लॉकडाउन पर निबंध

Essay On Lockdown In Hindi: आज का हमारा यह आर्टिकल जिसमे हम LOCKDOWN के निबंध के बारे में बात करने वाले है। Essay On Lockdown In Hindi के सन्दर्भ में निबंध के बारे में जानकारी नीचे दी गयी है।

Essay On Lockdown In Hindi
Essay On Lockdown In Hindi

Read Also: हिंदी के महत्वपूर्ण निबंध

लॉकडाउन पर निबंध | Essay On Lockdown In Hindi

लॉकडाउन पर निबंध (200 शब्द)

लॉक डाउन का मतलब तालाबंदी होता है। पहले लॉक डाउन के बारे में बहुत कम लोगों को जानकारी थी। लेकिन अब पिछले 2020 में कोविड की वजह से देश में लॉक डाउन होने के बाद सब लोग इसके बारे में जान चुके है। लॉक डाउन को भारत में कोविड से बचाव के लिए लगाया गया था।

लॉक डाउन का मतलब दूसरे शब्दों में समझा जाये, तो इसका एक शब्द का अर्थ तालाबंदी होता है। जिसको लागु करने के बाद पुरे देश में hh लग जाता है। आपने में भारत में लॉक डाउन के टाइम देखा होगा, की देश में एकदम सब कुछ बंद हो गया था सिर्फ जरुरी सेवाओं को छूट दी गयी थी।

अब अगर लॉक डाउन के फायदे की बात करे, तो देश में लॉक डाउन कोरोना की वजह से लगाया गया था। इससे पहले देश में कभी भी लॉक डाउन नहीं लगाया गया था। लॉक डाउन का सबसे बड़ा फायदा कोरोना से बचाव रहा है। कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए लॉक डाउन का प्रयोग ढाल के रूप में किया गया था और उसका असर भी सामने आया। लॉक डाउन की वजह से कोरोना संक्रमण को रोकने में सफलता मिली।

साथ ही साथ लॉक डाउन की वजह से दिल्ली जैसी सिटी में पोलुशन बहुत जयादा कम हुआ। क्योकि देश के अधिकतर साधन बंद पड़े थे। लॉक डाउन में लोगो को एक और बड़ा फायदा पैसा बचत को लेकर हुआ है। लॉक डाउन की वजह से लोग अपने घरो से बाहर नहीं जा पाते थे तो फिजूलखर्ची भी कई हद तक कम हो गयी।

लॉक डाउन का नुकसान भी सामने आया है। लॉक डाउन की वजह से देश की अर्थव्यवस्था पूरी तरह से बिगड़ गयी और देश में बेरोजगारी बाद गयी लोगो की job चली गयी। लॉक डाउन की वजह से देश को बड़ा नुकसं उठाना पड़ा है।

लॉकडाउन पर निबंध (600 शब्द)

प्रस्तावना

लॉकडाउन को साधारण भाषा में कहा जाए तो यह एक प्रकार की तालाबंदी होती हैं। जिसके तहत सभी को अपने घरों में रहने की सलाह दी जाती हैं। जिसका सरकार की तरफ से कड़ाई से पालन भी करवाया जाता हैं। यह इसलिए जरूरी है क्योंकि कोरोनावायरस नामक महामारी जाना जाति के इतिहास में पहली बार आई है, और देशभर में इतना भयंकर लोग पहली बार लगा हैं।

अब पूरा देश इस वायरस से लड़ने के लिए अपने अपने घरों में कैद हो गया हैं। इस वायरस के प्रकोप से लाखों लोगों अपनी जान गवा दी है, और इसके बचाव के लिए सिर्फ एक ही रास्ता है वह हैं। सोशल डिस्टेंसिंग यानी सामाजिक दूरी यह संक्रमण एक दूसरे इंसान तक बहुत तेजी से फैलता हैं। जिसके कारण भारत सरकार ने लॉकडाउन को ही बजने का है आवश्यक जरिया बताया हैं।

लॉकडाउन एक आपातकालीन व्यवस्था है, जो किसी आपदा या महामारी के वक्त लागू की जाती हैं। जिस इलाके में लॉकडाउन किया जाता हैं। उस क्षेत्र में लोगों को घरों से बाहर निकलने की अनुमति नहीं होती हैं। उन्हें सिर्फ दवा और खाने-पीने जैसी जरूरी चीजों की खरीद के लिए ही बार आने की इजाजत मिलती हैं। लॉकडाउन के वक्त कोई भी व्यक्ति अनावश्यक कार्य के लिए सड़कों पर नहीं निकल सकता हैं।

लॉकडाउन के फायदे

लॉकडाउन से पहले इस समय की बात करें तो उस वक्त हम सभी अपने रोजमर्रा के कामों में इतना व्यस्त रहते थे, कि अपनों के लिए अपने परिवार के लिए और अपने बच्चों के लिए कभी भी समय नहीं निकाल पाते थे, और सभी को सिर्फ यही शिकायत रहती थी, कि आज के दिन तेरे को देखते हुए समय किसके पास है, लेकिन लॉकडाउन में यह सारी शिकायतें खत्म कर दी इस दौरान लोग अपने परिवार के साथ समय बिताने लगे हैं। लोग अपने घरों में बुजुर्गों के साथ ही समय बिता रहे हैं, और अपने रिश्तो में आई कड़वाहट को भी मिटा रहे हैं।

लॉकडाउन के दौरान सभी बच्चे अपने माता-पिता के साथ समय बिताने का आनंद ले रहे हैं, और बच्चों को भी अपने माता-पिता के साथ समय बिताने का बहुत अच्छा मौका मिला हैं। वही लोग खाना बनाने के शौकीन है जो यूट्यूब के माध्यम से घर पर बैठकर खाना बनाना सीख रहे हैं। पुरानी सीरियलों का दौर वापस आ रहा हैं। जिसका मजा लोग अपने पूरे परिवार के साथ बैठकर ले रहा हैं। अपनी पुरानी यादों को वापस ताजा कर रहे हैं, बच्चों के साथ वीडियो गेम, कैरम जैसे खेल खेल कर अपना मनोरंजन कर रहे हैं।

लॉक डाउन का सबसे महत्वपूर्ण फायदा यह है, कि इस लॉकडाउन के माध्यम से ही हम कोरोना वायरस जैसी महामारी से जीत हासिल कर सकते हैं। कोरोना को हराना है, तो लॉक डाउन का पालन करना चाहिए। वर्तमान समय में कोरोनावायरस महामारी से पूरा विश्व परेशान है, और इससे छुटकारा पाने का एकमात्र उपाय लॉकडाउन हैं।

लोगों में से एक बार फायदा हुआ हैं। कि डॉक्टरों के दौरान वायु प्रदूषण और जल प्रदूषण में काफी कमी देखने को मिली हैं। अगर लोगों से पहले की बात करें तो उस समय कारखानों से निकलने वाला कचरा और गंदा पानी के साथ जहरीले हवा जो कि हमारे पर्यावरण को दूषित करती थी, और साथ ही लोगों से पहले रास्ते पर गाड़ियों के दौड़ने से वायु प्रदूषण भी हो रहा था, जो कि आजकल लोगों में बहुत कम दिखाई दे रहा हैं।

लॉकडाउन के नुकसान

लॉक डाउन का जहां पर फायदा हुआ हैं। लेकिन इस लॉकडाउन से लोगों को काफी नुकसान भी हुआ हैं। सबसे ज्यादा नुकसान मजदूरों को हुआ है, जो कि रोजमर्रा के काम से अपना घर चलाते थे, और अपना पेट पढ़ते थे लेकिन आज उनके लिए एक वक्त की रोटी भी बहुत मुश्किल हो गई हैं। कई मजदूर ऐसे हैं जो मौके पर सो रहे हैं, अगर लॉकडाउन का सबसे ज्यादा नुकसान किसी को हुआ है, तो वह मजदूर है, और उनके परिवार हैं जो कि दिन रात मेहनत करके अपना पेट भरते थे, लेकिन लोगों की वजह से उनका सारा काम बंद हो चुका हैं।

लॉक डाउन का एक नुकसान संपूर्ण देश को हुआ हैं। जो कि अर्थव्यवस्था में काफी गंभीर नुकसान हुआ हैं। कारखाने बंद होने के कारण भारी नुकसान झेलना पड़ रहा हैं। वहीं व्यापार में पूरी तरह से गिरावट हो चुकी हैं। लोगों की नौकरियां चली गई हैं। जिसकी वजह से बेरोजगारी की समस्या भी उत्पन्न हो गई है, लॉक डाउन की वजह से देश आर्थिक रूप से कमजोर हो रहा हैं।

उपसंहार

कोरोनावायरस के प्रकोप को रोकने के लिए इस संक्रमण से मुक्ति पाने के लिए भारत के प्रधानमंत्री में लॉकडाउन की घोषणा की थी। क्योंकि सामाजिक दूरी से ही कोरोना कोरोना सकता है और कोरोना महामारी को रोकने के लिए लॉकडाउन ही एकमात्र बेहतरीन उपाय है। इसी कारण से लॉकडाउन को आगे से आगे बढ़ाया जा रहा हैं।

इसलिए हम सभी की जिम्मेदारी है कि हम यह निर्णय लिया कि हम देश के साथ अपना समर्थन दें और लॉक डाउन का पूरा पालन करें। जरूरी काम होने पर ही हम घर से बाहर निकले और घर पर ही रहे।

अंतिम शब्द

हम उम्मीद करते है कि आपको यह “लॉकडाउन पर निबंध (Essay On Lockdown In Hindi)” पसंद आया होगा इसे आगे शेयर जरूर करें। आपको यह निबंध कैसा लगा, हमें कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं।

Read Also

इनका नाम राहुल सिंह तंवर है, इन्होंने स्नातक (रसायन, भौतिक, गणित) की पढ़ाई की है और आगे की भी जारी है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 3 वर्ष से भी अधिक SEO का अनुभव होने के साथ ही 3.5 वर्ष का कंटेंट राइटिंग का अनुभव है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जुड़ सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here