मशरूम की खेती का व्यापार कैसे शुरू करें?

How to Start Mushroom Farming Business in Hindi: हमारे देश में बहुत से ऐसे किसान है, जोकि ऐसी अनेकों प्रकार की सब्जियों का उत्पादन करते हैं, जिनका मार्केट में बहुत ही कम दाम है। ऐसे में सभी किसान बहुत ही ज्यादा नर्वस हो जाते हैं और खेती छोड़ने का फैसला भी कर बैठते हैं। यदि आप एक ऐसे फसल की खेती करना चाहते हैं, जिससे आपको मार्केट में काफी अच्छी खासी रकम प्राप्त हो सके, तो हमारी यही सलाह होगी कि आप मशरूम की खेती शुरू कीजिए।

मशरूम की खेती आप सभी लोगों के लिए काफी फायदेमंद सिद्ध हो सकती है, हालांकि इसमें काफी अच्छी पैदावार प्राप्त करने के लिए आपको बहुत से बातों का ध्यान भी रखना होता है, जिनके बारे में आज हम आपको बताएंगे। वर्तमान समय में मशरूम की खेती उत्तर प्रदेश, हरियाणा, राजस्थान जैसे राज्यों में शुरू हो चुकी है और हिमाचल प्रदेश, जम्मू-कश्मीर और ठंडे राज्य में भी मशरूम की खेती की जाने लगी है।

How to Start Mushroom Farming Business in Hindi
Image: How to Start Mushroom Farming Business in Hindi

वर्तमान समय में पूरे एशिया और पूरे अफ्रीकी क्षेत्रों में मशरूम की मांग काफी ज्यादा हो गई है, क्योंकि किसी भी फंक्शन में या मैरिज पार्टी में लोग मशरूम बनाना काफी पसंद कर रहे हैं। आज हम आपको इस लेख में मशरूम की खेती (Mushroom Farming in Hindi) से लेकर मशरूम के व्यापार तक की संपूर्ण जानकारी प्राप्त करेंगे।

यदि आप भी इच्छुक है, मशरूम की खेती शुरू करके एक अच्छी खासी रकम कमाने के लिए, तो कृपया आप इस लेख “मशरूम की खेती का व्यापार कैसे शुरू करें? (How to Start Mushroom Farming Business in Hindi)” को अंत तक अवश्य पढ़ें, तो चलिए शुरू करते हैं।

मशरूम की खेती का व्यापार कैसे शुरू करें? | How to Start Mushroom Farming Business in Hindi

मशरूम क्या है?

मशरूम एक प्रकार का पौधा होता है, जो कि सब्जी के रूप में उपयोग किया जाता है। मशरूम एक प्रकार का पौधा है लेकिन इसे मांसाहारी पौधा कहा जाता है, अतः यदि आपको ऐसा भ्रम है कि इसे हम शाकाहारी पौधा भी कह सकते हैं, तो आप इसे शाकाहारी पौधा नहीं कह सकते हैं, क्योंकि मशरूम को मांसाहार की श्रेणी में रखा गया है।

मशरूम में इतनी ज्यादा मात्रा में प्रोटीन और अन्य पोषक तत्व मौजूद होते हैं कि यदि आप इसका सेवन करते हैं, तो आपके शरीर में कभी भी प्रोटीन और विटामिन की कमी नहीं होगी। मशरूम में भी उतनी ही ज्यादा प्रोटीन होती हैं, जितनी की शुद्ध सोयाबीन में। मशरूम में प्रोटीन विटामिन डी और ऐसे ही अन्य पोषक तत्व मौजूद हैं।

वर्तमान समय में मार्केट में मशरूम के प्रकार

वर्तमान समय में मार्केट में मशरूम के बहुत से प्रजातियां उपलब्ध हैं। अंतरराष्ट्रीय वैज्ञानिकी अध्ययन के अनुसार मशरूम की लगभग 10000 किशोर से भी अधिक किसमें इस पूरी धरती पर मौजूद है। मशरूम को यदि हम व्यापार की दृष्टि से देखते हैं, तो मशरूम की मात्र पांच ही ऐसी किसमें हैं, जिन्हें हम उपयोग कर सकते हैं।

मशरूम की कुल 10000 जातियों में से केवल 5 ही किस्म को प्रोटीन युक्त और अच्छा माना जाता है। नीचे इन 5 पशुओं के नाम निम्नलिखित रुप से बताए गए हैं, जिनमें से सबसे ज्यादा पसंद की जाने वाली मशरूम बटन मशरूम है।

  1. बटन मशरूम (मिल्की मशरूम)
  2. धींगरी मशरूम (ओयस्टर मशरूम)
  3. दवा युक्त मशरूम
  4. पैड़ी स्ट्रॉ मशरूम 
  5. स्पेशली मशरूम

मशरूम के बीज को कहां से खरीदे?

आप मशरूम की बीज को अपने मार्केट के किसी भी खाद एवं बीज भंडार दुकानों से खरीद सकते हैं, आपको मशरूम के बीज दुकानों पर थोड़े महंगे भी मिल सकते हैं। आप मशरूम के बीज को सरकारी बीज भंडार दुकानों से भी खरीद सकते हैं, यहां पर आपको कुछ कम दामों में मशरूम की बीज मिल जाएगी। 

आप मशरूम को ऑनलाइन भी मंगा सकते हैं, मसरूम को ऑनलाइन मंगाने के लिए आप इस वेबसाइट का उपयोग कर सकते हैं। आप मशरूम की फसल को ऑनलाइन मंगाने के लिए कैश ऑन डिलीवरी या किसी भी ऑनलाइन पेमेंट का भी उपयोग कर सकते हैं। यह मशरूम का बीज आप तक मात्र 2 से 3 दिनों के अंतराल पर पहुंचा दिया जाएगा।

यदि हम बात करें, मशरूम के बीज की कीमत के बारे में तो आपको मशरूम के बीज की कीमत लगभग ₹75/किलोग्राम देकर खरीदनी पड़ सकती है। मशरूम के बीज की कीमत का निर्धारण ब्रांड और किस्म के अनुसार किया जाता है। यदि आप मशरूम का बीज लेने जाते हैं तो आपको पहले से ही यह निर्धारित करना होगा कि आप कौन सी किस्म का बीज लेना चाहते हैं, क्योंकि आपको बीज की किस्म के अनुसार से ही पैसे चुकाने पड़ते हैं।

मशरूम का व्यापार शुरू करने में आई लागत

मशरूम के व्यापार को करने के लिए आई लागत का निर्धारण आपके व्यापार के स्तर पर निर्भर करता है। यह लागत आपके व्यापार की क्षमता एवं व्यापार के स्तर के अनुसार सदैव बदलती रहती है। मशरूम का व्यापार करने के लिए आपको केवल इसे उगाने और इसकी देखरेख करने के लिए ही खर्च करना पड़ेगा।

यदि आप अपने फसल पर अच्छी कीटनाशक दवाओं का उपयोग करते हैं, तो आपको इसका भी खर्च इसमें ऐड करना पड़ेगा। यदि आप छोटे पैमाने पर या बिजनेस शुरू करते हैं, तो आपको लगभग ₹10000 से ₹50000 तक लगाना पड़ सकता है और बड़े व्यापार के लिए आपको लगभग एक लाख से ₹1000000 निवेश करने पड़ सकते हैं।

मशरूम की खेती के लिए सरकार द्वारा मदद

वर्तमान समय में हरियाणा राज्य में मशरूम की खेती एक अच्छे पैमाने से शुरू करने के लिए प्रशिक्षण भी दिया जा रहा है इतना ही नहीं मशरूम की खेती के लिए सरकार द्वारा ऋण देने की योजना भी चलाई गई है, यदि आप एक छोटे व्यवसाई हैं और मशरूम की खेती शुरू करना चाहते हैं, तो आपके पास पैसे नहीं है, तो सरकार आपको सब्सिडी भी प्रदान करेगी।

यदि आपको ज्यादा धनराशि की आवश्यकता है, तो आपको इस सरकार से ऋण लेना होगा। सरकार ने ऐसी योजना इसलिए चलाई है, ताकि आपको किसी तीसरे व्यक्ति को कोई अतिरिक्त शुल्क ना देना हो और आपको बड़ी ही आसानी से ऋण प्राप्त हो सके।

इस योजना की आवेदन प्रक्रिया पूरी तरह से ऑफलाइन है। आपको मशरूम के बिजनेस को शुरू करने के लिए अपना एक प्रस्ताव तैयार कर लेना है और खाद्य संबंधित सरकारी कार्यालय में चले जाना है। आपको अपने साथ अपना आधार कार्ड निवास प्रमाण पत्र पैन कार्ड और बैंक अकाउंट की डिटेल्स को लेकर वहां जाना पड़ता है और अपने व्यवसायिक प्रस्ताव के साथ जमा करना होता है।

इस योजना के तहत निम्न वर्गीय किसानों को एक मशरूम के थैले पर लगभग 40% की सब्सिडी और सामान्य वर्गीय किसानों को एक मासूम के थैले पर 20% तक की सब्सिडी प्रदान कराई जा रही है।

यह भी पढ़े: सरकारी राशन की दुकान कैसे खोलें?

मशरूम की खेती शुरू करने के लिए उपयुक्त भूमि, उपयुक्त तापमान एवं जलवायु

यदि आप मशरूम की खेती शुरू करना चाहते हैं, तो आपको मासरूम की फसल से संबंधित उपयुक्त भूमि उपयोग का तापमान जलवायु इत्यादि का ख्याल रखना होता है, तो आइए जानते हैं, इन सभी के विषय में।

  1. उपयुक्त भूमि: मसरूम का बिजनेस शुरू करने के लिए यदि उपयुक्त भूमि की बात करें, तो हमें उपयुक्त भूमि के रूप में नमी युक्त भूमि को ही चुनना चाहिए, क्योंकि मशरूम की खेती केवल नवनियुक्त भूमि पर ही की जा सकती है। मशरूम की खेती करने के लिए जिस स्थान पर नमी होगी, उसी स्थान पर मशरूम उगाया जा सकेगा अन्यथा नहीं।
  2. उपयुक्त तापमान: मशरूम की खेती करने के लिए उपयुक्त तापमान लगभग 10 से 15 डिग्री सेल्सियस के बीच होना चाहिए, अर्थात मशरूम की फसल को ठंडे मौसम में ही उगाया जा सकता है। मशरूम की फसल के लिए ठंडी का मौसम चुना गया है, क्योंकि ठंडी के मौसम में तापमान काफी कम रहता है और मशरूम की फसल काफी जल्दी हो भी जाती है।
  3. उपयुक्त जलवायु: यदि हम जलवायु की बात करें, तो जलवायु ऐसा मौसम जिसमें संबंधित फसल को उगाया जाए, तो उसे उस फसल के लिए उपयुक्त जलवायु कहा जाता हैं। मशरूम की फसल के लिए उपयुक्त जलवायु ठंडा मौसम एवं नव युक्त जमीन होनी चाहिए।

मशरूम की खेती कैसे करें?

यदि आप मशरूम की खेती करना चाहते हैं तो आपको सबसे पहले अपने व्यापार के बिजनेस पैमाने को चुनना होता है, यदि आप छोटे बिजनेस पैमाने को चुनते हैं तो आपको कुछ अलग प्रक्रिया को चुनना होता है और यदि आप बड़े बिजनेस पैमाने पर व्यापार शुरू करना चाहते हैं तो आपको कुछ दूसरी प्रक्रिया चुननी होती है। तो चलिए जानते हैं, इन प्रक्रियाओं के बारे में।

मशरूम की खेती छोटे पैमाने पर

यदि आप मशरूम की खेती छोटे पैमाने पर शुरू करना चाहते हैं, तो आपको प्रति 100 स्क्वायर मीटर के खेत के लिए लगभग 2 किलो तक मशरूम के बीज की आवश्यकता पड़ेगी। इसके बाद आपको अपने खेत में अच्छी पैदावार के लिए धान और गेहूं के भूसे को खेतों में फैला देना चाहिए और उसमें पानी भर देना चाहिए, ताकि वह घुसा सड़ जाए और खाद के रूप में बदल जाए। अब आपको खेत को जोत देना चाहिए और इसके बाद आपको अपनी फसल बोना है।

अब आपको अपने खेतों में फसल उप जाने के बाद समय-समय पर कीटनाशक एवं उर्वरा शक्ति युक्त खादों का उपयोग करना है और यदि आप अपने खेतों की फसलों को आवारा पशुओं से बचा लेते हैं, तो यह फसल मात्र 30 से 40 दिनों के अंतराल पर पक जाती है।

मशरूम की खेती बड़े पैमाने पर

यदि आप मशरुम की खेती बड़े पैमाने पर करना चाहते हैं, तो आपको अपने स्क्वायर मीटर खेत के अनुसार खेतों में बीज डालना होता है और जिन प्रक्रियाओं का उपयोग आपको छोटे पैमाने के मशरूम की खेती के लिए करना है ठीक वही प्रक्रिया आपको बड़े पैमाने पर मशरूम की खेती के लिए भी करना है अंतर केवल इतना ही रहेगा कि आपको अत्याधिक पैदावार के लिए अनेकों प्रकार के दवाओं का उपयोग करना चाहिए और मशरूम की पैकेजिंग आपको अपने कंपनी के लोगो, मैन्युफैक्चर डेट और मैन्युफैक्चरिंग डिटेल्स के साथ प्रिंटेड थैले में करनी चाहिए।

मशरूम की फसल की कटाई कैसे करें?

किसी भी फसल के तैयार हो जाने के बाद सबसे महत्वपूर्ण कार्य होता है, उस फसल की कटाई। ठीक उसी प्रकार मशरूम की फसल तैयार हो जाने के बाद आपको इस की कटाई करनी है। मशरूम की फसल की कटाई करने के लिए आपको किसी यंत्र की आवश्यकता नहीं है, आपको स्वयं से ही अपने हाथों से केवल इसके पौधे को तोड़ना होता है। मशरूम के फायदे को तोड़कर आपको इसे बंद अंधेरे कमरे में रख देना होता है, जहां पर हवा का आवागमन ना हो ऐसा आपको लगभग 15 दिनों तक करना है।

अब आपको मशरूम के फसल वाले घर को खोल देना है और उसमें हवा की उचित व्यवस्था करनी है, इसके लिए आप पंखे का भी उपयोग कर सकते हैं। कुछ दिनों के बाद मशरूम की फसल पूरी तरह से तैयार हो जाएगी और अब आपको उसकी पैकेजिंग पर ध्यान देना है।

कैसे करें मशरूम के फसल की पैकेजिंग?

मशरूम की फसल पूरी तरह से तैयार हो जाने के बाद आपको उसकी पैकेजिंग करनी होती है, पेकेजिंग करने के लिए यदि आपकी कोई कंपनी है, तो आपको मशरूम पैक करने वाले पहले को अपनी कंपनी के लोगो, मैन्युफैक्चर डेट और मैन्युफैक्चरर्स डिटेल्स के साथ अच्छी डिजाइन में प्रिंट करवा लेना चाहिए और आपको इसी थैले में मशरूम भरकर मार्केट में सेल के लिए भेज देना चाहिए।

मशरूम को एक थैली में उसके रेट के अनुसार कुछ निश्चित मात्रा में भरने होते हैं। आप ऐसा करके अपने प्रोडक्ट को मार्केट में सेल के लिए छोड़ सकते हैं।

मशरूम के व्यापार से मुनाफा

मशरूम के बिजनेस में लगभग 12% से लेकर 20% तक का मुनाफा प्राप्त हो सकता है, अर्थात आपको 100 स्क्वायर मीटर के खेत के लिए लगभग ₹500000 का मुनाफा प्राप्त होता है, यह मुनाफा आपकी लागत को छोड़कर होता है।

इसी के अनुसार आप जितने ज्यादा फसल को उगाते हैं आपको उतना ही ज्यादा मुनाफा होता है। आपको मशरूम की फसल से लगभग ₹500000 प्रति 100 स्क्वायर मीटर के हिसाब से मुनाफा प्राप्त होता है।

मशरूम को कहां बेचे हैं?

यदि आप अपनी फसल को बेचना चाहते हैं, तो आप अपनी फसल को अपने नजदीकी मार्केट और शहरी मार्केट दोनों में बेच सकते हैं। आपको मशरूम की फसल बेचने के लिए बड़ी-बड़ी दुकानों से संपर्क करना होगा और उनसे बात करने के बाद आप अपनी फसलें उन्हें बेच सकते हैं।

आप चाहें तो अपनी फसल को ऑनलाइन भी बेच सकते हैं, जिसके लिए आपको एक वेबसाइट बनानी होगी और उस पर अपने कंपनी का नाम देना होगा, इसके बाद आप बड़ी ही आसानी से अपने प्रोडक्ट को ऑनलाइन भी बेच सकते हैं।

निष्कर्ष

हम आप सभी लोगों से उम्मीद करते हैं कि आपको हमारे द्वारा लिखे गए इस लेख “मशरूम की खेती का व्यापार कैसे शुरू करें? (How to Start Mushroom Farming Business in Hindi)” से काफी ज्यादा लाभ प्राप्त हुआ होगा। यदि आपको हमारा यह लेख अच्छा लगा हो, तो कृपया इसे अवश्य शेयर करें और यदि आपके मन में कोई भी सवाल है तो कमेंट बॉक्स में हमें अवश्य बताएं।

यह भी पढ़े

इनका नाम राहुल सिंह तंवर है, इन्होंने स्नातक (रसायन, भौतिक, गणित) की पढ़ाई की है और आगे की भी जारी है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 3 वर्ष से भी अधिक SEO का अनुभव होने के साथ ही 3.5 वर्ष का कंटेंट राइटिंग का अनुभव है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जुड़ सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here