मेरा गाँव पर निबंध

Essay on My Village in Hindi: हम जब भी गाँव का नाम लेते हैं तो हमे हरे भरे पेड़, सयुक्त परिवार और बड़े बुजुर्गो की बाते याद आती हैं। मेरा गाँव भी कई मायनों में काफी सुन्दर हैं। मेरे गाँव में हरे भरे बाग-बगीचे और गाँव में बीच से गुजरती नहर यह सभी मेरे गाँव की खासियत हैं।

भारत की प्राचीन संस्कृति गांव में ही बसती है। गांव की जिंदगी काफी शुद्ध और मनोरंजक होती है, जो हमेशा शहर में रहता है वह कभी भी गांव के जीवन के आनंद के बारे में नहीं जान सकता‌। इसी से परिचित कराने के लिए विद्यालय में अक्सर बच्चों से गांव के ऊपर निबंध लिखवाया जाता है ताकि उन्हें अपने गांव की विशेषता के बारे में मालूम पड़े।

हालांकि सभी के गांव की विशेषता अलग-अलग हो सकती है, सभी के गांव में अलग-अलग सुविधाएं हो सकती है लेकिन सभी गांवों का जीवन कुछ हद तक समान ही होता है।

essay on my village in hindi
Image : essay on my village in hindi

हम यहां पर अलग-अलग शब्द सीमा में मेरा गाँव पर निबंध (Eassy on My Village in Hindi) शेयर कर रहे हैं। यह निबन्ध सभी कक्षाओं के विद्यार्थियों के लिए मददगार साबित होंगे।

Read Also: हिंदी के महत्वपूर्ण निबंध

मेरा गाँव पर निबंध | Essay on My Village in Hindi

मेरा गाँव निबंध हिंदी 150 शब्दों में (Mera Gaon Nibandh)

मेरे गांव के बारे में मैं जितना बोलूं उतना कम है। आज मैं शहर में रहता हूं लेकिन मेरा बचपना गांव में बिता है। जब गांव में था तब सोचता था कि शहर की जिंदगी बहुत शानदार होती है। लेकिन आज एहसास होता है कि गांव के जीवन के सामने शहर का जीवन तो कुछ नहीं। गांव की खुली और शुद्ध वातावरण शहर में मिलना मुश्किल है। गांव के हर व्यक्ति में अपनापन नजर आता है।

बात करें मेरे गांव की विशेषता की तो पहले तो मेरे गांव में ज्यादा कुछ सुविधा नहीं थी। लेकिन बढ़ते टेक्नोलॉजी और शहरीकरण ने गांवों को काफी ज्यादा प्रभावित किया है, जिसके कारण आज गांव में भी काफी सुविधाएं हो चुकी है। पहले मेरे गांव में कच्ची सड़क हुआ करती थी लेकिन आज पक्की सड़क बन चुकी है।

पहले हवा खाने के लिए बरगद के पेड़ के पास जाकर बैठा करते थे और दोस्तों के साथ खूब गपशप करते थे। आज तो पंखे ने यह जगह ले ली है। बचपन में हम गांव में हर त्योहार को बहुत धूमधाम से मनाया करते थे। खास करके होली और दशहरा की तो बात ही अलग थी। त्योहारों में लगने वाले मेले का इंतजार सालों से करते थे।

मेला जाने के लिए हर कोई तैयार होता था और साथ में गांव की टोली मेले के लिए पैदल निकलती थी मानो पूरा परिवार एक साथ घूमने जा रहे हैं। मुझे मेरा गांव बहुत पसंद है। आज भी मुझे मेरे गांव में रहने का मन करता है लेकिन नौकरीवश मजबूरन शहर में रहना पड़ रहा है।

mera gaon nibandh
Image: mera gaon nibandh

मेरा गाँव पर निबंध 250 शब्द (Mera Gav Nibandh in Hindi)

गाँव एक ऐसी जगह जहाँ हमें बड़े बुजुर्गो की याद दिलाती हैं। गाँवों में हरे भरे मैदान और सुन्दर खेत इत्यादि हमें गाँव की सुन्दरता बताते हैं। मेरे गाँव में काफी लोग रहते हैं। मेरा गाँव शहर से करीब 40 किलोमीटर दूर हैं। जिले से 40 किलोमीटर दूर होने के साथ यह उपखंड से भी करीब 4 किलोमीटर हैं।

मेरे गाँव में हमें कई प्रकार की सुविधाए मिलती हैं जैसे पीठे पानी के लिए सुविधा, जिसे राजस्थानी भाषा में पिचका कहते हैं। यह हमारे गाँव के बीचो बीच आया हुआ हैं। हमारे गाँव में करीब 25 हज़ार लोग रहते हैं, जो एकता की मिशाल हैं। हमारे गाँव में बना एक स्कूल भी हैं, जहां गाँव के बच्चे और बच्चियां पढ़ने जाती हैं।

मेरे गाँव में एक नाहर भी हैं, जहां गर्मियों के मौसम में अक्सर लोग सुबह स्नान करने जाते हैं और गाँव के बच्चे उस नहर में अपना काफी समय बिताते हैं। गाँव के बीचो बीच एक सुन्दर चबूतरा भी बना हुआ हैं। गाँव में लोग सुबह खेतों में जाते हैं और खेती करते हैं।

गाँव में लोग सुबह सुबह घूमना और बच्चे खेलना भी काफी पसंद करते हैं। सुबह खेलना गाँव को बच्चों की पहली पसंद होती हैं। मेरे गाँव के बाहर एक छोटा सा बस स्टैंड भी हैं, जहां से दिन में कई बस और गाड़ियाँ आती जाती रहती हैं। गाँव में बने इस बस स्टैंड पर लोग आने जाने के लिए गाड़ी के लिए इन्तजार करते हैं।

my village essay
Image: my village essay

मेरे गांव के ऊपर 500 शब्दों में निबंध

गांवों की जिंदगी बहुत अच्छी होती है। प्राचीन काल से भारत के लोग गांव से जुड़े हुए है। क्योंकि भारत की संस्कृति गांवो में ही देखने को मिलती है। हालांकि आज रोजगार पाने के लिए लोग गांव से शहर की ओर स्थानांतरित हो रहे हैं लेकिन जो गांव में आनंद है वह शहर में बिल्कुल भी नहीं। शहर में लोग ऐ.सी की हवा में जिंदगी बिताते हैं लेकिन गांव के लोग शुद्ध पेड़ों के हवा में अपना जीवन बिताते हैं।

शहर के लोगों को ठंडा पानी चाहिए होता है तो वे रेफ्रिजरेटर का इस्तेमाल करते हैं। लेकिन गांव में तो घड़ा ही रेफ्रिजरेटर का काम करता है। जिसका पानी रेफ्रिजरेटर की तुलना में कई गुना स्वादिष्ट और सेहत के लिए अच्छा होता है। शहर में लोग मोटर के इस्तेमाल से टंकी में पानी भर लेते हैं और बिना मशक्कत किए नल से पानी आने लगता है। लेकिन गांव का जीवन का पहचान तो कुंवे से पानी खींचने में ही है।

शहर के लोग स्विमिंग पूल में नहाने का आनंद लेते हैं तो गांव के लोग भी उन से कम नहीं वह नदी और तालाब में नहाने का आनंद लेते हैं। इससे एक बात तो जरूर कह सकते हैं कि गांव और शहर में लोगों के शौक तो सामान है लेकिन उस शौक को पूरा करने के तरीके अलग-अलग है।

शहरों में लोग टेक्नोलॉजी पर ज्यादा निर्भर रहते हैं लेकिन गांव के लोग खुद के बाजुओं पर निर्भर रहता है। गांव के लोग मेहनत करने में विश्वास करते हैं, कड़ी धूप में खेतों में काम करते हैं और सूखी रोटी को ही स्वादिष्ट व्यंजन समझते हैं।

हालांकि आज गांव भी आधुनिकता को अपना रहा है। पहले मेरे गांव में बिजली नहीं थी। लेकिन आज सभी के घर पर बिजली है और वह भी 15 से 20 घंटे तक रहती है। मैंने अपना बचपन गांव में बिताया है, आज जब मैं शहर से गांव जाता हूं तो मेरे गांव के जीवन में काफी अंतर देखने को मिलता है।

पहले जहां गांव के लोग गर्मियों में बरगद के पेड़ के नीचे बैठा करते थे, एक दूसरे से गपशप किया करते थे, बच्चे बरगद के पेड़ की टहनियों पर लटक के झूला झूला करते थे। वह पल बहुत आनंददायक होता था और आज भी मैं उस पल को याद करता हूं। लेकिन आज गांव में काफी कुछ बदल चुका है। शहर की आधुनिकता ने गांव को नजर लगा दिया है। आज गांव भी शहरीकरण को अपना रहा है।

आज हर व्यक्ति के घर में टेलीविजन है। लेकिन मुझे आज भी वही समय अच्छा लगता है जब किसी एक के घर पर टेलीविजन हुआ करता था और पूरे गांव के लोग एक जगह पर इकट्ठा होकर टेलीविजन देखा करते थे। उस समय का एक अलग ही आनंद था। आज टेक्नोलॉजी बढ़ गई है तो इस बात की भी खुशी है कि चलो कई कार्य आसान हो गए लेकिन इस बात का भी दुख है कि इस टेक्नोलॉजी ने गांव के जीवन को काफी बदल दिया है।

फिर भी मुझे आज भी गांव का जीवन बहुत पसंद है। रोजगार के कारण शहर में रहना पड़ता है लेकिन आज भी मुझे गांव की याद आती है। बरगद के पेड़ की टहनियों पर लटक के झूला झूलना, नदी तालाब में नहाना, तूफानी मौसम में आम के पेड़ के पास जाकर खड़े हो जाना और आम को बिछना, गांव के दोस्तों के साथ शेर सपाटा करना इत्यादि बचपन के पल बहुत ही याद आते हैं।

गांव में रहने वाले बच्चों का बचपना आनंद से भरा होता है। क्योंकि शहर के बच्चों पर तो बचपन से ही पढ़ाई का बोझ डाल दिया जाता है। गांव के लोग भले ही ज्यादा पढ़े-लिखे ना हो लेकन जितना अपनापन गांवों के लोग दिखाते हैं, उतना शहर के लोग नहीं दिखाते। यही कारण है कि मुझे मेरा गांव का जीवन बहुत पसंद है।

मेरा गाँव पर निबंध 800 शब्द (My Village Essay in Hindi)

प्रस्तावना

गाँव एक ऐसी जगह जिस का नाम सुनते ही हमें ऐसे क्षेत्र की याद दिलाता हैं, जहां पर चारों तरफ खुशहाली हो और गाँव के चारों ओर बागन हो। मेरे गाँव में भी ऐसा ही हैं। मेरे गाँव कुल आबादी तक़रीबन 25 हजार हैं। मेरे गाँव मे रहने वाले लोग गाँव में एकता की मिशाल देते हैं। मेरे गाँव की खुशहाली के चर्चे दूर दूर तक होते हैं। मेरे गाँव में काफी कुछ जाने के लिए हैं, जो शान्ति के प्रतिक हैं।

गाँव में बना एक स्कूल

मेरे गाँव का नाम हेलियावास खुर्द हैं, जो पाली के मारवाड़ जंक्शन से करीब 5 किलोमीटर दूर है। मेरे गाँव में बने इस स्कूल में करीब 500 विद्यार्थी पढ़ते हैं। मेरे गाँव में बने इस विद्यालय में लड़के और लडकियाँ दोनो ही पढ़ते हैं। मेरे विद्यालय में कक्षा 1 से कक्षा 8 तक की पढाई होती है। इस स्कूल में हिंदी माध्यम में पढाई होती हैं। यह विद्यालय मेरे गावं में बाहर करीब 400 मीटर की दूरी पर आया हुआ हैं।

मेरे गाँव में बना तालाब

मेरे गाँव के बीचों बीच में एक तालाब बना हुआ हैं। इस तालाब में बारिश के समय केवल पानी ही दिखाई देता हैं। इस तालाब में गाँव में लोग अपने पशुओ को पानी पिलाते हैं। गाँव में बने इस तालाब बाहर एक पानी का अवाला भी बना हुआ हैं।

इस अवाले पर लोग सुबह शाम कपड़ों की धुलाई भी करते हैं। इस तालाब के आसपास एक खुला मैंदान भी हैं। इस मैंदान पर बच्चे कई तरह के खेल खेलते हैं।

मेरे गाँव में बना एक बगीचा

मेरे गाँव के बाहर एक बगीचा भी बना हुआ हैं। गाँव के बाहर बने इस बगीचे में लोग सुबह के समय घुमने फिरने आते है। गाँव में बना यह बगीचा काफी बड़ा हैं और यह हमारे गाँव के क्षेत्रफल का लगभग एक चौथाई हैं। हमारे गाँव में बने इस बगीचे में कई तरह के पेड़ पोधे भी देखने को मिल जाते हैं।

यहाँ पर कई तरह के फल और फुल भी दिखाई देते हैं। गाँव में बने इस बगीचे में कई प्रकार की सुविधाए हैं जैसे बैठने के लिए सीमेंट की बनी कुर्सीया भी हैं। बगीचे में पानी की भी उत्तम सुविधा हैं। बगीचे में उपलब्ध पानी की सुविधा के जरिये पेड़ पौधों को पिलाने के लिए काम में लिया जाता हैं। इस बगीचे में पानी पीने के लिए ही उपलब्ध हैं।

गाँव में बना खेल का मैदान

मेरे गाँव में तालाब के पास एक खेल का मैदान भी बना हुआ है। इस मैदान में लोग सुबह खेलने आते हैं। लड़के क्रिकेट तो लड़कियां कबड्डी और खो-खो खेलने में व्यस्त रहती हैं। मेरे गाँव में बने इस खेल के मैदान में कई तरह के खेल खेलने के लिए मैदान बने हुए हैं। इस मैदान में क्रिकेट और फुटबॉल के लिए भी काफी बड़ा मैदान हैं।

इस मैदान में कबड्डी खेलने के लिए भी एक अलग से मैदान बना हुआ हैं। मैदान में पानी पीने की और बैठने की भी उत्तम सुविधा हैं। मेरे गाँव में बने इस मैदान में चारों और पक्की दिवार बनी हुई हैं, जिससे मैदान की सुरक्षा बनी रहती हैं।

मेरे गाँव का महत्त्व

मेरे गाँव का महत्त्व भी काफी ज्यादा हैं। मेरे गाँव में सुबह सही बुजुर्ग गाँव में बने एक चबूतरे पर बैठते हैं। जीवन के अनुभव से वे हमें वो बाते सीखते हैं, जो हमे किसी स्कूल और कॉलेज में सीखने को नहीं मिलती हैं। गाँव में बने तालाब में जानवर अपनी प्यास बुझाते है और इसी पानी से आसपास के खेतों में सिचाई की जाती है। गाँव में बने स्कूल में बच्चों को जीवन का पहला सबक अनुशासन सीखाया जाता हैं।

गाँव में हम ग्रामीण जीवन के माहोल में जीते हैं, जो हमारे लिए काफी अच्छा होता हैं। गाँव का महत्त्व हमारे जीवन में काफी ज्यादा हैं। हमारे ग्रामीण क्षेत्रो में रहकर हम जमीन से जुड़े रहते है। गाँव में काफी कुछ सीखने को मिलता हैं।

मेरे गाँव का ग्रामीण परिवेश

मेरे गाँव के परिवेश के बारे में भी काफी अच्छी देखने को मिलता हैं। मेरे गाँव के लोग धोती और कुर्ता पहनना पसंद करते हैं। गाँव की औरतें भी देशी परिवेश में रहना पसंद करती हैं। मेरे गाँव के आसपास के लोग साथ में खाना खाना पसंद करते हैं। संयुक्त परिवार मेरे गाँव की खासियत हैं।

निष्कर्ष

मेरे गाँव का माहोल काफी स्वच्छ और सुन्दर हैं। मेरा गाँव एकता और साम्प्रदायिकता का प्रतिक हैं। गाँव में काफी कुछ सीखने को मिलता हैं। बुजुर्गों से मिलने वाली सीख हम कहीं और नहीं मिलती हैं।

अंतिम शब्द 

हमने यहां पर मेरा गाँव पर निबंध और गांव की सुंदरता पर निबंध (Essay on My Village in Hindi) शेयर किया है। उम्मीद करते हैं कि आपको यह निबंध पसंद आया होगा, इसे आगे शेयर जरूर करें। आपको यह निबन्ध कैसा लगा, हमें कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं।

यह भी पढ़े

इनका नाम राहुल सिंह तंवर है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 4 वर्ष से अधिक SEO का अनुभव है और 6 वर्ष से भी अधिक समय से कंटेंट राइटिंग कर रहे है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जरूर जुड़े।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here