गणेश जी के सभी संस्कृत श्लोक

Ganesh Shlok With Hindi Meaning

Ganesh Shlok With Hindi Meaning
Image: Ganesh Shlok With Hindi Meaning

गणेश जी के संस्कृत श्लोक | Ganesh Shlok With Hindi Meaning

एकदंताय विद्‍महे।
वक्रतुण्डाय धीमहि।
तन्नो दंती प्रचोदयात।।

भावार्थ: एक दन्त भगवान गणेश का ही नाम हैं, जिन्हे हम सभी जानते हैं। घुमावदार सूंड वाले भगवान का ध्यान करते हैं। श्री गजानन हमें प्रेरणा प्रदान करते हैं।

ऊँ नमो विघ्नराजाय सर्वसौख्यप्रदायिने।
दुष्टारिष्टविनाशाय पराय परमात्मने॥

भावार्थ:
सभी सुखों को प्रदान करने वाले सच्चिदानंद के रूप में बाधाओं के राजा गणेश को नमस्कार। गणपति को नमस्कार, जो सर्वोच्च देवता हैं, बुरे बुरे ग्रहों का नाश करने वाले।

सिद्धिबुद्धि पते नाथ सिद्धिबुद्धिप्रदायिने।
मायिन मायिकेभ्यश्च मोहदाय नमो नमः॥

भावार्थ:
भगवान! आप सिद्धि और बुद्धि के विशेषज्ञ हैं। माया के अधिपति और भ्रम फैलाने वालों को मिलन में जोड़ा गया है। बार-बार नमस्कार

अभिप्रेतार्थसिद्ध्यर्थं पूजितो यः सुरासुरैः।
सर्वविघ्नच्छिदे तस्मै गणाधिपतये नमः॥

भावार्थ:
मैं विघ्नों के नाश करने वाले गणधिपति (गणेश) को नमन करता हूं, जो सभी बाधाओं को दूर करते हैं। गणेश (= गण + ईश) को भगवान शिव के गणों (अनुयायियों) का स्वामी या स्वामी कहा जाता है।

लम्बोदराय वै तुभ्यं सर्वोदरगताय च।
अमायिने च मायाया आधाराय नमो नमः॥

भावार्थ:
तुम लम्बोदर हो, सबके पेट में जठर रूप में निवास करते हो, तुम पर किसी का भ्रम काम नहीं करता और तुम ही माया के आधार हो। आपको बार-बार नमस्कार।

गणेश जी के श्लोक

यतो बुद्धिरज्ञाननाशो मुमुक्षोः यतः सम्पदो भक्तसन्तोषिकाः स्युः।
यतो विघ्ननाशो यतः कार्यसिद्धिः सदा तं गणेशं नमामो भजामः।।

भावार्थ:
उनकी कृपा से मोक्ष की इच्छा रखने वालों की अज्ञानी बुद्धि नष्ट हो जाती है, जिससे भक्तों को संतुष्टि का धन प्राप्त होता है, जिससे विघ्न-बाधाएं दूर होती हैं और कार्य में सफलता मिलती है, ऐसे गणेश जी को हम सदा प्रणाम करते हैं। हाँ, वे उसकी पूजा करते हैं।

त्रिलोकेश गुणातीत गुणक्षोम नमो नमः।
त्रैलोक्यपालन विभो विश्वव्यापिन् नमो नमः॥

भावार्थ:
हे त्रैलोक्य के भगवान! हे गुणी! हे मेधावी! आपको बार-बार नमस्कार। हे त्रिभुवनपालक! हे विश्वव्यापी! आपको बार-बार नमस्कार।

मायातीताय भक्तानां कामपूराय ते नमः।
सोमसूर्याग्निनेत्राय नमो विश्वम्भराय ते॥

भावार्थ:
आपको नमस्कार है जो मायावी और भक्तों की मनोकामना पूर्ण करने वाले हैं। आपको नमस्कार है जो चन्द्रमा, सूर्य और अग्नि के नेत्र हैं, और जो संसार को भरते हैं।

जय विघ्नकृतामाद्या भक्तनिर्विघ्नकारक।
अविघ्न विघ्नशमन महाविध्नैकविघ्नकृत्॥

भावार्थ:
हे भक्तों के विघ्नकर्ताओं का कारण, विघ्नरहित, विघ्नों का नाश करने वाला, महाविघ्नों का मुख्य विघ्न! आपकी जय हो।

मूषिकवाहन् मोदकहस्त चामरकर्ण विलम्बित सूत्र।
वामनरूप महेश्वरपुत्र विघ्नविनायक पाद नमस्ते।।

भावार्थ:
हे भगवान, जिनका वाहन चूहा है, जिनके हाथों में मोदक (लड्डू) हैं, जिनके कान बड़े पंखों की तरह हैं, और जिन्होंने पवित्र धागा पहना हुआ है। जिनका रूप छोटा है और जो महेश्वर के पुत्र हैं, जो सभी विघ्नों का नाश करने वाले हैं, मैं आपके चरणों में नतमस्तक हूं।

Read Also: गणेश चतुर्थी की पौराणिक एवं प्रचलित कथाएं

गणेश जी मंत्र इन संस्कृत

शुक्लाम्बरधरं देवं शशिवर्णं चतुर्भुजम्।
प्रसन्नवदनं ध्यायेत् सर्वविघ्नोपशान्तये।।

भावार्थ:
समस्त विघ्नों को दूर करने के लिए श्वेत वस्त्रधारी श्रीगणेश का ध्यान करना चाहिए, जिनका रंग चन्द्रमा के समान है, जिनकी चार भुजाएँ हैं और जो सुखी हैं।

वक्र तुंड महाकाय, सूर्य कोटि समप्रभ:।
निर्विघ्नं कुरु मे देव शुभ कार्येषु सर्वदा।।

भावार्थ:
हे हाथी के समान विशाल, जिसका तेज सूर्य की एक हजार किरणों के समान है। मेरी कामना है कि मेरा काम बिना

नमामि देवं सकलार्थदं तं सुवर्णवर्णं भुजगोपवीतम्ं।
गजाननं भास्करमेकदन्तं लम्बोदरं वारिभावसनं च।।

भावार्थ:
मैं भगवान गजानन की पूजा करता हूं, जो सभी इच्छाओं के पूर्तिकर्ता हैं, जो सोने की चमक से चमकते हैं और सूर्य की तरह तेज हैं, एक सर्प की बलि का पर्दा पहनते हैं, एक दांत वाले, सीधे और कमल के आसन पर विराजमान हैं।

एकदन्तं महाकायं लम्बोदरगजाननम्ं।
विध्ननाशकरं देवं हेरम्बं प्रणमाम्यहम्।।

भावार्थ:
मैं दिव्य भगवान हेराम को नमन करता हूं, जो एक दांत से सुशोभित हैं, एक विशाल शरीर है, सीधा है, गजानन है और जो बाधाओं का नाश करने वाला है।

विघ्नेश्वराय वरदाय सुरप्रियाय लम्बोदराय सकलाय जगद्धितायं।
नागाननाय श्रुतियज्ञविभूषिताय गौरीसुताय गणनाथ नमो नमस्ते।।

भावार्थ:
वरदान दाता विघ्नेश्वर, देवताओं के प्रिय, लम्बोदर, कलाओं से परिपूर्ण, जगत् के हितैषी, दृष्टि, वेदों और यज्ञों से सुशोभित पार्वती के पुत्र को नमस्कार; हे गिनती! बधाई हो।

गणेश जी श्लोक इन संस्कृत (Ganesh Shlok)

द्वविमौ ग्रसते भूमिः सर्पो बिलशयानिवं।
राजानं चाविरोद्धारं ब्राह्मणं चाप्रवासिनम्।।

भावार्थ:
जो प्रजातियाँ मानव मेंढक हैं, मानव प्राणी के लिए साँप खनिक हैं, वे खेल राजा परदेस से पहले नामित दुश्मन की दुश्मन हैं।

गजाननं भूतगणादिसेवितं कपित्थजम्बूफलचारु भक्षणम्ं।
उमासुतं शोकविनाशकारकं नमामि विघ्नेश्वरपादपङ्कजम्।।

भावार्थ:
जो समान समान हैं, गणिकादिसे सदा जीवित रहते हैं, कैथिक फली के गुण वाले अन्न हैं, जो पार्वती के समान हैं, जो शत्रु समान हैं।

रक्ष रक्ष गणाध्यक्ष रक्ष त्रैलोक्यरक्षकं।
भक्तानामभयं कर्ता त्राता भव भवार्णवात्।।

भावार्थ:
हेगनगन, रक्षक, रक्षक, रक्षक.. हे जगतों के रखवाले! गार्ड यूनियन; वह आपको अभय अर्पित करने जा रहा है, जो मुझे समुद्र के सागर से बचाता है।

केयूरिणं हारकिरीटजुष्टं चतुर्भुजं पाशवराभयानिं।
सृणिं वहन्तं गणपं त्रिनेत्रं सचामरस्त्रीयुगलेन युक्तम्।।

भावार्थ:
केयूर-हर-किरीट आदि गणों से जुड़े अन्नपति की पूजा चतुर्षज और चतुर्भुज पाशाकारी-वर-वधू हैं और अभय मुद्राएं हैं, तीन आंखें लगी हुई हैं, दो महिलाएं चांदनी बनाती हैं।

गजाननाय महसे प्रत्यूहतिमिरच्छिदे।
अपारकरुणापूरतरङ्गितदृशे नमः।।

भावार्थ:
विघ्नों का नाश करने वाले, अन्धकार के नाश करने वाले, अथाह करुणा के जल से दीप्तिमान नेत्रों वाले गणेश नाम के प्रकाशस्तंभ को नमस्कार।

यह भी पढ़े: प्रेरणादायक संस्कृत श्लोक अर्थ सहित

गणेश जी संस्कृत श्लोक

पुराणपुरुषं देवं नानाक्रीडाकरं मुद्रा।
मायाविनां दुर्विभावयं मयूरेशं नमाम्यहम्॥

भावार्थ :
जो पूरनपुरुष हैं और खुशी-खुशी तरह-तरह के खेल करते हैं; मैं मयूरेश गणेश को नमन करता हूं, जो माया के स्वामी हैं और जिनका रूप अशुभ है।

प्रातः स्मरामि गणनाथमनाथबन्धुं सिन्दूरपूरपरिशोभितगण्डयुगमम्
उद्दण्डविघ्नपरिखण्डनचण्डदण्ड माखण्डलादिसुरनायकवृन्दवन्द्यम्॥

भावार्थ :
प्रात:काल में मुझे भगवान गणेश की याद आती है, जिनकी पूजा इंद्र और अन्य जैसे देवताओं के समूह द्वारा की जाती है, जो अनाथ हैं, जिनके जोड़े के कपोल सिंदूर से भरे हुए हैं, जो मजबूत बाधाओं को तोड़ने के लिए कठोर दंड हैं।

आवाहये तं गणराजदेवं रक्तोत्पलाभासमशेषवन्द्दम्।
विध्नान्तकं विध्नहरं गणेशं भजामि रौद्रं सहितं च सिद्धया॥

भावार्थ :
देवताओं के समूह का राजा कौन है, लाल कमल के समान, जिसका शरीर तेज है, जिसकी सभी पूजा करते हैं, बाधाओं का समय है, विघ्नों का नाश करने वाला है, शिव का पुत्र है, मैं भगवान गणेश का आह्वान और पूजा करता हूं पूर्णता के साथ।

परात्परं चिदानन्दं निर्विकारं हृदि स्थितम्।
गुणातीतं गुणमयं मयूरेशं नमाम्यहम्॥

भावार्थ :
मैं मयूरेश गणेश को नमन करता हूं, जो परातपर हैं, चिदानंदमय, निर्विकार, जो सभी के हृदय में स्थित हैं, गुणाटेट और गुणमय।

तमोयोगिनं रुद्ररूपं त्रिनेत्रं जगद्धारकं तारकं ज्ञानहेतुम्।
अनेकागमैः स्वं जनं बोधयन्तं सदा सर्वरूपं गणेशं नमामः ॥

भावार्थ :
तम के गुण से रुद्र रूप धारण करने वाले, तीन नेत्रों वाले, जगत् का संहार करने वाले, तारक और ज्ञान के लिए, और जो सदा दर्शन की शिक्षा देते हैं, हम सर्वरूप गणेश जी को प्रणाम करते हैं। उनके भक्तों ने कई आग लगाने वाले शब्दों के माध्यम से।

गणेश जी संस्कृत मंत्र

सृजन्तं पालयन्तं च संहरन्तं निजेच्छया।
सर्वविध्नहरं देवं मयूरेशं नमाम्यहम् ॥

भावार्थ :
मैं सर्वशक्तिमान देवता मयूरेश गणेश को नमन करता हूं, जो स्वेच्छा से दुनिया का निर्माण, रखरखाव और विनाश करते हैं।

सर्वशक्तिमयं देवं सर्वरूपधरं विभुम्।
सर्वविद्याप्रवक्तारं मयूरेशं नमाम्यहम्॥

भावार्थ :
मैं भगवान मयूरेश गणेश को नमन करता हूं, जो सर्वशक्तिमान, सर्वव्यापी, सर्वव्यापी और सभी ज्ञान के वक्ता हैं।

पार्वतीनन्दनं शम्भोरानन्दपरिवर्धनम्।
भक्तानन्दकरं नित्यं मयूरेशं नमाम्यहम्॥

भावार्थ :
मैं भक्तानन्दवर्धन मयूरेश गणेश को प्रतिदिन प्रणाम करता हूँ, जो पार्वती जी को पुत्र रूप में सुख देते हैं और भगवान शंकर के आनन्द को भी बढ़ाते हैं।

तमः स्तोमहारनं जनाज्ञानहारं त्रयीवेदसारं परब्रह्मसारम्।
मुनिज्ञानकारं विदूरेविकारं सदा ब्रह्मरुपं गणेशं नमामः॥

भावार्थ :
जो अज्ञान रूपी अन्धकार का नाश करने वाला, भक्तों के अज्ञान को दूर करने वाला, तीनों वेदों का सार तत्व, परम ब्रह्म, ऋषियों को ज्ञान दाता और मानसिक विकारों से सदा दूर रहने वाला है। हम उस ब्रह्मरूप गणेश को प्रणाम करते हैं।

सर्वाज्ञाननिहन्तारं सर्वज्ञानकरं शुचिम्।
सत्यज्ञानमयं सत्यं मयूरेशं नमाम्यहम्॥

भावार्थ :
मैं मयूरेश गणेश को नमन करता हूं, जो अवज्ञा के सिद्धांत हैं, ज्ञान के खोलने वाले, पवित्र, सत्य-ज्ञान के अवतार और सत्य के नाम हैं।

Ganesh Quotes in Sanskrit

अनेककोटिब्रह्याण्डनायकं जगदीश्वरम्।
अनन्तविभवं विष्णु मयूरेशं नमाम्यहम्॥

भावार्थ :
मैं मयूरेश गणेश को नमन करता हूं, जो कई श्रेणियों के ब्रह्मांड के नायक हैं, जगदीश्वर, जो अनंत शानदार और सर्वव्यापी विष्णु रूप हैं।

गजाननाय पूर्णाय साङ्ख्यरूपमयाय ते।
विदेहेन च सर्वत्र संस्थिताय नमो नमः॥

भावार्थ :
हे गणेश! आप वह हैं जिनके पास एक गज की तरह चेहरा है, सर्वोच्च भगवान और ज्ञान का अवतार है। आप निराकार रूप में सर्वत्र विद्यमान हैं, मैं आपको बार-बार प्रणाम करता हूँ।

अमेयाय च हेरम्ब परशुधारकाय ते।
मूषक वाहनायैव विश्वेशाय नमो नमः॥

भावार्थ :
हे हेरम्ब! आपको किसी सबूत से नहीं मापा जा सकता है, आपने एक जानवर पहन रखा है, आपका वाहन एक चूहा है। आप विश्वेश्वर को बार-बार प्रणाम करते हैं।

अनन्तविभायैव परेषां पररुपिणे।
शिवपुत्राय देवाय गुहाग्रजाय ते नमः॥

भावार्थ :
आपका वैभव अनंत है, आप परात्पर हैं, भगवान शिव के पुत्र और स्कंद के बड़े भाई, भगवान को नमस्कार।

पार्वतीनन्दनायैव देवानां पालकाय ते।
सर्वेषां पूज्यदेहाय गणेशाय नमो नमः॥

भावार्थ :
जो देवी पार्वती को प्रसन्न करते हैं, वे देवताओं के रक्षक हैं और जिनके देवता सभी के लिए पूजनीय हैं, आपके लिए गणेश जी नित्य प्रणाम हैं।

Ganesh Shlok in Hindi

स्वनन्दवासिने तुभ्यं शिवस्य कुलदैवत।
विष्णवादीनां विशेषेण कुलदेवताय ते नमः॥

भावार्थ :
आप स्वानंद-धाम के अपने रूप में निवास करने वाले भगवान शिव के देवता हैं। आप विशेष रूप से विष्णु और अन्य देवताओं के कुलदेवता हैं। आपको बधाई।

योगाकाराय सर्वेषां योगशान्तिप्रदाय च।
ब्रह्मेशाय नमस्तुभ्यं ब्रह्मभूतप्रदाय ते॥

भावार्थ :
आप योग स्वरूप हैं और सभी को शांति देने वाले योग दाता हैं। ब्रह्म भाव को प्राप्त करने वाले ब्रह्मेश्वर को नमस्कार।

नमस्ते गणनाथाय गणानां पतये नमः।
भक्तिप्रियाय देवेश भक्तेभ्यः सुखदायक॥

भावार्थ :
भक्तों को सुख देने वाले देवेश्वर! आप भक्तिमय और गणों के स्वामी हैं। गणनाथ जी को नमस्कार।

एकदन्तं महाकायं तप्तकाञ्चनसन्निभम्।
लम्बोदरं विशालाक्षं वन्देऽहं गणनायकम्॥

भावार्थ :
दांत वाले, महान शरीर वाले, जले हुए सोने के समान चमक वाले, लंबे पेट वाले और बड़ी आंखों वाले गणेशजी की मैं पूजा करता हूं।

मात्रे पित्रे च सर्वेषां हेरम्बाय नमो नमः।
अनादये च विघ्नेश विघ्नकर्त्रे नमो नमः॥

भावार्थ :
सबके माता और पिता हेरम्ब को बारम्बार नमस्कार है । हे विघ्नेश्वर ! आप अनादि और विघ्नों के भी जनक हैं , आपको बार-बार नमस्कार है ।

यह भी पढ़े: यदा यदा ही धर्मस्य श्लोक का हिंदी अर्थ

गणेश जी श्लोक अर्थ सहित (Ganesh Shlok With Hindi Meaning)

लम्बोदरं महावीर्यं नागयज्ञोपशोभितम्।
अर्धचन्द्रधरं देवं विघ्नव्यूहविनाशनम्॥

भावार्थ :
मैं गणपतिदेव को नमन करता हूँ, जो पराक्रमी, ऊँचे-ऊँचे, सर्प-रूपी प्रसाद से सुशोभित हैं, जो अर्धचंद्र हैं और जो बाधाओं के समूह का नाश करते हैं।

गुरुदराय गुरवे गोप्त्रे गुह्यासिताय।
गोप्याय गोपिताशेषभुवनाय चिदात्मने॥

भावार्थ :
आपको गणपति, जो भारी पेट, गुरु, गोप्त (रक्षक), गूढ़ और सभी पक्षों से सुशोभित हैं, जिनकी प्रकृति और सार गुप्त है और जो सभी सांसारिक शरीरों के रक्षक हैं।

विश्वमूलाय भव्याय विश्वसृष्टिकराय ते।
नमो नमस्ते सत्याय सत्यपूर्णाय शुणिडने॥

भावार्थ :
जो जगत के मूल कारण हैं, कल्याण स्वरूप हैं, जगत् के रचयिता हैं, सच्चे रूप हैं, सत्य हैं और शान्तधारी हैं, उन्हें आपने बार-बार गणेशजी को प्रणाम किया है।

वेदान्तवेद्यं जगतामधीशं देवादिवन्द्यं सुकृतैकगम्यम्।
स्तम्बेरमास्यं नवचन्द्रचूडं विनायकं तं शरणं प्रपद्ये॥

भावार्थ :
मैं उस भगवान विनायक की शरण लेता हूं, जो वेदांत में वर्णित सर्वोच्च ब्राह्मण हैं, जो त्रिभुवन के स्वामी हैं, देवता-सिद्धादी द्वारा पूजे जाते हैं, केवल पुण्य से प्राप्त होते हैं और जिनके लेंस पर धतिया की चंद्र रेखा सुशोभित होती है। गजानन।

नमामि देवं द्धिरदाननं तं यः सर्वविघ्नं हरते जनानाम्।
धर्मार्थकामांस्तनुतेऽखिलानां तस्मै नमो विघ्नविनाशनाय॥

भावार्थ :
प्रजा के सभी विघ्नों का हरण करने वाले भगवान गजानन को मैं प्रणाम करता हूं। गणेश को नमस्कार, जो सभी के लिए धर्म, अर्थ और काम फैलाते हैं।

Ganesh Shlok in Sanskrit

द्धिरदवदन विषमरद वरद जयेशान शान्तवरसदन।
सदनवसादन सादनमन्तरायस्य रायस्य॥

भावार्थ :
हे हाथीमुखी, हर्षित, उदार, ईशान, परम शांति और समृद्धि का आश्रय, सज्जनों के संकटमोचक और विघ्नों के नाश करने वाले, हे गणपति! आपकी जय हो ।

सर्वविघ्नहरं देवं सर्वविघ्नविवर्जितमम्
सर्वसिद्धिप्रदातारं वन्देऽहं गणनायकम्॥

भावार्थ :
मैं सभी बाधाओं को दूर करने वाले, सभी बाधाओं से मुक्त और सभी प्रकार की सिद्धियों को प्रदान करने वाले भगवान गणेश की पूजा करता हूं।

विश्वमूलाय भव्याय विश्वसृष्टिकराय ते।
नमो नमस्ते सत्याय सत्यपूर्णाय शुण्डिने॥

भावार्थ :
जो जगत के मूल कारण हैं, कल्याण स्वरूप जगत के रचयिता हैं, जो सच्चे, सच्चे और शुंडधारी हैं, उन्हें आपने बार-बार गणेश्वर को प्रणाम किया है।

एकदन्ताय शुद्घाय सुमुखाय नमो नमः।
प्रपन्न जनपालाय प्रणतार्ति विनाशिने॥

भावार्थ :
जिसके एक दाँत और सुन्दर मुख है, जो भक्तों की रक्षा करने वाला और वंशजों के कष्टों का नाश करने वाला है, तुम्हारे उस शुद्ध रूप गणपति को बार-बार प्रणाम किया जाता है।

प्रणम्य शिरसा देवं गौरीपुत्रं विनायकम्।
भक्तावासं स्मरेन्नित्यं आयुःकामार्थसिद्धये॥

भावार्थ :
भक्त के हृदय में निवास करने वाले गौरी के पुत्र विनायक को प्रणाम करने के बाद उसे दीर्घायु, सुख-समृद्धि और सभी मनोकामनाओं की पूर्ति के लिए सदा स्मरण करना चाहिए।

गणेश जी स्टेटस श्लोक (Ganesh Shlok With Hindi Meaning)

नमस्ते योगरूपाय सम्प्रज्ञातशरीरिणे।
असम्प्रज्ञातमूर्ध्ने ते तयोर्योगमयाय च॥

भावार्थ :
हे गणेश! सम्प्रज्ञात समाधि तुम्हारा शरीर है और असमप्रज्ञात समाधि तुम्हारा सिर है। आप दोनों की योगमाया के कारण आप योग के रूप में हैं, आपको नमस्कार है।

वामाङ्गे भ्रान्तिरूपा ते सिद्धिः सर्वप्रदा प्रभो।
भ्रान्तिधारकरूपा वै बुद्धिस्ते दक्षिणाङ्गके॥

भावार्थ :
भगवान! आपके बाएं अंग में भ्रांतिरूप सिद्धि विराजमान हैं, जो सब कुछ दाता हैं और आपके दाहिने अंग में भ्रम रूपी बुद्धि की देवी विराजमान हैं।

मायासिद्धिस्तथा देवो मायिको बुद्धिसंज्ञितः।
तयोर्योगे गणेशान त्वं स्थितोऽसि नमोऽस्तु ते॥

भावार्थ :
भ्रांति या माया सिद्धि है और जो इसे धारण करता है, गणेश देव एक चैत्य हैं। बुद्धि भी उन्हीं की है। हे गणेश! आप सिद्धि और बुद्धि दोनों के योग में स्थित हैं। आपको बार-बार नमस्कार।

जगद्रूपो गकारश्च णकारो ब्रह्मवाचकः।
तयोर्योगे गणेशाय नाम तुभ्यं नमो नमः॥

भावार्थ :
गकार जगत का रूप है और नाकारा ब्रह्म का दाता है। इन दोनों के योग में आप गणेश जी को बार-बार प्रणाम करते हैं।

चौरवद्भोगकर्ता त्वं तेन ते वाहनं परम्।
मूषको मूषकारूढो हेरम्बाय नमो नमः॥

भावार्थ :
आप चौर के समान भोक्ता हैं, इसलिए आपका उत्कृष्ट वाहन चूहा है। आप एक माउस पर आरूढ़ हैं। आप हरम्बा को बार-बार नमन करते हैं।

किं स्तौमि त्वां गणाधीश योगशान्तिधरं परम्।
वेदादयो ययुः शान्तिमतो देवं नमाम्यहम्॥

भावार्थ :
गणाधीश! आप योग शांति के सर्वोच्च देवता हैं, मैं आपकी क्या स्तुति कर सकता हूँ! आपकी स्तुति में वेदों को भी शांति मिलती है, इसलिए मैं आपको देवता गणेश को प्रणाम करता हूं।

ब्रह्मभ्यो ब्रह्मदात्रे च गजानन नमोऽस्तु ते।
आदिपूज्याय ज्येष्ठाय ज्येष्ठराजाय ते नमः॥

भावार्थ :
तुम ब्राह्मणों को ब्रह्म देते हो, हे गजानन! आपको बधाई। आप पहले पूज्य, ज्येष्ठ और ज्येष्ठ राजा हैं, आपको नमस्कार है।

Read Also

Ganesh Shlok With Hindi Meaning

अनामयाय सर्वाय सर्वपूज्याय ते नमः।
सगुणाय नमस्तुभ्यं ब्रह्मणे निर्गुणाय च॥

भावार्थ :
आप रोगमुक्त, सर्वव्यापी और सभी के पूज्य हैं। आपको नमस्कार। आप गुणी और निर्गुण ब्रह्म हैं, आपको नमस्कार।

गजवक्त्रं सुरश्रेष्ठं कर्णचामरभूषितम्।
पाशाङ्कुशधरं देवं वन्देऽहं गणनायकम्॥

भावार्थ :
हातोत के मुखपत्र में सर्वश्रेष्ठ, कर्ण के रूप में विभूति, और पास्य वनस्पतिका गिनती में गणेश।

मौञ्जीकृष्णाजिनधरं नागयज्ञोपवीतिनम्।
बालेन्दुशकलं मौलौ वन्देऽहं गणनायकम्॥

भावार्थ :
मैं गणेश को नमन करता हूं, जो मुंजाकी मेखला और कृष्ण मृग की खाल पहनते हैं, और एक नाग का यज्ञपवीत पहनते हैं, और जो सिरपर बालचंद्रकला पहनते हैं।

चित्ररत्नविचित्राङ्गं चित्रमालाविभूषितम्।
कायरूपधरं देवं वन्देऽहं गणनायकम्॥

भावार्थ :
असामान्य रत्नों के साथ असामान्य रूप से गड़बड़, चमत्कारों के साथ अद्भुत और एक गन्दा गड़बड़ व्यक्तित्व की तरह शारीरिक रूप से गन्दा।

मूषिकोत्तममारुह्य देवासुरमहाहवे।
योद्धुकामं महावीर्यं वन्देऽहं गणनायकम्॥

भावार्थ :
मैं गणेश को नमन करता हूं, महान पराक्रमी गिनती, जो एक महान चूहे पर सवार होकर, देवासुर महासंग्राम की लड़ाई में लड़ना चाहते थे।

Ganesh Shlok With Hindi Meaning

अम्बिकाहृदयानन्दं मातृभिः परिवेष्टितम्।
भक्तिप्रियं मदोन्मत्तं वन्देऽहं गणनायकम्॥

भावार्थ :
मैं गणेश की पूजा करता हूं, जो देवी पार्वती के हृदय को आनंद देते हैं, मातृकाओं के संपर्क में, भक्तों के प्रिय, जो एक पागल के समान हो गए हैं।

जय सिद्धिपते महामते जय बुद्धीश जडार्तसद्गते।
जय योगिसमूहसद्गुरो जय सेवारत कल्पनातरो॥

भावार्थ :
हे सिद्धिपेटे! बहुत अच्छे! आपकी जय हो । हे ज्ञानी स्वामी! हे मरे हुओं और पीड़ितों के लिए मोक्ष का रूप! आपकी जय हो ! हे योगियों के स्वामी! आपकी जय हो । सैनिकों के लिए हे कल्पवृक्ष रूप! आपकी जय हो !

जननीजनकसुखप्रदो निखलानिष्ठहरोऽखिलेष्टदः।
गणनायक एव मामवेद्रदपाशाङ्कुमोदकान् दधत्॥

भावार्थ :
माता-पिता को सुख देने वाले, समस्त विघ्नों को दूर करने वाले, सभी मनोकामनाओं को पूर्ण करने वाले तथा डेन्चर-लूप-अंकुश-मोदक धारण करने वाले प्रगणक मेरी रक्षा करें।

गजराजमुखाय ते नमो मृगराजोत्तमवाहनाय ते।
द्विजराजकलाभृते नमो गणराजाय सदा नमोऽस्तु ते॥

भावार्थ :
आपको नमस्कार है जिनका मुख गजराज के समान है, आपको नमस्कार है जो हिरण से भी बेहतर ले जाते हैं, आपको चंद्रमा के प्रकाश से नमस्कार है, और आपको नमस्कार है, गणों के स्वामी।

गणनाथ गणेश विघ्नराट् शिवसूनो जगदेकसद्गुरो।
सुरमानुषगीतमद्यशः प्रणतं मामव संसृतेर्भयात्॥

भावार्थ :
हे गणनाथ ! हे गणेश! हे विघ्नराज! हे शिव पुत्र! हे विश्व के एकमात्र स्वामी! देवताओं और मनुष्यों द्वारा की जाने वाली सर्वोत्तम स्तुति के सांसारिक भयों से मेरी रक्षा करो।

यह भी पढ़े

इनका नाम राहुल सिंह तंवर है, इन्होंने स्नातक (रसायन, भौतिक, गणित) की पढ़ाई की है और आगे की भी जारी है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 3 वर्ष से भी अधिक SEO का अनुभव होने के साथ ही 3.5 वर्ष का कंटेंट राइटिंग का अनुभव है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जुड़ सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here