फास्ट फूड का बिजनेस कैसे शुरू करें?

How to Start Fast Food Business in Hindi: आज हमारे देश में फास्ट फूड का व्यापार काफी ज्यादा बढ़ चुका है और लगभग हर एक गली मोहल्ले में आपको छोटी-बड़ी फास्ट फूड की दुकान आसानी से देखने को मिल जाएगी। भारत में फास्ट फूड के बढ़ते व्यापार को देखकर स्विग्गी, जोमैटो और कई सारी कंपनियां हमारे देश में ऑनलाइन फास्ट फूड डिलीवरी का व्यापार कर रही है और वे दिन प्रतिदिन इसमें सफल भी हो रही है।

ऐसे में अगर खुद फास्ट फूड का छोटा या फिर थोड़ा बड़ा व्यापार शुरू किया जाए तो आप सोच सकते हैं कि इसमें आपको कितनी कमाई होने वाली है। जितना आसान आपको फास्ट फूड का व्यापार शुरू करने के लिए लग रहा है उतना है नहीं। अपितु इसे शुरू करने में हमें काफी सारी मेहनत और कई प्रोसेस से होकर गुजर ना होता है।

How to Start Fast Food Business in Hindi
Image: How to Start Fast Food Business in Hindi

आज के इस लेख में हम आप सभी लोगों को फास्ट फूड के बिजनेस को कैसे शुरू करें? (How to Start Fast Food Business in Hindi) के ऊपर विस्तारपूर्वक से जानकारी देंगे और हमें उम्मीद है कि आज का यह लेख पढ़कर आप इस व्यापार को आसानी से शुरू कर लेंगे और आपको इससे जुड़े हुई महत्वपूर्ण जानकारियां मिल जाएगी।

फास्ट फूड का बिजनेस कैसे शुरू करें? | How to Start Fast Food Business in Hindi

विषय सूची

फास्ट फूड का बिजनेस क्या है?

फास्ट फूड बेसिकली एक ऐसा भोजन होता है, जिसे तैयार करने में ज्यादा समय नहीं लगता है और जल्दी ही यह खाने योग्य तैयार हो जाता है। जैसा कि नाम से ही पता चलता है, फास्ट फूड अर्थात जल्दी से तैयार होने वाला भोजन। इतना जल्दी यह भोजन बन कर तैयार होता है, उतना यह खाने में भी स्वादिष्ट होता है और इसे पसंद करने वाले लोगों को भी बिना इस भोजन के रहा नहीं जाता है।

फास्ट फूड के अंतर्गत कई प्रकार के भोजन आते हैं जिसमें पिज़्ज़ा, बर्गर, सैंडविच, चाऊमीन, मोमोज, फिंगर चिप्स, स्प्रिंग रोल, पनीर रोल, वड़ापाव, पाव भाजी, नूडल्स और पास्ता आदि कई प्रकार के भोजन फास्ट फूड के अंतर्गत आते हैं। जिस जगह पर या जिस दुकान पर इस प्रकार के भोजन मिलते हैं हम उन्हें फास्ट फूड की दुकान या फिर रेस्टोरेंट भी कर सकते हैं। जो लोग फास्ट फूड बेचते हैं, उनके इसी व्यापार को हम फास्ट फूड बिजनेस कहते हैं और इसे हर कोई कर सकता है।

फास्ट फूड बिजनेस के प्रकार? 

दोस्तों जिस प्रकार से अन्य बिजनेस में उसके कई सारे रूप और प्रकार होते हैं, ठीक उसी प्रकार से फास्ट फूड बिजनेस के भी कई तरह प्रकार हैं। आजकल लोग आज के प्रकार के आधार पर भी दुकानों में जाना पसंद करते हैं या रेस्टोरेंट में जाना पसंद करते हैं। चलिए फूड बिजनेस कितने प्रकार हैं?, इसे इस प्रकार से नीचे समझ लेते हैं।

भारत में फास्ट फूड बिजनेस के प्रकार

  • साउथ इंडियन फास्ट फूड बिजनेस
  • गुजराती  फास्ट फूड बिजनेस
  • इटालियन फास्ट फूड
  • कॉन्टिनेंटल फूड फूड
  • वेज फास्ट फूड
  • नॉन वेज फास्ट फूड
  • वेज एंड नॉनवेज फास्ट फूड
  • चाइनीस फास्ट फूड
  • इंडियन फास्ट फूड

फास्ट फूड बिजनेस की बाजार में मांग

दोस्तों आज से 5 साल पहले की बात करे तब फास्ट फूड का बिजनेस इतना ज्यादा करो नहीं कर रहा था, जितना ज्यादा पिछले 2 सालों में करना शुरू हुआ है। वर्ष 2019 में फास्ट फूड का बिजनेस करें 257.19 बिलियन अमेरिकी डॉलर का हो गया था और वहीं वर्ष 2020 फास्ट फूड बिजनेस का वैश्विक मार्केट करीब 2.1 प्रतिशत के दर के हिसाब से बढ़ गया था और आने वाले वर्ष 2027 तक इस व्यापार में करीब 5% से भी अधिक वृद्धि देखी जाने वाली है।

इस आंकड़े से पता चलता है कि जैसे-जैसे समय बढ़ रहा है वैसे-वैसे फास्ट फूड बिजनेस के क्षेत्र में वृद्धि होती चली जा रही है और ऐसे में अगर आप आज से ही छोटे स्तर पर फास्ट फूड बिजनेस को शुरू करते हैं तो आने वाले कुछ समय में आपका यह बिजनेस काफी बड़े स्तर में परिवर्तित हो जाएगा। इस व्यापार को अपने छोटे शहर से भी शुरू कर सकते हैं और अगर आप चाहे तो इतने बड़े शहर में भी शुरू कर सकते हैं।

फास्ट फूड बिजनेस को शुरू करने के लिए रो मटेरियल कहां से प्राप्त करेंगे?

फास्ट फूड के व्यापार को शुरू करने के लिए इसमें लगने वाला रो मटेरियल आप अपने नजदीकी किराने की दुकान पर या फिर नजदीकी सुपर मार्केट में आसानी से मिल जाएगा। फास्ट फूड के बिजनेस को चलाने के लिए आपको नीचे निम्नलिखित रो मटेरियल की आवश्यकता पड़ेगी।

  • आटा
  • मैदा
  • रिफाइन ऑयल
  • सॉस
  • ब्रेड
  • ग्रीन वेजिटेबल
  • नमक
  • मसाला
  • मियोनी आदि

फास्ट फूड बिजनेस को शुरू करने के लिए स्थान का चयन कैसे करें?

सभी प्रकार के बिजनेस को शुरू करने के लिए हमें सबसे पहले उनके योग्य लोकेशन का चुनाव करना बहुत ही जरूरी है, क्योंकि बिजनेस के आधार पर सही लोकेशन का चुनाव करने पर हमारे व्यापार पर इसका काफी ज्यादा प्रभाव पड़ता है और यदि आपने अपने बिजनेस के लिए एक सही लोकेशन को चुना है तो हो सकता है कि आपके बिजनेस के ग्रोथ में आपके लोकेशन का भी महत्वपूर्ण स्थान हो।

फास्ट फूड के किसी भी प्रकार के बिजनेस को हमें भीड़भाड़ वाली जगह का चयन करना चाहिए। आप इस बिजनेस को शुरू करने के लिए स्कूल, कॉलेज, यूनिवर्सिटी, बस स्टैंड, रेलवे स्टेशन, हॉस्पिटल, टूरिज्म प्लेस, ऑटो स्टैंड और भी इसी प्रकार की लोकेशन का चुनाव करना होगा।

यह भी पढ़े: केएफसी (KFC) फ्रेंचाइजी कैसे लें?

फास्ट फूड के बिजनेस को शुरू करने के लिए कौन-कौन सा रजिस्ट्रेशन करवाना होगा?

फास्ट फूड का बिजनेस खाद्य बिजनेस के अंतर्गत आता है अर्थात फूड सेफ्टी के अंतर्गत हमें सबसे पहले अपने इस बिजनेस को पंजीकृत करवाना होगा। फूड सेफ्टी डिपार्टमेंट में इस प्रकार के व्यापार को चलाने की अनुमति देता है और हमारे प्रत्येक प्रोडक्ट और उसके निर्माण में लगने वाले रो मटेरियल की भी जांच की जाती है।

चलिए आगे की ओर बढ़ते हैं और जानते हैं कि हमें अपने इस बिजनेस को प्रारंभ करने हेतु किन-किन प्रकार के लाइसेंस को बनवाने की आवश्यकता पड़ेगी, इसकी जानकारी इस प्रकार से नीचे निम्नलिखित है:

  • अपने इस व्यापार को प्रारंभ करने के लिए आपको एफएसएसएआई के अंतर्गत पंजीकृत करवाना होगा।
  • इतना करने के बाद आपको अपने शहर या फिर छोटे शहर के संबंधित विभाग में जाकर अपने व्यापार को पंजीकृत करवाना अनिवार्य होगा।
  • आपको इसके लिए अपने नजदीकी थाना से परमिशन लेनी होगी और साथ ही में फायर सेफ्टी विभाग के अंतर्गत भी अपने इस व्यापार को पंजीकृत करवाना अनिवार्य होगा।
  • हेल्थ और ट्रेड लाइसेंस की आवश्यकता होगी।
  • ईटिंग लाइसेंस की भी आवश्यकता होगी।
  • आपको शॉप एंड इस्टैब्लिशमेंट लेटर की भी आवश्यकता होगी।
  • आपको फूड एंड ड्रिंक हैंडलर्स सर्टिफिकेट की आवश्यकता होगी।
  • अंतिम में आपको सर्टिफिकेट आफ इनकॉरपोरेशन की भी आवश्यकता होगी।

फास्ट फूड बिजनेस के लिए स्टाफ मेंबर का चयन कैसे करें?

फास्ट फूड के बिजनेस में हमें वेटर्स और कुक की आवश्यकता होती है। शुरुआती समय में कम से कम 1 या फिर 2 वेटर की आवश्यकता होगी, वेटर का काम आपके ग्राहक के आर्डर को लेना और ऑर्डर तैयार हो जाने के बाद उनके टेबल के पास लेकर देने का होता है और अंतिम में वेटर ग्राहक को बिल भी ला कर देता है और उसकी पेमेंट स्वीकृत करता है।

सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण कार्य इस बिजनेस में कुक होता है, आपको ऐसे कुक का चयन करना है, जिसको सभी प्रकार के फास्ट फूड को बनाना आता हो और वह पूरी सुरक्षा और सफाई के साथ फास्ट फूड बनाना जानता हो। अगर आपको फास्ट फूड बनाना खुद आता है तो आप बिना कुक के भी इस व्यापार को शुरू कर सकते हैं और उसकी जगह खुद काम कर सकते हैं।

ग्राहक द्वारा दिया गया प्रत्येक ऑर्डर बहुत ही महत्वपूर्ण होता है और हमें ग्राहक को सेटिस्फाई करने के लिए उसे प्रेशर और स्वादिष्ट ऑर्डर डिलीवर करना है, काकी आपके  के द्वारा तैयार किए गए ऑर्डर से प्रभावित होकर आपका ग्राहक दोबारा से आपके रेस्टोरेंट में आने की इच्छा बनाएं।

फास्ट फूड के बिजनेस को शुरू करने के लिए अपने रेस्टोरेंट या शॉप को कैसे डिजाइन करवाएं?

दोस्तों आजकल मार्केट में जो चीज दिखती है, वही चीज बिकती भी है इस बात का आपको बहुत ही महत्वपूर्ण से ध्यान देना है। आजकल सिंगल लोगों के अलावा फैमिली, कपल्स और ग्रुप फ्रेंड रेस्टोरेंट में जाना पसंद करते हैं और ऐसे लोगों को सफाई, सुरक्षा एवं प्राइवेसी की मांग होती है।

हमें अपने हिसाब से नहीं अपितु अपने ग्राहक के प्रत्येक सुविधा को समझते हुए अपने रेस्टोरेंट्स या फिर दुकान को डिजाइन करवाना है। आप अपने दुकान और अपने रेस्टोरेंट को इंटीरियर से भी डेकोरेट करवाना ना भूले। अगर आप इंटीरियर डेकोरेटर से मिलेंगे और उसको अपनी क्वायरी को बताएंगे तो वह आपकी इसमें काफी हेल्प कर देगा।

फास्ट फूड के बिजनेस में अपने फास्ट फूड के डिशेज को किस प्रकार की पैकेजिंग प्रदान करें?

आपने देखा होगा जब हम किसी भी रेस्टोरेंट में जाते हैं या फिर फास्ट फूड के शॉप पर जाते हैं और वहां पर हमें किसी भी प्रकार की फास्ट फूड डिश पसंद आ जाती है, तब हम उसे पैक करवाना भी चाहते हैं। ऐसे में हमें पहले से इस पर काम कर लेना चाहिए, अगर हमारे किसी ग्राहक को हमारा कोई भी पसंद आ गया और वह इसका पार्सल पैकेज करने के लिए कहता है, तब आप उस समय अचानक से क्या करेंगे?, क्या सोचेंगे? और किस प्रकार से अपने ग्राहक को उसके द्वारा आर्डर किए गए फास्ट फूड को पैक करके देंगे?

यह सारे सवाल आपके मन में उस दौरान आने लगेंगे और इसीलिए हमें पहले से प्रिपेयर रहना बहुत ही जरूरी है। हम जितने भी प्रकार के अपने रेस्टोरेंट्स या फिर फास्ट फूड के शॉप में डिशेस को बेचते हैं। उसके हिसाब से हमें उसके पैकेजिंग के लिए बॉक्सेस, सिल्वर कोटेड पेपर और भी आवश्यकता अनुसार पैकेजिंग सामग्री का इस्तेमाल करना है। इसके अतिरिक्त ध्यान देना है कि हम जो भी अपने ग्राहकों पैक करके देंगे, उसमें डिसेस फ्रेश और लंबे समय तक गर्म रहे।

इसके अंदर हमें पैकेजिंग के अंदर अपनी दुकान का पूरा पता और अपने दुकान का नाम एवं ब्रांड के साथ-साथ अपने संपर्क के लिए डिटेल्स भी जरूर दर्ज करें। ऐसा करने पर ग्राहक आपको संपर्क कर सकता है और अगर आप वहां पर पता दिए रहेंगे तब वह आपके रेस्टोरेंट फास्ट फूड की दुकान पर जरूर विजिट करेगा।

फास्ट फूड बिजनेस को शुरू करने के लिए कुल निवेश?

फास्ट फूड के बिजनेस को शुरू करने में हमें कई सारे किचन सेट लगते हैं, इंडक्शन, माइक्रो ओवन, रोस्टर और इसी प्रकार के कई सारे इक्विपमेंट में इस व्यापार में चाहिए होते हैं। इसके बाद रो मटेरियल का खर्चा और आपके कुक एवं अन्य स्टाफ मेंबर का खर्चा, बिजनेस को प्रमोट करने का खर्चा, इसकी पैकेजिंग का खर्चा और इसे इनडोर और आउटडोर तरीके से डेकोरेट करने का का खर्चा और भी खर्चे हमें इस व्यापार को शुरू करने के लिए करने पड़ सकते हैं।

अगर मोटा माटी पकड़कर चले तो हमें अपने इस व्यापार को प्रारंभ करने हेतु 2 लाख रुपए से लेकर कम से कम आज के इस महंगाई के समय को देखते हुए 5 लाख रुपए तक का निवेश करना ही होगा। इस निवेश की राशि में आप अपने इस से जुड़े हुए कई प्रकार के कार्यों को कर सकते हैं और ध्यान रहे कि कुछ बैलेंस समय सुरक्षित रखना है, ताकि अपने इस व्यापार में हमें कभी भी बुरा समय देखने को मिले तब पर भी हम अपने इस व्यापार को स्टेबल तरीके से चला सके।

फास्ट फूड के बिजनेस में मिलने वाले जोखिमों की संभावनाएं?

दोस्तों एक समय ऐसा था जब इस व्यापार में कंपटीशन बिल्कुल ना के बराबर था, परंतु अब जैसे-जैसे इस व्यापार की मांग बढ़ते जा रही है, वैसे वैसे अब ऑनलाइन फास्ट फूड बिजनेस भी मार्केट में आ गए हैं और आप इस व्यापार को शुरू करने के लिए कई चुनौतियों से सामना करने वाले हैं। हमें सबसे पहले इस बिजनेस में आने वाली चुनौतियों का आकलन करना है और साथ ही पहले से मौजूद अपने प्रतिस्पर्धी को भी दिमाग में रखकर चलना है।

फास्ट फूड बिजनेस में हमें कम चुनौतियां और कम जोखिम का सामना करना पड़े इसके लिए आपको सबसे पहले अपने इस व्यापार को एक छोटे स्तर से शुरू करना है और जब लगे कि आप इसे एक बड़ा रूप प्रदान कर सकते हैं, तब आप इसे बड़े रूप में परिवर्तित कर दीजिए ऐसा करने पर आपको जोखिम और चुनौतियों का सामना बिल्कुल कम करना होगा।

इसके अतिरिक्त हमें ग्राहकों के साथ विनम्रता का व्यवहार भी करना है और समय-समय पर कुछ फास्ट फूड पर डिस्काउंट जैसे ऑफर को भी ग्राहकों के लिए शुरू करना है, ऐसा करने पर आप अपने ग्राहक को अपनी और आकर्षित करते हैं और अपने जोखिम को कम करते हैं।

फास्ट फूड बिजनेस की मार्केटिंग कैसे करें?

हमें फास्ट फूड के बिजनेस को अगर एक नेक्स्ट लेवल तक ले जाना है और इसी को अपना बड़ा बिजनेस बनाना है, तब आपको ऐसे में अपने इस बिजनेस की मार्केटिंग करनी होगी। आप इसकी मार्केटिंग, टेंपलेट छपवा कर कर सकते हैं, भीड़भाड़ वाले और बड़े-बड़े जगहों पर बैनर आदि लगा सकते हैं, लोकल न्यूज़ पेपर में इसका विज्ञापन दे सकते हैं, अपने लोकल लोगों को अपने व्यापार के बारे में बता सकते हैं, ताकि वह आगे अपने जानने वाले और अपने दोस्तों को आपके व्यापार के बारे में जानकारी प्रदान करें।

आप अपने फेसबुक, व्हाट्सएप और भी कई सारे सोशल प्लेटफॉर्म का इस्तेमाल अपने इस व्यापार को प्रमोट करने के लिए कर सकते हैं। आप खुद अपने आप माइंड का भी इस्तेमाल करें और अपने व्यापार को प्रमोट करने के लिए सभी आवश्यक कार्य करें, जो करना आवश्यक है।

फास्ट फूड बिजनेस से कितना मुनाफा कमाया जा सकता है?

दोस्तों जैसा कि हम सभी लोग जानते हैं, आज के समय में हर एक गली, नुक्कड़ और भीड़ वाले जगहों पर अमर फास्ट फूड की दुकान एक बड़ी संख्या में देखने को मिल जाती है। अगर आप अपने इस व्यापार को एक छोटे स्तर से भी शुरू करते हैं तब पर भी आप इससे हर महीने 15 हजार रुपए से लेकर ₹20,000 प्रतिमाह की इनकम आसानी से कर सकते हैं।

जैसे-जैसे आप का व्यापार बढ़ता जाएगा और लोग इसके बारे में जानते जाएंगे, वैसे वैसे आपकी इनकम में भी काफी ज्यादा बढ़ोतरी देखने को मिल सकती है। मैंने स्वयं देखा हुआ है कि जो इस व्यापार में अच्छी रणनीति एवं अपने ग्राहकों के सेटिस्फेक्शन को ध्यान में रखकर इसमें काम करते हैं, वह आगे चलकर हर महीने एक अच्छी इनकम कमाने लगते हैं और आप भी अपने उम्मीदों से कई ज्यादा इस व्यापार से कमा सकते हैं।

मैं फास्ट फूड का बिजनेस शुरू करना चाहता हूं, इसके लिए क्या करूं?

इसके लिए आपको सबसे पहले अच्छी स्ट्रेटजी तैयार करनी है और उसके बाद इस में आने वाले जोखिम, निवेश और भी कई सारे चुनौतियों का आकलन करना है और उसके बाद ही अपने ही व्यापार को प्रारंभ करना है।

फास्ट फूड के बिजनेस को शुरू करने के लिए कितना निवेश करना पड़ सकता है?

कम से कम आपको 2 लाख रुपए से लेकर 5 लाख रुपए के बीच में निवेश करना होगा।

क्या फास्ट फूड बिजनेस की मार्केट में आज भी मांग है?

दोस्तों यंगस्टर और स्कूल में पढ़ने वाले लोग ज्यादातर फास्ट फूड खाना पसंद करते हैं और इसलिए आज के समय में इस व्यापार की मांग पहले के मुकाबले कई गुना ज्यादा बढ़ चुकी है।

क्या फास्ट फूड के बिजनेस को फूड सेफ्टी एंड गवर्नमेंट स्टैंडर्ड के अंतर्गत पंजीकृत करवाना अनिवार्य है?

जी हां, बिल्कुल फास्ट फूड के बिजनेस को शुरू करने के लिए और इसे सफल रूप में चलाने के लिए आपको इसके अंतर्गत पंजीकृत करवाना बेहद अनिवार्य है।

फास्ट फूड के बिजनेस से हर महीने कितना रुपया कमाया जा सकता है?

फास्ट फूड के बिजनेस को प्रारंभ करके आप हर महीने कम से कम ₹20,000 से लेकर ₹30,000 या इससे अधिक की इनकम कर सकते हैं।

निष्कर्ष

हमने आज के अपने इस महत्वपूर्ण लेख में फास्ट फूड के बिजनेस आइडिया को लेकर प्रस्तुत हुए थे और हमें उम्मीद है कि अगर आप फास्ट फूड का बिजनेस शुरू करना चाहते थे और आपको सटीक जानकारी नहीं मिल पा रही थी तो आज का हमारा यह लेख आपके इस समस्या के निदान के रूप में प्रस्तुत हुआ होगा।

अगर आपको हमारा फास्ट फूड का बिजनेस कैसे शुरू करें? (How to Start Fast Food Business in Hindi), यह आर्टिकल पसंद आया हो तो आप इसे अपने मित्र जन और अपने सोशल मीडिया हैंडल पर शेयर करना ना भूलें, धन्यवाद।

यह भी पढ़े

इनका नाम राहुल सिंह तंवर है, इन्होंने स्नातक (रसायन, भौतिक, गणित) की पढ़ाई की है और आगे की भी जारी है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 3 वर्ष से भी अधिक SEO का अनुभव होने के साथ ही 3.5 वर्ष का कंटेंट राइटिंग का अनुभव है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जुड़ सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here