लाल किला पर निबंध

Essay on Red Fort in Hindi: नमस्कार दोस्तों आज हम आप सभी लोगों को बताने वाले हैं, दिल्ली के एक ऐसे प्रसिद्ध ऐतिहासिक इमारत के बारे में जिसे मुगल बादशाह शाहजहां के द्वारा बनवाया गया था। जी हां! आप लोगों ने बिल्कुल सही समझा आज के इस निबंध के माध्यम से हम बात करेंगे में दिल्ली के लाल किला के विषय में। दिल्ली का लाल किला भारत के महान ऐतिहासिक स्मारकों में से एक है। लाल किला भारत का ऐतिहासिक इमारत होने के कारण पूरे दुनिया में प्रसिद्ध है। परीक्षा के दृष्टिकोण से भी लाल किला पर निबंध बहुत ही ज्यादा महत्वपूर्ण होता है, क्योंकि अनेक परीक्षाओं में आप सभी लोगों से लाल किला पर निबंध लिखने को कहा जा सकता है।

Image: Essay on Red Fort in Hindi

Read Also: हिंदी के महत्वपूर्ण निबंध

लाल किले पर निबंध | Essay on Red Fort in Hindi

लाल किला पर निबंध (250 शब्द)

लाल किला भारत का प्रसिद्ध एवं बहुत ही ज्यादा प्राचीन इमारत है। लाल किला भारत की राजधानी दिल्ली के बीचो बीच अर्थात मध्य में स्थित है। हम सभी लोग जानते हैं, कि लाल किला का निर्माण मुगल वंश के बादशाह शाहजहां के द्वारा करवाया गया था। शाहजहां ने इस किले का निर्माण शाही अंदाज से करवाया था, अतः इसी कारण लाल किला भारत के अन्य ऐतिहासिक स्मारकों में से एक कहा जाता है। बाद में इस किले पर ब्रिटिश सरकार द्वारा मुगल सम्राट बहादुर शाह जफर को 1857 ईसवी में बाहर निकाल दिया गया और बेटे सरकार निष्क्रिय पर अपना आधिपत्य जमा लिया। आप सभी लोगों को लाल किले में एक बहुत ही बड़ा सा संग्रहालय देखने को मिल जाएगा। इसमें दो विशेष हाल बनवाए गए हैं, पहला दीवान-ए-आम और दूसरा दीवान-ए-खास।

आप सभी लोगों को दिल्ली में बहुत से पुरानी कलाओं का मिश्रण देखने को मिल जाएगा इतना ही नहीं दिल्ली एक दर्शनीय स्थल भी है। लाल किला का निर्माण मुगल वंश के सम्राट शाहजहां के द्वारा दिल्ली के केंद्र में बनवाया गया है। मुगल वंश के सम्राट शाहजहां ने लाल किला का निर्माण 1648 में किया था। प्राचीन समय में दिल्ली राज्य को मुगलों की राजधानी के नाम से जाना जाता था। शाहजहां ने इस किले का निर्माण यमुना नदी के किनारे करवाया है और यह दिल्ली के शाहजहानाबाद में स्थित है। दिल्ली के इस क्षेत्र का नाम शाहजहानाबाद इसलिए पड़ा था, क्योंकि दिल्ली में स्थित लाल किले का निर्माण मुगल बादशाह शाहजहां के द्वारा किया गया था। आता इसी कारण लाल किला जिस स्थान पर मौजूद है, उस स्थान का नाम शाहजहानाबाद रखा गया है।

लाल किला पर निबंध (800 शब्द)

प्रस्तावना

लाल किला भारत का प्रसिद्ध एवं बहुत ही ज्यादा प्राचीन इमारत है। लाल किला भारत की राजधानी दिल्ली के बीचो बीच अर्थात मध्य में स्थित है। मुगल वंश के सम्राट शाहजहां ने लाल किला का निर्माण 1648 में किया था। शाहजहां ने इस किले का निर्माण शाही अंदाज से करवाया था, अतः इसी कारण लाल किला भारत के अन्य ऐतिहासिक स्मारकों में से एक कहा जाता है। आप सभी लोगों को दिल्ली में बहुत से पुरानी कलाओं का मिश्रण देखने को मिल जाएगा इतना ही नहीं दिल्ली एक दर्शनीय स्थल भी है। लाल किला का निर्माण मुगल वंश के सम्राट शाहजहां के द्वारा दिल्ली के केंद्र में बनवाया गया है। प्राचीन समय में दिल्ली राज्य को मुगलों की राजधानी के नाम से जाना जाता था। बाद में इस किले पर ब्रिटिश सरकार द्वारा मुगल सम्राट बहादुर शाह जफर को 1857 ईसवी में बाहर निकाल दिया गया और ब्रिटिश सरकार ने इस किले पर अपना आधिपत्य जमा लिया।

लाल किला का निर्माण

जैसा कि हम सभी लोग जानते हैं, लाल किले का निर्माण वर्ष 1648 ईस्वी में मुगल वंश के सम्राट शाहजहां के द्वारा यमुना नदी के किनारे करवाया गया था। लाल किले को बनवाने में बहुत से लाल बलुआ पत्थर का उपयोग किया गया है, अतः इसी कारण लाल किला पूर्ण रूप से लाल रंग का दिखाई देता है। लाल किला में बहुत ही बड़ा संग्रहालय है, जिसे दो भागों में बांटा गया है दीवान ए आम और दूसरा दीवान ए खास। लाल किला राजधानी दिल्ली में शाहजहानाबाद अर्थात मुगल सम्राट राजधानी में सुसज्जित है।

लाल किला पुराने समय में स्थित सलीम गढ़ किले से सटा हुआ है, सलीम गढ़ किले का निर्माण 15 से 46 ईसवी में इस्लाम शाह सुरी के द्वारा किया गया था। लाल किला और सलीमगढ़ किला एक दूसरे से पानी की धार के जैसे जुड़े हुए हैं, अतः विशेष वर्ग की धारा भी कहा जाता है, दूसरे शब्दों में कहा जाए तो इस स्थान को नाहर ए बहिश्त बिजी कहां जाता है। लाल किले के मुख्य द्वार पर देश को प्रतिष्ठित करने के लिए भारतीय ध्वज लगा हुआ है, अतः इससे देश का गौरव और भी ज्यादा बढ़ जाता है। लाल किले का यूनेस्को के द्वारा वर्ष 2007 में विश्व की विरासत बताया गया है और इसे विश्व की विरासत स्थल के अंतर्गत जोड़ा जा चुका है। इतना ही नहीं प्रत्येक स्वतंत्रता दिवस अर्थात 15 अगस्त को प्रधानमंत्री के द्वारा भारतीय ध्वज का ध्वजारोहण किया जाता है और यह ध्वजारोहण लाल किले के मुख्य द्वार पर किया जाता है।

नाम क्यों पड़ा लाल किला

दिल्ली में यमुना नदी के किनारे पर मौजूद इस किले को लाल किला इसलिए कहा गया, क्योंकि लाल किले का निर्माण पूर्ण रूप से लाल बलुआ पत्थर से किया गया है और लाल बलुआ पत्थर से बड़ा होने के कारण इस किले को लाल किला कहा गया। कहां जाता है, कि शाहजहां ने लाल किले को बनवाने का कार्य उस समय के बेहतरीन कारीगरों को सौंपा था, अतः इन कारीगरों ने लाल किले का निर्माण 1638 में शुरू किया और मात्र 10 वर्षों के पश्चात अर्थात 1648 ईस्वी में बना कर तैयार कर दिया। आप सभी लोग इस बात से अंदाजा लगा सकते हैं, कि यह कार्यक्रम कितने ज्यादा प्रसिद्ध रहे होंगे, कि उन्होंने मात्र 10 वर्ष के अंदर ही इतने विशाल किले का निर्माण कर दिया।

लाल किला कैसे बना ऐतिहासिक स्थल

लाल किले का निर्माण उस समय के मशहूर और बेहतरीन कारीगरों के द्वारा करवाया गया था, अतः इन सभी कारीगरों ने मिलकर लाल किले का निर्माण बेहतरीन सुंदरता के साथ किया है और इन्होंने स्थापित इस शैली में कुशल कारीगरों द्वारा निर्मित अनेकों प्रकार के तक्षशिला भी बनाया है। वर्तमान समय में लाल किले को देश के राजनीतिक उपलब्धियों और प्रशासनिक नवाज चारों का केंद्र भी कहा जाता है। यह प्रसिद्ध ऐतिहासिक स्थापत्य कला जैसे कि मयूर सिंहासन, जामा मस्जिद, ताजमहल, मोती मस्जिद इत्यादि में से प्रमुख माना जाता है। शाहजहां ने लाल किले का निर्माण विश्व के कुशल कारीगर एवं पेशेवर कारीगरों को बुलाकर यमुना नदी के पश्चिमी तट पर लाल बलुआ पत्थर का प्रयोग करके बनवाया था। प्राचीन समय में जो भी किले बनाया जाते थे, उन्होंने लाल बलुआ पत्थर की मदद से ही बनाया जाता था, परंतु शाहजहां ने ताजमहल का निर्माण सफेद संगमरमर के पत्थर से करवाया, क्योंकि वह चाहते थे, कि ताजमहल इन सभी से भिन्न हो।

निष्कर्ष

लाल किला भारत का एक ऐतिहासिक स्मारक है। लाल किले का निर्माण मुगल सम्राट शाहजहां के द्वारा 1648 ईस्वी में बनाकर तैयार कर दिया गया। शाहजहां ने इस किले का निर्माण शाही अंदाज में किया था। लाल किले का निर्माण मात्र 10 वर्षों में हो गया था। लाल किला भारत के प्रसिद्ध एवं भारत की राजधानी दिल्ली के मध्य में शाहजहानाबाद में स्थित है। इस किले का निर्माण लाल बलुआ पत्थर से किया गया था, अतः यह लाल रंग का दिखाई देता है, इसी कारण इसके लिए का नाम लाल किला रखा गया।

अंतिम शब्द

हम आप सभी लोगों से उम्मीद करते हैं, कि आप सभी लोगों को हमारे द्वारा लिखा गया यह महत्वपूर्ण लेख “लाल किले पर निबंध (Essay on Red Fort in Hindi)” अवश्य ही पसंद आया होगा, यदि हां! तो कृपया आप हमारे द्वारा लिखे गए इस महत्वपूर्ण लेख को अवश्य शेयर करें। यदि आपके मन में इस लेख को लेकर किसी प्रकार का कोई सवाल है, तो आप कमेंट बॉक्स में हमें अवश्य बताएं।

Ree also

इनका नाम राहुल सिंह तंवर है, इन्होंने स्नातक (रसायन, भौतिक, गणित) की पढ़ाई की है और आगे की भी जारी है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 3 वर्ष से भी अधिक SEO का अनुभव होने के साथ ही 3.5 वर्ष का कंटेंट राइटिंग का अनुभव है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जुड़ सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here