बार मतदान जागरूकता अभियान चलाना पड़ता है। कई जगह रैली निकाली जाती है और मतदान का प्रचार किया जाता है।

matdan ka mahatva
Image: मतदान का महत्व निबंध (matdan ka mahatva)

मतदान का महत्व पर निबंध 500 शब्द (matdan ka mahatva par nibandh)

प्रस्तावना

लोकतंत्र में हर व्यक्ति को अपना वोट देने का हक होता है और हर व्यक्ति को अपना वोट देना भी चाहिए ताकि व्यक्ति अपने इच्छा अनुसार देश के शासक को चुन सकें। मतदान देश के हर नागरिक को करना चाहिए। मतदान प्रक्रिया में भाग लेना देश के हर नागरिक का मुख्य कर्तव्य है। 18 वर्ष से ऊपर का हर व्यक्ति मतदान कर सकता है।

20 जनवरी 1950 को भारत का संविधान देशभर में लागू हुआ। इस संविधान में भारत एक लोकतांत्रिक देश है। इस बात का जिक्र किया गया। लोकतंत्र की व्यवस्था को बनाए रखने के लिए मतदान बहुत ही जरूरी है। हर नागरिक को मतदान को जिम्मेदारी समझते हुए मतदान करना चाहिए ताकि हमारा देश लोकतांत्रिक देश बना रहे।

मतदान क्यों जरूरी है?

किसी भी लोकतांत्रिक देश के लिए मतदान बहुत ही जरूरी है। देश में देश के नागरिक के द्वारा शासक का चयन करना मतदान की प्रक्रिया की वजह से ही होता है। मतदान की वजह से ही आम आदमी अपने इच्छा अनुसार इमानदार और नेक प्रतिनिधि को चुन सकता है और देश को अच्छी सरकार मिल सकती है।

मतदान करने से देश के विकास में बढ़ोतरी होती है। यदि देश को अच्छी सरकार मिलेगी तो देश के विकास में बढ़ोतरी होगी। देश की जनता के पास ताकत आएगी और देश के हर शहर और हर गांव में विकास की लहर उठेगी।

अगर मतदान नहीं किया जाता है और कम लोगों द्वारा मतदान किया जाता है तो ऐसे में कहीं बाहर गलत प्रतिनिधि विजेता बन जाता है, जिसकी वजह से देश को बड़ा नुकसान उठाना पड़ता है। जनता को भी गलत शासक बन जाने की वजह से समस्याओं का सामना करना पड़ता है, इसलिए मतदान करना जरूरी है। मतदान के प्रति हर व्यक्ति को जागरूक होना चाहिए। अपने आसपास मतदान के प्रति लोगों को जागरूकता फैलानी चाहिए।

मतदान देने की प्रक्रिया

हमारे देश में मतदान की प्रक्रिया को बेहद ही सरल बनाया गया है। हालांकि आज से कुछ सालों पहले मतदान के रूप में आपको पन्नों पर स्टांप लगाकर डब्बे में डालना होता था और उसके पश्चात उन सभी पन्नों को कमेंट किया जाता था। लेकिन आज के समय में ईवीएम मशीन के माध्यम से वोटिंग और मतदान की प्रक्रिया को सुचारू रूप से चलाया जा रहा है।

इन मशीनों के जरिए आपको हर प्रतिनिधि की फोटो और नाम के आगे एक बटन दिखाई देता है। उस बटन पर क्लिक करके आप अपना वोट प्रतिनिधि को डाल सकते हैं। इसके अलावा आपको नोटा का बटन भी देखने को मिलता है। यदि आप किसी भी प्रतिनिधि या उम्मीदवार को अपना वोट नहीं देना चाहते हैं तो ऐसे में आप नोटा बटन को दबा सकते हैं।

मतदान करना आपका कर्तव्य है। मतदान आप अपनी इच्छा अनुसार किसी भी व्यक्ति को कर सकते हैं। इसके लिए कोई भी जोर जबरदस्ती नहीं है। आपने किस को वोट डाला है यह हमेशा गुप्त रखें किसी को भी इसके बारे में नहीं बताए।

जीवन में मतदान की अहमियत

हर आम आदमी के जीवन में मतदान बहुत ही जरूरी होता है। इसकी वजह यह है कि देश का संविधान हर व्यक्ति को खड़े होने वाले उम्मीदवार को चुनने का हक देती है और जनता के द्वारा चुने गए उम्मीदवार को ही शासन की डोर सौंपी जाती है। अब जाहिर सी बात है कि यदि सही व्यक्ति के हाथ में देश को चलाने की शक्ति होगी तो वह देश के विकास में और जनता के विकास में कई अहम कार्य करेगा।

जिससे हमारे जीवन में भी कई तरह से बदलाव देखने को मिलेंगे। लेकिन यदि गलत उम्मीदवार चयनित होता है तो उसे हमारा जीवन भी प्रभावित होता है। अतः हर मनुष्य के जीवन में मतदान की अहमियत बहुत अधिक होती है। हर व्यक्ति को मतदान एक कर्तव्य है।

यह सोचकर मतदान की प्रक्रिया को सुचारु रुप से चलाना चाहिए। हर व्यक्ति को मतदान के प्रति जागरूकता फैल आनी चाहिए। मतदान ही एक सर्वश्रेष्ठ ताकत है, जो आज देश को चला रही है। देश के विकास के लिए और देश की प्रगति के लिए मतदान बहुत ही जरूरी है।

निष्कर्ष

हर आम आदमी को अपना प्रतिनिधि चुनने का हक है। मतदान किसी के चेहरे पर नहीं करना चाहिए। यह आपका खुद का अधिकार है और आप अपनी इच्छा अनुसार किसी भी उम्मीदवार को अपना वोट दे सकते हैं।

मतदान का महत्व पर निबंध (850 शब्द)

प्रस्तावना

भारत एक लोकतांत्रिक देश है। 26 जनवरी 1950 को भारत को लोकतांत्रिक देश घोषित किया गया था। लोकतांत्रिक देश में सभी नागरिकों को मतदान देने का अधिकार होता है, किंतु कुछ नागरिक अपने कर्तव्य से पीछे हटते हैं।

ऐसे में हमें क्या करना चाहिए? मतदान हमारे लिए बहुत ही जरूरी है। यह केवल सरकार की ही प्रगति नहीं करते हैं, बल्कि आम नागरिक की भी प्रगति इसके पीछे छिपी होती है। हमारे भारत में मतदान को भी एक उत्सव की तरह मनाया जाता है।

क्या होती है नागरिकों की क्षमता?

किसी भी आम नागरिक की सबसे बड़ी क्षमता यही होती है कि उसको मतदान देना चाहिए। उसको अपने प्रतिनिधित्व को चुनने का पूरा अधिकार है। हर किसी का सोच विचार अलग होता है। इसी के चलते लोग अपनी मर्जी से प्रतिनिधित्व को चुन सकते हैं।

हर नागरिक को अपने मन के विचार प्रकट करने चाहिए। यह केवल सरकार के लिए ही नहीं बल्कि अपनी भी प्रगति के लिए करना चाहिए। इससे उन्हें राजनीतिक दुनिया के बारे में भी पता चलता है।

मतदान देना क्यों है जरूरी?

किसी भी देश को यही चाहिए कि उसके देश के नागरिक ईमानदारी रहे। देश का नेता चुनने के लिए आम नागरिक को सबसे महत्वपूर्ण माना गया है। इसीलिए आम नागरिक को अपने कर्तव्य को समझते हुए सही प्रतिनिधित्व को चुनना चाहिए, जिससे उनके देश को अच्छे सरकार मिल सके।

भारत में हर नागरिक को सबसे सर्वोपरि माना जाता है। क्योंकि जो ताकत जनता के पास होती है वह ताकत सरकार के पास भी नहीं होती है। इसीलिए आम नागरिक को यह अंदाजा होना चाहिए कि मतदान कितना जरूरी है। गांव हो या शहर हो हर नागरिक को जागरूक होना चाहिए। अपने मतदान के लिए अगर ऐसा नहीं करते हैं तो उनकी प्रगति में रुकावट आती है।

अगर हम सही प्रतिनिधित्व नहीं चुनेंगे तो देश की सरकार किसी गलत हाथों में चली जाएगी। इससे देश को भी नुकसान होगा और वहां रहने वाली जनता को भी परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। इसीलिए अपने अधिकार के, चलते हर नागरिक को अपनी सत्ता चुनने का अधिकार मिला हुआ है तो वह उसका पूर्णता लाभ उठाएं।

कैसे चुने प्रतिनिधित्व?

जब भी आम जनता सरकार को वोट देना चाहती है तो वह इस असमंजस में रहती है कि हमारे लिए कौन सा प्रतिनिधित्व सही है? कौन प्रतिनिधित्व हमारे देश में विकास कर सकता है या कौन सा भ्रष्टाचार हो सकता है।

अगर आप भी इस विषय में असमंजस में पड़ जाते हैं तो आपको चाहिए कि आप यह जांच पड़ताल करे कि सबसे ज्यादा देश के प्रति अपने कर्तव्य कौन निभा रहा है, जो देश की सेवा को सर्वोपरि रखता है, वहीँ सही प्रतिनिधित्व होता है।

हमारे जीवन में क्या है मतदान की अहमियत?

अगर आम जनता के द्वारा सही से प्रतिनिधित्व नहीं चुना गया तो देश की बागडोर गलत हाथों में चली जाती है। इससे देश को खतरा भी हो सकता है। क्योंकि कुछ ऐसे प्रतिनिधित्व होते हैं, जो सरकार बनाकर उसका गलत फायदा उठाते हैं और एक भ्रष्ट नेता के रूप में उभरते हैं।

सबसे बड़ी बात तो यही है कि आम नागरिक मतदान देने में डरते हैं। अगर वह अपने वोट को कीमती समझे तो सही प्रतिनिधि का चुनाव कर सकते हैं। अन्यथा भ्रष्ट नेता अपने ही लोगों को पैसे देकर चुनाव जीत जाते हैं और देश को नुकसान पहुंचाते हैं।

ईमानदार और योग्य सरकार कैसे बनती है?

यह बात भी आम जनता पर ही निर्भर करती है। क्योंकि हर 5 वर्ष में चुनाव होता है, जिसके चलते आम नागरिक को अपनी सरकार का गठन करने का कर्तव्य होता है। आम जनता ही निर्धारित करती है कि राज्य और केंद्र सरकार पर कौन स्थापित होगा।

हमें मतदान देने का मौका कब मिलता है?

जब प्रत्येक नागरिक 18 वर्ष की आयु पूरी कर लेता है तब हमें मतदान देने का मौका मिलता है और यह मौका हमें पूरे जीवन मिलता है। लेकिन इस मौके का अवसर हमें हर 5 साल में उठाना चाहिए या जब भी चुनाव होते हैं। इस मौके का अवसर जरूर लेना चाहिए।

देश का नुकसान कैसे होता है वोट ना करने से?

वोट देना हमारा हक है। इस हक का हमें फायदा उठाना चाहिए, क्योंकि भ्रष्ट नेता अपने ही लोगों से वोट गिरवाते हैं और चुनाव जीत जाते हैं। जिसके चलते देश को बहुत बड़ा नुकसान हो जाता है और यह साबित नहीं हो पाता है कि कौन ईमानदार है और कौन भ्रष्ट नेता है।

मतदान देने की प्रक्रिया क्या होती है?

  • मतदान देने के लिए किसी को से भी जोर जबरदस्ती नहीं किया जाता, वह अपने पसंदीदा उम्मीदवार को मत दे सकता है।
  • अपनी मत को हमेशा गुप्त रखें, किसी को भी यह नहीं बताएं कि आप किसके समर्थन हैं।
  • सबकी मत की सहमति अलग-अलग होती है, इसीलिए जरूरी नहीं है कि वह एक समान ही सोचे।
  • जिस राजनीतिक पार्टी का बोलबाला ज्यादा होता है, उसी उम्मीदवार को अधिक वोट प्राप्त होते हैं।

वोट देने के लिए कौन कौन से दस्तावेज जरूरी हैं?

  • सबसे पहले आपके लिए पहचान पत्र जरूरी है, जो कि सरकार द्वारा बनाए जाते हैं।
  • इसके पश्चात आपका नाम वोटर लिस्ट में होना आवश्यक है।
  • वोटर आईडी कार्ड या आधार कार्ड अन्यथा वोटर स्लिप होनी जरूरी है।

देश की सफलता किन बातों पर निर्भर करती है?

  • आम नागरिक अपने कर्तव्य को समझते हुए हर साल वोट अवश्य दें।
  • देश से भ्रष्टाचार खत्म करें क्योंकि आम जनता ही है, जो यह काम कर सकती है।
  • जितनी ताकत सरकार के पास नहीं होती है, उससे कहीं अधिक ताकत जनता के पास होती है क्योंकि अगर जनता मतदान नहीं करेगी तो सरकार नहीं बन पाएगी।
  • देश के विकास के लिए सभी को एक मत रहना आवश्यक होता है, यही तय करता है कि देश का नेता भ्रष्टाचार ना हो।
  • आम नागरिक को अपनी सरकार के प्रति सक्रिय रहना चाहिए, जनता को अपने सरकारी कामों के बारे में पता रहना चाहिए।
  • मतदान करने से पहले आप इंटरनेट से अपने प्रतिनिधित्व के बारे में जांच-पड़ताल भी कर सकते हैं, इससे आप को मत देने में आसानी होगी।
  • हमारा देश लोकतांत्रिक देश है और हम बहुत खुशनसीब लोग हैं कि हमें वोट देने का अधिकार मिला है। अपनी सरकार खुद चुनने का अधिकार दिया गया है।

निष्कर्ष

हमारे देश की जितनी भी परेशानियां और समस्याएं हैं, अगर सरकार चाहे तो उन समस्याओं को खत्म कर सकती है। परंतु अकेले सरकार के चाहने से कुछ नहीं होगा, इसमें आम जनता को पूर्ण सहयोग करना होगा।

तभी हमारे देश की गरीबी, बेरोजगारी, दिन प्रतिदिन बढ़ती महंगाई, इन सब को हम रोक पाएंगे। क्योंकि वोट देने से देश में बहुत से परिवर्तन आ सकते हैं। इसीलिए आपको अपना अधिकार समझना चाहिए और अपने देश के प्रति जागरूक रहना चाहिए।

अंतिम शब्द

आज के आर्टिकल में हमने मतदान का महत्व पर निबंध (Importance of Voting in Democracy in Hindi) के बारे में बात की है। मुझे पूरी उम्मीद है कि हमारे द्वारा लिखा गया यह आर्टिकल आपको पसंद आया होगा। यदि आपका इससे जुड़ा कोई सवाल या सुझाव है तो कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं।

Read Also

इनका नाम राहुल सिंह तंवर है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 4 वर्ष से अधिक SEO का अनुभव है और 5 वर्ष से भी अधिक समय से कंटेंट राइटिंग कर रहे है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जरूर जुड़े।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here