घटिया मतलबी लोगों पर सुविचार

Ghatiya Log Quotes in Hindi

Attitude Status in Hindi for Boyfriend

घटिया मतलबी लोगों पर सुविचार | Ghatiya Log Quotes in Hindi

घटिया लोगो की सबसे बड़ी पहचान यह है
की उन्हें आप जितनी ज्यादा इज्ज़त दोगे वो
आपको उतनी ही ज्यादा तकलीफ देंगे

इंसान को घटिया या बेहतर उसके
कपड़े नहीं उसकी सोच बनाती है।

कुछ लोग दूसरों कि जिंदगी बर्बाद करके
ऐसे खुश होते हैं जैसा ये काम वो रोज़ करते हैं

जो एक कि बात दूसरे को बताता है
वो इंसान घटिया लोगों में आता है

एक गन्दा रिश्ता जिंदगी खराब कर देता है।
एक घटिया इंसान बदनामी करा देता है।

जो दोस्त खुद को उठाने के लिए दोस्त को
गिरा दे उससे नीच इंसान दूसरा और कोई नहीं।’

दिल कहता है तुझे तेरे कर्मों पे छोड़ दूं
पर मन कहता है तु मेरा गुनहगार है
फिर ये काम मैं ख़ुदा पे छोड़ दूं

मेरा दोस्त मुझसे दगा कमा गया
मुझसे दोस्ती कर पीठ पीछे कर वार गया
जैसा लोग उसके बारे में कहते थे
वो अपनी वैसी घटिया पहचान दिखा गया

कभी किसी को गालियां मत देना बेज़्जती
उसकी नहीं चीजो़ की होगी। जो गिरा था
वो गिरा सही घटिया होना उसकी फितरत होगी।

दुनिया इतनी घटिया है की अगर इंसान गिर जाता हैं
तो उसे उठाने कोई नहीं आता पर
अगर कोई मजबूर हो जाए तो
उसका फायदा उठाने वाले लाखों है।

मुझे मरे हुए लोगों से डर लगता है
इसलिए तुम्हें ज़िंदा छोड़ दिया मैंने

Ghatiya Log Quotes in Hindi

एक इंसान के हाथ में हमने
अपना दिल थमाया था
उसने जिस्म पर नज़र रखकर
अपना घटिया किरदार दिखाया था

दोस्त बनकर जो धोखा दे,
उससे बड़ा कोई दुश्मन नहीं हो सकता.

घटिया इंसान की सोच ही नहीं
आँखें भी खराब होती है क्यूंकि घटिया
आदमी को हर आदमी घटिया नज़र आता है।

दिल मे जगह वही बनाते हैं
जो शुरू में जन्नत
फिर ज़िंदगी को जहननुभ कर जाते हैं

घटियापन अपना वो दिखाने लगा था
इश्क़ के नाम पर मेरे जिस्म को चाहने लगा था
जो करता था सच्चे प्यार की बातें
अपना असली चेहरा वो दिखाने लगा था

मुझको छोड़ने की वज़ह तो बता दे
मुझसे नाराज़ थे या मुझ जैसे हजारो थे !!

किसी को नीचा दिखा कर जो
खुद को बड़ा दिखाता है
सही मायनों में उससे नीच
इंसान और कोई नहीं होता है।

तुम लौट कर मत आना
क्योंकि हम मुर्दों से बात नही करते

एक शख्स को अपना दोस्त बनाया था
अपने भाई से ज्यादा उसको बताया था
लेकिन उस दोस्त ने मेरी दोस्ती का मान नहीं रखा
मेरे ही साथ रहकर उसने मेरी पीठ पर खंजर चलाया था

कुछ लोग इतने वाहियात और घटिया होते हैं…
कि उन्हें हर शख़्स अपने जैसा ही नज़र आता हैं…!

खुश हैं माँ-बाप को खफा कर के,
कुछ लोग गर्व में जी रहे हैं
घटिया पने की बेइन्तेहाँ कर के।

किसी का किसी के साथ किया गया टाइम पास
किसी के जिंदगी की रियल स्माइल छीन लेता है

Read Also: परवाह पर कोट्स

Ghatiya Log Quotes in Hindi

बुरे लोगों के साथ रहकर मेरा भी नाम होने लगा
बहुत शरीफ था पहले अब बदनाम होने लगा

घटिया आदमी कब तक पहचान छुपायेगा
मरना तुझे भी है तू भी ऊपर जायेगा
मतलब के लिए कितनो को सताएगा
घटिया इंसान कब तक तू खुद को बचाएगा।

चाहे ओढ़ ले लाख लिबाज़ इज़्ज़तदारी के
घटियापन कभी छुपाए नहीं छुपता।

कुछ घटिया लोग
स्लीपर चप्पल जैसे होते है
साथ तो देते है पर पीछे से कीचड़ उछालते रहते है।

हम बुरे लोग हैं साहब और हमें इस बात का गम नहीं
क्योंकि यह दुनिया शरीफ लोगों को जीने नहीं देती

गलत लोग सभी की जिंदगी में आते हैं…
लेकिन सीख हमेशा सही ही दे जाते हैं…!!

मौसम तो यूँ ही बदनाम है
जनाब रंग बदलना किसे कहते हैं
इंसान से पूछिए।

अगर कोई आपकी उँगली पकड़ के चला हो
और वो आपका ही हाथ पकड़ कर गिरा दे
तो समझ लेना कि वो इंसान इतना गिर चुका है
की वो अब कभी उठ नहीं सकता

मेरा दिल एक बेवफा को चाहता है
यह कमबख्त दिल भी घटिया लोगों पर आता है

कुछ घटिया लोगो ने प्यार को बदनाम कर रखा है
पवित्रता के बंधनो को तोड़ उसे नीलम कर रखा है
खुद के मतलब के लिए उसे सरेआम कर रखा है

ना त्योहारों पर मिलते हैं
ना मुसीबतों पर मिलते हैं
कुछ घटिया लोग सिर्फ मतलब पर मिलते हैं।

कुछ पल के लिए मिले थे हम
बस चार बातें की
पर दुनिया के लोगो ने
हजार बातें की ।

यह दुनिया घटिया लोगों से भरी पड़ी है
यहाँ लोग मतलब निकाल कर आगे चल देते है

एक बार के लिए दुश्मन को दोस्त समझना
इस घटिया दोस्त से अच्छा होगा
क्यूंकि इतनी जख्म तो उसकी दुश्मनी नहीं मिलते
जितने जख्म तेरी दोस्ती ने मुझे दिए है

आराम की नींद सो जाते है कई लोग
दूसरों को झूठे ख़्वाब दिखा कर,
बीच मझदार में ही छोड़ जाते है
कुछ लोग अपनी औकात दिखा कर।

चुनाव नजदीक आते ही
सबको मंदिर याद आ गई
एक मजहबी जुमला ही
हमारी दोस्ती खा गई
मेरा घर हरा तो भगवा तुम्हारा दिखता है
मेरे मुल्क की फिजाओं में एक ज़हर सी छा गई

Read Also: माँ पर सर्वश्रेष्ठ अनमोल विचार

Ghatiya Log Quotes in Hindi

हम दोस्त समझ कर उसे दिल की बात बताते थे
वो मेरे दुश्मनों के पास मेरे राज़ खोलता रहा

धोखा देना तो तेरी फितर है
वो तो हम ही कमीने आशिक थे
जो एक मतलबी से दिल लगा बैठे ..

शरीफ शराफत की वजह से चुप था,
घटिया लोगों ने उसे गूंगा समझ लिया।

खाना देने वाले का भी धर्म देखता है
वानर से मनुष बना भ्रमित नादान इन्सान
इन्सान ही इंसानियत की कब्र देखता है
ऐ मगरूर भटके हुये इन्सान रुपी शौतां
देख ले तू कब तक खुदा का सब्र देखता है

जब भी घटिया लोग ज़िन्दगी में आते हैं
तो कुछ न कुछ अच्छी सीख दे जाते हैं

घटिया तेरा सोच उससे घटिया तेरा औक़ात है ।
हैवानियत है तुझमें ना ही इंसानियत वाली बात है।
जिस्म से खेलना और मासूमों को
नोच के खाना, क्या यही तेरा हयात का फरहात है ।

Read Also

इनका नाम राहुल सिंह तंवर है, इन्होंने स्नातक (रसायन, भौतिक, गणित) की पढ़ाई की है और आगे की भी जारी है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 3 वर्ष से भी अधिक SEO का अनुभव होने के साथ ही 3.5 वर्ष का कंटेंट राइटिंग का अनुभव है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जुड़ सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here