Home > Essay > मेरा गाँव पर निबंध

मेरा गाँव पर निबंध

Essay on My Village in Hindi: भारत गांव से मिलकर बना है। गांव ही भारत की पहचान है। क्योंकि गांव से ही भारत की संस्कृति जुड़ी हुई है। आज भी जमाना इतना मॉडर्न होते जा रहा है लेकिन गांव के कारण ही आज संस्कृति बची हुई है।

आज भी देश की 70 प्रतिशत से ज्यादा आबादी गांव में रहती है। लोग अपनी व्यवसाय के लिए या उच्च शिक्षा पाने के लिए भले ही शहर पलायन करते हैं लेकिन आज भी गांव का जो कुदरती सुख है, वह शहरों में नहीं मिल पाता है।

essay on my village in hindi
Image: essay on my village in hindi

शहर में हर सुख होने के बावजूद इंसान गांव में रहने वाले लोगों की तरह स्वस्थ नहीं रह पाते हैं। वह हर सुख सुविधा में रहने के बावजूद तनाव में अपना जीवन बिताते हैं। लेकिन गांव के लोग सीमित सुविधा में अपना जीवन खुशी के साथ बिताते हैं।

Follow TheSimpleHelp at WhatsApp Join Now
Follow TheSimpleHelp at Telegram Join Now

गांव का महत्व समझाने के लिए विद्यालयों में बच्चों को मेरा गांव पर निबंध हिंदी में (My Village Essay in Hindi) लिखने को दिया जाता है। इसलिए आज के इस लेख में हम मेरा गाँव निबंध हिंदी (mera gaon essay in hindi) लेकर आए हैं।

वर्तमान विषयों पर हिंदी में निबंध संग्रह तथा हिंदी के महत्वपूर्ण निबंध पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

मेरा गाँव पर निबंध (Essay on My Village in Hindi)

मेरा गांव पर निबंध 100 शब्दों में

मेरे गांव का नाम भरतपुर है। यह शहर से तकरीबन 500 किलोमीटर दूर स्थित है। मेरा गांव बहुत ही सुंदर है, यह पेड़ पौधों से भरा हुआ है। यहां पर लोगों के घर भी काफी दूर-दूर है, जिसके कारण लोगों को ताजी हवा मिलते रहती है।

भांति-भांति के पेड़ पौधे होने के कारण यहां पर ज्यादा गर्मी भी नहीं लगती और लोग दोपहर के समय पेड़ों की छांव के नीचे बैठते हैं और गप सप करते हैं।

मेरे गांव के मुख्य केंद्र में भगवान शिव का मंदिर भी है। इस मंदिर का निर्माण हमारे गांव के पूर्वजों ने मिलकर किया था। सुबह और शाम के समय गांव की हर महिला मंदिर में पूजा करने के लिए आती हैं। घंटियो की आवाज से पूरे गांव में दिव्य वातावरण फैल जाता है।

हालांकि गांव के ज्यादातर नौजवान लोग व्यापार या उच्च शिक्षा के कारण शहर में ही रहते हैं। लेकिन वह भी छुट्टियों में और त्योहारों में अक्सर गांव आते हैं। हम भी छुट्टियों में अक्सर गांव जाते हैं और गांव की प्राकृतिक वातावरण का आनंद लेते हैं।

मेरा गांव पर निबंध 150 शब्दों में

मेरे गांव के बारे में मैं जितना बोलूं उतना कम है। आज मैं शहर में रहता हूं लेकिन मेरा बचपना गांव में बिता है। जब गांव में था तब सोचता था कि शहर की जिंदगी बहुत शानदार होती है।

लेकिन आज एहसास होता है कि गांव के जीवन के सामने शहर का जीवन तो कुछ नहीं। गांव का खुला और शुद्ध वातावरण शहर में मिलना मुश्किल है। गांव के हर व्यक्ति में अपनापन नजर आता है।

बात करें मेरे गांव की विशेषता की तो पहले तो मेरे गांव में ज्यादा कुछ सुविधा नहीं थी। लेकिन बढ़ते टेक्नोलॉजी और शहरीकरण ने गांवों को काफी ज्यादा प्रभावित किया है, जिसके कारण आज गांव में भी काफी सुविधाएं हो चुकी है।

पहले मेरे गांव में कच्ची सड़क हुआ करती थी लेकिन आज पक्की सड़क बन चुकी है। पहले हवा खाने के लिए बरगद के पेड़ के पास जाकर बैठा करते थे और दोस्तों के साथ खूब गपशप करते थे। आज तो पंखे ने यह जगह ले ली है।

बचपन में हम गांव में हर त्योहार को बहुत धूमधाम से मनाया करते थे। खास करके होली और दशहरा की तो बात ही अलग थी। त्योहारों में लगने वाले मेले का इंतजार सालों से करते थे।

मेला जाने के लिए हर कोई तैयार होता था और साथ में गांव की टोली मेले के लिए पैदल निकलती थी मानो पूरा परिवार एक साथ घूमने जा रहे हैं। मुझे मेरा गांव बहुत पसंद है। आज भी मुझे मेरे गांव में रहने का मन करता है लेकिन नौकरीवश मजबूरन शहर में रहना पड़ रहा है।

mera gaon nibandh

मेरा गांव पर निबंध 200 शब्दों में

गांव के लोगों के लिए नदी तालाब पशु पंछी ही उनका जीवन होता है। गांव की सीमा तक ही उनका जीवन सीमित रहता है। लेकिन इस सीमित जीवन में ही वह खुशी के साथ हर एक पल का आनंद लेते हैं।

हालांकि मेरे पिताजी व्यवसाय के कारण शहर में रहते हैं, जिसके कारण हमें भी शहर में रहना पड़ता है। लेकिन हमें शहर के तुलना में गांव की जिंदगी बहुत ही पसंद है। हम गर्मियों के छुट्टी में अक्सर गांव जाते हैं और हर एक पल का आनंद लेते हैं।

गांव में दोस्तों के साथ पेड़ों के नीचे खेलना झूला लगाकर झूलना, पेड़ों से आम तोड़ना, खेत खलिहान में दोस्तों के साथ सेर करना, गांव के कच्चे पगडंडियों पर दौड़ना यह सब बहुत मजेदार और यादगार होता है।

गांव में लोगों की दिनचर्या भी शहरों की तुलना में बेहतर होती है। यहां के लोग बहुत मेहनती होते हैं। सुबह से लेकर शाम तक मेहनत करते हैं। यहां पर सूरज उगने से पहले ही लोग उठ जाते हैं।

सुबह उठते ही लोग सबसे पहले पशु पंछियों को चारा और पानी देते हैं। फिर सुबह से लेकर दोपहर तक खेत में काम करते हैं। शाम के समय गांव के लोगों की टोली आपस में खूब ठिठौली बाजी करती है।

पहले गांव में ज्यादा सुख सुविधा नहीं हुआ करती थी लेकिन अब शहरों की तरह गांव में भी बिजली पानी की सुविधा हो चुकी है। यहां तक कि अब लोग ज्यादा शहर में भी पलायन नहीं करते हैं, गांव में ही खुद का व्यवसाय शुरू करके अपना जीवन यापन करने का प्रयास कर रहे हैं।

गांव में शहरों की तुलना में आमदनी कम है लेकिन यहां के लोग शहरों के तुलना में ज्यादा स्वस्थ रहते हैं। शहरों में ऊंची ऊंची बिल्डिंग होने के कारण लोगों को शुद्ध हवा नहीं मिल पाती।

पेड़ पौधे काटने के कारण प्रदूषण में उन्हें अपना जीवन बिताना पड़ता है और कई तरह की बीमारियों से ग्रसित होना पड़ता है। लेकिन गांव का वातावरण पूरी तरह शुध्द होता है।

यहां के लोग सात्विक भोजन खाते हैं, इसीलिए वह हमेशा स्वस्थ रहते हैं, बीमारियों से दूर रहते हैं। यहां तक कि गांव के लोगों का जीवन शहरों की तुलना में ज्यादा लंबा होता है।

यह भी पढ़े

मेरा गांव पर निबंध 250 शब्दों में

गाँव एक ऐसी जगह जहाँ हमें बड़े बुजुर्गो की याद दिलाती हैं। गाँवों में हरे भरे मैदान और सुन्दर खेत इत्यादि हमें गाँव की सुन्दरता बताते हैं। मेरे गाँव में काफी लोग रहते हैं।

मेरा गाँव शहर से करीब 40 किलोमीटर दूर हैं। जिले से 40 किलोमीटर दूर होने के साथ यह उपखंड से भी करीब 4 किलोमीटर हैं।

मेरे गाँव में हमें कई प्रकार की सुविधाए मिलती हैं जैसे पीठे पानी के लिए सुविधा, जिसे राजस्थानी भाषा में पिचका कहते हैं। यह हमारे गाँव के बीचो बीच आया हुआ हैं।

हमारे गाँव में करीब 25 हज़ार लोग रहते हैं, जो एकता की मिशाल हैं। हमारे गाँव में बना एक स्कूल भी हैं, जहां गाँव के बच्चे और बच्चियां पढ़ने जाती हैं।

मेरे गाँव में एक नाहर भी हैं, जहां गर्मियों के मौसम में अक्सर लोग सुबह स्नान करने जाते हैं और गाँव के बच्चे उस नहर में अपना काफी समय बिताते हैं। गाँव के बीचो बीच एक सुन्दर चबूतरा भी बना हुआ हैं। गाँव में लोग सुबह खेतों में जाते हैं और खेती करते हैं।

गाँव में लोग सुबह सुबह घूमना और बच्चे खेलना भी काफी पसंद करते हैं। सुबह खेलना गाँव को बच्चों की पहली पसंद होती हैं।

मेरे गाँव के बाहर एक छोटा सा बस स्टैंड भी हैं, जहां से दिन में कई बस और गाड़ियाँ आती जाती रहती हैं। गाँव में बने इस बस स्टैंड पर लोग आने जाने के लिए गाड़ी के लिए इन्तजार करते हैं।

my village essay

मेरा गांव पर निबंध 500 शब्दों में

गांवों की जिंदगी बहुत अच्छी होती है। प्राचीन काल से भारत के लोग गांव से जुड़े हुए है। क्योंकि भारत की संस्कृति गांवो में ही देखने को मिलती है।

हालांकि आज रोजगार पाने के लिए लोग गांव से शहर की ओर स्थानांतरित हो रहे हैं लेकिन जो गांव में आनंद है, वह शहर में बिल्कुल भी नहीं। शहर में लोग ऐसी की हवा में जिंदगी बिताते हैं लेकिन गांव के लोग शुद्ध पेड़ों के हवा में अपना जीवन बिताते हैं।

शहर के लोगों को ठंडा पानी चाहिए होता है तो वे रेफ्रिजरेटर का इस्तेमाल करते हैं। लेकिन गांव में तो घड़ा ही रेफ्रिजरेटर का काम करता है। जिसका पानी रेफ्रिजरेटर की तुलना में कई गुना स्वादिष्ट और सेहत के लिए अच्छा होता है।

शहर में लोग मोटर के इस्तेमाल से टंकी में पानी भर लेते हैं और बिना मशक्कत किए नल से पानी आने लगता है। लेकिन गांव का जीवन का पहचान तो कुंवे से पानी खींचने में ही है।

शहर के लोग स्विमिंग पूल में नहाने का आनंद लेते हैं तो गांव के लोग भी उन से कम नहीं वह नदी और तालाब में नहाने का आनंद लेते हैं। इससे एक बात तो जरूर कह सकते हैं कि गांव और शहर में लोगों के शौक तो सामान है लेकिन उस शौक को पूरा करने के तरीके अलग-अलग है।

शहरों में लोग टेक्नोलॉजी पर ज्यादा निर्भर रहते हैं लेकिन गांव के लोग खुद के बाजुओं पर निर्भर रहता है। गांव के लोग मेहनत करने में विश्वास करते हैं, कड़ी धूप में खेतों में काम करते हैं और सूखी रोटी को ही स्वादिष्ट व्यंजन समझते हैं।

हालांकि आज गांव भी आधुनिकता को अपना रहा है। पहले मेरे गांव में बिजली नहीं थी। लेकिन आज सभी के घर पर बिजली है और वह भी 15 से 20 घंटे तक रहती है। मैंने अपना बचपन गांव में बिताया है, आज जब मैं शहर से गांव जाता हूं तो मेरे गांव के जीवन में काफी अंतर देखने को मिलता है।

पहले जहां गांव के लोग गर्मियों में बरगद के पेड़ के नीचे बैठा करते थे, एक दूसरे से गपशप किया करते थे, बच्चे बरगद के पेड़ की टहनियों पर लटक के झूला झूला करते थे।

वह पल बहुत आनंददायक होता था और आज भी मैं उस पल को याद करता हूं। लेकिन आज गांव में काफी कुछ बदल चुका है। शहर की आधुनिकता ने गांव को नजर लगा दिया है। आज गांव भी शहरीकरण को अपना रहा है।

आज हर व्यक्ति के घर में टेलीविजन है। लेकिन मुझे आज भी वही समय अच्छा लगता है जब किसी एक के घर पर टेलीविजन हुआ करता था और पूरे गांव के लोग एक जगह पर इकट्ठा होकर टेलीविजन देखा करते थे। उस समय का एक अलग ही आनंद था।

आज टेक्नोलॉजी बढ़ गई है तो इस बात की भी खुशी है कि चलो कई कार्य आसान हो गए लेकिन इस बात का भी दुख है कि इस टेक्नोलॉजी ने गांव के जीवन को काफी बदल दिया है।

फिर भी मुझे आज भी गांव का जीवन बहुत पसंद है। रोजगार के कारण शहर में रहना पड़ता है लेकिन आज भी मुझे गांव की याद आती है।

बरगद के पेड़ की टहनियों पर लटक के झूला झूलना, नदी तालाब में नहाना, तूफानी मौसम में आम के पेड़ के पास जाकर खड़े हो जाना और आम को बिछना, गांव के दोस्तों के साथ शेर सपाटा करना इत्यादि बचपन के पल बहुत ही याद आते हैं।

गांव में रहने वाले बच्चों का बचपना आनंद से भरा होता है। क्योंकि शहर के बच्चों पर तो बचपन से ही पढ़ाई का बोझ डाल दिया जाता है।

गांव के लोग भले ही ज्यादा पढ़े-लिखे ना हो लेकन जितना अपनापन गांवों के लोग दिखाते हैं, उतना शहर के लोग नहीं दिखाते। यही कारण है कि मुझे मेरा गांव का जीवन बहुत पसंद है।

मेरा गांव पर निबंध 800 शब्दों में

प्रस्तावना

गाँव एक ऐसी जगह जिस का नाम सुनते ही हमें ऐसे क्षेत्र की याद दिलाता हैं, जहां पर चारों तरफ खुशहाली हो और गाँव के चारों ओर बागन हो। मेरे गाँव में भी ऐसा ही हैं। मेरे गाँव कुल आबादी तक़रीबन 25 हजार हैं।

मेरे गाँव मे रहने वाले लोग गाँव में एकता की मिशाल देते हैं। मेरे गाँव की खुशहाली के चर्चे दूर दूर तक होते हैं। मेरे गाँव में काफी कुछ जाने के लिए हैं, जो शान्ति के प्रतिक हैं।

गाँव में बना एक स्कूल

मेरे गाँव का नाम हेलियावास खुर्द हैं, जो पाली के मारवाड़ जंक्शन से करीब 5 किलोमीटर दूर है। मेरे गाँव में बने इस स्कूल में करीब 500 विद्यार्थी पढ़ते हैं। मेरे गाँव में बने इस विद्यालय में लड़के और लडकियां दोनों ही पढ़ते हैं।

मेरे विद्यालय में कक्षा 1 से कक्षा 8 तक की पढाई होती है। इस स्कूल में हिंदी माध्यम में पढाई होती हैं। यह विद्यालय मेरे गावं में बाहर करीब 400 मीटर की दूरी पर आया हुआ हैं।

मेरे गाँव में बना तालाब

मेरे गाँव के बीचों बीच में एक तालाब बना हुआ हैं। इस तालाब में बारिश के समय केवल पानी ही दिखाई देता हैं। इस तालाब में गाँव में लोग अपने पशुओ को पानी पिलाते हैं। गाँव में बने इस तालाब बाहर एक पानी का अवाला भी बना हुआ हैं।

इस अवाले पर लोग सुबह शाम कपड़ों की धुलाई भी करते हैं। इस तालाब के आसपास एक खुला मैंदान भी हैं। इस मैंदान पर बच्चे कई तरह के खेल खेलते हैं।

मेरे गाँव में बना एक बगीचा

मेरे गाँव के बाहर एक बगीचा भी बना हुआ हैं। गाँव के बाहर बने इस बगीचे में लोग सुबह के समय घुमने फिरने आते है। गाँव में बना यह बगीचा काफी बड़ा हैं और यह हमारे गाँव के क्षेत्रफल का लगभग एक चौथाई हैं।

हमारे गाँव में बने इस बगीचे में कई तरह के पेड़ पोधे भी देखने को मिल जाते हैं। यहाँ पर कई तरह के फल और फुल भी दिखाई देते हैं। गाँव में बने इस बगीचे में कई प्रकार की सुविधाए हैं जैसे बैठने के लिए सीमेंट की बनी कुर्सीया भी हैं।

बगीचे में पानी की भी उत्तम सुविधा हैं। बगीचे में उपलब्ध पानी की सुविधा के जरिये पेड़ पौधों को पिलाने के लिए काम में लिया जाता हैं। इस बगीचे में पानी पीने के लिए ही उपलब्ध हैं।

गाँव में बना खेल का मैदान

मेरे गाँव में तालाब के पास एक खेल का मैदान भी बना हुआ है। इस मैदान में लोग सुबह खेलने आते हैं। लड़के क्रिकेट तो लड़कियां कबड्डी और खो-खो खेलने में व्यस्त रहती हैं।

मेरे गाँव में बने इस खेल के मैदान में कई तरह के खेल खेलने के लिए मैदान बने हुए हैं। इस मैदान में क्रिकेट और फुटबॉल के लिए भी काफी बड़ा मैदान हैं।

इस मैदान में कबड्डी खेलने के लिए भी एक अलग से मैदान बना हुआ हैं। मैदान में पानी पीने की और बैठने की भी उत्तम सुविधा हैं। मेरे गाँव में बने इस मैदान में चारों और पक्की दिवार बनी हुई हैं, जिससे मैदान की सुरक्षा बनी रहती हैं।

मेरे गाँव का महत्त्व

मेरे गाँव का महत्त्व भी काफी ज्यादा हैं। मेरे गाँव में सुबह सही बुजुर्ग गाँव में बने एक चबूतरे पर बैठते हैं। जीवन के अनुभव से वे हमें वो बाते सीखते हैं, जो हमे किसी स्कूल और कॉलेज में सीखने को नहीं मिलती हैं।

गाँव में बने तालाब में जानवर अपनी प्यास बुझाते है और इसी पानी से आसपास के खेतों में सिचाई की जाती है। गाँव में बने स्कूल में बच्चों को जीवन का पहला सबक अनुशासन सीखाया जाता हैं।

गाँव में हम ग्रामीण जीवन के माहोल में जीते हैं, जो हमारे लिए काफी अच्छा होता हैं। गाँव का महत्त्व हमारे जीवन में काफी ज्यादा हैं। हमारे ग्रामीण क्षेत्रो में रहकर हम जमीन से जुड़े रहते है। गाँव में काफी कुछ सीखने को मिलता हैं।

मेरे गाँव का ग्रामीण परिवेश

मेरे गाँव के परिवेश के बारे में भी काफी अच्छी देखने को मिलता हैं। मेरे गाँव के लोग धोती और कुर्ता पहनना पसंद करते हैं।

गाँव की औरतें भी देशी परिवेश में रहना पसंद करती हैं। मेरे गाँव के आसपास के लोग साथ में खाना खाना पसंद करते हैं। संयुक्त परिवार मेरे गाँव की खासियत हैं।

उपसंहार

मेरे गाँव का माहोल काफी स्वच्छ और सुन्दर हैं। मेरा गाँव एकता और साम्प्रदायिकता का प्रतिक हैं। गाँव में काफी कुछ सीखने को मिलता हैं। बुजुर्गों से मिलने वाली सीख हम कहीं और नहीं मिलती हैं।

अंतिम शब्द 

हमने यहां पर मेरा गाँव पर निबंध (Essay on My Village in Hindi) शेयर किया है। उम्मीद करते हैं कि आपको यह निबंध पसंद आया होगा, इसे आगे शेयर जरूर करें। आपको यह निबन्ध कैसा लगा, हमें कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं।

यह भी पढ़े

दयालुता पर निबंध

परोपकार पर निबंध

मेरी अविस्मरणीय यात्रा पर निबंध

अतिथि देवो भव पर निबंध

Follow TheSimpleHelp at WhatsApp Join Now
Follow TheSimpleHelp at Telegram Join Now
Rahul Singh Tanwar
Rahul Singh Tanwar
राहुल सिंह तंवर पिछले 7 वर्ष से भी अधिक समय से कंटेंट राइटिंग कर रहे हैं। इनको SEO और ब्लॉगिंग का अच्छा अनुभव है। इन्होने एंटरटेनमेंट, जीवनी, शिक्षा, टुटोरिअल, टेक्नोलॉजी, ऑनलाइन अर्निंग, ट्रेवलिंग, निबंध, करेंट अफेयर्स, सामान्य ज्ञान जैसे विविध विषयों पर कई बेहतरीन लेख लिखे हैं। इनके लेख बेहतरीन गुणवत्ता के लिए जाने जाते हैं।

Related Posts

Comment (1)

Leave a Comment