आईआईटी (IIT) क्या है और कैसे करें? (योग्यता, फायदे, फीस, कॉलेज)

IIT kya hai IIT kaise kare : आप लोगों में से लगभग सभी छात्रों एवं अभिभावकों नें आईआईटी का नाम जरूर सुना होगा। मगर इसके बारे में आप में से बहुत से ऐसे लोग हैं, जिनको संपूर्ण जानकारी नहीं हैं।

IIT kya hai IIT kaise kare
Image : IIT kya hai IIT kaise kare

आईआईटी का फुल फॉर्म क्या होता है? और इसके साथ ही IIT क्या है और कैसे करें पूरी जानकारी इसके बारे में हम आपको आज संपूर्ण रूप से जानकारी देने वाले है और इसके साथ ही ये भी बताने वाले हैं कि आईटीआई में प्रवेश लेने के लिए क्या योग्यता होनी चाहिए? इसलिए आप हमारे इस आर्टिकल को शुरू से लेकर अंत तक जरूर पढ़ें।

आईआईटी (IIT) क्या है और कैसे करें? (योग्यता, फायदे, फीस, कॉलेज) | IIT kya hai IIT kaise kare

IIT क्या है?

इससे पहले कि हम आपको बतायें कि आईआईटी क्या है? इससे पहले हम आपको यह बता दे कि आईआईटी का फुल फॉर्म इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (Indian Institute of technology) होता है और हिंदी भाषा में इसे “भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान” के नाम से जाना जाता है। यह संस्थान न केवल भारत में है, बल्कि पूरे विश्व में प्रसिद्ध है, जिसकी गिनती सबसे प्रतिष्ठित संस्थानों में होती है।

हम आपको बताते चलें की भारत की सबसे पहली आईटीआई संस्था की स्थापना साल 1951 में पश्चिम बंगाल के खड़गपुर में हुआ था। अगर वर्तमान समय की बात करें तो हमारे भारत देश में कुल 23 आईआईटी कॉलेज मौजूद है, जिसमें हमें पढ़ाई करने यानी एडमिशन के लिए कड़ी मेहनत करनी पड़ती है और आईआईटी एंट्रेंस एग्जाम एग्जाम क्लियर करना पड़ता है।

यहां से जो भी छात्र इंजीनियरिंग कंप्लीट करता है, वह देश – विदेश में कहीं भी जॉब करके अच्छा पैसा कमाता है। यानी हम आसान शब्दों में कहे तो वर्तमान समय में आईआईटी इंजीनियर की डिमांड देश-विदेश हर जगह है।

आईआईटी इंस्टिट्यूट की स्थापना

आईआईटी यानी भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान की पहली नींव साल 1950 में उस समय के वर्तमान प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू के नेतृत्व में पश्चिम बंगाल के खड़कपुर में रखी गई थी।

फिर इसके बाद साल 1958 में महाराष्ट्र के मुंबई में और साल 1959 में मद्रास में आईआईटी इंस्टीट्यूट की स्थापना की गई । फिर उसके बाद देखते ही देखते आज के वर्तमान समय में पूरे भारत में आईआईटी इंस्टीट्यूट के 23 ब्रांच मौजूद है।

IIT की तैयारी कैसे करें?

आईआईटी इंस्टीट्यूट में दाखिला लेने के लिए सबसे पहले आपको JEE MAIN एक्जामिनेशन क्लियर करना होगा। जब आप इस परीक्षा में पास हो जाते हैं, तो इस एग्जामिनेशन में पास हुए टॉप के ढाई लाख स्टूडेंट आईआईटी में एडमिशन पाने के लिए जेईई एडवांस का परीक्षा देते हैं। फिर इस परीक्षा में पास करने वाले टॉप एक लाख स्टूडेंट को आईआईटी इंस्टिट्यूट में दाखिला मिलता है।

आईआईटी में प्रवेश लेने के लिए क्या योग्यता होनी चाहिए?

जो भी छात्र आईआईटी में प्रवेश लेना चाहता है, उसे साइंस से 12वीं पास होना चाहिए। लेकिन इन सभी बातों में एक बात पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है, कि 12वीं में रसायन विज्ञान, मैथ के अलावा तीसरे विषय के तौर पर केमिस्ट्री ऑफ बायोटेक्नोलॉजी में से कोई एक विषय जरूर होना चाहिए और इसके अलावा 12वीं में आपके 75 प्रतिशत मार्क्स होने चाहिए।

हालांकि इसमें SC और ST के लिए कुछ प्रतिशत छूट दी जाती है। लेकिन वर्तमान समय में इसके नियमों में कुछ बदलाव किया गया है, जिसके अनुसार जेईई एडवांसड को क्लियर करने के बाद छात्रों को आईआईटी कॉलेज में डायरेक्ट एडमिशन मिल सकता है। इसके लिए 12वीं में मिनिमम मार्क्स की कोई जरूरत नहीं है।

JEE MAINS क्या है?

हम सबसे पहले बात करते हैं, जेईई के फुल फॉर्म की जिसका फुल फॉर्म जॉइंट एंट्रेंस एग्जाम होता है। यह एक नेशनल लेवल का एग्जाम होता है, जो कि अंडर ग्रेजुएशन डिग्री कोर्स, एनआईटी, आईआईआईटी और बी.टेक, बी.ई में प्रवेश लेने के लिए पास होना जरूरी है।

इस एग्जाम का आयोजन हर साल नेशनल टेस्टिंग एजेंसी द्वारा साल में दो बार जून और जुलाई के महीने में किया जाता है। पूरे भारत देश में जेईई मेंस एग्जामिनेशन की तैयारी 13 भाषाओं में होती है, जिनके नाम निम्नलिखित इस प्रकार है।

  • हिंदी
  • इंग्लिश
  • मलयालम
  • तमिल 
  • तेलुगू
  • कन्नड़
  • मराठी
  • गुजराती
  • ओड़िया 
  • आसामी
  • उर्दू 
  • बंगाली

जैसा कि दोस्तों मैंने आपको पहले ही बता दिया है, कि आईआईटी में एडमिशन लेने के लिए जेईई मेंस में अगर आप पास हो जाते हैं, तो उसके बाद आपको जेईई एडवांस (JEE Advanced) एक्जाम पास करना होगा, तब जाकर आपको आईआईटी में एडमिशन मिलेगा। जेईई मेंस क्लियर करना आईआईटी में एडमिशन के लिए पहला पड़ाव है।

जेईई एडवांसड क्या है?

जैसा कि हमने आपको पहले ही बता दिया है, कि आईआईटी इंस्टीट्यूट में एडमिशन लेने के लिए सबसे पहले जेईई मेंस को क्लियर करना होता है, इसके बाद इसमें पास हुए ढाई लाख छात्रों को जेईई एडवांस में एग्जाम देने का मौका मिलता है, फिर जेईई एडवांस में टॉप एक लाख छात्रों को आईआईटी इंस्टीट्यूट में एडमिशन मिलता है। अगर हम साफ शब्दों में कहें तो जेईई एडवांस में एडमिशन पाने के लिए जेईई मेंस क्लियर करना पड़ता है।

हर साल जेईई एडवांस परीक्षा का आयोजन आईआईटी इंस्टिट्यूट के संस्था आईआईटी दिल्ली, आईआईटी मद्रास, आईआईटी खड़गपुर, आईआईटी कानपुर, आईआईटी बॉम्बे में से किसी एक द्वारा कराया जाता है, जो ज्वाइंट एडमिशन बोर्ड की निगरानी में संपन्न होती है।

IIT JAM क्या होता है?

इससे पहले कि हम आपको आईआईटी जेम (IIT JAM) क्या होता है? इसके बारे में बताएं, उससे पहले हम आपको बता दें कि आईआईटी जेम का फुल फॉर्म इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी जॉइंट एडमिशन टेस्ट फॉर एमएससी (Indian Institute of technology joint admission test for MSC) होता है।

छात्रों के पास इस एग्जामिनेशन में भाग लेने के लिए बैचलर ग्रेजुएशन की डिग्री होना अनिवार्य है। इस एग्जामिनेशन के माध्यम से बी.एस.सी जैसे कोर्स में उत्तीर्ण हुए छात्रों को आईआईटी के संस्थान में दाखिला मिलता है।

आईआईटी की डिग्री हासिल करने में कितना वर्ष लगता है?

इंजीनियरिंग की बैचलर डिग्री प्राप्त करने के लिए आईटीआई में पूरे 4 साल की अवधि लगती है। यदि ऐसे में अगर कोई छात्र बैचलर डिग्री के साथ – साथ मास्टर कोर्स भी करना चाहता है, तो इसके लिए 5 साल की अवधि लगती है।

आईआईटी के लिए लगने वाली फीस क्या होती है?

कोई भी छात्र जब आईआईटी की तैयारी करना चाहता है, तो उसके मन में एक ही सवाल उठता है, कि आखिर आईआईटी में डिग्री प्राप्त करने के लिए फीस कितनी लगती है। तो इसके लिए हम आपको बता दें कि आईआईटी इंस्टिट्यूट हर साल अपने ऑफिशियल वेबसाइट पर फीस रिलेटेड अपडेट देते रहता है।

जिस के अकॉर्डिंग बी.टेक की डिग्री हासिल करने के लिए अभ्यर्थियों को प्रत्येक वर्ष 2 लाख से लेकर 2.5 लाख सालाना फीस देनी पड़ती है। यानी कि आपको आईआईटी की डिग्री हासिल करने में लगने वाले पूरे 4 साल में 8 से 10 लाख का खर्च आता है।

आईआईटी इंस्टीट्यूट से डिग्री हासिल करने के फायदे

आज के समय भारत देश का हर छात्र जो इंजीनियरिंग क्षेत्र में आगे बढ़ना चाहता है, वो छात्र आईआईटी में दाखिला लेने के लिए कड़ी मेहनत कर रहे है और इस उम्मीद के साथ तैयारी में लगे हुए है कि उन्हें अपने देश के सबसे प्रतिष्ठित इंस्टिट्यूट में पढ़ने का मौका मिलेगा।

अगर ऐसे में हम आईआईटी इंस्टीट्यूट से डिग्री हासिल करने के फायदे की बात करें तो इसके फायदे निम्नलिखित किस प्रकार है-

  • आईआईटी इंस्टीट्यूट से डिग्री प्राप्त करने वाले छात्रों को देश – विदेश में लाखो – करोड़ों रूपए की सैलरी पैकेज मिलता है।
  • आईआईटी से डिग्री हासिल करने वाले छात्रों को समाज में अच्छा परिवार में अधिक मान सम्मान मिलता है।
  • आईआईटी से पढ़ने का सबसे बड़ा फायदा यह है कि, देश – विदेश के बड़े – बड़े विश्वविद्यालयों में जैसे ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी, हावर्ड में पढ़ने के लिए रास्ते खुल जाते हैं।

इसके अलावा आईआईटी इंस्टीट्यूट से डिग्री हासिल करने का सबसे बड़ा लाभ यह है, कि आपकों रिसर्च के क्षेत्र में कैरियर बनाने का सुनहरा मौका होता है और साथ ही अपने देश में वैज्ञानिक के रूप में एक महत्वपूर्ण योगदान भी दे सकते हैं।

भारत के कुल 23 आईआईटी इंस्टीट्यूट के नाम

इसके बारे में हमने आपको भारत के कुल 23 आईआईटी इंस्टीट्यूट के नाम निचे निम्नलिखित दिए है।

  • भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (मुंबई)
  • इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (दिल्ली)
  • इंडियन इंस्टीट्यूट आफ टेक्नोलॉजी (खड़गपुर)
  • इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (धारवाड़)
  • इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (हैदराबाद)
  • इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी  (जम्मू)
  • इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (जोधपुर)
  • इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (रुड़की)
  • इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (मद्रास)
  • इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (गुवाहाटी)
  • इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (गांधीनगर)
  • इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (पलक्कड़)
  • इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (कानपुर)
  • इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (भुवनेश्वर)
  • इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (तिरुपति)
  • इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (वाराणसी)
  • इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (इंदौर)
  • इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (पटना)
  • इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (धनबाद)
  • इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (भिलाई)
  • इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (गोवा)
  • इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (मंडी‌)
  • इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (रोपड़‌)

FAQ

भारत में कुल कितनी आईआईटी इंस्टीट्यूट संस्थान है?

23

आईआईटी की डिग्री हासिल करने में कितना वर्ष लगता है?

बैचलर डिग्री के लिए 4 साल, बैचलर मास्टर डिग्री के लिए 5 साल

भारत में आईआईटी इंस्टीट्यूट संस्थान की स्थापना कब हुई?

 सन् 1950 में खड़गपुर

आईआईटी की तैयारी कब से करनी चाहिए?

 10वीं 12वीं कक्षा में अच्छे अंक से पास होने के बाद।

आईआईटी में दाखिला लेने के लिए 12वीं में कितने परसेंट मार्क्स होने चाहिए?

 75%

निष्कर्ष

आईआईटी क्या है और कैसे करें? (IIT kya hai IIT kaise kare) के बारे में हमने अपने इस लेख में पूरी कंप्लीट स्टेप बाय स्टेप जानकारी प्रदान की है और हमें उम्मीद है कि हमारे द्वारा दी गई यह जानकारी आप लोगों के लिए काफी ज्यादा उपयोगी और सहायक सिद्ध हुई होगी।

अगर आप लोगों को आईआईटी के बारे में यह जानकारी पसंद आई हो और आपके लिए जरा सा भी उपयोगी साबित हुआ हो तो आप इसे अपने दोस्तों के साथ और अपने सभी सोशल मीडिया हैंडल पर शेयर करना ना भूले। ताकि लोगों को इस महत्वपूर्ण जानकारी के बारे में पता चल सके और उन्हें आगे ऐसा ही कैरियर से संबंधित महत्वपूर्ण लेख को पढ़ने के लिए कहीं और बार-बार भटकने की बिल्कुल भी आवश्यकता ना हो।

अगर आप लोगों के मन में हमारे आज के इस महत्वपूर्ण लेख से संबंधित किसी भी प्रकार का सवाल या फिर कोई भी सुझाव है तो आप हमें कमेंट बॉक्स में अवश्य बताएं। हम आपके द्वारा दिए गए प्रतिक्रिया का जवाब शीघ्र से शीघ्र देने का पूरा प्रयास करेंगे और हमारे इस महत्वपूर्ण लेख को शुरुआत से लेकर अंतिम तक पढ़ने के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद एवं आपका कीमती समय हो।

यह भी पढ़ें:

नीट क्या होता है और नीट की तैयारी कैसे करें?

एमबीए (MBA) कैसे करें? (योग्यता, प्रक्रिया, फीस, करियर, जॉब, सैलरी)

एक्टर कैसे बने? (योग्यता, प्रक्रिया, सुविधा और इनकम)

पोस्ट ग्रेजुएशन कैसे करें? (योग्यता, फीस, करियर ऑप्शन और सैलरी)

इनका नाम राहुल सिंह तंवर है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 4 वर्ष से अधिक SEO का अनुभव है और 6 वर्ष से भी अधिक समय से कंटेंट राइटिंग कर रहे है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जरूर जुड़े।