ज्ञान पर निबंध

Essay on Knowledge in Hindi: अगर हमे जीवन में सफल होने हैं तो ज्ञान का होना जरुरी हैं। बिना ज्ञान के कोई भी व्यक्ति बिना पानी के सागर जैसा बन जाता हैं। सब कुछ होते हुए ही कुछ नहीं होता। 

हम यहां पर अलग-अलग शब्द सीमा में ज्ञान पर निबंध (Essay on knowledge in Hindi) शेयर कर रहे हैं। यह निबन्ध सभी कक्षाओं के विद्यार्थियों के लिए मददगार साबित होंगे।

ज्ञान पर निबंध | Essay on Knowledge in Hindi

ज्ञान पर निबंध (250 शब्द) 

कहते हैं ज्ञान हमारे जीवन का आधार हैं। बिना ज्ञान के बिना जीवन सवारना हमारे लिए काफी मुश्किल हो जाता हैं। अगर आपके पास ज्ञान हैं तो आप जीवन में हर मुकाम हासिल कर सकते हैं। ज्ञान एक चुम्बक के सामान होता हैं जो हमारे आसपास की ज्ञान रुपी चीजों को अपनी और आकृषित करता हैं। ज्ञान हमारे जीवन में अंधकार रुपी अँधेरे को दूर भगाता हैं। ज्ञान में माध्यम से आप बेहतर चीजों और बेहतर समय का उपयोग कर सकते हैं। ज्ञान हमारे जीवन में एक महत्पुर्व भूमिका अदा करता हैं।

वास्तव में देखा जाए तो ज्ञान संस्कृत भाषा का शब्द हैं, जिसका अर्थ होता हैं बोद्ध होना या जानना। ज्ञान सुझबुझ और सकारात्मकता का प्रतिक हैं। ज्ञान का जीवन में होना काफी महत्वपूर्ण हैं। अज्ञान रुपी शख्स किसी भी काम को करने के लिए उत्तम या उत्कृष्ट नही होते हैं। ज्ञान हमारे जीवन में उजाला भरने का काम करता हैं।

ज्ञान एक ऐसा बाण हैं, जिससे आप अपने भविष्य को एक नई मजबूती दे सकते हैं। ज्ञान को विज्ञान में काफी बड़ा और ज्यादा महत्त्व दिया जाता हैं। किसी भी विषय को समझने ज्ञान का होना जरुरी हैं। ज्ञान के बिना जीवन के किसी भी परीक्षा को पास करना मुश्किल होता हैं। ज्ञान के बारे में पढ़ना, इसके लिए भी ज्ञान का होना आवश्यक हैं क्योंकि ज्ञान का क्षेत्र काफी बड़ा हैं। ज्ञान और भी कई अलग-अलग भागों में बंटा होता हैं जैसे पुस्तकों से ज्ञान, सामान्य ज्ञान इत्यादि।

ज्ञान पर निबंध (800 शब्द) 

प्रस्तावना

ज्ञान एक चुम्बक की भांति हमारे जीवन में काम करता हैं। हमारे जीवन में ज्ञान का काफी महत्त्व हैं। ज्ञान के बिना हम कोई भी काम आसानी से नहीं कर पाते हैं। ज्ञान हमारे जीवन का मुख्य आधार हैं। अगर जीवन में सफल होना होना हैं तो उसके लिए ज्ञान का होना जरुरी हैं। ज्ञान जीवन के काफी जरुरी होता हैं।

जीवन में सफल होने का आधार ही ज्ञान हैं। जीवन को मोड़ देने के लिए ज्ञान काफी महत्वपूर्ण योगदान निभाता हैं। चुम्बक के समान ही हमारा ज्ञान भी होना चाहिए, जिस तरह चुम्बक आसपास की अच्छी चीजों को अपनी और खींचता हैं, उसी तरह ज्ञान भी अपनी और चीजों को आकृषित करती हैं।

ज्ञान की आवश्यकता

ज्ञान के अर्जुन की शुरुआत किसी मनुष्य के जीवन में आते ही शुरू हो जाती हैं। ज्ञान के केवल स्पर्श मात्र से हमें पता चल जाता हैं कि कोई अपना हैं और कौन पराया हैं और हमारे साथ सोतेला व्यवहार करता हैं। ज्ञान शब्द काफी छोटा हैं परन्तु इसका अर्थ काफी बड़ा हैं। ज्ञान हमारे जीवन की सफलता की कुंजी हैं। अगर जीवन में सफल होना हैं जो हमारे जीवन में अच्छे ज्ञान का होना जरुरी हैं। अगर आपका पास अच्छा ज्ञान हैं तो आप कही भी विफल नहीं होंगे।

ज्ञान के प्रकार 

ज्ञान भी कई अलग-अलग प्रकार का होता हैं। एक मनुष्य के जन्म से लेकर एक मनुष्य की मृत्यु तक ज्ञान का काफी बोलबाला रहता हैं। जीवन के शुरुआत के समय में हमारे माता-पिता हमें वो ज्ञान देते हैं जो हमारे जीवन के शुरूआती दौर में काम आता हैं। जीवन में आगे बढ़ने के साथ हमारे परिवारजन और रिश्तेदार भी हमें कई प्रकार के ज्ञान की बातें बताते हैं जो कि हमें आगे बढ़ने को मोटीवेट करती हैं।

जीवन में आगे बढ़ने के साथ हम साथ-साथ विद्यालय आते हैं, जहां से हमें वो सभी बाते सीखने को मिलती हैं। जीवन में हमे कई बातें सीखने को मिलती हैं परन्तु उसमें से हमें उतरनी हैं या नहीं वो इस पर निर्भर करता हैं कि हम कहाँ से ज्ञान की प्राप्ति कर रहे हैं।

ज्ञान का उपयोग 

कहते हैं हम वहीं सीखते हैं जो हम देखते हैं और समझते हैं। ज्ञान का उपयोग भी कुछ इसी प्रकार हैं। अगर आपको अच्छा ज्ञान मिल जाए तो जीवन कोई कोई भी जंग जीत सकते हैं। ज्ञान का उपयोग तो हम हर रोज करते हैं। सुबह जल्दी उठने से लेकर शाम को देरी से सोने तक के पूरे प्रोसेस में हमे ज्ञान मिलता हैं। अगर हमें किसी ऐसे व्यक्तिव से ज्ञान की प्राप्ति होती हैं, जिसने खुद अपने जीवन में काफी संघर्ष किये हो।

अगर वो अच्छा ज्ञान देता हैं तो इससे ज्यादा क्या होगा कि हम कुछ नया सीखते हैं। ज्ञान के उपयोग के बारे में कई महापुरुष भी कहते हैं कि अगर हम जीवन में अच्छा करते हैं तो उसका पूरा श्रेय हमारे ज्ञान को ही जाता हैं। जीवन में कोई भी कार्य करो अगर आपके पास अच्छा ज्ञान नहीं हैं तो आप सफल होने के बावजूद भी असफल हो जाओगे।

ज्ञान का वर्तमान उपयोग

अगर हम वर्तमान में ज्ञान की बात करें तो यह काफी आम हो चूका हैं। आज ज्ञान को हम कई अन्य तरीकों में बाँट देते हैं। ज्ञान की प्रकृति के अनुसार हम अपने ज्ञान को बाँट देते हैं और उसका उपयोग के नए तरीके के लिए करते हैं। सामान्य तौर पर देखे तो ज्ञान का वर्तमान में एक अलग ही उपयोग हैं जैसे:

  • सामान्य ज्ञान – किसी बच्चे को अगर किसी ऐसे किसी विषय के बारे में पूछा जाए जो हाल की ही घटना हो तो वो ज्ञान वर्तमान की दृष्टी से सामान्य ज्ञान की श्रेणी में आते है। हम अगर किसी प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी करते हैं और उसके लिए सामान्य ज्ञान के बारे में पढ़ते हैं तो वो भी इसी श्रेणी में आते हैं।
  • शब्दावली ज्ञान – शब्दावली को हम सामान्य भाषा में डिक्शनरी भी कहते हैं। जैसे हम अंग्रेजी में स्पेल्लिंग को पढ़ते हैं और उन्हें समझते हैं वो इसी शब्दावली ज्ञान की श्रेणी के आते हैं। हम किसी कौशल को विकसित करने के लिए भी शब्दावली को पढ़ते हैं।
  • पुस्तकों से ज्ञान – हमारे स्कूल से लेकर कॉलेज तक हम किताबी ज्ञान से पूरी जानकारी ले लेते हैं। किसी भी किताब को पढ़ कर उससे ज्ञान लेना, किताबी ज्ञान के अंतर्गत आता हैं।

निष्कर्ष

ज्ञान हमारे जीवन की अहम कड़ी होता हैं। जीवन में सफल होने के लिए ज्ञान एक कुंजी की तरह काम करता हैं। बिना ज्ञान के कोई भी मनुष्य अँधेरे में ही रहता हैं। ज्ञान सफलता की पहली कुंजी हैं।

अंतिम शब्द 

हमने यहां पर “ज्ञान पर निबंध (Essay on knowledge in Hindi)” शेयर किया है। उम्मीद करते हैं कि आपको यह निबंध पसंद आया होगा, इसे आगे शेयर जरूर करें। आपको यह निबन्ध कैसा लगा, हमें कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं।

Read Also

इनका नाम राहुल सिंह तंवर है, इन्होंने स्नातक (रसायन, भौतिक, गणित) की पढ़ाई की है और आगे की भी जारी है। इनकी रूचि नई चीजों के बारे में लिखना और उन्हें आप तक पहुँचाने में अधिक है। इनको 3 वर्ष से भी अधिक SEO का अनुभव होने के साथ ही 3.5 वर्ष का कंटेंट राइटिंग का अनुभव है। इनके द्वारा लिखा गया कंटेंट आपको कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। आप इनसे नीचे दिए सोशल मीडिया हैंडल पर जुड़ सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here