हिमालय पर निबंध

Essay On Himalaya In Hindi: हिमालय भारत की शान है। भारत की संस्कृति में हिमालय का अनोखा स्थान है। हम यहां पर हिमालय पर निबंध शेयर कर रहे है। इस निबंध में  हिमालय के संदर्भित सभी माहिति को आपके साथ शेअर किया गया है। यह निबंध सभी कक्षाओं के विद्यार्थियों के लिए मददगार है।

Essay-On-Himalaya-In-Hindi-

Read Also: हिंदी के महत्वपूर्ण निबंध

हिमालय पर निबंध | Essay On Himalaya In Hindi

हिमालय पर निबंध (250 शब्द)

यह संसार का सबसे ऊंचा पर्वत हैं। हिमालय को गिरिराज के नाम से पुकारा जाता है और हिमालय शब्द को दो अलग-अलग शब्दों को जोड़कर बनाया गया है। हिम और आलय इसका अर्थ होता है बर्फ का घर। हिमालय का विस्तार भारत, पाकिस्तान, भूटान, नेपाल और चीन तक फैला हुआ है और संसार की सबसे ऊंची चोटी माउंट एवरेस्ट वी हिमालय की ही चोटी हैं। हिमालय हमारा प्राचीन समय से रक्षा करता आ रहा हैं। हिमालय में साल भर बर्फ पड़ती है।

हिमालय की लंबाई 2500 किलोमीटर और चौड़ाई 612,021 वर्ग किलोमीटर हैं। हिमालय एक प्रकार का प्राकृतिक सौंदर्य है और यहां पर कई अलग-अलग प्रकार की आयुर्वेदिक औषधियां भी उपलब्ध हैं। हिमालय हमारी पृथ्वी पर लगभग 70 करोड वर्ष पुराना हैं। हिमालय पर्वत हमारे देश भारत को मध्य एशिया और तिब्बत के पठार से अलग करता हैं। यह भारत की उत्तर सीमा में एक बहुत ही मजबूत दीवार हैं।

हिमालय पर्वत का महत्व हमारे जीवन में प्राचीन काल से रहा हैं। यह भी कहा जाता है कि हिमालय में शिव जी का आवास है और हिमालय से ही गंगा, यमुना, गंगोत्री जैसी कई पवित्र नदिया निकलती हैं। हिमालय एक प्रकार का बहुत ही पवित्र स्थान हैं। और इस स्थान को देवों का क्षेत्र भी कहा जाता है क्योंकि यहां पर बद्रीनाथ, केदारनाथ, अमरनाथ और ऋषिकेश जैसे कई महत्वपूर्ण तीर्थ स्थल उपस्थित हैं। हिमालय में उपस्थित कश्मीर की घाटी दुनिया भर में एक बहुत ही बड़ी और खूबसूरत घाटी है, जो कि फूल और उद्यानों से हमेशा भरी रहती हैं।

हिमायल पर निबंध (1400 शब्द)

प्रस्तावना

हिमालय भारतीय संस्कृति प्रयादीप पर्वत  श्रृंखला होती है, जो भारत की उत्तरी सीमा में स्थित होती है। हिमालय पर्वत दुनिया भर के महानतम श्रृंखलाओ में से एक होती है। हिमालय पर्वत दुनिया भर का सबसे बड़ा और सबसे ऊँचा  पर्वत माउंट एवरेस्ट है। यह पर्वत भारत के सभी लोगों के लिए बहुत महत्वपूर्ण होता है। साथ ही हिमालय पर्वत बहुत सारी नदियों का उदगम स्थल भी होता है। हिमालय पर्वत से होते हुये बहुत सारी नदियाँ निकल कर भारत के मैदानो पर बहती हुयी होती है और वहां की ज़मीन को  पूरी तरह से उपजाऊ बना देती है।

हमारे देश में मानसून मूसलाधार वर्षा हिमालय की वजह से होती है और इसी वर्षा के पानी का उपयोग खेती करने में किया जाता है और पुरे भारत में बहुत अच्छी खेती होती है और कृषियों बहुत अधिक मात्रा में फायदा भी होता है। हिमालय पर्वत का हम सभी के जीवन में बहुत महत्व होता है क्योंकि उसका उपयोग कई चीज़ो में किया जा सकता है। हिमायल पर्वतो से हमें कई तरह जड़ी -बूटीया प्राप्त होती है और उन जड़ी -बूटीयों का उपयोग दवाइयों के रूप में उपयोग में लाया जाता है।

हिमालय शब्द का अर्थ

हिमालय शब्द दो शब्दो के संयोग से मिल कर बना होता है, हिम + आलय। हिमालय का अर्थ घर का बर्फ से है। यह भारत देश के अलावा अन्य देशो मे हिमालय पर्वत की श्रृंखलापाकिस्तान,भूटान, अफगानिस्तान आदि देशों तक फैली हुयी होती है। हिमालय पर्वत की सुंदरता बहुत ही लोकप्रिय और मनमोहक लगती है।

इतना ही नहीं भारत देश के टूरिज्म इंड़स्टीज मे हिमालय पर्वत बहुत महत्वपूर्ण योगदान होता है। गर्मियों के दिनों में बहुत से लोग गर्म इलाकों से आकर हिमालय पर्वत में आकर ठंडक लेते है और वही पर रहते है।

हिमालय पर्वत की विविधता

हिमालय पर्वत की विविधता के बारे मे आइये जानते है, हिमालय पर्वत का हमारे जीवन मे बहुत महत्व होता है। हिमालय पर्वत से मानव जीवन मे बहुत से लाभ प्राप्त होते है। हिमालय पर्वत से अलग -अलग तरह के फल -फूल और देवदार प्रकार के पेड, जड़ी -बूटीयां, वनस्पति और खनिज पदार्थ आदि प्राप्त होते है।

जानवर अक्सर ठंडक वाले स्थानो पर ज्यादा रहते है और हिमालय पर्वत के जंगलो मे बहुत से पेड -पौधों होते है, जिनके नीचे ठंडक छाया रहती है और वह उन्ही स्थानों जानवर अपना घर बना कर रहते है।

इसके पर्वतो के जंगलो मे कई जानवर रहते है जैसे -बाघ,  भालू, हिरण, गेंडा, नील गाय, तेंदुआ, बारहसिंघा, आदि  देखने को मिलते है। हिमालय पर्वत की विविधता बहुत ही रोचक और मनमोहक लगती है वहां का दृश्य देखने लायक होता है। वहां दृश्य इतना सुहावना होता है कि लोग पर्वत कि पहड़ियों मे घूमने जाते है उनको वहां दृश्य इतना सुहावना लगता है, उनका मन ही नहीं मानता उधर से आने के लिए मानो ऐसा प्रतीत होता है कि हमेशा के लिए वही पर वश जाये।

हिमालय पर्वतो के जंगलो में अनेक तरह के पेड -पौधे पाये जाते है, जिनका उपयोग औषाधियो के रूप में किया जाता है। वहां पर कुछ ऐसे पेड -पौधे होते है जिनके उपयोग जड़ी -बूटी के लिए किया जाता है, उनसे विभिन्न प्रकार की आर्युवेदिक  दवाइयां बनाई जाती हैं। और विभिन्न प्रकार की बनायीं गई आर्युवेदिक दवाईयों को बाजार में लाकर बेचा जाता है इन दवाइयों को खरीद कर खाने से लोगों को काफ़ी हद तक आराम मिलता है।इसलिए मानव के दैनिक जीवन मे हिमालय पर्वत का बहुत महत्व है।

हिमालय पर्वत की धर्म में मान्यता

धर्म में हिमालय पर्वत को बहुत अधिक मान्यता दी गयी है। हिमालय पर्वत को गिरिराज भी कहते है, इसका अर्थ होता है शंकर जी या हरी जी का निवास। हिमालय में शंकर जी ने बैठ कर अपनी तपस्या किया था, हिमालय पर्वत में शन्ति पूर्वक बैठ कर अपना ध्यान केद्रित करके शिव जी अपनी तपस्या की थी।

कहा जाता है शिवजी का निवास स्थल हिमालय में है। हिमालय पर्वत को देखने के लिए बहुत से लोग जाते है। वहां स्थल देखने लायक होता है, हिमालय पर्वत सुंदरता, मनमोहक और विशलता का विस्मिती होता है। हिमालय पर्वत को पांडवो और द्रोपदी के मुक्ति पाने का स्थान मना जाता है,क्योंकि हिमालय पर्वत में पांडवो के द्रोपती के प्रचलित कथाये इसमें शामिल है।

हिमालय पर्वत के उदगम से होकर बहुत सी नदियाँ गुजरती है, हिमालय पर्वत मनोरम स्थल है । यहाँ प्राकृतिक वैभव बिखरा  हुआ होता है । यहाँ प्रकृति अपने अनमोल खजाने हँसी -ख़ुशी से लुटाती है ।  प्रात: कालीन सूर्य की किरणों से हिमालय पर्वत की शोभा और भी अधिक निखरी हुयी नज़र आती है देखने वाले लोग आश्चर्चकित रह जाते हैं । थोड़े नीचे की ओर चलते है तो हिमालय पर्वत का जंगल दिखना शुरू हो जाता है । देवदार, चीड़ आदि के ऊँचे-ऊँचे पेड़ यहाँ देखने को मिलते है और जंगल की शोभा भी बढ़ाते है, ये सभी तरह के पेड़ -पौधे जगंली जीव-जंतुओं की शरणस्थली  होते है।

भारत में हिमालय पर्वत का महत्व

भारत में हिमालय पर्वत को बहुत अधिक महत्व दिया गया है।

1. भारतीय जलवायु पर प्रभाव

भारत के तापमान पर इसका एक विशेष महत्व होता है, बारिश के वितरण में हिमालय पर्वतों का एक अलग ही विशेष महत्व होता है। हिमालय पर्वत रुकवाट डालने का  कार्य करता है। यह अरब सागर और बंगाल की खाड़ी से आने वाली गर्मियों की मानसूनी हवाओं को रोकने में बाधा उत्पन्न करते है। जिससे भारत में काफ़ी भारी मात्रा में वर्षा होती है। इसके अलावा यह साइबेरिया से बेहद ठंडी होने वाली और शुष्क हवाओं को रोकने में बाधा बनती है। इस तरह से हिमालय पर्वत उत्तर भारत के घनी आबादी वाले क्षेत्रों में भी रक्षा करने में हमेशा तैयार रहती हैं।

2. सदानीरा नदियों का उदगम

हिमालय पर्वत के उदगम स्थल से होकर अनेक नदियाँ हो कर गुजरती है। हिमालय पर्वतो से अनेक नदियाँ जैसे -गंगा नदी, युमना नदी, आदि हो कर निकलती है।इन नदियों के जल  मुख्य रूप से हिमालय पर्वत के हिमनद, झरने और झीलें होती है । यहाँ सभी चिरस्थायी नदिययों का स्थल होता है इनमें साल भर जल भरा रहता है। ये नदियाँ भारत के लिए घनी आबादी के लिए आजीविका होती है।

3. जलविद्युत उत्पादन

हिमालय  पर्वत के कुछ ऐसे स्थान होते हैं, जहां पर जल विद्युत का उत्पादन होता है । इसके लिए संबंधित क्षेत्र में कई बांधाएं उत्पन्न होती  हैं। हिमालय पर्वत की  कुछ मुख्य परियोजनाएं गिरि-बाटा, भाखड़ा-नंगल, पोंग, चमेरा, सिलाल, बस्सी, बगलियार, दुलहस्ती, कोटेश्वर, टिहरी आदि होती है।

4. वन संपदा

हिमालय पर्वत वन संपदा का एक महत्वपूर्ण क्षेत्र होता है। यहां पर जंगलों में काफी मात्रा में विविधता उत्पन्न होती है।  हिमालय पर्वतो के जंगलो में उष्णकटिबंधीय वन, समशीतोष्ण वन और कोणीय सदाबहार आदि वन होते है । इन वनों से हमें कुछ उपयोगी इमारती लकड़ी, लकड़ी, लाख, गोंद, जड़ी-बूटी और औद्योगिक कच्चा माल  आदि  प्राप्त होता है। इसके अलावा यहाँ पर पहाड़ों की ऊंचाई पर अल्पाइन घास के मैदान (मार्ग) भी मौजूद होते है।

5. खनिज संसाधन

हिमालय पर्वत से हमें अनेक प्रकार के खनिज पदार्थों  की प्राप्ति होती हैं। यहां पर धातु और अधात्विक खनिज पदार्थ अधिक मात्रा में पाये जाते हैं। यहाँ पर खनिज जम्मू और कश्मीर के जम्मू संभाग और कलाकोट में कोयले के भंडार पाये जाते है। उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश, अरुणाचल प्रदेश और सिक्किम के हिमाचल क्षेत्र में सीसा, तांबा, निकल, जस्ता, चांदी, सोना,  मैग्नेसाइट, चूना पत्थर, रत्न आदि शामिल होते है। यहाँ पर सड़कों की कमी और हिमाचल पर्वत की ऊँची और नीची ढलान होने के कारण खनिज संसाधनों के दोहन में यह बड़ी रुकवाट का कारण बनते है।

निष्कर्ष

हिमालय पर्यटकों के लिए आकर्षक स्थल होता हैं, जिसके वजह से हिमालय पर्वतो में लाखों लोग पर्यटक प्रतिवर्ष यहां पर घूमने के लिए आते हैं। पर्यटकों के आने से पर्यटन की सुंदरता को और अधिक बढ़ावा मिलता है।

हिमालय पर्वत प्रकृति के द्वारा दिया गया एक अनमोल तोफा होता है, जिसका हमें आदर, सम्मान करना चाहिए क्योंकि हिमालय से  केवल कृषि योग्य ही नहीं अपितु भूमि, रोजगार आदि भी मिलता है। अनेक जंगली जानवरों को रहने के आवास स्थल भी मिलता है। भारतीय अर्थव्यवस्था के विकास के समय  हिमालय से गुजरने वाली नदियाँ इन नदियों से निर्मित घाटियों और हिमालय क्षेत्र के वनों का मुख्य योगदान होता है।

अंतिम शब्द

आज के आर्टिकल में हमने  हिमालय पर निबंध ( Essay On Himalaya In Hindi)  के बारे में संपूर्ण जानकारी आप तक पहुंचाई है। हमें उम्मीद है, कि हमारे द्वारा दी गई जानकारी आपको पसंद आई होगी। यदि किसी व्यक्ति को आर्टिकल से संबंधित कोई भी सवाल यह सुझाव है। तो वह हमें कमेंट के माध्यम से बता सकता है।

Read Also:

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here